बच्चा आदमी का पिता होता है पर निबंध

मुहावरा "बच्चा मनुष्य का पिता होता है" का अर्थ है कि मनुष्य की वास्तविक प्रकृति उम्र या समय से नहीं बदलती है। हालांकि इसकी कई अन्य तरीकों से भी व्याख्या की गई है। "बच्चा आदमी का पिता होता है" का मूल रूप से मतलब है कि एक आदमी वास्तविकता में अपने शुरुआती वर्षों के व्यवहार और आदतों का विकास का मिश्रण होता है। इस मुहावरे से कई अन्य व्याख्याएं भी बनाई गई हैं। यहां ‘बच्चा आदमी का पिता होता है’ पर विभिन्न शब्द सीमा के निबंध आप के लिए इस मुहावरे के बारे में जानकारी प्रदान करने और आपकी परीक्षा में इस विषय को लेकर आपकी सहायता करने के लिए उपलब्ध करवाए हुए हैं। आप अपनी आवश्यकता के आधार पर किसी भी निबंध का चयन कर सकते हैं:

बच्चा आदमी का पिता होता है पर निबंध (Essay on Child is the Father of the Man in Hindi)

बच्चा आदमी का पिता होता है पर निबंध – 1 (200 शब्द)

वाक्यांश "बच्चा आदमी का पिता होता है", प्रसिद्ध कवि विलियम वर्ड्सवर्थ ने 1802 में खोजा था। इस शब्द का मूल रूप से मतलब है कि किसी व्यक्ति के बचपन के व्यवहार और गतिविधियों ने अपने व्यक्तित्व के निर्माण में एक लंबा रास्ता तय किया है। हालांकि इसकी अन्य तरीकों से भी व्याख्या की गई है। आइए हम उसी के बारे में और साथ ही साथ दी गई शिक्षाओं के बारे में सीखें।

बच्चा आदमी का पिता होता है - अलग व्याख्याएं

इस कहावत की अलग-अलग व्याख्याएं इस प्रकार हैं:

  1. एक आदमी मूल रूप से अपने गुजरे वर्षों के दौरान विकसित व्यवहार और शिष्टाचार का एक उत्पाद होता है मुख्यतः अपने प्रारंभिक बचपन के।
  2. एक बच्चे का व्यवहार निर्धारित करता है कि जब वह बड़ा होगा तो वह क्या बनेगा।
  3. जिस तरह से एक व्यक्ति अपने बचपन के दौरान होता है उसी तरह वह अपनी वयस्कता में रहता है। किसी व्यक्ति का मूल स्वरूप और व्यवहार उम्र या समय के साथ नहीं बदलता है।

यद्यपि इस मुहावरे की अलग-अलग ढंग से व्याख्या की गई है लेकिन अर्थ एक ही है।

निष्कर्ष

मुहावरा "बच्चा आदमी का पिता होता है", इसका प्रयोग आमतौर पर सामान्य रूप से यह इंगित करने के लिए किया जाता है कि किसी व्यक्ति की बचपन की आदतों का उसके समग्र चरित्र पर असर पड़ता है और यह वास्तव में काफी हद तक सच है। इस प्रकार बचपन के दौरान अच्छी आदतों को विकसित करना आवश्यक है।


 

बच्चा आदमी का पिता होता है पर निबंध – 2 (300 शब्द)

मुहावरा "बच्चा आदमी का पिता होता है" की विभिन्न तरीकों से व्याख्या की गई है। इसका मुख्य अर्थ यह है कि एक व्यक्ति, जैसे-जैसे वह विकसित होता है, का व्यवहार और शिष्टाचार उसके बचपन के दौरान उसके व्यक्तित्व को प्रभावित करता है। आइए हम इस कहावत की उत्पत्ति के बारे में और इसका मूलतः क्या मतलब है के बारे में जाने।

मुहावरे की उत्पत्ति – बच्चा आदमी का पिता होता है

मुहावरा मूल रूप से प्रसिद्ध कवि विलियम वर्ड्सवर्थ द्वारा लिखा गया था। यह पहली बार वर्ड्सवर्थ की कविता "माय हार्ट लीप्स अप" में दिखाई दी जो 1802 में लिखी गई थी। यह शब्द एक महत्वपूर्ण संदेश देता है और उसके बाद से इसे कई मौकों पर इस्तेमाल किया गया है।

कहावत का स्पष्टीकरण

इस वाक्यांश के जरिए वर्ड्सवर्थ ने कहा कि एक बच्चे के रूप में वह इंद्रधनुष को देखकर बहुत प्रसन्न होता था और एक वयस्क के रूप में वह प्रकृति को देखकर अभी भी उसी प्रकार की खुशी का अनुभव करता है जैसे वह पहले करता था। उसका कहना है कि अपने बचपन के दिनों की प्रसन्नता उसे अभी भी रोमांचित कर देती है।

उनके अनुसार जिस प्रकार सुबह पूरे दिन का प्रतीक है उसी प्रकार बचपन वयस्कता को दिखाती है। यह स्वाभाविक है कि अपने बचपन के दिनों में एक व्यक्ति जो सीखता है वह उसी आदतों और शब्दों को  बाद में अपने जीवन में प्रतिबिंबित करेगा। उदाहरण के लिए यदि कोई व्यक्ति बचपन के दौरान अच्छी आदतें विकसित करता है तो उसके एक अनुशासित जीवन जीने की संभावना है। इसी तरह एक बच्चे में जब बुरी आदतें पनपने लगती है तो उसके बढ़ती उम्र के साथ वह उनका आदी होने लगता है।

बच्चा आदमी का पिता है – उपदेश

  • किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व के निर्माण में माता-पिता और शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण है।
  • बच्चे अपने माता-पिता को देखते हैं और उनकी नकल करना पसंद करते हैं। माता-पिता के लिए अच्छे उदाहरण स्थापित करना भी महत्वपूर्ण है।
  • बच्चे के सही आचरण को सुनिश्चित करना बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे उसके जीवन का बाकी हिस्सा प्रभावित होता है।

निष्कर्ष

इस नीतिवचन के अनुसार एक वयस्क के दिल के भीतर एक छोटा बच्चा रहता है जो उसका अलग-अलग स्थितियों में व्यवहार करने और प्रतिक्रिया देने के लिए मार्गदर्शन करता है।

बच्चा आदमी का पिता होता है पर निबंध – 3 (500 शब्द)

परिचय

विलियम वर्ड्सवर्थ नामक कवि द्वारा लिखित सबसे लोकप्रिय कविता 'माई हार्ट लीप्स अप' में से एक कहावत ‘बच्चा आदमी का पिता होता है’ है। यह कविता अभी भी व्यापक रूप से वयस्कों और बच्चों द्वारा व्यापक रूप से पढ़ी जाती है जिसका मुख्य कारण है उसमें छिपा गहरा अर्थ।

अर्थ

मुहावरे के अनुसार 'बच्चा आदमी का पिता होता है' एक आदमी का मूल स्वरूप उम्र या समय के साथ नहीं बदलता है। किसी वयस्क का व्यवहार और प्रकृति को उसके बचपन में ही विकसित किया जाता है और उस बच्चे का आचरण या व्यवहार ही आगे उस व्यक्ति की छवि का प्रतीक होता है। आदर्श रूप से एक वयस्क अपने व्यवहार, तौर-तरीकों या आदतों का ही परिणाम होता है जिसे वह अपने बचपन के दौरान विकसित करता है।

हम सभी जानते हैं कि एक बच्चा जीवन के सभी दबावों और व्यावहारिकताओं से दूर रहता है ताकि वह अपने जीवन के हर पल का आनंद ले सके। इस कहावत 'बच्चा आदमी का पिता' है के माध्यम से विलियम वर्ड्सवर्थ यह चित्रित करना चाहते है कि आज भी वह उसी उत्साह से इंद्रधनुष जैसी हर छोटी-छोटी चीजों का आनंद उठाते है जिस तरह वह एक बच्चे के रूप में उसका आनंद लेते थे। एक व्यस्क आदमी के रूप में कोई भी जीवन का दबाव या कठोर परिश्रम उस व्यक्ति को प्रकृति का आनंद लेने से नहीं रोक सकता जिस तरह वह बच्चे के रूप में छोटी-छोटी चीजों का आनंद लेती थी। एक वयस्क के रूप में उनका व्यक्तित्व उनके बचपन में स्वयं अपनाया गया था।

यह मुहावरा दर्शाता है कि बचपन किसी व्यक्ति के जीवन में नींव अवस्था का रूप लेता है और जो भी व्यक्ति अपने बचपन में सीखता है वह तब तक उसके साथ रहता है जब तक उसका अस्तित्व धरती पर रहता है। ज्ञान, आदतें, रवैया, प्रकृति और किसी भी व्यवहार से कोई व्यक्ति जो एक वयस्क के रूप में दर्शाता है वास्तव में उसके द्वारा उसके बचपन के दौरान आत्मसात हो जाता है।

इससे बच्चे के माता-पिता के कंधे पर भी बहुत ज़्यादा ज़िम्मेदारी पड़ती है जो कि अपनी शुरुआती ज़िंदगी में अपने बच्चे को जो भी कुछ सिखाते हैं वह उस बच्चे के व्यक्तित्व पर हमेशा के लिए छाप छोड़ देते हैं। एक हँसता-खेलता बच्चा आत्मविश्वास से भरपूर और हर्षित व्यक्ति बन जाता है वहीँ एक बच्चा जो कष्टों और दुखों से गुज़रा है व्यथित व्यक्ति बन जाता है।

प्रसिद्ध मुहावरा ‘बच्चा आदमी का पिता होता है’ की बहुत अधिक व्याख्याएं हैं। बचपन में की जाने वाली गतिविधियों का बड़े पैमाने पर व्यक्ति के समग्र व्यक्तित्व पर प्रभाव पड़ता है। एक बच्चे का कोई दुश्मन नहीं होता, वह जीवन की सुख-दु:ख से दूर रहता है, मासूम होता है और हर किसी को प्यार करता है, वह हर छोटी गतिविधि में आनंद ढूंढता है, चंचल होता है। भले ही जिंदगी का दबाव और कुछ बेकाबू तथ्य जीवन के बाद के स्तर पर एक व्यक्ति को बदल सकते हैं लेकिन मनुष्य को हमेशा एक बच्चे के रूप में दिल से युवा रहना चाहिए।

निष्कर्ष

इस प्रकार माता-पिता और शिक्षकों को हमेशा अपने बच्चों के साथ अपने व्यवहार के प्रति सचेत रहना चाहिए और उन्हें अच्छा पालन-पोषण करना चाहिए। उन्हें हमेशा इस तरह से बच्चे को शिक्षित और विकसित करने की कोशिश करनी चाहिए ताकि वह सकारात्मक और खुशहाल व्यक्ति बन सकें जो समाज में बड़े पैमाने पर काम कर सके।

बच्चा आदमी का पिता होता है पर निबंध – 4 (600 शब्द)

परिचय

विख्यात कविता 'माई हार्ट लीप्स अप' के माध्यम से विलियम वर्डवर्थवर्थ ने ‘बच्चा आदमी का पिता होता है' के मुहावरे की रचना की थी। इस पंक्ति के माध्यम से कवि यह कहने की कोशिश करता है कि मनुष्य का मूल स्वरूप उसके बचपन में ही विकसित हो जाता है। जब वह बच्चा था तो वह प्रकृति का आनंद लेता था और जब वह वयस्क के रूप में बड़ा हो गया है तो भी वह उसी प्रकार प्रकृति का आनंद उठाता है क्योंकि प्रकृति या इंद्रधनुष का आनंद लेना उनका मूल चरित्र है जो तभी विकसित हो गया था जब वह छोटा बच्चा था।

अर्थ

पंक्ति के अंदर छिपे गहरे अर्थ के कारण यह कहावत और भी अत्यधिक लोकप्रिय हो गई। इसका अर्थ है कि एक व्यक्ति के मुख्य व्यक्तित्व को बचपन से विकसित किया जाता है और यह मुख्य रूप से घर के परवरिश और स्कूलों में प्राप्त शिक्षाओं पर निर्भर होता है। इस प्रकार परवरिश और शिक्षण के प्रकार पर आधारित व्यक्ति अपने जीवन के बाद के चरण में सकारात्मक या नकारात्मक व्यक्तित्व गुण विकसित करता है। इसके अलावा बच्चे के व्यवहार को देखते हुए कोई भी यह निर्धारित कर सकता है कि वह किस प्रकार का व्यक्ति हो सकता है।

यहां तक ​​कि सीखने के परिप्रेक्ष्य से जो भी सीख, शिक्षा और ज्ञान बचपन में एक बार सीख लेता है वह हमेशा के लिए उस व्यक्ति के साथ रहता है। एक बच्चे को वयस्क के लिए सीख का स्रोत माना जाता है। बच्चा मासूम होता है और जिंदगी के जोश से भरा हुआ होता है लेकिन जब वह एक आदमी के रूप में बड़ा होता है तो वह विभिन्न जिम्मेदारियों और कठिनाइयों के कारण आकर्षण और निर्दोषता खो देता है लेकिन कवि ने बचपन के आकर्षण को नहीं खोया। वह इंद्रधनुष का आनंद उठाते हुए भी बड़ा हो गया। इसी तरह प्रत्येक व्यक्ति को सीमाओं के बिना जीवन का आनंद लेना चाहिए जैसे एक बच्चा बिना किसी दबाव की तरह काम करता है।

जिस तरह सुबह दिन का आधार है उसी तरह बचपन एक व्यक्ति के समग्र व्यक्तित्व और चरित्र का आधार है। बचपन की गतिविधियाँ उस व्यक्ति की आदतों और प्रदर्शन को प्रभावित करता है। यदि कोई बच्चा स्वस्थ वातावरण में जीता है और प्रेरक और हर्षित लोगों के बीच बढ़ता है तो वह निश्चित रूप से एक खुश और आश्वस्त व्यक्ति बनने वाला है और अगर कोई बच्चा एक अराजक माहौल में बढ़ा होता है तो उसमें एक विद्रोही होने के संकेत दिखाई देंगे। यही कारण है कि ऐसा कहा गया है कि बच्चा आदमी का पिता होता है। यह माता-पिता और शिक्षकों की जिम्मेदारी है कि वे अपने कार्यों और शब्दों से बच्चों को प्रेरित करें और बच्चों को शुरुआत से ही अच्छी आदतें सीखने के लिए प्रोत्साहित करें क्योंकि बच्चे तेजी से सीखते हैं और उनका ज्ञान उनके जीवनकाल के लिए उनके साथ रहता है। एक व्यक्ति न केवल अपने आचरण के लिए ज़िम्मेदार है बल्कि उसके संचालन और व्यवहार समाज को भी प्रतिबिंबित करता है इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि बच्चे को अच्छे नैतिक मूल्यों का पाठ पढ़ाया जाए और अच्छे कर्म करने के लिए प्रेरित किया जाए। बच्चे जब बढ़े हो जाते हैं तो वह दुनिया को रहने के लिए एक बेहतर स्थान बना सकते हैं।

निष्कर्ष

कुछ लोग बचपन के दौरान स्वस्थ देखभाल और आनंदमय यादें होने के बावजूद एक गंभीर और शांत व्यक्ति बन जाते हैं। प्रकृति, इंद्रधनुष, तितिलियाँ, पक्षियों आदि जैसे हर छोटी चीजों का आनंद लेने में कोई हानि नहीं है क्योंकि वे न केवल आपका बिना कुछ खर्च किए मनोरंजन करती हैं बल्कि वे आपकी मासूमियत और बचपन को भी बनाए रखती हैं। एक आदमी को हमेशा याद रखना चाहिए कि उनका व्यक्तित्व हमेशा उनके बचपन को चित्रित करता है।