अंगदान पर निबंध

अंग दान समाज के लिए एक चमत्कार साबित हुआ है। प्रत्यारोपण के उद्देश्य के लिए गुर्दे, हृदय, आंख, लिवर, छोटी आंत, हड्डियों के टिश्यू, त्वचा के टिश्यू और नसों जैसे अंग दान किए जाते हैं। अंग दान करने वाला व्यक्ति इस महान कार्य के माध्यम से अंग प्राप्तकर्ता को एक नया जीवन देता है। अंग दान की प्रक्रिया को दुनिया भर में प्रोत्साहित किया जाता है। अंग दान को प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न देशों की सरकार ने अलग-अलग प्रणालियों को स्थापित किया है। हालांकि उनकी आपूर्ति की तुलना में अंगों की मांग अभी भी काफी अधिक है। इस बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए प्रभावी कदम उठाए जाने चाहिए। आपकी परीक्षा में अंग दान के विषय में आपकी मदद करने के लिए यहां विभिन्न लंबाई के निबंध उपलब्ध करवाए गए हैं।

अंगदान पर निबंध (ऑर्गन डोनेशन एस्से)

Get here some essays on Organ Donation in Hindi language for students in 200, 300, 400, 500 and 600 words.

अंगदान पर निबंध 1 (200 शब्द)

अंग दान दोनों जीवित और मृतक दाताओं द्वारा किया जाता है। जीवित दाता दो गुर्दे, दोनों फेफड़े या दोनों फेफड़ों में से एक, अपने जिगर के दो भाग में से एक, आंतों का एक हिस्सा या अग्न्याशय का एक हिस्सा दान कर सकता है। जबकि एक मृतक दाता जिगर, गुर्दे, फेफड़े, आंतों, अग्न्याशय, कॉर्निया टिश्यू, त्वचा के टिश्यू, कण्डरा और हृदय वाल्व दान कर सकता है।

अंग दान की प्रक्रिया हर देश में अलग-अलग तरीके से होती है। इस प्रक्रिया को मोटे तौर पर दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है - ऑप्ट इन एंड ऑप्ट आउट। ऑप्ट-इन सिस्टम के तहत एक व्यक्ति को अपने अंगों के दान के लिए पंजीकृत होना आवश्यक है जबकि ऑप्ट-आउट सिस्टम में प्रत्येक व्यक्ति अपनी मृत्यु के पश्चात अंग दान कर सकता है अगर वह इस तरह की प्रक्रिया का चयन करता है।

आज के समय में अंगों की बहुत बड़ी मांग है। यह दुख की बात है कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कई लोग अंग प्रत्यारोपण के लिए इंतजार कर रहे हैं। विभिन्न देशों की सरकार अंगों की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कदम उठा रही है और कुछ भागों में दाताओं की संख्या में वृद्धि हुई है। हालांकि अंगों की मांगों की आवश्यकता बहुत तेज गति से बढ़ी है।

मृत्यु के बाद अंग दान करने के लिए पंजीकरण करने हेतु हम में से प्रत्येक को आगे आना चाहिए। "अंगदाता बने इसकी कीमत आपसी प्रेम से ज्यादा कुछ नहीं है"।


 

अंगदान पर निबंध 2 (300 शब्द)

अंग दान तब होता है जब किसी व्यक्ति के शरीर के अंग को उसकी सहमति से हटा दिया जाता है। अगर वह जीवित है तो उसकी आज्ञा से और यदि उसकी मृत्यु हो गई है तो उसके अपने परिवार के सदस्यों की अनुमति से अनुसंधान या प्रत्यारोपण के उद्देश्य के लिए। अंग प्राप्तकर्ता को नया जीवन देने के लिए गुर्दे, लिवर, फेफड़े, हृदय, हड्डियों, अस्थि मज्जा, कॉर्निया, आंतों और त्वचा को प्रत्यारोपित किया जाता है।

अंग-दान प्रक्रिया

  • जीवित अंग दाता

जीवित दाताओं को अंग दान करने से पहले संपूर्ण चिकित्सा परीक्षणों की आवश्यकता होती है। इसमें दाता के मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन में यह सुनिश्चित करना भी शामिल है कि क्या वह दान के परिणामों को समझता है और इसके लिए वास्तव में सहमति देना चाहता है।

  • मृत दाता

मृतक दाताओं के मामले में सबसे पहले यह सत्यापित किया जाता है कि दाता मर चुका है या नहीं। आमतौर पर न्यूरोलॉजिस्ट द्वारा मौत का सत्यापन कई बार किया जाता है तब यह निर्धारित किया जाता है कि उसके किसी भी अंग का दान किया जा सकता है।

मृत्यु के बाद शरीर को यांत्रिक वेंटीलेटर पर रखा जाता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि अंग अच्छी स्थिति में रहे। ज्यादातर अंग शरीर के बाहर कुछ घंटों के लिए ही काम करते हैं और इस प्रकार यह सुनिश्चित किया जाता है कि वे शरीर से हटाने के तुरंत बाद प्राप्तकर्ता तक पहुंच जाए।

मांग और आपूर्ति के बीच अंतर

शारीरिक अंगों की मांग दुनिया भर के दाताओं की संख्या की तुलना में काफी अधिक है। हर साल कई मरीज दाताओं के लिए इंतजार करते हुए मर जाते हैं। आंकड़े बताते हैं कि भारत में किडनी की औसत वार्षिक मांग 2 लाख है जबकि केवल 6 हज़ार ही किडनी प्राप्त होती हैं। इसी तरह दिल की औसत वार्षिक मांग 50 हज़ार है जबकि केवल 15 ही उपलब्ध हो पाते हैं।

दाताओं की संख्या बढ़ाने के लिए अंग दान करने हेतु जनता के बीच संवेदनशीलता जगाने की आवश्यकता है। इस ओर सरकार ने कुछ कदम भी उठाए हैं जैसे टीवी और इंटरनेट के जरिये जागरूकता फैलाना हालांकि अभी भी मांग और आपूर्ति के बीच के अंतर को खत्म करने के लिए हमे लंबा रास्ता तय करना है।

निष्कर्ष

अंग दान एक व्यक्ति के जीवन को बचा सकता है। इसके महत्व की अनदेखी नहीं होनी चाहिए। अंग को दान देने के लिए एक उचित प्रणाली को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

अंगदान पर निबंध 3 (400 शब्द)

अंग दान एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अंगों या टिश्यू को शल्यचिकित्सा से निकालने की अनुमति देने या इसे अनुसंधान उद्देश्य के लिए उपयोग करने की प्रक्रिया है। यदि वह जीवित है तो अंग-दान करने के लिए दाता की सहमति ली जाती है और यदि उसकी मृत्यु हो गई तो उसके परिजनों की सहमति ली जाती है। अंग दान को दुनिया भर में प्रोत्साहित किया जाता है।

प्रत्यारोपण के लिए गुर्दे, लिवर, फेफड़े, हृदय, हड्डियों, अस्थि मज्जा, त्वचा, अग्न्याशय, कॉर्निया, आंतों और त्वचा का इस्तेमाल आमतौर पर प्राप्तकर्ता को नया जीवन प्रदान करने के लिए किया जाता है। अंग दान ज्यादातर अंग दान करने वाले की मृत्यु के बाद किया जाता है। हालांकि कुछ अंगों और टिश्यू जैसे कि गुर्दा, फेफड़ों का भाग, यकृत, आंत या अग्न्याशय के हिस्से को दाता द्वारा जीवित रहते हुए भी दान किया जा सकता है।

अंग दान सहमति प्रक्रिया

अंग दान करते समय दो प्रकार की सहमति ली जाती है जिनका नाम स्पष्ट सहमति और अनुमानित सहमति है।

  • स्पष्ट सहमति: इसके तहत दाता देश के आधार पर पंजीकरण के माध्यम से एक सीधी सहमति प्रदान करता है और अन्य आवश्यक औपचारिकताओं को पूरा करता है।
  • अनुमानित सहमति: इसमें अंग दाता या परिजनों से प्रत्यक्ष सहमति शामिल नहीं है। जैसा कि नाम से पता चलता है यह माना जाता है कि यदि दान की अनुमति दी जाती है तो संभावित दाता द्वारा दान की अनुमति दी जाएगी।

संभावित दाताओं में से लगभग पच्चीस प्रतिशत परिवार अपने प्रियजनों के अंगों को दान करने से इनकार कर देते हैं।

भारत में अंग दान

  • कानून द्वारा वैध

भारतीय कानून के अनुसार अंगों का दान कानूनी है। भारत सरकार द्वारा अधिनियमित मानव अंगों के अधिनियम (THOA) 1994 के अनुसार प्रत्यारोपण, अंग दान की अनुमति देता है और मस्तिष्क की मृत्यु की अवधारणा को वैध क़रार देता है।

  • दस्तावेज़ीकरण और औपचारिकताएं

अंग दाता को एक निर्धारित फॉर्म भरना आवश्यक है। इसे अंग दान के लिए संपर्कित अस्पताल या अन्य चिकित्सा सुविधा से लिया जा सकता है या भारत की वेबसाइट के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण सरकार के मंत्रालय से डाउनलोड किया जा सकता है।

मृतक दाता के मामले में वैध संरक्षक से एक लिखित सहमति निर्धारित आवेदन पत्र में आवश्यक है।

  • आंकड़े

जैसा कि बाकी दुनिया के मामले हैं भारत में अंगों की मांग उनकी आपूर्ति की तुलना में काफी अधिक है। देश में अंग-दान करने वालों की बड़ी कमी है। कई रोगी अंग प्राप्त करने की प्रतीक्षा सूची में हैं और उनमें से कई लोगों की तो अंग प्रत्यारोपण का इंतजार करते हुए मृत्यु भी हो चुकी हैं।

निष्कर्ष

भारत सरकार अंग प्रत्यारोपण के बारे में जागरुकता फैलाने के प्रयासों की कोशिश कर रही है ताकि इसे प्रोत्साहित किया जा सके। हालांकि अंग दाताओं की संख्या बढ़ाने के लिए प्रभावी कदम उठाने की जरूरत है।

 

अंगदान पर निबंध 4 (500 शब्द)

अंग दान किसी जीवित प्राप्तकर्ता, जिसे प्रत्यारोपण की आवश्यकता होती है, को अंग या टिश्यू देने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है। अंग दान ज्यादातर मौत के बाद किया जाता है। हालांकि कुछ अंगों को जीवित व्यक्ति द्वारा भी दान किया जा सकता है।

ज्यादातर अंग जो प्रत्यारोपण के उद्देश्य के लिए उपयोग किये जाते है उनमें गुर्दे, यकृत, हृदय, अग्न्याशय, आंत, फेफड़े, हड्डियां और अस्थि मज्जा शामिल हैं। प्रत्येक देश अंग दान के लिए अपनी प्रक्रिया का पालन करता है। यहां उस प्रक्रिया का विस्तृत वर्णन है कि विभिन्न देशों ने अंग दान कैसे प्रोत्साहित किया और कार्यविधि का पालन किया।

अंग दान प्रक्रिया - ऑप्ट इन और ऑप्ट आउट

जहाँ कुछ देश ऑप्ट इन अंग दान की प्रक्रिया का चुनाव करते हैं वहीँ अन्य जगहों पर ऑप्ट-आउट प्रक्रिया होती है। यहां अंग दान के इन दो प्रक्रियाओं के बीच अंतर पर एक नजर डाली गयी है:

ऑप्ट-इन सिस्टम: ऑप्ट-इन सिस्टम में लोगों को अपनी मौत के बाद उनके अंगों के दान के लिए जीवित रहते हुए हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होती है।

ऑप्ट आउट सिस्टम: इस प्रणाली के अंतर्गत अंग दान स्वचालित रूप से तब होता है जब तक कि कोई व्यक्ति विशेष रूप से मृत्यु से पहले ऑप्ट आउट करने का अनुरोध नहीं करता।

विभिन्न देशों में अंग दान

  • भारत

भारत में जब अंग दान करने की बात कब आती है तो यहाँ ऑप्ट-इन सिस्टम का पालन होता है। जब भी कोई अंग दान करना चाहता है उसे स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार की वेबसाइट पर उपलब्ध एक निर्धारित फ़ॉर्म भरना होगा।

अंगों की खरीद-फरोख्त को नियंत्रित करने और मस्तिष्क की मृत्यु के बाद अंग-दान को प्रोत्साहित करने के लिए भारत सरकार ने वर्ष 1994 में मानव अंगों अधिनियम के प्रत्यारोपण का कानून बनाया। इससे देश में अंग दान के संदर्भ में काफी बदलाव लाया।

  • स्पेन

पूरी दुनिया में अंग दान सबसे ज्यादा स्पेन में होता है। स्पेन अंग दान के लिए ऑप्ट-आउट सिस्टम का अनुसरण करता है।

  • संयुक्त राज्य अमेरिका

संयुक्त राज्य में अंगों की आवश्यकता तेजी से बढ़ रही है। हालांकि अंग दाताओं की संख्या में वृद्धि हुई है परन्तु अंगों के लिए इंतजार कर रहे मरीजों की संख्या भी बहुत अधिक दर से बढ़ी है। संयुक्त राज्य में अंग दान केवल दाता या उनके परिवार की सहमति से किया जाता है पर यहां कई संगठन ऑप्ट-आउट अंग दान के लिए जोर दे रहे हैं।

  • यूनाइटेड किंगडम

यूनाइटेड किंगडम में अंग दान स्वैच्छिक है। वह व्यक्ति जो मृत्यु के बाद अपने अंगों को दान करना चाहता हैं उसके लिए उन्हें पंजीकरण करने की आवश्यकता है।

  • ईरान

ईरान एक देश है जो प्रत्यारोपण अंगों की कमी से उबरने में सक्षम है। ईरान में अंग दान के लिए एक कानूनी भुगतान प्रणाली है और यह एकमात्र देश है जिसने अंग व्यापार को वैध किया है।

  • जापान

अन्य पश्चिमी देशों की तुलना में जापान में अंग दान काफी कम है। यह मुख्यतः सांस्कृतिक कारणों, पश्चिमी दवाइयों में अविश्वास और 1968 में एक विवादास्पद अंग प्रत्यारोपण के कारण है।

  • कोलंबिया

कोलंबिया में अगस्त 2016 में पारित 'लॉ 1805' ने अंग दान के लिए ऑप्ट-आउट पॉलिसी पेश की।

  • चिली

चिली ने अंग दान के लिए ऑप्ट-आउट पॉलिसी के लिए 'कानून 20,413' बनाया जिसमें 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी नागरिक अंगों को दान करेंगे अगर वे मृत्यु से पहले इसे विशेष रूप से अस्वीकार नहीं करते।

निष्कर्ष

दुनिया भर के अधिकांश देश कम अंग दाता दर से ग्रस्त हैं। इस मुद्दे को अधिक गंभीरता से लिया जाना चाहिए। अंग दान की दर को बढ़ाने के लिए कानून को उसी तरह प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।


 

अंगदान पर निबंध 5 (600 शब्द)

अंग दान से तात्पर्य एक जीवित या मृत दाता के अंगों को शल्य चिकित्सा द्वारा हटाकर उन्हें प्राप्तकर्ता के शरीर में स्थापित कर उसे एक नया जीवन प्रदान करना से है। अंग दान को दुनिया भर में प्रोत्साहित किया गया है। हालांकि अभी भी मानव अंगों की मांग अब तक की आपूर्ति से अधिक है। विभिन्न कारणों से दुनिया भर के अंग दान की कम दर को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। इन कारणों की विस्तार से चर्चा आगे की गई है।

टेलिलाजिकल मुद्दे

अंग दान के काले बाजार की नैतिक स्थिति विवादास्पद है। जहाँ कुछ इसके पक्ष में बात करते हैं वहीँ दूसरे इस सोच के बिल्कुल खिलाफ हैं। ऐसा देखा जाता है कि जो लोग अपने अंगों को दान करते हैं वे आम तौर पर समाज के कमजोर वर्ग से होते हैं। उनकी आर्थिक दशा बहुत ख़राब होती है और जो लोग अंग खरीद सकते हैं उनके पास अच्छी संपत्ति होती है। इस प्रकार इस व्यापार में एक असंतुलन देखा जाता है।

यह देखा गया है कि जो लोग अंग खरीद सकते हैं वे उन लोगों का लाभ उठा रहे हैं जो अपने अंगों को बेचना चाहते हैं। यह समृद्ध और गरीबों के बीच की स्थिति की बढ़ती असमानता के कारणों में से एक है। दूसरी ओर यह तर्क दिया जाता है कि जो लोग अपने अंगों को बेचना चाहते हैं उन्हें ऐसा करने की अनुमति दी जानी चाहिए ताकि वे इसे से बेच सकें क्योंकि इससे वह अपनी आर्थिक स्थिति मज़बूत कर सकते हैं। जो लोग अंग व्यापार के पक्ष में हैं वे भी तर्क देते हैं कि शोषण मौत से बेहतर है और इसलिए अंग व्यापार वैध होना चाहिए। हालांकि एक सर्वेक्षण के अनुसार आगे जीवन में अंग दान करने वाले दाताओं ने अपने अंगों को दान करने के निर्णय पर खेद जताया।

अंग चोरी के कई मामले भी सामने आये हैं जबकि अंग बाजार के वैधीकरण के समर्थन में उन लोगों का कहना है कि यह व्यापार के काले बाजार की प्रकृति के कारण होता है पर अन्य यह मानते हैं कि अंग दान करने को वैध बनाने से ही ऐसे अपराधों का बढ़ावा होगा क्योंकि अपराधी आसानी से कह सकता हैं कि जो अंग बेचा जा रहा है वह चोरी का नहीं है।

डोन्टोलॉजिकल मुद्दे

किसी व्यक्ति का नैतिक कर्तव्य है दुनिया के लगभग सभी समाजों का मानना ​​है कि अंगों को दान करना स्वेच्छा से नैतिक रूप से स्वीकार्य है। कई विद्वानों का मानना ​​है कि मृत्यु के बाद सभी को अपने अंगों को दान करना चाहिए।

डीओटोलॉजिकल नैतिकता के दृष्टिकोण से मुख्य मुद्दा जीवन, मृत्यु, शरीर और मानव की परिभाषाओं पर बहस है। यह तर्क दिया गया है कि अंग दान आत्म-क्षति पैदा करने का एक कार्य है। अंग प्राप्तकर्ता के जीनोटाइप के समान अंगों के क्लोनिंग का उपयोग एक और विवादास्पद विषय है।

ज़ीनोट्रांसप्लांटेशन, जो मानव शरीर में पशु अंगों का हस्तांतरण है, ने भी एक हलचल पैदा कर दी है। यद्यपि इसके परिणामस्वरूप अंगों की आपूर्ति में वृद्धि हुई है पर फिर भी इसे बहुत आलोचना झेलनी पड़ी है। कुछ पशु अधिकार समूहों ने अंग दान के लिए जानवरों के बलिदान का विरोध किया है। प्रत्यारोपण के इस नए क्षेत्र पर प्रतिबंध लगाने के लिए अभियान शुरू किए गए हैं।

धार्मिक मुद्दे

अंगों के दान के संबंध में विभिन्न धार्मिक समूहों के अलग-अलग विचार हैं। हिंदू धर्म लोगों को अंग दान करने से रोकता नहीं है। हिंदू धर्म के समर्थक कहते हैं कि अंग-दान एक व्यक्तिगत पसंद है। बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग भी इसी विचार का अनुसरण करते हैं।

कैथोलिक इसे प्यार और दान के एक अधिनियम के रूप में मानते हैं। उनके अनुसार यह नैतिक रूप से स्वीकार्य है। ईसाई चर्च, इस्लाम, संयुक्त मेथोडिस्ट और यहूदी धर्म ने अंग दान प्रोत्साहित किया। हालांकि जिप्सी इसका विरोध करते हैं क्योंकि वे जीवन में विश्वास करते हैं। शिंतो भी इसके खिलाफ हैं क्योंकि उनका मानना ​​है कि मृत शरीर में से अंग निकालना एक जघन्य अपराध है।

इसके अलावा अगर सरकार उचित समर्थन प्रदान करती है तो एक देश की राजनीतिक व्यवस्था भी अंग दान की समस्या को बदल सकती है। इससे अंग दान की दर बढ़ सकती है। प्रत्यारोपण दर में वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए मजबूत राजनीतिक इच्छा होनी चाहिए। वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रशिक्षण, देखभाल, सुविधाएं और पर्याप्त धन प्रदान किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष

ऊपर चर्चा किए गए विभिन्न मुद्दों के कारण अंगों की मांग हमेशा उनकी आपूर्ति से कहीं ज्यादा ऊंची है। अंग दाताओं की संख्या बढ़ाने के लिए इन मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करने और उन पर काम करने की आवश्यकता है।