कृतज्ञता पर निबंध

कृतज्ञता वह भावना है जो आपको एक एहसान वापस करने और आभार व्यक्त करने के लिए मजबूर कर देती है। यह किसी के लिए भी हो सकता है - भगवान, समाज, व्यक्ति, जानवर आदि। कृतज्ञता के बारे में बेहतर समझने के लिए हमने नीचे दिए गए निबंधों में कई विषय को शामिल किया है। आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी का भी चयन कर सकते हैं।

कृतज्ञता पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essays on Gratitude in Hindi)

कृतज्ञता पर निबंध 1 (250 शब्द) - कृतज्ञता का अर्थ और महत्त्व

परिचय

हम अक्सर ही अपनी सामान्य बातचीत के दौरान 'कृतज्ञता' शब्द को कई बार सुनते हैं या अक्सर ही कोई किताब पढ़ते वक़्त, आदि। इन निबंध में, हम कृतज्ञता की परिभाषा और इसके महत्त्व के बारे में चर्चा करेंगे।

कृतज्ञता क्या है?

एक नौसिखिये के तौर पर, कृतज्ञता किसी के प्रति आभार प्रकट करने को कहा जाता है जब आप पर किसी ने कोई दया दिखाई हो या आपकी मदद की हो। यह वही गुण है जो आपके लिए किसी के द्वारा की गई दयालुता को याद कराता है और आपसे उस एहसान को वापस करने का आग्रह करता है।

यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति की मदद करने का आग्रह करते हैं जिसने आपकी मदद की है; यह भावना या लालसा कुछ और नहीं बल्कि कृतज्ञता है। यह केवल आभार है जो आपको धन्यवाद कहने के लिए मजबूर करता है या आपके शिक्षक को धन्यवाद सन्देश भेजता है।

जीवों के साथ-साथ ईश्वर और प्रकृति के प्रति भी कृतज्ञता व्यक्त की जा सकती है। हम प्रकृति के प्रति अपनी कृतज्ञता भी व्यक्त कर सकते हैं ताकि हमें बहुत सारी आवश्यक चीजें उपलब्ध कराई जा सकें जैसे जल, वायु, भोजन, आदि।

कृतज्ञता का महत्त्व

कृतज्ञता जीवन की एक बहुत ही महत्वपुर्ण विशेषता है, हमारे अस्तित्व को और भी ज्यादा प्रत्यक्ष बनाने के लिए। ये एक सामाजिक सद्भाव स्थापित करता है और एक वातावरण बनाता है जहाँ हर कोई एक दूसरे को बढ़ावा दे और मदद प्रदान करे।

यह हमारे व्यक्तिगत जीवन की गुणवत्ता में भी सुधार करता है और परिवार तथा दोस्तों के साथ हमारे बंधन को और भी मजबूत बनाता है। जिस परिवार में हर कोई हर किसी का आभारी होता है, वहां काफी गहरा भावनात्मक लगाव होता है।

निष्कर्ष

कृतज्ञता समाज, प्रकृति, ईश्वर, दोस्तों, रिश्तेदारों और हजारों अच्छे कामों के लिए एहसान वापस करने का सबसे बेहतर तरीका है।

कृतज्ञता पर निबंध 2 (400 शब्द) - कृतज्ञता के फायदे और कैसे इसका अभ्यास करें

परिचय

कृतज्ञता, उस व्यक्ति का आभार प्रकट करने का वह तरीका है जिसने कभी किसी मौके पर आपकी मदद की हो। आभारी होने का अर्थ है की चाहे किसी भी संभव तरीके से आपको उसके अहसानों को चुकाने के लिए तैयार रहना चाहिये।

कृतज्ञता प्रकट करने के लाभ

कृतज्ञता प्रकट करने से ना सिर्फ व्यक्तिगत बल्कि सामाजिक जीवन पर भी कई लाभ होते हैं। आज मैं आपके ज्ञान के लिए कृतज्ञता के कुछ महत्वपूर्ण लाभों को नीचे सूचीबद्ध कर रहा हूँ:

1) रिश्ते को मजबूत करता है

कृतज्ञता प्रकट करने से दूसरों के साथ आपका रिश्ता और भी मजबूत होता है। आभारी होना एक अद्भुत भावना और एक अनुभव है जो दोनों पक्षों के बीच के बंधन को और भी मजबूत करता है।

2) आपको खुश करता है

कृतज्ञता का गुण आपको प्रसन्नता का अनुभव भी कराता है। जब आप आभार व्यक्त करते हैं या किसी से प्राप्त करते हैं, तो दोनों ही मामलों में आप कुछ अच्छा करने के लिए खुश होते हैं या आपके लिए कुछ अच्छा किया जाता है। कृतज्ञता वाले व्यक्तियों को कम तनाव रखने के लिए जाना जाता है।

3) समाज को संवेदनशील बनाता है

एक समाज जो एक दूसरे के लिए आभार व्यक्त करता है वह सबसे खुशहाल और समझदार समाज है। लोग विचारशील होते हैं और एक-दूसरे का आभारी होने का मौका कभी नहीं छोड़ते।

कृतज्ञता का अभ्यास कैसे करें

यहाँ पर कुछ प्रभावशाली तरीके हैं जो आपको कृतज्ञता का अभ्यास कराते हैं, जिन्हें मैंने यहाँ नीचे प्रस्तुत किया है-

  • हर अच्छी चीजों को एक जगह नोट करें जो पुरे दिनभर में आपके साथ हुई हैं और यह भी कि उसके लिए कौन जिम्मेदार हैं।
  • योजना बनाइये की किस निश्चित समय पर आप उनका अहसान चुकायेंगे।
  • सभी चीजों को स्वीकारें - प्रकृति, जानवर, पौधे और इन सभी के महत्त्व को समझें।
  • जब भी संभव हो, समाज के तमाम काम करने वालों को धन्यवाद दें - सफाईकर्मी, माली, पुलिसमैन, स्वीपर, आदि।
  • हर दिन उठने के बाद भगवान को इस खूबसूरत दिन के लिए धन्यवाद करें।
  • किसी की बात या किसी की शिकायत करने से बचें।

निष्कर्ष

कृतज्ञता एक बहुत ही शानदार और खूबसूरत एहसास है जो मानव मनोविज्ञान और समाज को मजबूत करता है। एक ऐसा समाज जहां हर कोई कृतज्ञ है वह सबसे खुशहाल प्यारा होता है।

कृतज्ञता पर निबंध 3 (600 शब्द) - कृतज्ञता के प्रकार और उसका इस्तेमाल

परिचय

कृतज्ञता आपके अन्दर की वह खासियत है जो आपको किसी की मदद के लिए आभारी होने देता है। कृतज्ञता दिखाना यानी उस व्यक्ति की प्रशंसा करना जिसने आपकी मदद की है और बदले में विनम्र भी है। यह मनुष्य की सबसे बड़ी खासियत है और यह जरूरी भी है तब जब बात सामाजिक मान्यता और सद्भाव की आती है।

कृतज्ञता के प्रकार

यह किसके द्वारा और किसके लिए व्यक्त किया गया है, इसके आधार पर विभिन्न प्रकार के आभार हो सकते हैं; हालाँकि, आभार के पीछे मूल भावना ज्यादातर मामलों में एक ही है और यह आभारी होना है। नीचे मैंने आपकी सर्वश्रेष्ठ समझ के लिए कुछ प्रकार के कृतज्ञता का उल्लेख किया है।

1) एक व्यक्ति के प्रति कृतज्ञता

यह वह कृतज्ञता है जो आप दूसरों के साथ अपनी रोजमर्रा की बातचीत में व्यक्त करते हैं। हम हर दिन तमाम तरह की गतिविधियां करते हैं और कई लोगों के साथ बातचीत करते हैं - सहकर्मी, सह-यात्री, सामुदायिक सहायक, आदि। हम एक दिन में कई साधू-संतों के साथ बातचीत करते हैं और कभी-कभी उनके व्यवहार को याद भी नहीं रखते। बहुत से लोग हमारे ऊपर दयालुता का आसन कार्य करते हैं, जिसके लिए हमें आभारी होना चाहिए।

हमें अपने सह-यात्री के प्रति आभारी होना चाहिए जिसने हमें अपनी सीट में थोड़ी सी जगह दी ताकि हम भी बैठ सकें या उस सब्जी विक्रेता का जिसने आपको थोड़ी अतिरिक्त सब्जी दी हो; या फिर एक सहयोगी की जिसने एक महत्वपूर्ण बैठक में आपकी मदद की हो। ये सभी दयालुता के सरल कृत्यों के उदाहरण हैं जिनके लिए हमें आभारी होना चाहिए। बदले में एक सरल धन्यवाद, जो सबसे अधिक महत्वपुर्ण है वो है उनकी दया को याद रखना चाहिए और इसे फैलाना भी चाहिए।

2) भगवान के प्रति कृतज्ञता

आपके जीवन में होने वाली सभी अच्छी चीजों और आपके आस-पास के तत्वों को प्रदान करने वाले जीवन की प्रचुरता के लिए भगवान को इस तरह की कृतज्ञता व्यक्त की जाती है। हमें उस सर्वशक्तिमान का हर उस चीज के लिए आभारी होना चाहिए, जो उन्होंने हमें दी है - भोजन, पानी, हवा, मिट्टी, पहाड़, फूल, जानवर, झरने, बादल, आदि।

हमें ईश्वर का आभारी इसलिए भी होना चाहिए क्योंकि उन्होंने हमें एक ऐसा सुंदर ग्रह दिया है जहाँ प्रचुर मात्रा में भोजन और सुंदरता मौजूद है। हम हर बार भोजन से पहले हाथ जोड़कर ईश्वर के प्रति आभार व्यक्त कर सकते हैं कि इस सुंदर पृथ्वी को नुकसान पहुंचाने की कोशिश नहीं करेंगे और न ही किसी भी प्राणी को नुकसान पहुंचाए। हमें यह समझने की आवश्यकता है कि जितना अधिक हम प्रकृति और ईश्वर के प्रति आभारी होंगे, उतना ही वे हमें प्रचुरता से चीजें प्रदान करेंगे।

3) दोस्तों तथा परिवार के प्रति कृतज्ञता

इस तरह की कृतज्ञता हमारे सबसे करीबियों के प्रति व्यक्त की जाती है - परिवार, दोस्त, आदि। वे हमारे जीवन में अपना प्यार और सहारा देकर काफी अहम किरदार निभाते हैं। यह संभव नहीं है कि आप अपने जीवन के उतार-चढ़ाव को बिना परिवार या दोस्तों के सहायता के पार कर लें। इस बात को हमें हमेशा अपने दिमाग में बिठा कर रखना चाहिए, और अपने करीबियों का हमेशा कृतज्ञ बने रहना चाहिए।

हालांकि वे हर दिन हमारी मदद नहीं कर सकते हैं, लेकिन वे निश्चित रूप से तब हमारी मदद करते हैं जब हमें सबसे ज्यादा मदद की जरूरत होती है। हमें हमेशा इस बात को ध्यान में रखना चाहिए और समय की मांग के अनुसार हमें उनके लिए आभार वापस करने के लिए तैयार रहना चाहिए। कभी-कभी, हमारी भौतिक उपस्थिति और मार्गदर्शन, सुझाव, आदि ही एहसान वापस करने के लिए काफी होता हैं। परिवार और दोस्तों के प्रति आभारी होना एक ऐसा कार्य है जो न केवल आपके व्यक्तिगत संबंधों को मजबूत करता है, बल्कि एक खुशहाल और संतुष्ट समाज भी बनता है।

निष्कर्ष

कृतज्ञता सबसे महत्वपूर्ण मानवीय अभिव्यक्ति है जो यह साबित करता है कि मनुष्य समझदार है और उसके अन्दर भावनाएं भी हैं। न सिर्फ मनुष्य बल्कि कभी-कभी जानवरों को भी कृतज्ञता व्यक्त करने और एहसान लौटाते देखा जाता है, जो ना सिर्फ एक खूबसूरत एहसास होता है बल्कि बेहद आश्चर्यजनक भी होता है। जब भी आवश्यकता हो हमें सदैव आभार व्यक्त करना चाहिए।