दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस

ड्रग्स के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रस्तावित अंतर्राष्ट्रीय दिवस है जो ड्रग्स के दुरुपयोग के साथ-साथ उनके गैरकानूनी व्यापार के खिलाफ लड़ने के लिए है। यह सालाना 26 जून को दुनियाभर में लाखों लोगों द्वारा मनाया जाता है। यह दिवस नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ है।

यह एक अंतरराष्ट्रीय समाज के लक्ष्य को हासिल करने के लिए कार्रवाई को मजबूत करने और सहयोग को बढ़ाने और उसको बढ़ावा देने की अभिव्यक्ति है जो ड्रग्स के दुरुपयोग से मुक्त है। इस दिन विभिन्न संगठन इस खतरे को खत्म करने के लिए शपथ लेते हैं और अवैध ड्रग्स की चुनौतियों को शांतिपूर्वक संबोधित करने पर जोर देते हैं। उनका मूल सिद्धांत युवाओं की रक्षा करना और मानव जाति के कल्याण को बढ़ावा देना है।

दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस 2019 - International Day Against Drug Abuse and Illicit Trafficking 2019

ड्रग्स के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस बुधवार, 26 जून 2019 को मनाया गया।

दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस 2019 विशेष

नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ 2019 अंतर्राष्ट्रीय दिवस बुधवार 26 जून को मनाया गया। इस वर्ष इस आयोजन का केंद्रीय विषय अंकित किया गया “Health for Justice, Justice for Health.”

दुनिया भर को नशीली दवाओं के दुरुपयोग से मुक्त बनाने और अवैध तस्करी को खत्म करने एवं पीड़ितों की शिकायतों को दूर करने के लिए दुनिया भर के अन्य हितधारकों के साथ संयुक्त राष्ट्र में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए।

United Nations Office on Drugs and Crime (UNODC) ने न्यूयॉर्क स्थित यूनाइटेड नेशन सेक्रेटेरियल से 2019 वर्ल्ड ड्रग की रिपोर्ट भी लॉन्च की।

संयुक्त  राष्ट्र ने एक व्यक्ति के द्वारा नशीली दवाओं के दुरुपयोग और उस व्यक्ति पे होने वाले इसके दुष्प्रभावों के खिलाफ जागरूकता फैलाने का अवसर लिया। दुनिया भर के शिक्षकों और अधिकारियों के बीच शैक्षिक सामग्री भी वितरित की गई। जिससे वे लोगो के बीच इस मुहीम को फैला सके व् उन्हें जागरूक कर सके। नशीली दवाओं के दुरुपयोग के खिलाफ लड़ाई को फिर से शुरू किया गया था और राष्ट्रों के बीच सामंजस्यता पुनः स्थापित होती दिखी।

भारतीय राज्य पंजाब में कई स्कूलों,  कॉलेजों और गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) ने एक साथ इस मुहीम में भाग लिया एवं बहुत उत्साह के साथ "ड्रगएब्यूज और इलिसिट ट्रैफिकिंग के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस" ​​मनाया।

राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री द्वारा OOAT (outpatient opioid assisted treatment) के माध्यम से नशीली दवाओं के शिकार पीड़ितों के इलाज के लिए सरकार की प्रतिबद्धता की पुष्टि की गई।

ड्रग्स के दुरूपयोग के बारे में

ड्रग्स का सेवन या ड्रग्स की लत एक मनश्चिकित्सीय, सामाजिक और मनोवैज्ञानिक समस्या है जो न केवल पूरे विश्व के युवाओं को प्रभावित करती है बल्कि विभिन्न आयु के लोगों को भी प्रभावित करती है। यह व्यक्तियों और समाज को कई क्षेत्रों में नष्ट कर देती है जिनमें मुख्य है सामाजिक, शारीरिक, सांस्कृतिक, भावनात्मक और आर्थिक। जीवित रहने के लिए मस्तिष्क पर ड्रग्स का डर, घबराहट और असुरक्षा की भावना जैसे व्यापक विकार पैदा होते हैं। निकोटीन, कोकीन, कैफीन, नायिका, मॉर्फिन, कैनबिस, मेथ इत्यादि जैसी कुछ दवाएं हैं जो ग्रे मैटर और तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करती हैं जिसके परिणामस्वरूप एक उन्नत सतर्कता और प्रतिक्रिया होती है।

ऐसे ड्रग्स की लत के कारण भूख और वजन, कब्ज, चिंता का बढ़ना और चिड़चिड़ापन, नींद आना और कामकाज की हानि का गंभीर नुकसान होता है। ऐसे अन्य कई पदार्थ हैं जो मस्तिष्क प्रक्रिया को तेज़ नहीं करके उसे धीमा कर देते हैं और नर्वस सिस्टम को सुस्त बनाते हैं। इसका परिणाम यह होता है कि उन्हें दर्द निवारक दवाइयाँ और नींद की दवाइयाँ लेनी पड़ती है।

ड्रग्स की अवैध तस्करी के बारे में

नशीले पदार्थों की तस्करी एक अंतरराष्ट्रीय अवैध व्यापार है जिसमें मूलभूत कानूनों के अनुसार निषिद्ध पदार्थ, उत्पादन, खेती, प्रसार और बिक्री शामिल है। ड्रग्स एंड क्राइम पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (UNODC) इस खतरे का अधिक व्यापक अध्ययन करने के लिए अवैध अंतरराष्ट्रीय दवा बाजारों की निगरानी और शोध कर रहा है। उनकी ड्रग रिपोर्ट में ड्रग्स एंड क्राइम्स पर संयुक्त राष्ट्र कार्यालय का अनुमान है कि ड्रग्स का बाजार यूएस $321.6 अरब का है। अंतरराष्ट्रीय व्यापार का यह अवैध व्यापर लगभग 1% होने का अनुमान है। उत्तरी व्यापार मार्ग और बाल्कन क्षेत्र मुख्य ड्रग ट्रैफिकिंग क्षेत्र हैं जो पूर्वी और पश्चिमी महाद्वीपों में अन्य अंतरराष्ट्रीय दवा बाजारों के बड़े बाजार में अफगानिस्तान को लिंक करते हैं।

यूनाइटेड नेशंस ऑफिस ऑन ड्रग्स एंड क्राइम (UNODC)

यूनाइटेड नेशंस ऑफिस ऑन ड्रग्स एंड क्राइम एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है जो अवैध मादक पदार्थों के दुरुपयोग और उसके उत्पादन के खिलाफ लड़ रहा है जिसे एक अंतरराष्ट्रीय अपराध माना जाता है। वर्ष 1997 में इस संगठन को संयुक्त राष्ट्र ड्रग कंट्रोल कार्यक्रम के साथ अंतर्राष्ट्रीय अपराध निवारण केंद्र में विलय करके स्थापित किया गया था। संयुक्त राष्ट्र कार्यालय ड्रग्स एंड क्राइम पर दुनिया भर में चल रहा है। संयुक्त राष्ट्र का यह विभाग उन योगदानों पर निर्भर करता है जो सरकारी संस्थानों द्वारा स्वेच्छा से किए जाते हैं। अवैध नशीली दवाओं की तस्करी, अपराध दर में वृद्धि और अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष में सदस्यों की सहायता करने में मदद के लिए यूनाइटेड नेशंस ऑफिस ऑन ड्रग्स एंड क्राइम अनिवार्य है। अपनी वार्षिक घोषणा में इस संगठन के सदस्यों ने अपने सभी रूपों में अवैध दवा उद्योग में बढ़ती अपराध दर से लड़ने और उनके मुकाबले करने के प्रयासों को मजबूत करने का संकल्प किया है।

ड्रग्स का दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस का इतिहास

26 जून 1988 से प्रतिवर्ष अंतर्राष्ट्रीय ड्रग्स और इसकी अवैध तस्करी के लिए दिवस मनाया जाता है। यह दिन हुमैन, गुआंग्डोंग जो चीन में अफीम की अवैध तस्करी और दुरूपयोग के विनाश के लिए मशहूर थे उन्हें याद करने के लिए चुना गया। 7 दिसंबर 1987 को संयुक्त राष्ट्र संघ की महासभा ने 9 नवंबर, 1985 के अपने 40/122 के संकल्प को नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी पर एक बैठक आयोजित कर पूरी तरह से इस खतरे से लड़ने का फैसला किया। यह उस बैठक का पहला कदम था जिसमें सचिव-जनरल ने ड्रग्स के दुरूपयोग पर एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया था और ऑस्ट्रिया में वियना में मंत्री स्तर पर इसका अवैध वितरण किया था।

 

ड्रग्स का दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों मनाया जाता है

26 जून को हर साल नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस दुनिया भर में मनाया जाता है। ड्रग्स के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस का मुख्य एजेंडा जनता में इसके अवैध उत्पादन और उनके सेवन के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना तथा इसकी अवैध तस्करी और इससे जुड़े खतरों के बारे में लोगों को अवगत कराना है। इस दिन का उद्देश्य इस समस्या के लिए ध्यान रखना, ड्रग्स और इसके उपयोग के उत्पादन की रोकथाम के लिए समर्थन में वृद्धि करना और छात्रों, युवाओं, उनके रिश्तेदारों और समुदाय की भलाई के लिए एक निर्णायक निवेश करना है। यह स्वस्थ और अस्वस्थ पर्यावरण के बीच टकराव के महत्वपूर्ण प्रभावों पर ज़ोर देता है। यह दिन नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अन्य व्यसनों से पीड़ित लोगों के जीवन की भलाई के प्रति समर्पित है। यह दिन आम जनता को याद दिलाता है कि लोगों को विभिन्न पुनर्वास कार्यक्रमों में प्रतिभागी बनना चाहिए।

ड्रग्स का दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस किस तरह मनाया जाता है

1987 से नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस सभी देशों में विभिन्न सेमिनार, प्रदर्शनियों और व्याख्यान आयोजित करके मनाया जाता है जहां शोधकर्ता, डॉक्टर और एनजीओ कार्यकर्ता नशीली दवाओं के दुरुपयोग के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए सक्रिय रूप से भाग लेते हैं। भारी संख्या में लोगों को जागरूकता बढ़ाने के अभियान में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है और बहुत सी गतिविधियों को पूरे दिन के लिए निर्धारित किया जाता है ताकि नशीली दवाओं के दुरुपयोग की स्थिति, व्यक्ति और उसके आसपास के परिवार और दोस्तों के परिणामों का प्रसार किया जा सके। इस दिन लोग आगे आकर अपने अनुभव के बारे में बता सकते हैं कि वे किस प्रकार इसके आदी हो गए हैं, नशे से बचने के लिए वे क्या कदम उठा रहे हैं और इन जैसी चीजों से दूर रहने के लिए क्या उपाय कर रहे हैं।

विभिन्न संगठनों, पुनर्वास केंद्रों और गैर-सरकारी संगठनों के साथ पीड़ित लोग मीडिया कार्यक्रमों, जागरूकता अभियानों और इन गतिविधियों के सदस्य या तो ऑनलाइन या वास्तविक समय के अनुभवों के माध्यम से शामिल होते हैं। ऐसे सामाजिक मुद्दों के साथ सबसे बड़ा मुद्दा यह है कि पीड़ित स्वास्थ्य देखभाल केंद्र जाने के प्रति आश्वस्त नहीं होता। ऐसी घटनाओं का आयोजन ऐसे पीड़ितों को लाभ पहुंचाता है और उन्हें इस खतरे से बाहर निकलने और इसके महत्व को स्वीकार करने में मदद करता है।

दुनिया भर में हाल के वर्षों में आयोजित घटनाओं के कुछ उदाहरण इस प्रकार हैं:

भारत

दस साल पहले एक सर्वेक्षण भारत में आयोजित किया गया था जिसमें पता चला कि मुंबई, दिल्ली और पुणे के महानगरों में एक लाख से अधिक और देश में सात लाख से अधिक नशीले पदार्थ के सेवन करने वाले लोग हैं। तब से भारत सरकार ने नशीली दवाओं के दुरुपयोग और उसके तस्करी के खतरे को रोकने के लिए कड़े नियम बनाए हैं। नारकोटिक बेनामी जैसे गैर-सरकारी संगठनों ने कई दवाओं के दुर्व्यवहारियों को परामर्श और उपचार प्रदान किया है और उनके बिखरते जीवन को पुनर्स्थापित किया है।

भारत का सरकारी संगठन अर्थात् केंद्रीय ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन सालाना विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेता है जो नशीली दवाओं के दुरुपयोग के उन्मूलन को बढ़ावा देते हैं। वे इन ड्रग्स की विषाक्तता और गुणवत्ता के संदर्भ में केन्द्रीय औषध प्रशासन को सलाह देते हैं। इनके अलावा कई संगठन विश्व स्वास्थ्य संगठन का सक्रिय रूप से सहयोग करते हैं ताकि ड्रग्स के दुरुपयोग को समाप्त करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मानकों और उपायों को तैयार किया जा सके। ऐसे कई संगठन इस दिन पर ड्रग्स के बुरे प्रभावों पर जागरूकता बढ़ाने के लिए कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं और इसके बुरे प्रभावों से पीड़ित लोगों को विशेष सहायता और देखभाल प्रदान करते हैं।

रूस

रूस में भी 26 जून को नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ दिवस मनाया जाता है जैसे अन्य सभी विकसित और विकासशील देश मनाते हैं। रूसी संघ की फेडरल ड्रग कंट्रोल सर्विसेज एक प्रवर्तन एजेंसी है जो ड्रग्स के अवैध व्यापार को नियंत्रित करने और उसकी निगरानी करने के लिए कानून बनाती है। रूस में नागरिकों को नशीली दवाओं के दुरुपयोग, उसके परिणामों और उन उपायों के बारे में जागरूक करने के लिए कई गतिविधियों का आयोजन करके यह दिन मनाया जाता है जो उनकी मदद कर सकते हैं।

स्वयंसेवक और विभिन्न गैर सरकारी संगठन अपनी समस्या पूरी पीढ़ी को बताते हैं, धन जुटाते हैं और कारणों के बारे में आवश्यक सामग्री वितरित करते हैं। इस दिन के साथ ही कुछ साल पहले रूस सरकार ने आधिकारिक व्यावसायिक छुट्टी की घोषणा की और इसे ड्रग कंट्रोल प्राधिकरण का दिन घोषित किया। वे विश्व के अन्य प्रवर्तन अधिकारियों के साथ समन्वय करते हैं ताकि दुनिया भर में नशीली दवाओं के दुरुपयोग और उसके तस्करी की जांच हो सके।

 

संयुक्त राज्य अमेरिका

संयुक्त राज्य अमेरिका में नशीली दवाओं के दुरुपयोग और इसके अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाने के लिए ड्रग प्रवर्तन एजेंसी विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करती है। ये कार्यक्रम नशीली दवाओं के सेवन, नशीली दवाओं की तस्करी और संयुक्त राज्य अमेरिका के अंदर नशीली दवाओं के तस्करों से लोगों की सुरक्षा पर केंद्रित हैं। यह समारोह संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित मौजूदा वर्ष की थीम के अनुरूप है। वे विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ सहयोग में भी हैं और मादक द्रव्यों के सेवन के उन्मूलन, उसके उपचार और पीड़ितों के परिवारों को मानसिक और आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करने पर जोर देते हैं।

कोलंबिया

कोलंबिया 26 जून को अंतरराष्ट्रीय थीम के साथ सालाना इस दिवस को मनाता है। नशीली दवाओं के उपयोग और अन्य पदार्थों के दुरुपयोग को कम करने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य, आपराधिक न्याय, सामाजिक सेवाओं और शैक्षणिक व्यवस्था पर सेमिनार आयोजित किए जाते हैं। कोलंबिया देश हमेशा किशोरों के धूम्रपान में गिरावट की दिशा में काम कर रहा है। लोगों को ड्रग्स का उद्देश्य, दुरुपयोग और निवारक दवाओं के लिए नियंत्रित दवाओं तक पहुंच को बढ़ावा देने के लिए वैश्विक कार्यक्रमों की पहल के बारे में जागरूक किया जाता है।

भारत में ड्रग्स के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस को मनाने के लिए सुझाव

जब ड्रग्स का दुरुपयोग व्यापक रूप से समाज के अमीर और गरीब वर्ग के बीच फैल जाता है तो उस समय सबसे अधिक अनिवार्य है नशीले पदार्थों के दुरुपयोग को रोकने के लिए सामुदायिक सहायता की ज़रूरत। नशीली दवाओं के दुरुपयोग के खिलाफ़ युद्ध में प्रसिद्ध कहावत "रोकथाम इलाज से बेहतर है" काफी प्रासंगिक है। ड्रग्स के दुरुपयोग और इससे जुड़ी अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के जश्न में नीचे दिए गए बिंदुओं को शामिल कर सकते हैं:

  • लोगों को काली टी-शर्ट पहननी चाहिए ताकि जागरूकता फैला सकें कि इस दिन को किस तरह महत्व दिया जाए और लोगों को इससे जुड़ी बुराईयों के बारे में पढ़ने के लिए विशेष विज्ञापन पत्र वितरित किए जाने चाहिए।
  • कानून प्रवर्तन निकायों को उन रणनीतियों के उदाहरणों का पालन करके और अधिक प्रभावी और जवाबदेह होना चाहिए जिनसे हमारे देश ने राष्ट्रहित में सकारात्मक परिणाम पाया। बड़ी तस्करी और इससे निपटने के लिए भारी मात्रा में पुलिस संसाधन चाहिए।
  • बच्चों को इस समस्या और स्कूल के बारे में भी घर पर बताया जाना चाहिए। परिवारों और सलाहकारों को बच्चों और इससे प्रभावित इलाकों में रहने वाले लोगों से बात करनी चाहिए। माता-पिता को अपने बच्चे की देखभाल करनी चाहिए और उन्हें जिम्मेदार बनाना चाहिए। उन्हें अपने बच्चे को प्रोत्साहित करना चाहिए खासकर कि तब जब वह नौकरी को पाने के लिए प्रयासरत हो या पुनर्वास केन्द्रों का दौरा करके खुद को व्यस्त रखने की कोशिश करता हो।
  • ड्रग्स के दुरूपयोग के इस खतरे को समाप्त करने के लिए बुनियादी शिक्षा पहला कदम है। दुरूपयोग के खिलाफ अपनी लड़ाई से लड़ने के लिए परिवारों को उनके प्रति सहायक होने से बच्चे के विकास की दिशा में भूमिका निभाने के लिए समाज को एक बुनियादी इकाई के रूप में एक साथ आना चाहिए।
  • पूरी ड्रग्स की उपज फसल की खेती पर प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए और उनके उत्पादन को आज के दिन खेती विरोधी कार्यक्रम के आयोजन से नियंत्रित किया जाना चाहिए।

ड्रग्स के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस की थीम

हर साल नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस की थीम अलग होती है। 2017 के लिए थीम 'पहले सुनो' थी। यह अभियान 'बच्चों और युवाओं को सुनने' के विषय पर जोर देती है क्योंकि उन्हें सबसे पहले सुरक्षित और स्वस्थ होना है जो इस जोखिम और ड्रग्स के सेवन को कम करने में मदद करने के लिए पहला और प्रारंभिक कदम है। 'पहले सुनो’, संयुक्त राष्ट्र कार्यालय द्वारा ड्रग्स एंड क्राइम पर विकसित एकमात्र और अद्वितीय प्रयास है जो अवलोकन आधारित सार्वभौमिक सुरक्षा कार्यक्रमों का समर्थन करता है और स्कूल, परिवार या स्वास्थ्य सेवाओं जैसे विभिन्न संदर्भों में संचार का समर्थन करता है।

अलग अलग वर्षों के थीम इस प्रकार है:

  • वर्ष 2019 के लिए थीम "हेल्थ फॉर जस्टिस, जस्टिस फॉर हेल्थ" (Health for Justice, Justice for Health) है।
  • वर्ष 2016/2017/2018 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "पहले सुनो - बच्चों और युवाओं को सुनना स्वस्थ और सुरक्षित होने में उनकी मदद करने का पहला कदम है" था।
  • वर्ष 2015 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "चलो विकास - हमारे जीवन - हमारे समुदाय - हमारी पहचान - ड्रग्स के बिना" था।
  • वर्ष 2015 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "आशा का एक संदेश: दवा उपयोग विकार रोकथीम और इलाज योग्य हैं" था।
  • वर्ष 2014 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "जीवन में स्वास्थ्य को 'नया उच्च' बनाएं, ड्रग्स न करें" था।
  • वर्ष 2013 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "ड्रग्स के बिना स्वस्थ समुदायों के लिए वैश्विक कार्रवाई" था।
  • वर्ष 2012 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "नहीं कहो!" था।
  • वर्ष 20101में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "स्वास्थ्य सोचें - ड्रग्स नहीं" था।
  • वर्ष 2009 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "क्या दवाएं आपके जीवन को नियंत्रित करती हैं? आपका जीवन। आपका समुदाय। दवाओं के लिए कोई जगह नहीं" था।
  • वर्ष 2008 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "क्या दवाएं आपके जीवन को नियंत्रित करती हैं? आपका जीवन। आपका समुदाय। दवाओं के लिए कोई जगह नहीं" था।
  • वर्ष 2007 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "क्या दवाएं आपके जीवन को नियंत्रित करती हैं? आपका जीवन। आपका समुदाय। दवाओं के लिए कोई जगह नहीं" था।
  • वर्ष 2006 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "खुद को मानें ... स्वस्थ विकल्प बनाएं" था।
  • वर्ष 2005 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "ड्रग्स बच्चों का खेल नहीं है" था।
  • वर्ष 2004 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "ड्रग्स: ट्रीटमेंट वर्क्स" था।
  • वर्ष 2003 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम"चलो दवाओं के बारे में बात करते हैं" था।
  • वर्ष 2002में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम"पदार्थों के दुरुपयोग और एचआईवी / एड्स" था।
  • वर्ष 2001 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "दवाओं के खिलाफ खेल" था।
  • वर्ष 2000 में दवाओं के दुरूपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ़ अंतर्राष्ट्रीय दिवस के लिए थीम "वास्तविकता का सामना करना: इनकार, भ्रष्टाचार और हिंसा" था।

निष्कर्ष

निष्कर्ष में हालांकि ड्रग्स के मुद्दे को समाप्त करना लगभग असंभव प्रतीत हो सकता है पर हमारे समाज पर इस खतरे के प्रभाव को कम करने के लिए कई ठोस क्रियाएं चल रही हैं। ड्रग्स से खतरा इतना बड़ा है कि इसे नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। हमें अपने समाज की रक्षा के लिए तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए। नशीली दवाओं की लत एक कट्टर दानव है जो हमारे समाज के विकास पर रोक लगा सकती है। हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि एक हज़ार मील की यात्रा एक बार में कभी नहीं होती है। इसे पूरा करने के लिए हर दिन थोड़ा-थोड़ा प्रयास करना पड़ता है।