भगत सिंह पर निबंध

भगत सिंह सबसे प्रभावशाली समाजवादी क्रांतिकारियों में से एक थे। ब्रिटिश सरकार के खिलाफ हिंसा के दो कृत्यों और उसके परिणामस्वरूप उनको मिला मृत्युदंड के कारण उनको हर घर में पहचाना जाने लगा। भगत सिंह का जन्म 1907 में पंजाब के बंगा गांव में किशन सिंह और विद्यावती के घर में हुआ था। उनके परिवार के सदस्य सक्रीय रूप से स्वतंत्रता आंदोलनों में शामिल थे और वह भी बहुत जल्द स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा बन गए। भगत सिंह के विषय पर आपकी परीक्षा में आपकी सहायता करने के लिए यहाँ अलग-अलग शब्द सीमा के निबंध उपलब्ध कराए गए हैं।

भगत सिंह पर निबंध(Essay on Bhagat Singh in Hindi)

भगत सिंह पर निबंध – 1 (200 शब्द)

भगत सिंह, जिनको शहीद भगत सिंह के नाम से भी जाना जाता है, एक बेहतर स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ आज़ादी की लड़ाई लड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। उन्हें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारियों में से एक माना जाता है।

भगत सिंह 28 सितंबर 1907 को पंजाब के एक सिख परिवार में पैदा हुए थे। उनके पिता और चाचा सहित कई पारिवारिक सदस्य सक्रिय रूप से भारतीय स्वतंत्रता के संघर्ष में शामिल थे। उनका परिवार और उस समय के दौरान हुई कुछ घटनाएं भगत सिंह के लिए प्रेरणा थीं जिस वजह से वे शुरुआती उम्र में आजादी के संघर्ष के लिए उतरे। अपनी किशोरावस्था में उन्होंने यूरोपीय क्रांतिकारी आंदोलनों के बारे में अध्ययन किया और अराजकतावादी और मार्क्सवादी विचारधाराओं के प्रति तैयार हुए। वह जल्द ही क्रांतिकारी गतिविधियों में शामिल हो गए और कई अन्य लोगों को भी इसमें सक्रीय रूप से शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

उनके जीवन का महत्वपूर्ण मोड़ स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की हत्या थी। भगत सिंह इस अन्याय को बर्दाश्त नहीं कर सके और लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने का प्रण किया। उन्होंने ब्रिटिश आधिकारिक जॉन सॉन्डर्स की हत्या और केंद्रीय विधान सभा में बम फेंकने की योजना बनाई।

इन घटनाओं को अंजाम तक पहुँचाने के बाद उन्होंने आत्मसमर्पण किया और अंततः ब्रिटिश सरकार ने उन्हें इन कार्यों के लिए फांसी की सज़ा दी। इन वीर कृत्यों के कारण वह भारतीय युवाओं के लिए एक प्रेरणा का स्रोत बन गये।


 

भगत सिंह पर निबंध – 2 (300 शब्द)

भगत सिंह निस्संदेह भारतीय स्वतंत्रता के इतिहास में सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारियों में से एक है। उन्होंने न केवल जीवित रहते हुए स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय भूमिका निभाई बल्कि अपनी मृत्यु के बाद भी कई अन्य युवाओं को इसमें शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

भगत सिंह का परिवार

भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर, 1907 को पंजाब में एक जटसिख परिवार में हुआ था। उनके पिता किशन सिंह, दादा अर्जुन सिंह और चाचा अजीत सिंह भारतीय स्वतंत्रता के संघर्ष में सक्रिय रूप से शामिल थे। अपने परिवार के सदस्यों से वे बेहद प्रेरित हुए और देशभक्ति की भावना उनमें घर कर गई। ऐसा लग रहा था कि देशभक्ति उनकों रगों में दौड़ रही थी।

भगत सिंह का प्रारंभिक जीवन

भगत सिंह 1916 में जब 9 वर्ष के थे तो लाला लाजपत राय और रास बिहारी बोस जैसे राजनीतिक नेताओं से मिले। सिंह उनके द्वारा बहुत प्रेरित थे। 1919 में हुई जलियांवाला बाग हत्याकांड की वजह से भगत सिंह बेहद परेशान थे। नरसंहार के दिन के बाद भगत सिंह जलियांवाला बाग के पास गये और उस जगह से कुछ मिट्टी एकत्र कर एक स्मारिका के रूप में अपने पास रख ली। इस घटना ने ब्रिटिश शासन को देश से बाहर धकेलने के लिए उनकी इच्छा को मजबूत किया।

लाला लाजपत राय की हत्या का बदला लेने का उनका संकल्प

जलियांवाला बाग नरसंहार के बाद लाला लाजपत राय की मृत्यु की वजह से भगत सिंह को गहरा आघात पहुँचा। इस कारण वह ब्रिटिश क्रूरता को सहन नहीं कर सके और लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने का फैसला किया। इस दिशा में उनका पहला कदम ब्रिटिश अधिकारी सॉन्डर्स को मारना था। सॉन्डर्स की हत्या के बाद उन्होंने विधानसभा सत्र के दौरान केंद्रीय संसद में बम फेंका। इसके बाद उन्हें अपने कृत्यों के लिए गिरफ्तार कर लिया गया और अंततः 23 मार्च 1931 को भगत सिंह को राजगुरु और सुखदेव के साथ फांसी दे दी गई।

निष्कर्ष

भगत सिंह केवल 23 वर्ष के थे जब उन्होंने अपने आप को हँसते-हँसते देश के लिए कुर्बान कर दिया यह बात युवाओं के लिए प्रेरणा बन गई। उनकी वीरता की कहानियाँ आज भी युवाओं को प्रेरित करती हैं।

भगत सिंह पर निबंध – 3 (400 शब्द)

भगत सिंह सबसे प्रभावशाली स्वतंत्रता सेनानियों में से एक है। वह कई क्रांतिकारी गतिविधियों का हिस्सा रहे और स्वतंत्रता के संघर्ष में शामिल होने के लिए उन्होंने कई लोगों विशेष रूप से युवाओं को प्रेरित किया।

स्वतंत्रता संग्राम में क्रांति

भगत सिंह उन युवाओं में शामिल थे जिनकी ब्रिटिशों के खिलाफ लड़ने की शैली गांधीवादी नहीं थी। वह लाल-बाल-पाल के चरमपंथी तरीकों पर विश्वास करते थे। भगत सिंह ने यूरोपीय क्रांतिकारी आंदोलन का अध्ययन किया और अराजकता और साम्यवाद के प्रति आकर्षित हो गये थे। उन्होंने उन लोगों के साथ हाथ मिलाया जो अहिंसा की पद्धति का उपयोग करने के बजाए आक्रामक तरीके से क्रांति लाने में विश्वास करते थे। अपने काम करने के तरीकों की वजह से लोग भगत सिंह को नास्तिक, साम्यवादी और समाजवादी के रूप में जानने लगे थे।

भारतीय सोसाइटी के पुनर्निर्माण की आवश्यकता

भगत सिंह को एहसास हुआ कि केवल ब्रिटिशों को बाहर करना ही देश के लिए अच्छा नहीं होगा। भगत सिंह समझ गये थे और इस तथ्य की वकालत की कि ब्रिटिश शासन का विनाश भारतीय राजनीतिक व्यवस्था के पुनर्निर्माण के बाद किया जाना चाहिए। उनका मानना ​​था कि श्रमिकों को शक्ति दी जानी चाहिए। बीके दत्त के साथ भगत सिंह ने जून 1929 में एक बयान में क्रांति के बारे में अपनी राय जाहिर की जिसमें उन्होंने कहा कि 'क्रांति से हमारा मतलब है कि चीजों का वर्तमान क्रम, जो स्पष्ट अन्याय पर आधारित है, को बदलना चाहिए। मजदूरों को समाज का सबसे आवश्यक तत्व होने के बावजूद उनके मालिकों द्वारा लूटा जा रहा है और उन्हें अपने प्राथमिक अधिकारों से वंचित रखा जा रहा हैं। किसान जो सभी के लिए अनाज पैदा करता है अपने परिवार के साथ भूखा सो रहा है, कपड़ा वस्त्र के बाज़ारों के साथ-साथ दुनिया भर के लोगों की आपूर्ति वाले बुनकर के पास अपने ही बच्चों के शरीर को ढंकने के लिए पर्याप्त वस्त्र नहीं है, मज़दूर और मिस्त्री जो कि शानदार महलों को बनाते हैं मलिन बस्तियों में पारीहियों की तरह रह रहे हैं। पूंजीपति और शोषक अपने शौक पर लाखों खर्च करते हैं।

संगठन जिसके साथ वह जुड़े

भारत की आजादी के लिए अपने संघर्ष के दौरान भगत सिंह जिस संगठन में सबसे पहले शामिल हुए थे वह हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन था। वे इस संगठन से 1924 में जुड़े थे। इसके बाद उन्होंने सोहन सिंह जोश और श्रमिक तथा किसान पार्टी के साथ काम करना शुरू कर दिया और जल्द ही पंजाब की एक क्रांतिकारी पार्टी के रूप में काम करने के उद्देश्य से एक संगठन बनाने की आवश्यकता महसूस की और इस दिशा में काम किया। उन्होंने लोगों को संघर्ष में शामिल होने और ब्रिटिश शासन के चंगुल से देश को मुक्त करने के लिए प्रेरित किया।

निष्कर्ष

भगत सिंह एक सच्चे क्रांतिकारी थे जिन्होंने ब्रिटिश शासन को उखाड़ फेंकने और देश में सुधार लाने के लिए इतना सब कुछ किया था। यद्यपि भगत सिंह जवानी में ही वतन के लिए कुर्बान हो गए पर उनकी विचारधाराएं जीवित रही जो लोगों को प्रेरित करती रही।

भगत सिंह पर निबंध – 4 (500 शब्द)

भगत सिंह का जन्म 1907 में पंजाब के खटकर कलां गाँव (जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है) में हुआ था। उनका परिवार भारत की पूरी स्वतंत्रता के संघर्ष में शामिल था। वास्तव में भगत सिंह के जन्म के समय उनके पिता राजनीतिक आंदोलन में उनकी भागीदारी की वजह से कारावास में थे। परिवार के माहौल से प्रेरित होकर तेरह वर्ष की छोटी सी उम्र में भगत सिंह स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े।

भगत सिंह की शिक्षा

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है भगत सिंह का परिवार स्वतंत्रता संग्राम में गहन रूप से शामिल था। उनके पिता महात्मा गांधी का समर्थन करते थे और जब बाद में महात्मा गाँधी ने सरकारी सहायता प्राप्त संस्थानों का बहिष्कार करने के लिए कहा तो भगत सिंह के पिता ने भी उनको स्कूल छोड़ने के लिए कह दिया। वह 13 वर्ष की उम्र में स्कूल छोड़कर लाहौर के नेशनल कॉलेज में शामिल हो गए। वहां उन्होंने यूरोपीय क्रांतिकारी आंदोलनों के बारे में अध्ययन किया जिससे वे बेहद प्रेरित हुए।

भगत सिंह की विचारधारा में बदलाव

भगत सिंह के परिवार ने पूरी तरह से गांधीवादी विचारधारा का समर्थन किया और खुद भगत सिंह भी महात्मा गाँधी की विचारों से सहमत थे लेकिन जल्द ही उनका गाँधी विचारधारा से मोहभंग हो गया। उन्हें लगा कि अहिंसक आंदोलन से उन्हें कुछ हासिल नहीं होगा और सशस्त्र संघर्ष ही अंग्रेजों से लड़ने का एकमात्र तरीका है। उनकी किशोरावस्था के दौरान दो प्रमुख घटनाक्रम उनकी विचारधारा में बदलाव के लिए जिम्मेदार थे। ये 1919 में हुआ जलियांवाला बाग नरसंहार और 1921 में ननकाना साहिब में निहत्थे अकाली प्रदर्शनकारियों की हत्या थी।

चौरी चौरा घटना के बाद महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन को वापस लेने की घोषणा की। भगत सिंह के अनुरूप यह फ़ैसला सही नहीं था और इसके बाद उन्होंने गांधी के नेतृत्व में हो रहे अहिंसक आंदोलनों से दूरी बना ली। इसके बाद वे युवा क्रांतिकारी आंदोलन में शामिल हो गए और अंग्रेजों को बाहर निकालने के लिए हिंसा की वकालत करने लगे। उन्होंने कई तरह के क्रांतिकारी कृत्यों में भाग लिया और कई युवकों को इसमें शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

भगत सिंह के बारे में दिलचस्प तथ्य

शहीद भगत सिंह के बारे में कुछ दिलचस्प और कम ज्ञात तथ्य इस प्रकार हैं:

  • भगत सिंह एक उत्साही पाठक थे और इस बात को महसूस करते थे कि युवाओं को प्रेरित करने के लिए कागजात और पत्रक वितरण के बजाए क्रांतिकारी लेख और किताबें लिखना आवश्यक था। उन्होंने कीर्ति किसान पार्टी की पत्रिका "कीर्ति" और कुछ समाचार पत्रों के लिए कई क्रांतिकारी लेख लिखे हैं।
  • उनके प्रकाशनों में शामिल है मैं क्यों एक नास्तिक हूँ : एक आत्मकथात्मक व्याख्यान, एक राष्ट्र के विचार, जेल नोटबुक आदि। उनके कार्य आज भी प्रासंगिकता रखते हैं।
  • उन्होंने अपना घर तब छोड़ दिया जब उनके माता-पिता ने उन्हें शादी करने के लिए मजबूर किया। उन्होंने घर छोड़ने का कारण दिया कि यदि वे गुलाम भारत में शादी करते हैं तो उनकी दुल्हन ही मर जाएगी।
  • यद्यपि वे सिख परिवार में पैदा हुए लेकिन फिर भी उन्होंने अपने बाल और दाढ़ी को कटवा दिया ताकि वे ब्रिटिश अधिकारी जॉन सॉन्डर्स की हत्या के लिए पहचाने न जा सके और गिरफ्तार न हो सकें।
  • उन्होंने अपनी जांच के समय किसी भी बचाव की पेशकश नहीं की थी।
  • उन्हें 24 मार्च 1931 को फांसी की सजा सुनाई गई लेकिन उन्हें 23 मार्च को ही फांसी दे दी गई। ऐसा कहा जाता है कि कोई भी मजिस्ट्रेट उनकी फांसी पर निगरानी नहीं रखना चाहता था।

निष्कर्ष

भगत सिंह सिर्फ 23 वर्ष के थे जब उन्होंने खुशी-ख़ुशी देश के लिए अपना बलिदान दे दिया। उनकी मृत्यु कई भारतीयों के लिए स्वतंत्रता के संघर्ष में शामिल होने के लिए एक प्रेरणा साबित हुई। उनके समर्थकों ने उन्हें शहीद शीर्षक दिया। वे सही अर्थों में शहीद थे।


 

भगत सिंह पर निबंध – 5 (600 शब्द)

लोकप्रिय रूप से शहीद भगत सिंह के रूप में संदर्भित यह उत्कृष्ट क्रांतिकारी 28 जनवरी 1907 को पंजाब के जालंधर दोआब जिले के संधू जाट परिवार में पैदा हुआ। वे कम उम्र में ही आजादी के लिए संघर्ष में शामिल हो गए थे और 23 वर्ष की आयु में शहीद भी हो गए थे।

भगत सिंह - जन्म से ही क्रांतिकारी

अपने वीर और क्रांतिकारी कृत्यों के लिए मशहूर भगत सिंह का जन्म उस परिवार में हुआ था जो भारतीय स्वतंत्रता के संघर्ष में सक्रिय रूप से शामिल था। उनके पिता सरदार किशन सिंह और चाचा सरदार अजीत सिंह उस समय के लोकप्रिय नेता थे। वे गांधीवादी विचारधारा का समर्थन करने के लिए जाने जाते थे और उन्होंने ब्रिटिशों के विरोध में जनता को प्रेरित करने का कोई अवसर नहीं छोड़ा।

वे विशेष रूप से चरमपंथी नेता बाल गंगाधर तिलक से प्रेरित थे। स्वतंत्रता आंदोलन में पंजाब के उदय के बारे में बात करते हुए एक बार भगत सिंह ने बताया, "1906 में कलकत्ता में कांग्रेस सम्मेलन में उनके पिता और चाचा के उत्साह को देखकर लोकमान्य ने प्रसन्न होते हुए उन्हें अलविदा कहा और उन्हें पंजाब में आंदोलन को मजबूत करने की जिम्मेदारी दी। लाहौर लौटने पर दोनों भाइयों ने ब्रिटिश राज को उखाड़ फेंकने के लिए अपने विचारों का प्रचार करने के उद्देश्य के साथ भारत माता नाम से एक मासिक अख़बार शुरू किया।

देश के प्रति वफादारी और ब्रिटिशों के चंगुल से मुक्त करने के अभियान में इस प्रकार भगत सिंह का जन्म हुआ था। इस प्रकार देशभक्ति उनके रगों में दौड़ने लगी थी।

भगत सिंह की स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय सहभागिता

भगत सिंह 1925 में यूरोपीय राष्ट्रवादी आंदोलनों के बारे में पढ़कर बहुत प्रेरित हो गए थे। उन्होंने अगले वर्ष नौवहन भारत सभा की स्थापना की और बाद में हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन में शामिल हो गए जहां उन्होंने सुखदेव और चंद्रशेखर आजाद सहित कई प्रमुख क्रांतिकारियों के साथ संपर्क स्थापित किया। उन्होंने कीर्ति किसान पार्टी की पत्रिका, "कीर्ति" में लेखों का योगदान भी शुरू किया। हालांकि उनके माता-पिता चाहते हैं कि वे उसी समय शादी करें पर उन्होंने उनकी इस इच्छा को खारिज कर दिया और कहा कि वे स्वतंत्रता संग्राम में अपना जीवन समर्पित करना चाहते हैं।

कई क्रांतिकारी गतिविधियों में उनकी सक्रिय भागीदारी के कारण वह जल्द ही ब्रिटिश पुलिस की नज़रों में आ गए और मई 1927 में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। कुछ महीने बाद उन्हें रिहा कर दिया गया और इसके बाद उन्होंने समाचार पत्रों के लिए क्रांतिकारी लेख लिखने शुरू किए।

परिवर्तन की शुरुआत

1928 में ब्रिटिश सरकार ने भारतीयों के लिए स्वायत्तता की चर्चा के लिए साइमन कमीशन का गठन किया था। इसका कई भारतीय राजनीतिक संगठनों द्वारा बहिष्कार किया गया था क्योंकि साइमन कमीशन में किसी भी भारतीय प्रतिनिधि को शामिल नहीं किया गया था। लाला लाजपत राय ने एक जुलूस का नेतृत्व करके लाहौर स्टेशन की ओर बढ़ते हुए इसका विरोध किया। भीड़ को नियंत्रित करने की कोशिश में पुलिस ने लाठी चार्ज के हथियार का इस्तेमाल किया और प्रदर्शनकारियों को क्रूरता से मारा। लाला लाजपत राय गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। कुछ हफ्तों बाद उन्होंने अपनी चोटों के कारण दम तोड़ दिया। इस घटना से भगत सिंह इतने क्रोधित हुए कि उन्होंने लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने की योजना बनाई। भगत सिंह ने ब्रिटिश पुलिस अधिकारी जॉन पी सॉन्डर्स को जल्द ही मार दिया। उन्होंने और उनके सहयोगियों में से एक ने बाद में दिल्ली में केंद्रीय विधान सभा में बम भी फेंका। इसके बाद उन्होंने इस घटना में अपनी भागीदारी कबूलते हुए पुलिस में आत्मसमर्पण कर दिया।

जांच अवधि के दौरान भगत सिंह ने जेल में भूख हड़ताल की। 23 मार्च 1931 को उनको और उनके सह-षड्यंत्रकारी राजगुरू और सुखदेव को फांसी की सज़ा दे दी गई।

निष्कर्ष

भगत सिंह एक सच्चे देशभक्त थे। उन्होंने न केवल देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई लड़ी बल्कि देश की आज़ादी के लिए के लिए सर्वोच्च बलिदान देने से भी पीछे नहीं हटे। उनकी मृत्यु से पूरे देश में मिश्रित भावनाएं फ़ैल गई जबकि गांधीवादी विचारधारा में विश्वास करने वाले लोगों का मानना ​​था कि वे बहुत आक्रामक और कट्टरपंथी थे और वहीँ दूसरी तरफ उनके अनुयायी उन्हें शहीद मानते थे। उन्हें अभी भी शहीद भगत सिंह के रूप में याद किया जाता है।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

महात्मा गांधी पर निबंध

जवाहर लाल नेहरु पर निबंध

भगत सिंह पर निबंध

सुभाष चन्द्र बोस पर निबंध

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध

डॉ भीमराव अम्बेडकर पर निबंध