पर्यावरण और विकास पर निबंध

पर्यावरण और विकास एकदूसरे से परस्पर जुड़े हुए है, एक व्यक्ति पर्यावरण पर विचार किए बिना विकास के बारे में सोच भी नही सकता। विकास को ध्यान में रखते हुए, अगर पर्यावरण को नजरअंदाज कर दिया जाये तो अंत में विकास भी इससे प्रभावित होगा।

पर्यावरण और विकास पर लम्बे तथा छोटे निबंध (Long and Short Essay on Environment and Development in Hindi)

नीचे आपको पर्यावरण और विकास से जुड़े कुछ निबंध मिल जायेंगे, जो कि आपके परीक्षा या विद्यालय से जुडे कार्यो में आपकी सहायता करेंगे। आप दिये गये निबंधो में से अपनी सुविधा अनुसार किसी भी निबंध का चयन कर सकते है।

पर्यावरण बनाम विकास पर निबंध – 1 (200 शब्द)

प्रस्तावना

विकास एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है, हालांकि हर विकास के अपने सकरात्मक और नकरात्मक नतीजे होते है। लेकिन जब निवासियो के लाभ के लिए विकास किया जा रहा हो, तो पर्यावरण का ख्याल रखना भी उतना ही जरुरी है। अगर बिना पर्यावरण की परवाह किये विकास किया गया तो पर्यावरण पर इसके नकरात्मक प्रभाव उत्पन्न होंगे, जिससे यह उस स्थान पर रहने वाले निवासियो पर भी हानिकारक प्रभाव डालेगा।

पर्यावरण बनाम विकास

पर्यावरण का अर्थ सिर्फ परिवेश नही होता है। पर्यावरण हवा, पानी और भूमि से मनुष्य के परस्पर संबंध को भी प्रदर्शित करता है। पर्यावरण और विकास एक-दूसरे के विपरीत नही जा सकते है, उन्हे एक-दूसरे का पूरक होना चाहिए। यदि पृथ्वी के तमाम संसाधनो को बिना सोचे समझे मनुष्य के विकास के लिए लगा दिया जायेग तो जल्द ही पृथ्वी मनुष्य के रहने योग्य नही रह जायेगी।

जैसा कि हम देखते है की एक देश के विकास के लिए, काफी ज्यादे मात्रा में भूमि अधिग्रहित कर ली जाती है जिसके चलते पेड़ो को काट दिया जाता है। इसी तरह विकास के नाम पर गैर नवकरणीय स्रोतों जैसे कि जीवाश्म ईंधन, पानी, और खनिजों का काफी तेजी से उपयोग किया जा रहा, जिसके कारण पृथ्वी द्वारा इन्हे फिर से प्रतिस्थापित नही किया जा पा रहा है। ग्लोबल वार्मिंग और संसाधनो के रिक्तीकरण ने विश्व भर के निवासियों को प्रभावित किया है, जिससे वह इस प्रगति के लाभ का आनंद नही ले पा रहे है।

निष्कर्ष

विकास के लाभो का पूर्ण रुप से आनंद लेने के लिए, पर्यावरण संरक्षण आवश्यक है। वास्तव में विकास को प्राथमिकता देने के लिए पर्यावरण को एक तरीके से नजरअंदाज कर दिया गया है। हालांकि पिछले कुछ समय में लोगो के अंदर इस विषय को लेकर जागरुकता आयी है। तो इस प्रकार यह इस बात की पुष्टि करता है कि पर्यावरण को उचित महत्व देकर हम लम्बे समय तक सही तरीके से विकास के फायदो को लाभ उठा पायेंगे।


 

पर्यावरण और आर्थिक विकास पर निबंध – 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

पर्यावरण और आर्थिक विकास एक-दूसरे से परस्पर जुड़े हुए है, वही दूसरी तरफ एक देश की आर्थिक तरक्की भी पर्यावरण को प्रभावित करती है। उसी तरह पर्यावरण संसाधनो में गिरावट भी आर्थिक विकास को प्रभावित करता है। ऐसे कई सारी पर्यावरण नीतियां है। जिन्हे अपनाकर हम अपने पर्यावरण को भी बचा सकते है और अपनी आर्थिक उन्नति भी सुनिश्चित कर सकते है।

 

पर्यावरण और आर्थिक विकास

आर्थिक विकास एक देश के उन्नति के लिए बहुत आवश्यक है। एक देश तभी विकसित माना जाता है जब वह अपने नागरिको को पार्याप्त मात्रा में रोजगार मुहैया करवा पाये। जिससे वहा के निवासी गरीबी से छुटकारा पाकर एक अच्छा जीवन व्यतीत कर सके। इस तरह का विकास आय में असमानता को कम करता है। जितना ज्यादे मात्रा में एक देश आर्थिक तरक्की करता है, उसके राजस्व कर में भी उतनी ही वृद्धि होती है और सरकार के बेराजगारी और गरीबी से जुड़ी कल्याण सेवाओं के खर्च में उतनी ही कमी आती है।

पर्यावरण एक देश के आर्थिक उन्नति में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। एक राष्ट्र के विकास का एक बड़ा हिस्सा विभिन्न क्षेत्रों में उत्पादन से जुड़ा होता है। प्राकृतिक संसाधन जैसे कि पानी, जीवाश्म ईंधन, मिट्टी जैसे प्राकृतिक संसाधनो की उत्पादन क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्रो में आवश्यकता होती है। हालांकि, उत्पादन के परिणामस्वरूप पर्यावरण द्वारा प्रदूषण का भी अवशोषण होता है। इसके अलावा उत्पादन के लिए संसाधनों के ज्यादे इस्तेमाल के वजह से पर्यावरण में संसाधनों की कमी की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है।

प्राकृतिक संसाधनो के लगातार हो रहे उपभोग तथा बढ़ते प्रदूषण स्तर के कारण पर्यावरण संसाधनो की गुणवत्ता खराब हो जायेगी, जिससे ना सिर्फ उत्पादन की गुणवत्ता प्रभावित होगी। बल्कि की इसके उत्पादन में लगे मजदूरो में भी तमाम तरह की स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न होंगी  और इसके साथ यह उनके लिए भी काफी हानिकारक सिद्ध होगा, जिनके लिए यह बनाया जा रहा है।

निष्कर्ष

आर्थिक विकास का आंनद लेने के लिए यह काफी जरूरी है कि हम पर्यावरण संसाधनो के संरक्षण को विशेष महत्व दे। पर्यावरण और आर्थिक विकास के संतुलन के मध्य संतुलन स्थापित करना काफी आवश्यक है, इस प्रकार से प्राप्त हुई तरक्की का आनंद ना सिर्फ हम ले पायेंगे बल्कि की हमारी आने वाली पीढ़ीया भी इससे लाभान्वित होंगी।


 

पर्यावरण और सतत विकास पर निबंध -3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

सतत विकास स्थिरता के तीन स्तंभो पर टिका हुआ है - आर्थिक, पर्यावरणीय और सामाजिक यह तीन चीजे इसकी आधारशिला है। पर्यावरणीय स्थिरता का तात्पर्य वायु, जल और जलवायु से है, सतत विकास का एक महत्वपूर्ण पहलू उन गतिविधियों या उपायों को भी अपनाना है जो स्थायी पर्यावरणीय संसाधनों में मदद कर सके। जिससे ना केवल हम अपनी आवश्यकताओं को पूरा कर सकेंगे बल्कि आने वाली पीढ़ीयों की भी आवश्यकताओं की पूर्ति सुनिश्चित कर सकेंगे।

 

पर्यावरण और सतत विकास

सतत विकास की अवधारणा 1987 में बनी ब्रुटलैंड कमीशन से ली गयी है। इस वाक्यांश के अनुसार सतत विकास वह विकास है जिसके अंतर्गत वर्तमान की पीढ़ी अपनी जरूरतो को पूरा करे, लेकिन इसके साथ ही संसाधनो की पर्याप्त मात्रा में सुरक्षा सुनिश्चित करे। जिससे आने वाले समय में भविष्य की पीढ़ी के मांगो को भी पूरा किया जा सके। 2015 के यूनाइटेड नेशन सतत विकास शिखर सम्मेलन ( यू.एन. सस्टेनबल डेवलपमेंट समिट) में विश्व प्रमुखो ने सतत विकास के लिए कुछ लक्ष्य निर्धारित किए है, वे कुछ इस प्रकार से है-

1.पूरे विश्व से गरीबी का खात्मा किया जाये।

2.सभी को पूरे तरीके से रोजगार और अच्छा कार्य प्रदान करके सतत आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा दिया जाये।

3.महिलाओं के लैगिंग समानता और सशक्तिकरण के लक्ष्य को प्राप्त करना।

4.पानी की स्थिरता को बनाए रखना और सभी के लिए स्वच्छता के उपायो को सुनिश्चित करना।

5.बिना उम्र का भेदभाव किये सभी के लिए स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देना।

6.सभी के लिए आजीवन पढ़ने और सीखने के अवसर को बढ़ावा देना।

7.स्थायी कृषि व्यवस्था को बढ़ावा देना और सभी के लिए पौष्टिक भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित करना।

8.देशो के बीच असमानता कम करना।

9.सभी के लिए सुरक्षित और सतत मानव आवास प्रदान करना।

10.जल स्त्रोतों का संरक्षण करना और उनका सतत विकास करना।

11.सतत विकास के लिए वैश्विक भागीदारी को पुनर्स्थापित करना।

12.वस्तुओं का सही उत्पादन और उपभोग करना।

13.सभी को सतत ऊर्जा मुहैया करवाना।

14.नविचार को बढ़ावा देना और सतत औद्योगिकरण का निर्माण करना।

15.जलवायु परिवर्तन से निपटने के उपायों को अपनाना।

16.स्थलीय तथा वन पर्यावरण तंत्र को पुनरस्थापित किया जाये, जिससे मिट्टी में हो रही गिरावट को रोका जो सके।

17.प्रभावी और जिम्मेदार संस्थानो का निर्माण करना, जिससे सभी को हर स्तर पर न्याय मिल सके।

ऊपर दिए गये लक्ष्यो का निर्धारण गरीबी के उन्मूलन के लिए किया गया है, इसके साथ ही 2030 तक जलवायु परिवर्तन तथा अन्याय से लड़ने के लिए भी इन कदमो को निर्धारित किया गया है। यह फैसले इसलिए लिये गये है ताकी हम अपने भविष्य के पीढ़ी के जरुरतो के लिए अपने इन प्राकृतिक संसाधनो को संजोकर रख सके।

निष्कर्ष

सतत विकास की अवधारणा हमारे संसाधनो के उपभोग से जुड़ी है। अगर प्राकृतिक संसाधनो का उनके पुनरभंडारण से पहले इसी तरीके से तेजी से उपयोग होता रहा। तो यह हमारे पर्यावरण का स्तर पूरी तरह से बिगाड़ देगा और अगर इसपर अभी से ध्यान नही दिया गया तो इस प्रदूषण के कारण हमारे प्राकृतिक संसाधन पर्याप्त मत्रा में नही बच पायेंगे, जिससे आनेवाले समय में यह हमारे विनाश का कारण बन जायेगा। इसलिए यह काफी आवश्यक है, जब हम अपने पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए सतत विकास के लक्ष्य को पाने का प्रयास करे।


 

पर्यावरण संरक्षण और सतत विकास पर निबंध – 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

सतत विकास के अंतर्गत प्राकृतिक संसाधनो के संरक्षण का प्रयास किया जाता है, जिससे उन्हे आने वाली पीढ़ीयों के जरुरतो को पूरा करने के लिए बचाया जा सके। सबसे जरुरी यह है कि हमे अपने आने वाले पीढ़ीयो के सुरक्षा के लिए हमे सतत विकास को इस प्रकार से बरकरार रखने की आवश्यकता है जिससे पर्यावरण को सुरक्षित रखा जा सके।

पर्यावरण सुरक्षा और सतत विकास

वर्तमान में ग्लोबल वार्मिंग और पर्यावरण से जुड़ी कुछ मुख्य समस्याएं है। ग्लोबल वार्मिंग का तात्पर्य पृथ्वी में हो रहे स्थायी जलवायु परिवर्तन, औद्योगिक प्रदूषण पृथ्वी पर बढ़े रहे पर्यावरण प्रदूषण, ग्रीन हाउस गैसो के उत्सर्जन और ओजोन परत में हो रहे क्षरण आदि कारणो से पृथ्वी के तापमान में होने वाली वृद्धि के समस्या से है। वैज्ञानिको ने भी इस तथ्य को प्रमाणित किया है की पृथ्वी का तापमान बढ़ता जा रहा है और इसे रोकने के लिए यदि आवश्यक कदम नही उठायें गये तो यह समस्या और भी ज्यादे गंभीर हो जायेगी, जिसके नकरात्मक प्रभाव हमारे पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर होंगे।

प्राकृतिक संसाधनों का तेजी से हो रहा दोहन भी एक प्रमुख चिंता बन गया है। जनसंख्या ज्यादे होने के कारण पृथ्वी पर प्राकृतिक संसाधनों पुनर भंडारण होने के पहले ही उनका खपत हो जा रहा है। ग्लोबल वार्मिंग की समस्या कृषि उत्पादों के उत्पादन की कम दर तथा प्राकृतिक संसाधनों में होती कमी के कारण उत्पन्न हो रही है। अगर ऐसा ही रहा तो  आने वाले समय में जल्द ही धरती की जनसंख्या न केवल भोजन की कमी का सामना करेगी, बल्कि किसी भी विकास प्रक्रिया को पूरा करने के लिए संसाधनों की कमी से भी जूझना होगा।

खाद्य और कृषि उत्पादन की कमी को दूर करने के लिए, इनके उत्पादन में रसायनों का उपयोग किया जाता है। यह न केवल मिट्टी के गुणवत्ता को कम करता है, बल्कि मानव स्वास्थ्य को भी नकारात्मक तरीके से प्रभावित करता है। अगर यह प्रक्रिया इसी तरह जारी रहती है तो पृथ्वी के लोगो को इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। इन बीते वर्षो में पृथ्वी के पर्यावरण और इसके संसाधनों को इन्ही कारणो से कई नुकसान हुए हैं। यदि पर्यावरण संकट के समाधान के लिए महत्वपूर्ण कदम नही उठाये गये तो इस समस्या के और ज्यादे भयावह होने की संभावना है।

ग्लोबल वार्मिंग के समस्या को रोकने के लिए वनो और झीलो की सुरक्षा भी आवश्यक है। पेड़ो को तब तक नही कटा जाना चाहिये जब तक बहुत ही आवश्यक ना हो। इस समय हमें अधिक से अधिक वृक्षारोपण करने की पआवश्यकता है, हमारे इतने बड़े आबादी द्वारा उठाया गया एक छोटा सा कदम भी पर्यावरण की सुरक्षा में अपना अहम योगदान दे सकता है। यह पर्यावरण संरक्षण, जैव विविधता, और वन्य जावो के सुरक्षा के लिहाज से भी बहुत महत्वपूर्ण है। इसके अलावा पृथ्वी के प्रत्येक निवासी को ओजोन परत के क्षरण को रोकने के लिए अपने ओर से महत्वपूर्ण योगदान देने की आवश्यकता है।

ओजोन परत के क्षरण के लिए जिम्मेदार पदार्थो का उपयोग ज्यादेतर रेफ्रीजरेटरो और एयर कंडीशनरो में होता है जिसमें हाइड्रोक्लोरोफ्लोरोकार्बन (HCFC) और क्लोरोफ्लोरोकार्बन (CFC)  रेफ्रीजरेंट के तौर पर इस्तेमाल किये जाते है। यह वह मुख्य तत्व है जिनके कारण ओजोन परत का क्षरण हो रहा है।

इसलिए यह काफी महत्वपूर्ण है कि हम HCFC  और CFC का उपयोग रेफ्रीजरेंट के तौर ना करे, इसके अलावा हमें ऐरोसोल पदार्थो का भी उपयोग करने से बचना चाहिए क्योंकि इनके द्वारा भी HCFC  और CFC का उपयोग किया जाता है। ऊपर दिए गये उपायो को अपनाकर और सावधानी बरतकर हम पर्यावरण में कार्बन के उत्सर्जन को कम कर सकते है।

निष्कर्ष

सतत विकास के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, यह काफी जरुरी है कि हम पर्यावरण की सुरक्षा के लिए आवश्यक कदम उठायें। इस तरीके से यह सिर्फ ना वर्तमान के जनसंख्या के लिए लाभकारी होगा बल्कि की आने वाले पीढीया भी इसका लाभ ले सकेंगी और यही सतत विकास का मुख्य लक्ष्य है। इसलिए सतत विकास पर्यावरण की रक्षा के लिए यह काफी अहम है।


 

पर्यावरण संरक्षण और सतत विकास पर बड़ा निबंध – 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

पर्यावरण संरक्षण से अर्थ है पर्यावरण और इसके निवासियों की सुरक्षा, बचाव, प्रबंधन और इसके हालात को सुधारना। सतत विकास का मुख्य लक्ष्य भविष्य के पीढ़ी के लिए पर्यावरण और संसाधनो का संरक्षण और इसका इस तरह से उपयोग करना कि हमारे उपयोग के बाद भी यह भविष्य के पीढ़ी के बचा रह सके। इसलिए यह सतत विकास के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए यह काफी आवश्यक है कि हम पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रयास करे।

पर्यावरण संरक्षण और सतत विकास

पर्यावरण संरक्षण के दो तरीके है- प्राकृतिक संसाधनो की सुरक्षा करना या इस तरीके से रहना जिससे पर्यावरण को कम से कम नुकसान हो। पर्यावरण का तात्पर्य वायु, जल और भूमि तथा मनुष्यो के साथ इसके परस्पर संबध है। अगर एक व्यापक पहलू में कहे तो इसमें पेड़, मिट्टी, जीवाश्म ईंधन, खनिज आदि शामिल है। पेड़ बाढ़ और बारिश से मिट्टी के कटाव की होने वाली घटना को कम करते है, इसके साथ ही अनके द्वारा हवा को भी स्वच्छ किया जाता है।

जल का उपयोग ना सिर्फ मनुष्यों द्वारा, बल्कि कृषि, पौधों और जानवरों जैसे जीवित प्राणियों के अस्तित्व और विभिन्न क्षेत्रों में उत्पादन की सुरक्षा के लिए भी आवश्यक है। सभी जीवित प्राणियों के साथ-साथ कृषि उत्पादन के लिए मिट्टी की आवश्यकता होती है। इसलिए पेड़, मिट्टी और पानी के हर स्रोत के संरक्षण की आवश्यकता है। ये तीनो तत्व जीवित प्राणियों के अस्तित्व में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यदि यह संसाधन इसी प्रकार प्रदूषित होते रहे तो यह ना सिर्फ हमें नुकसान पहुंचायेंगे, बल्कि की हमारे आने वाली पीढ़ियों के लिए भी एक बड़ा संकट बन जायेगें।

पर्यावरण संरक्षण का अर्थ सिर्फ प्राकृतिक संसाधनो का संरक्षण नही है। इसका तात्पर्य ऊर्जा के संसाधनो का संरक्षण करना भी है जैसे कि सौर और पवन ऊर्जा यह दो प्रकार की नवकरणीय उर्जायें जीवाश्म ईंधन और गैस जैसे गैर-नवकरणीय ऊर्जा स्त्रोतो की रक्षा करने में हमारी सहायता करेगा। अगर सभी तरह के गैर नवकरणीय ऊर्जा को नवकरणीय ऊर्जा स्त्रोतों से बदल दिया जाये, तो यह पृथ्वी के पर्यावरण के लिए काफी सकरात्मक सिद्ध होंगे। क्योंकि गैर नवकरणीय ऊर्जा स्त्रोतों को पुनर स्थापित होने में काफी समय लगता है, यही कारण है कि हमे नवकरणीय ऊर्जा स्रोतों को इस्तेमाल करना चाहिए।

पर्यावरण संरक्षण के अलावा इस्तेमाल हो रहे संसाधनो के पुनःपूर्ति के लिए भी प्रयास किये जाने चाहिए। इसके लिए वनीकरण तथा जैविक रुप से बनी हुई गोबर की खाद का उपयोग करना आदि कुछ ऐसे अच्छे उपाय है। जिनके द्वारा हम प्राकृतिक स्रोतों के पुनःपूर्ति का प्रयास कर सकते है। ये उपाय निश्चित रूप से पर्यावरण में संतुलन बनाए रखने में हमारी मदद करेंगे।

इसके अलावा पर्यावरण के प्रदूषण को कम करने के लिए और कई महत्वपूर्ण कदम उठाये जाने चाहिए। जिसके अंतर्गत तेल और गैस से चलने वाले वाहनो के जगह इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड वाहनो का उपयोग किया जाना चाहिए। इसी तरह कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए साईकल चलाने, वाहनो के शेयरिंग या पैदल चलने जैसे उपायों को अपनाया जा सकता है। इसके अलावा जैविक खेती इस सकरात्मक पहल का एक और विकल्प है, इसके द्वारा मिट्टी तथा खाद्य उत्पादों की गुणवत्ता बनी रहे और रासायनिक खेती के कारण पर्यावरण तथा हमारे सेहत पर होने वाली हानि को कम किया जा सके।

धूम्रपान छोड़ना और रसायनिक उत्पादो का उपयोग बंद करना ना सिर्फ हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होगा बल्कि की पर्यावरण पर भी इसके सकरात्मक प्रभाव देखने को मिलेंगे। एक व्यक्ति द्वारा नल के पानी को बंद करके या वर्षा के पानी को इकठ्ठा करके, कपड़े या बर्तन धोने जैसे अलग-अलग कामों में इस्तेमाल करके भी हम जल संरक्षण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे सकते है। जल इलेक्ट्रानिक उत्पाद उपयोग में ना हो तो इनका उपयोग बंद करके और उर्जा बचाने वाले इलेक्ट्रानिक उत्पादो का उपयोग करके भी हम ऊर्जा बचा सके है। इसके अलावा एक व्यक्ति के रुप में हम वस्तुओं की पुनरावृत्ति तथा पुनरुपयोग करके और पुरानी वस्तुओं का उपयोग करके तथा प्लास्टिक उत्पादों का उपयोग ना करके भी हम पर्यावरण संरक्षण में अपना सकरात्मक योगदान दे सकते है।

निष्कर्ष

सतत विकास को सिर्फ पर्यावरण का संरक्षण करके प्राप्त किया जा सकता है। इससे ना सिर्फ हमारे पर्यावरण को होने वाले नुकसान में कमी आयेगी बल्कि की यह हमारे आने वाली भविष्य की पीढ़ीयों के लिए प्राकृतिक संसाधनो की उपलब्धता को सुनिश्चित करेगा।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

विश्व पर्यावरण दिवस पर निबंध

पर्यावरण पर निबंध

पर्यावरण बचाओ पर निबंध

विश्व पर्यावरण दिवस पर भाषण

पर्यावरण पर भाषण

पर्यावरण बचाओ पर भाषण

पर्यावरण बचाओ पर स्लोगन (नारा)