विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Vigyan ke Chamatkar par Hindi Nibandh)

हर घटना के पीछे का कारण विज्ञान है, फिर चाहे वह चक्रवात, तूफान या वर्षा होना हो या फिर पानी का उबलना और जमना आदि। विज्ञान उपकरण मात्र तक सीमित नहीं, बल्कि पृथ्वी से ब्रह्मांण तक विज्ञान को देखा जा सकता है। आधुनिक युग, विज्ञान का युग है, यह कहना गलत नहीं होगा। आज का व्यक्ति विज्ञान पर बहुत अधिक निर्भर है। अन्य शब्दों में कहें तो विज्ञान के अभाव में वक्ति का जीवन कठिनाईयों से भर जाता है।

विज्ञान के चमत्कार पर छोटे तथा बड़े निबंध (Vigyan ke Chamatkar par Nibandh Hindi mein, Short and Long Essay on Wonder of Science in Hindi)

यहाँ हमने विज्ञान के चमत्कार पर हिंदी में कुछ निबंध दिये है, उम्मीद करती हूँ आपको पसंद आयेंगे:

निबंध 1 (300 शब्द): विज्ञान के शानदार चमत्कार

परिचय

संक्षेप में प्राकृतिक के क्रमबद्ध अध्ययन ज्ञान को विज्ञान कहते हैं। विज्ञान के विभिन्न प्रकार है जैसे- प्राकृतिक विज्ञान, जीवन विज्ञान, तथा इन प्रकारों के विभिन्न शाखाएं हैं जैसे- भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान आदि। यह हमें घटना के पीछे के कारण तथा परिणामों से अवगत कराते हैं।

मानव जाति को विज्ञान के कुछ शानदार चमत्कार (Manav jati ke liye Vigyan ke Chamatkar)

  • बिजली - विज्ञान का मानव जाति को बिजली (Electricity) एक शानदार उपहार है। बिजली के माध्यम से घर ही रौशन नहीं हैं अपितु आज हम जितने भी उपकरण अपने दैनिक जीवन में उपयोग करते हैं, उसमें से ज्यादातर बिजली की सहायता से चलती हैं। इसके अतिरिक्त अस्पताल, अद्यौगिक क्षेत्र, कार्पोरेट सेक्टर आदि में बिजली का महत्वपूर्ण योगदान है।
  • यातायात और परिवहन - आज कितनी भी लंबी यात्रा हम कुछ घंटों में तय कर लेते हैं। यह विज्ञान की देन है, साथ ही विज्ञान ने सायकिल, मोटर सायकिल, रिक्सा, कार, बस तथा हवाई जहाज का अविष्कार किया है। जिससे व्यक्ति अपने आमदनी के अनुसार उनका उपयोग कर अपनी यात्रा आसान बना सकता है।
  • कृषि में विज्ञान की भूमिका - विज्ञान की अनेक खोज, अविष्कार ने खेती में उपज की गुणवत्ता तथा मात्रा में वृद्धि किया है। फसल काटने की मशीन, ट्रैक्टर, उन्नत बीज, खाद्य आदि किसानों को विज्ञान का उपहार है।
  • प्राकृतिक आपदाओं से बचाव - देखा जाए तो, प्राकृतिक आपदाओं पर कोई विजय प्राप्त नहीं कर सकता परन्तु विज्ञान के कुछ ऐसे अविष्कार हैं जिसके मदद से इन आपदाओं के बारे में पहले से ही संकेत प्राप्त किया जा सकता है, जिससे जन-धन की कम हानि होगी।
  • सिस्मोग्राफ - यह भूक्मपमापी यंत्र है, जिसके मदद से किस स्थान पर भूकंप की संभावना है इसका पता लगाया जा सकता है, तथा इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल के माध्यम से मापी जाती है।
  • एनीमोमीटर तथा डॉप्लर रडार - यह चक्रवात तथा तूफान मापी यंत्र हैं। इससे प्राकृतिक आपदाओं के गति का अनुमान लगाया जाता है।

निष्कर्ष

विज्ञान हमारे जीवन में मुख्य भूमिका अदा करता है। तथा मानव जाति को विज्ञान के उपहार के रूप में अनेक सुविधाएं प्राप्त हैं, जिनका उपयोग वह अपने दैनिक जीवन के कार्यों को पूरा करने से लेकर प्रकृति के प्रकोप से स्वयं को बचाने तक करता है।

निबंध 2 (400 शब्द): विज्ञान के चमत्कारी अविष्कार

परिचय

“विज्ञान मानवता के लिए एक ख़ूबसूरत तौफा है, हमें इसे नष्ट नहीं करना चाहिए” - डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम। जैसे-जैसे हम पाषाण युग से आगे बढ़ रहे थे, विज्ञान ने हमें वर्तमान युग के सुविधाओं के समुह में भर दिया। यह हमारे जीवन को सरल बनाते हैं तथा विज्ञान के चमत्कारों पर विचार करने के लिए हमें प्रेरित करते हैं।

विज्ञान के अनेक ऐसे चमत्कारी अविष्कार, जो हमारे जीवन को आसान और सुखद बनाते हैं। विज्ञान का हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण योगदान है।

विज्ञान के चमत्कारी अविष्कार

  • विज्ञान ने प्लास्टिक के अनेक ऐसे शिल्पनिर्मित उपकरण उपलब्ध कराए हैं जिसका उपयोग हम दैनिक जीवन में करते हैं।
  • मोटरसायकिल, कार, सायकिल, बस इन सब यातायात के साधनों के अभाव में हम नहीं रह सकते, यह हमारे यात्रा के दौरान हमारा समय बचाते हैं। तथा बैल गाड़ी से हवाई जहाज का सफ़र विज्ञान की एक शानदार उपलब्धि है।
  • एन्टीबायोटिक्स, इनजेक्सन तथा इसी तरह के अनेक औषधी विज्ञान की देन है।
  • हम आज खाना भी विज्ञान की सहायत से बना पाते है, किचन में उपयोग होने वाले माइक्रोवेव, गैस, स्टोव, इन्डेक्सन चुल्हा विज्ञान की देन हैं।
  • विज्ञान के माध्यम से स्वच्छता में पहले की अपेक्षा बहुत सुधार हुआ हैं, वैक्युम क्लीनर तथा अन्य ऐसे कई छोटे-बड़े उपकरण का उपयोग हम निजी तथा सार्वजनिक स्थल की सफाई के उपयोग में लाते हैं।
  • प्रेस, रूम हीटर, वाटर हीटर, कुलर, ए.सी. आदि यह सभी उपकरण हमारे दैनिक जीवन को सरल तथा आरामदायक बनाते हैं। हमें इन उपकरणों की इतनी आदत हो गई है की इनके अभाव में हमारा कार्य रूक जाता है।
  • विज्ञान के वजह से अंधविश्वास को त्याग दिया गया है और हर चीज को देखने का नज़रीया बदल गया है।
  • दूर संचार (मोबाइल फोन, टेलीफोन) का अविष्कार हमारे कार्य को आसान करता है तथा हमें हमारे अपनों से परस्पर संपर्क में रखता हैं।
  • फिल्टर और मिनरल पानी हमें स्वस्थता प्रदान करते हैं। यह भी विज्ञान की ही देन हैं।

विज्ञान के कुछ ऐसे अविष्कार जिन्होंने मानव जगत में क्रांति फैला दिया।

  • पहिया- 3500 ई. पू. पहिये का अविष्कार हुआ जिसने मानव जगत को कृषि तथा परिवहन में सहायता प्रदान किया।
  • मुद्रणयंत्र (Printing Press)- सन् 1440 में, जर्मनी के जॉन गुटरबर्ग ने प्रिटिंग प्रेश का अविष्कार किया, जिसने किताबों के अन्य कॉपी तेजी से छापे जिससे ज्ञान का विस्तार व्यापक रूप में हुआ।
  • टेलीफोन- एलेक्जेडर ग्राहिम बेल ने 1876 में टेलीफोन का अविष्कार किया, जिसने दूर संचार के माध्यम से अनेक काम आसान कर दिए।
  • मोबाइल फोन- अमेरिकी विज्ञानिक मार्टिन कूपर ने अपनी टीम के साथ मिल कर 1973 में मोबाइल फोन बनाया तथा इसका वजन 2 किलो ग्राम था। यह आगे चल कर दूर संचार का सबसे बेहतर माध्यम बना।
  • मोटर सायकिल- गोटलिब डेमलयर और विल्हेम मेबैक ने सन् 1885 में मोटर सायकिल बनाया। जिसने यातायात के साधन के रूप में क्रांति फैलाया।
  • बल्व का अविष्कार- अमेरिकी अविष्कारक थॉमस अल्वा एडिसन ने 1879 में विश्व को भेंट के रूप में बल्व दिया।
  • इन्टरनेट - 1969 में, टीम बर्नर्स ली ने इंटरनेट का अविस्कार किया अतः इन्हें इंटरनेट का जनक कहा जाता है। इंटरनेट संचार का सबसे गतिमान माध्यम माना जाता है, तथा यह मानव के लिए एक नायाब तौहफा है।

निष्कर्ष

विज्ञान के मदद से हमारा जीवन आसान और आरामदायक हो गया है। विज्ञान ने हमें उपहार के रूप में कई ऐसी संपत्ति दी है जिसने व्यक्ति के जीवन को प्रभावित किया है, उसे बदल दिया है। जिसमें मुख्य रूप से मोबाइल, इंटरनेट, बल्व, लाइट, सायकिल, कम्पूटर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह आज के समय में मानुष्य की मूल भूत आवश्यकता के रूप में देखा जाता है।

निबंध 3 (600 शब्द): मानव जीवन में विज्ञान के योगदान

प्रस्तावना

विज्ञान के इस युग में सब कुछ संभव है जिसकी वजह से विज्ञान हमारे जीवन की सबसे आवश्यक चीजों में से एक हो गयी है जिसके बिना हम नहीं रह सकते। इसलिए यह कहा जा सकता है कि विज्ञान ने दुनिया को ऐसे तरीके से बदल दिया है जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। विज्ञान के विकास ने मानव जाति को कृषि से लेकर चिकित्सा, संचार प्रौद्योगिकी से लेकर अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी तक, जीवन के सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ने में सक्षम बनाया है।

विज्ञान - जीवन का सरलीकरण

विज्ञान की प्रगति ने जीवन को और अधिक आरामदायक और आसान बना दिया है। यदि हम इसका सही उपयोग करें तो विज्ञान का उपयोग हमें स्वस्थ और आसान जीवन जीने में मदद कर सकता है। इंटरनेट की खोज से स्मार्टफोन का उदय आधुनिक दुनिया के लिए एक वरदान है। आज हमारी उंगलियों पर सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स जैसी नई तकनीक चीजों को भी संवाद करने की अनुमति देती है। आज विज्ञान ने न सिर्फ इंसान को स्मार्ट बनाया है बल्कि चीजें भी स्मार्ट होती जा रही हैं।

विज्ञान - चिकित्सा के लिए वरदान

चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान के चमत्कार किसी चमत्कार से कम नहीं हैं। वर्तमान में हमारे पास सर्जरी के जरिए किसी जीवित व्यक्ति के शरीर के हर हिस्से को ट्रांसप्लांट करने की क्षमता है। एक्स-रे, अल्ट्रासोनोग्राफी, ईसीजी (इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम), चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई), पेनिसिलिन और कई अन्य आधुनिक उपकरणों के आविष्कार की वजह से किसी भी समस्या का निदान करना अब एक असंभव कार्य नहीं रह गया है।

इसके अलावा, इसने घातक बीमारियों को ठीक करने के साथ-साथ ऐसी सर्जरी करने में भी मदद की है जो पहले असंभव थी। हाल ही में विज्ञान ने टीका और परीक्षण किट की खोज करके करके वैश्विक कोरोना महामारी से निपटने में हमारी मदद की है। बीमारियों के कारण बढ़ती मृत्यु दर को घटाने में विज्ञान का ही योगदान है।

विज्ञान - परिवहन का आसानीकरण

मनुष्य जाति  के लिए परिवहन इतना आसान कभी नहीं था जितना अब हो गया है। पहले दूरी तय करने में कई दिन लगते थे लेकिन विज्ञान ने परिवहन का इतिहास ही बदल दिया है। इलेक्ट्रिक कार और इलेक्ट्रिक साइकिल पर्यावरण के लिए वरदान हैं। व्यक्ति को दुनिया के किसी भी हिस्से की यात्रा करने में बुलेट ट्रेन जैसी खोज एक सेकंड से भी कम समय लेती है।

रॉकेट साइंस की मदद से इंसान दूसरे ग्रहों और चंद्रमा की भी यात्रा करने में सक्षम हैं। वैज्ञानिक अब हाइपरलूप की खोज की तैयारी कर रहे हैं। हाइपरलूप एक ऐसा परिवहन है जो हवाई जहाज से 4 गुना तेज यात्रा करेगा।

विज्ञान - नये-नये खोज की पोटली

विज्ञान नये खोज की जननी है। आज हमारे पास ऐसे रोबोट हैं जो न सिर्फ हमारे काम को आसान करते हैं बल्कि इंसान की तरह सोच भी सकते हैं। कुछ क्षेत्र ऐसे हैं जो मनुष्यों के लिए उच्च जोखिम वाले हैं और इसे मशीनों से बदला जा रहा है जो मनुष्य को जोखिम भरे काम से बचाते हैं। मनोरंजन के क्षेत्र में वर्चुअल रियलिटी और ऑगमेंटेड रियलिटी ने अपने प्रभाव से सभी के होश उड़ा दिए हैं।

निष्कर्ष

विज्ञान के अजूबे अनंत हैं और यह कितनी दूर तक जा सकता है इसकी कोई सीमा नहीं है। लेकिन अपने अच्छे गुणों के बावजूद विज्ञान बुरा भी साबित हो सकता है अगर इंसान इसे समझदारी से इस्तेमाल न करे तो। हम सबके लिए यह ध्यान रखना बहुत ही महत्वपूर्ण है कि किसी भी चीज की अधिकता जहर होती है, और यही बात विज्ञान पर भी लागू होती है। मानव जाति पर विज्ञान के सकारात्मक प्रभाव के लिए, किसी भी संसाधन का उचित उपयोग करना बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है।

Essay on Wonder of Science

FAQs: Frequently Asked Questions on Vigyan ke Chamatkar (विज्ञान के चमत्कार पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

प्रश्न 1- वैज्ञानिक शब्द का आविष्कार किसने और कब किया था?

उत्तर- पहली बार वैज्ञानिक शब्द का प्रयोग विलियम ववेल द्वारा 1883 में किया गया था।

प्रश्न 2- दुनिया विज्ञान का पिता किसे मानती है?

उत्तर- गैलीलियो को आधुनिक विज्ञान का पिता माना जाता है।

प्रश्न 3- विज्ञान की सबसे प्रमुख शाखा कौन सी मानी जाती है?

उत्तर- अंतरिक्ष विज्ञान।

प्रश्न 4- जीव-जन्तुओं के जातीय विकास का अध्ययन विज्ञान की किस शाखा के अंतर्गत किया जाता है?

उत्तर- फोनोलाजी के अंतर्गत

Leave a Comment

Your email address will not be published.