विज्ञान के चमत्कार पर निबंध

हर घटना के पीछे का कारण विज्ञान है, फिर चाहे वह चक्रवात, तूफान या वर्षा होना हो या फिर पानी का उबलना और जमना आदि। विज्ञान उपकरण मात्र तक सीमित नहीं, बल्कि पृथ्वी से ब्रह्मांण तक विज्ञान को देखा जा सकता है। आधुनिक युग, विज्ञान का युग है, यह कहना गलत नहीं होगा। आज का व्यक्ति विज्ञान पर बहुत अधिक निर्भर है। अन्य शब्दों में कहें तो विज्ञान के अभाव में वक्ति का जीवन कठिनाईयों से भर जाता है।

विज्ञान के चमत्कार पर छोटे तथा बड़े निबंध (Long and Short Essay on Wonder of Science in Hindi)

निबंध – 1 (300 शब्द)

परिचय

संक्षेप में प्राकृतिक के क्रमबद्ध अध्ययन ज्ञान को विज्ञान कहते हैं। विज्ञान के विभिन्न प्रकार है जैसे- प्राकृतिक विज्ञान, जीवन विज्ञान, तथा इन प्रकारों के विभिन्न शाखाएं हैं जैसे- भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान आदि। यह हमें घटना के पीछे के कारण तथा परिणामों से अवगत कराते हैं।

मानव जाति को विज्ञान के कुछ शानदार उपहार

  • बिजली - विज्ञान का मानव जाति को बिजली (Electricity) एक शानदार उपहार है। बिजली के माध्यम से घर ही रौशन नहीं हैं अपितु आज हम जितने भी उपकरण अपने दैनिक जीवन में उपयोग करते हैं, उसमें से ज्यादातर बिजली की सहायता से चलती हैं। इसके अतिरिक्त अस्पताल, अद्यौगिक क्षेत्र, कार्पोरेट सेक्टर आदि में बिजली का महत्वपूर्ण योगदान है।
  • यातायात और परिवहन - आज कितनी भी लंबी यात्रा हम कुछ घंटों में तय कर लेते हैं। यह विज्ञान की देन है, साथ ही विज्ञान ने सायकिल, मोटर सायकिल, रिक्सा, कार, बस तथा हवाई जहाज का अविष्कार किया है। जिससे व्यक्ति अपने आमदनी के अनुसार उनका उपयोग कर अपनी यात्रा आसान बना सकता है।
  • कृषि में विज्ञान की भूमिका - विज्ञान की अनेक खोज, अविष्कार ने खेती में उपज की गुणवत्ता तथा मात्रा में वृद्धि किया है। फसल काटने की मशीन, ट्रैक्टर, उन्नत बीज, खाद्य आदि किसानों को विज्ञान का उपहार है।
  • प्राकृतिक आपदाओं से बचाव - देखा जाए तो, प्राकृतिक आपदाओं पर कोई विजय प्राप्त नहीं कर सकता परन्तु विज्ञान के कुछ ऐसे अविष्कार हैं जिसके मदद से इन आपदाओं के बारे में पहले से ही संकेत प्राप्त किया जा सकता है, जिससे जन-धन की कम हानि होगी।
  • सिस्मोग्राफ - यह भूक्मपमापी यंत्र है, जिसके मदद से किस स्थान पर भूकंप की संभावना है इसका पता लगाया जा सकता है, तथा इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल के माध्यम से मापी जाती है।
  • एनीमोमीटर तथा डॉप्लर रडार - यह चक्रवात तथा तूफान मापी यंत्र हैं। इससे प्राकृतिक आपदाओं के गति का अनुमान लगाया जाता है।

निष्कर्ष

विज्ञान हमारे जीवन में मुख्य भूमिका अदा करता है। तथा मानव जाति को विज्ञान के उपहार के रूप में अनेक सुविधाएं प्राप्त हैं, जिनका उपयोग वह अपने दैनिक जीवन के कार्यों को पूरा करने से लेकर प्रकृति के प्रकोप से स्वयं को बचाने तक करता है।

 

निबंध - 2 (400 शब्द)

परिचय

विज्ञान एक ऐसा विषय है जिसका सीमा तथा क्षेत्र दिनो-दिन बढ़ता जा रहा है। प्राकृतिक तथा किसी वस्तु या प्राणी का क्रमवद्ध ज्ञान, विज्ञान कहलाता है। हम सभी जानते हैं, पानी का उबलना एक प्राकृतिक घटना है, पर पानी सदैव 100 डिग्री पर उबलता है तथा 0 डिग्री पर जमता है यह विज्ञान है।

विज्ञान के अविष्कार जो पृथ्वी के लिए अभिशाप हैं

  • रॉकेट बम मिसाइल - विज्ञान की देन रॉकेट बम मिसाइल तथा परमाणु शक्ति हैं, जो हमारे मुसीबत में तो काम आते हैं पर इनकी बढ़ती संख्या विश्व के लिए संकट है। आतंकवाद इसके माध्यम से ससक्त होता है, साथ ही परमाणु शक्ति भी विश्व भर में खतरे का संकेत हैं। यह अत्यधिक खतरनाक शक्तियां है। 6 अगस्त 1945 की सुबह अमेरीकी वायु सेना ने जापान के शहर हिरोशिमा पर “लिटिल बॉय” परमाणु बम गिराया तथा इसके तीन दिन बाद नागासाकी पर “फैट मैन” परमाणु बम गिराया। जिसका दुष्परिणाम आज भी वहां देखा जा सकता है। परमाणु शक्ति से विश्व परिचित है इसलिए यह प्रावधान है कि, पाँच देशों के अनुमति के बिना, यह किसी भी देश द्वारा उपयोग में नहीं लाया जा सकता है।
  • प्रदुषण के कारणवश मौसम का भयानक रूप - विज्ञान के मदद से, विश्व विकास के उच्च आयाम को प्राप्त कर चुँका है पर विश्व में विज्ञान के माध्यम से प्रदुषण भी उतनी ही तेजी से बढ़ रहा है। कारखानों से निकता गैस, हवा को दुषित करता है। जीवाश्म ईंधन के निरंतर जलने से यह पर्यावरण पर अपना अनुचित प्रभाव छोड़ रहा है। जिसके वजह से ठण्ड के समय में दक्षिण एशिया पर इसका प्रभाव हम साफ तौर पर देख सकते हैं, जहां अनुमानित समय से कई अधिक समय तक, दूर-दूर तक धुंध फैला होता है।
  • बेरोजगारी - हमारा काम आसान करने के लिए विज्ञान ने उपहार के रूप में हमें, यंत्र व उपकरण तो दिया है। जिसके वजह से यह कई लोगों का काम अकेला और कम समय में कर सकता है। पर इसके परिणाम स्वरूप बड़ी-बड़ी उद्योग कम्पनीयां 100 लोगों के स्थान पर एक मशीन का ही उपयोग कर रही हैं। जिससे रोजगार बहुत ज्यादा प्रभावित हुआ हैं।
  • स्वास्थ्य पर अनुचित प्रभाव - विज्ञान के सराहनीय अविष्कार जो हमारे दैनिक जीवन को सरल बनाते हैं जैसे कार, मोटर सायकिल, फ्रिज आदि इनसें निकलने वाले हानिकारक गैस हमारे स्वास्थ्य पर गहरा असर डालते हैं, तथा यह वातावरण के लिए भी श्राप हैं।

निष्कर्ष

विज्ञान के चमत्कार से हमें अनेकों लाभ हैं। यह हमारे जीवन को आसान बनाने के साथ-साथ आरामदायक भी बनाता है। पर जिस प्रकार हर सिक्के के दो पहलु होते हैं, उसी प्रकार विज्ञान के भी लाभ तथा हानि दोनों ही व्यक्ति और पर्यावरण को प्राभवित करते हैं।


 

निबंध - 3 (500 शब्द)

परिचय

विज्ञान की परिभाषा- प्रकृति में मौजूद वस्तुओं के क्रमबद्ध अध्ययन ज्ञान को विज्ञान कहते हैं। विज्ञान वह व्यवस्थित ज्ञान हैं जो अध्ययन, विचार, अवलोकलन तथा प्रयोग से मिलता है। जो किसी अध्ययन के विषय की प्रकृति को जानने के लिए किया जाता है। विज्ञान के मदद से हमारा जीवन आसान और आरामदायक हो गया है। आज हम विज्ञान के उपहार स्वरूप दिए गये उपकरणों के अभाव में अपना कार्य नहीं कर सकते यहां तक की हमारा जीवित रहना भी मुसकिल हो सकता है। गर्मी में आसमान छुता तापमान तथा इंसान को जमा देने वाली ठंड से राहत हमें विज्ञान के भेंट स्वरूपी यंत्र से मिलता है।

विज्ञान के प्रकार

प्राकृतिक विज्ञान (Natural science) - प्राकृतिक विज्ञान के अन्तर्गत प्राकृतिक और भौतिक दुनिया का व्यवस्थित ज्ञान होता है। इसके अन्तर्गत निम्न विषयों का अध्ययन करते हैं।

  • भौतिक विज्ञान (Physics) - भौतिक विज्ञान, विज्ञान की एक विशाल शाखा है, कुछ विद्वानों के अनुसार इसमें उर्जा के रूपांतरण तथा द्रव के अवयवों तथा प्राकृतिक जगत और उसके आन्तरिक क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है। जैसे- स्थान, काल, गति, द्रव्य, विद्योत, प्रकाश तथा ध्वनि आदि।
  • रसायन विज्ञान (Chemistry) - विज्ञान की वह शाखा है, जिसके अन्तर्गत पदार्थों के संगठन, संरचना, गुणों और रसायनिक अभिक्रिया के दौरान इनमें हुए परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है। जिसका शाब्दिक अर्थ है- रस+आयन मतलब रसों (द्रवों) का अध्ययन।
  • खगोल विज्ञान (Geography) - अंतरिक्ष और अकाशीय पिंडों का अध्ययन खगोल विज्ञान कहलाता है। प्राकृतिक विज्ञान से संबंधित अन्य विज्ञान हैं जैसे- ओशेयेनोग्राफी, जीयोलॉजी, इकोलॉजी, एस्ट्रोनोमी आदि।

जीवन विज्ञान - जीवन विज्ञान के अन्तर्गत सभी प्रकार के जीव जन्तु, पेड़- पौधे तथा प्राणी का अध्ययन होता है। इससे संबंधित प्रमुख शाखा निम्नवत् हैं।

  • जीव विज्ञान - जीव विज्ञान के अन्तर्गत हम जीव, जीवन और जीवन की प्रक्रियाओं का अध्ययन करते हैं।
  • बॉटनी - इसमें पेड़-पौधों से संबंधित अध्ययन किया जाता हैं।
  • जूलॉजी - जूलॉजी के अन्तर्गत जानवरों से संबंधित अध्ययन किये जाते हैं।

सामाजिक विज्ञान - विज्ञान के इस प्रकार के अन्तर्गत हम सामाजिक पद्धित तथा मानव व्यवहार का अध्ययन करते हैं। यह विभिन्न श्रेणीयों में विभक्त हैं।

  • इतिहास - इस विषय के अन्तर्गत घटनाओं के इतिहास का अध्ययन करते हैं।
  • राजनीति विज्ञान - सरकारी प्रणाली तथा राजनीतिक गतिविधियों का अध्ययन।
  • भूगोल विज्ञान - पृथ्वी की भौतकि संरचना का अध्ययन।
  • अर्थशास्त्र (Economics) - धन का अध्ययन।
  • सामाजिक अध्ययन (Social studies) - मानव समाज का अध्ययन।
  • नागरिक शास्त्र (Sociology) - समाज के विकास तथा कामकाज का अध्ययन।
  • मनोविज्ञान (Psychology) - मानव व्यवहार का अध्ययन।
  • एन्थ्रोपोलॉजी - मानव के विभिन्न समाजिक पहलुओं का अध्ययन।

औपचारिक विज्ञान (Formal science) - विज्ञान के इस भाग में हम औपचारिक प्रणाली का अध्ययन करते हैं जैसे- गणित और तर्क आदि।

  • गणित (Mathematics) - अंकों का अध्ययन।
  • तर्क (Reasoning) - तर्क का अध्ययन।
  • स्टैटिक्स - संख्यात्मक डाटा के विश्लेशण से संबंधित विज्ञान। इसी प्रकार से, सिस्टम थ्यूरी तथा कम्पूटर साइन्स आदि इसके अन्तर्गत आते है।

निष्कर्ष

किसी वस्तु या विषय का क्रमबद्ध अध्ययन, उस विषय का ज्ञान, विज्ञान है। विज्ञान की सीमाएं बहुत दूर तक फैली हुई हैं। जैसे- जीवन विज्ञान, प्राकृतिक विज्ञान, सामाजिक विज्ञान आदि। जो हमें घटनाओं के पीछे के कारण का ज्ञान कराते हैं।

 

निबंध - 4 (600 शब्द)

परिचय

“विज्ञान मानवता के लिए एक ख़ूबसूरत तौफा है, हमें इसे नष्ट नहीं करना चाहिए” - डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम। जैसे-जैसे हम पाषाण युग से आगे बढ़ रहे थे, विज्ञान ने हमें वर्तमान युग के सुविधाओं के समुह में भर दिया। यह हमारे जीवन को सरल बनाते हैं तथा विज्ञान के चमत्कारों पर विचार करने के लिए हमें प्रेरित करते हैं।

विज्ञान के अनेक ऐसे अविष्कार, जो हमारे जीवन को आसान और सुखद बनाते हैं। विज्ञान का हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण योगदान है।

विज्ञान के अविष्कार

  • विज्ञान ने प्लास्टिक के अनेक ऐसे शिल्पनिर्मित उपकरण उपलब्ध कराए हैं जिसका उपयोग हम दैनिक जीवन में करते हैं।
  • मोटरसायकिल, कार, सायकिल, बस इन सब यातायात के साधनों के अभाव में हम नहीं रह सकते, यह हमारे यात्रा के दौरान हमारा समय बचाते हैं। तथा बैल गाड़ी से हवाई जहाज का सफ़र विज्ञान की एक शानदार उपलब्धि है।
  • एन्टीबायोटिक्स, इनजेक्सन तथा इसी तरह के अनेक औषधी विज्ञान की देन है।
  • हम आज खाना भी विज्ञान की सहायत से बना पाते है, किचन में उपयोग होने वाले माइक्रोवेव, गैस, स्टोव, इन्डेक्सन चुल्हा विज्ञान की देन हैं।
  • विज्ञान के माध्यम से स्वच्छता में पहले की अपेक्षा बहुत सुधार हुआ हैं, वैक्युम क्लीनर तथा अन्य ऐसे कई छोटे-बड़े उपकरण का उपयोग हम निजी तथा सार्वजनिक स्थल की सफाई के उपयोग में लाते हैं।
  • प्रेस, रूम हीटर, वाटर हीटर, कुलर, ए.सी. आदि यह सभी उपकरण हमारे दैनिक जीवन को सरल तथा आरामदायक बनाते हैं। हमें इन उपकरणों की इतनी आदत हो गई है की इनके अभाव में हमारा कार्य रूक जाता है।
  • विज्ञान के वजह से अंधविश्वास को त्याग दिया गया है और हर चीज को देखने का नज़रीया बदल गया है।
  • दूर संचार (मोबाइल फोन, टेलीफोन) का अविष्कार हमारे कार्य को आसान करता है तथा हमें हमारे अपनों से परस्पर संपर्क में रखता हैं।
  • फिल्टर और मिनरल पानी हमें स्वस्थता प्रदान करते हैं। यह भी विज्ञान की ही देन हैं।

विज्ञान के कुछ ऐसे अविष्कार जिन्होंने मानव जगत में क्रांति फैला दिया।

  • पहिया- 3500 ई. पू. पहिये का अविष्कार हुआ जिसने मानव जगत को कृषि तथा परिवहन में सहायता प्रदान किया।
  • मुद्रणयंत्र (Printing Press)- सन् 1440 में, जर्मनी के जॉन गुटरबर्ग ने प्रिटिंग प्रेश का अविष्कार किया, जिसने किताबों के अन्य कॉपी तेजी से छापे जिससे ज्ञान का विस्तार व्यापक रूप में हुआ।
  • टेलीफोन- एलेक्जेडर ग्राहिम बेल ने 1876 में टेलीफोन का अविष्कार किया, जिसने दूर संचार के माध्यम से अनेक काम आसान कर दिए।
  • मोबाइल फोन- अमेरिकी विज्ञानिक मार्टिन कूपर ने अपनी टीम के साथ मिल कर 1973 में मोबाइल फोन बनाया तथा इसका वजन 2 किलो ग्राम था। यह आगे चल कर दूर संचार का सबसे बेहतर माध्यम बना।
  • मोटर सायकिल- गोटलिब डेमलयर और विल्हेम मेबैक ने सन् 1885 में मोटर सायकिल बनाया। जिसने यातायात के साधन के रूप में क्रांति फैलाया।
  • बल्व का अविष्कार- अमेरिकी अविष्कारक थॉमस अल्वा एडिसन ने 1879 में विश्व को भेंट के रूप में बल्व दिया।
  • इन्टरनेट - 1969 में, टीम बर्नर्स ली ने इंटरनेट का अविस्कार किया अतः इन्हें इंटरनेट का जनक कहा जाता है। इंटरनेट संचार का सबसे गतिमान माध्यम माना जाता है, तथा यह मानव के लिए एक नायाब तौहफा है।

निष्कर्ष

विज्ञान के मदद से हमारा जीवन आसान और आरामदायक हो गया है। विज्ञान ने हमें उपहार के रूप में कई ऐसी संपत्ति दी है जिसने व्यक्ति के जीवन को प्रभावित किया है, उसे बदल दिया है। जिसमें मुख्य रूप से मोबाइल, इंटरनेट, बल्व, लाइट, सायकिल, कम्पूटर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह आज के समय में मानुष्य की मूल भूत आवश्यकता के रूप में देखा जाता है।