मैं सेना अधिकारी क्यों बनना चाहता हूँ पर निबंध

जब हम किसी सेना के अधिकारी को देखते है तब हमारा हाथ खुद ही उन्हें सलामी देना चाहता है। उनके प्रति आम लोगों में बहुत सम्मान होता है। एक सेना अधिकारी की यात्रा बहुत ही अद्भुत यात्रा होती है और हम में से कई लोग इस यात्रा का एक हिस्सा बनना चाहते है। अपने राष्ट्र के लिए कुछ भी करना बहुत ही अद्भुत और रोमांचक होता है और एक सेना के अधिकारी के रूप में सेवा देना वास्तव में हर किसी का सपना होता है। इस विषय पर दिए कुछ अच्छे निबंध को आप यहां देख सकते है ।

मैं सेना अधिकारी क्यों बनना चाहता हूँ पर छोटे और बड़े निबंध (Short and Long Essays on Why I Want to Become an Army Officer)

निबंध 1 (250 शब्द) – भारतीय सेना और उनके कर्तव्य

परिचय

भारतीय सेना में एक गजब सा आकर्षण है, जो हम में से कई युवाओं को अपनी देशभक्ति दिखाने के लिए अपनी ओर आकर्षित करता है। मैं यह कह सकता हूँ, कि यह हमारे सबसे अच्छे कार्य क्षेत्रों में से एक है और यह मेरा भी “ड्रीम जॉब” है। जैसा कि हम जानते है कि भारतीय सशस्त्र बल, भारतीय सेना की सबसे बड़ी शाखाओं में से एक है। भारतीय सेना को तीन भागों में बांटा गया है। उनमें से एक हमारी सशस्त्र थल सेना व वायु सेना और भारतीय नौसेना दो अन्य हमारे भारतीय सेना का हिस्सा है।

भारतीय सेना के कर्तव्य

  • भारतीय सेना हमें किसी भी प्रकार के सांसारिक और आंतकी हमले से बचाती है।
  • वो यह सुनिश्चित करते है कि भारत के प्रत्येक नागरिक सुरक्षित रहें।
  • वो भारतीय सीमाओं पर एक सुरक्षा दीवार की तरह खड़े रहते है।
  • वे हमारे लिए 24 घंटे काम करते है पर उन्हें हमारी तरह छुट्टी नही मिलती है।
  • वे अपने परिवार से दूर रहकर पूरे राष्ट्र को सुरक्षा प्रदान करते है।
  • एक सेना का अधिकारी अपने राष्ट्र की खातिर अपने जीवन का बलिदान भी दे सकता है।
  • वे हमेशा अनुशासित और हमेशा अपना ध्यान केन्द्रित रखते है। इससे उन्हें अपने कार्य में अच्छा प्रदर्शन करने और किसी भी हादसे के दौरान राष्ट्र के लोगों को बचाने में सहायता मिलती है।

निष्कर्ष

हमारी सेना वास्तव में कड़ी मेहनत करती है और हमें हमेशा अपनी सेना का सम्मान करना चाहिए। केवल उनकी वजह से हम अपने घरों में शांति से सोते है, वो रातों को जागकर हमारी और हमारे राष्ट्र की रक्षा करते है। वो हमारे राष्ट्र के वास्तविक नायक है और हर एक नागरिक को उनका धन्यवाद और सम्मान करना चाहिए। वे एकजुट रहना और एकता के साथ सबकी मदद करना भी हमें सिखाते है। वो हमें अनुशासित रहना भी सिखाते है। वास्तव में मैं अपने जीवन में एक सेना का अधिकारी बनना चाहता हूँ और अपने राष्ट्र की सेवा करना चाहता हूँ। यह मेरे साथ-साथ परिवार के लिए भी बहुत गर्व और सम्मान की बात होगी।

निबंध 2 (400 शब्द) – मैं एक सेना अधिकारी क्यों बनना चाहता हूँ?

परिचय

हमारी भारतीय थल सेना हमारे भारतीय सेना में सबसे बड़ी रेजीमेंटों में से एक है। भारतीय सेना के इतिहास में यह सबसे पुराना है, और ब्रिटिश काल में ही इसकी स्थापना की गयी थी। दरअसल अंग्रेजों के भारत में आने के बाद यह अपने अस्तित्व में आई थी। भारतीय सेना की स्थापना 1 अप्रेल सन् 1895 में हुई थी। मार्शल कोडंडेरा “किप्पर” मडप्पा करिअप्पा हमारे आजाद भारत के कमांडर-इन-चीफ हुए थे।

मैं भारतीय सेना को प्यार करता हूँ

  • मेरा स्कूल एक आर्मी स्कूल है और मेरे ज्यादातर दोस्तों के पिता भारतीय सेना में है। वो इतने अच्छे तरीके से कपड़े पहनते है जो मुझे बहुत रोमांचित करता है।
  • वो इतने अनुशासित होते है कि वे अपना एक मिनट भी व्यर्थ नही करते है। मेरे मित्रों को भी अपने पारिवारिक माहौल के कारण इसकी आदत लग गयी है। वास्तव में यह मुझे उनके जैसे ही बनने के लिए प्रोत्साहित करती है। यह उनके लिए बहुत तरीके से सहायक होती है क्योंकि वो जो भी करते है बहुत ही एकाग्रता से करते है, इससे उन्हें पढ़ाई में अच्छे अंक हासिल करने में, और खेल के मैदानों में अच्छा प्रदर्शन करने आदि में मदद मिलती है।
  • वे अच्छी तरह से संचालित कॉलोनियों में रहते है, और सेनाओं कि कॉलोनियां हमेशा साफ और स्वच्छ होती है। सेना की कॉलोनियों का ध्यान हमेशा हरियाली पर केन्द्रित होता है। उनकी कॉलोनियों में विभिन्न प्रकार के पेड़ और पौधे होते है। हालांकि हम एक ही शहर में रहते है, लेकिन उनका छावनी क्षेत्र बहुत ही शांतिपूर्ण और तरोताजा दिखाई देता है।
  • उनके पास खेलने और अभ्यास करने के लिए बड़े मैदान होते है और मैं रोजाना वहां सैनिकों को अभ्यास करते हुए देखता हूँ। वे इतने सारे कार्यों को करते है कि उन्हें देखकर बहुत दिलचस्प लगता है और साथ ही साथ ये हमें प्रेरणा भी देता है।
  • वो उनका एक साथ “यस सर” कहकर चिल्लाना वास्तव में मुझे बहुत पसंद आता है। वास्तव में सब लोग अलग-अलग है, लेकिन वो सभी एक जैसा ही व्यवहार करते है और साथ ही साथ एक जैसे दिखते भी है।
  • उन सभी के एक जैसे कपड़े, एक तरह की हेयर स्टाइल, और साथ ही साथ एक ही तरह के उपकरण होते है। वास्तव में वो एक हीरो की तरह दिखते है, और मेरे कई दोस्त घंटो बस उन्हें ही देखने में बिताते है, और सभी बस उनके जैसा ही बनना चाहते है।
  • वो बहुत चुस्त, सतर्क रहते है और कॉलोनी से बाहर के लोगों पर संदिग्ध नजर रखते है। वे घंटो तक लगातार अभ्यास करते है।
  • इसके अलावा जिस तरह से वो आतंकियों का सामना करते है और उन्हें मार गिराते है, वास्तव में सशस्त्र बलों के बारे में यह एक अच्छी चीज है।
  • सर्जिकल स्ट्राइक एक ऐसी घटना थी जिसने हमें अपनी भारतीय सेना पर बहुत ही गर्व महसूस कराया है, और मेरे लिए सेना के प्रति प्यार और सम्मान कुछ ऐसा है कि जिसे मैं अपने शब्दों में व्यक्त नही कर सकता हूँ, मैं बस सेना के साथ जुड़ना चाहता हूँ और मैं भी उसका एक हिस्सा बनना चाहता हूँ।

निष्कर्ष

एक पेशे के तौर पर हमेशा कुछ ऐसा चुनना चाहिए जो आपको सबसे अधिक प्रेरित करता हो, क्योंकि जब हम अपने जुनून को एक पेशे के रुप में चुनते है, तो हम अच्छा प्रदर्शन करते है। उसी तरह से मैं भारतीय सेना का एक हिस्सा बनना चाहता हूँ और मुझे इसके परिणाम की कोई चिन्ता नही है। मेरे कई दोस्त यह सोचते है कि इसमें उनकी जान जाने का डर है, लेकिन मैं मजबूत और हिम्मती हूँ और मैं अपने राष्ट्र के लिए कुछ करना चाहता हूँ। मुझे इस बात की परवाह नही कि मुझे अपने राष्ट्र के लिए मरना पड़ेगा, लेकिन यह मेरे लिए सबसे अधिक गर्व की बात होगी।

निबंध 3 (600 शब्द) – सेना अधिकारी : एक सच्चा भारतीय

परिचय

सशस्त्र बलों का हिस्सा होना एक गर्व की बात है और हम में से कई लोग सेना के अधिकारी बनना चाहते है और मैं भी उनमें से एक हूँ। मुझे भारतीय सेना बहुत पसंद है, लेकिन केवल उनकी बहादुरी के लिए ही नहीं बल्कि उनके अनुशासन, स्थानीयता, और उनके शिष्टाचार भी मुझे बहुत पसंद है। वास्तव में वही सब एक सच्चे भारतीय है। हम सभी एक ही देश में रहते है लेकिन वो अपने देश और राष्ट्र की सेवा सबसे अच्छे तरीके से करते है।

एक सेना अधिकारी और उनके कार्य

मैं उन्हें एक सच्चा भारतीय नागरिक मानता हूँ, क्योंकि वास्तव में वे सभी मानदंडो का पालन करते है। मुझे यह बताने दे कि वास्तव में क्या आप जानते है, कि एक भारतीय के क्या कर्तव्य होते है? आपको भारतीय कैसे कहा जाता है, या आपको अपने राष्ट्र के लिए क्या करना चाहिए? मैं जानता हूँ कि हममें से बहुत लोगों को यह पता भी नही होगा, और कुछ लोग सोचते होंगे कि वे अपनी कमाई करते है और अपने देश की जी.डी.पी. को बढ़ाते है और देश आगे बढ़ता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि सरकारी नीतियों और नियमों में भाग लेने के अलावा आपके असली कर्तव्य क्या है?

  • मैं आप सबको समझाता हूँ कि एक सच्चे भारतीय को अपनी संस्कृति को कभी नही भूलना चाहिए कि हमारी संस्कृति क्या है? हमारी संस्कृति सबका सम्मान करती है, या तो वो एक बच्चा हो या कोई वृद्ध हो। भारतीय सेना हमें सबका सम्मान करना सिखाती है। एक सेना का अधिकारी हमेशा सम्मानित भाषा का प्रयोग करता है।
  • वे न केवल हमारे राष्ट्र का बल्कि हमारे पर्यावरण का भी ख्याल रखते है। यह प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य है कि हमें अपने आस-पास की जगहों के साथ हमें अपने पर्यावरण को भी स्वच्छ रखना चाहिए। लेकिन हमारे पास तो कचरे को कूड़ेदान में फेकने तक का समय नहीं है। सेना की कॉलोनियां हमेशा स्वच्छ और हरी-भरी रहती है क्योंकि वो अपनी कॉलोनियों की अच्छे से देखभाल करते है और वे प्रकृति की रक्षा करते है और हमारे राष्ट्र को स्वच्छ रखने में अपना योगदान देते है। यह हर एक भारतीय की जिम्मेदारी और कर्तव्य है कि वो राष्ट्र को साफ और स्वच्छ रखें।
  • सेना के अधिकारी बहुत ही अनुशासित होते है, और यही अनुशासन कई तरीके से उनकी मदद करता है। इतने सख्त होने के बाद भी वो कुछ भुलते नही हैं और ऐसा करने में अनुशासन ही उनकी मदद करता है। अगर देश में बाकी सारे लोग भी अनुशासित हो जाएंगे, तो हम कभी भी सार्वजनिक नियमों का पालन करना नही भूलेंगे, जैसे कि हम हेलमेट इत्यादि ले जाना कभी नही भूलेंगे। ये सभी छोटी-छोटी चीजे ही एक बहुत बड़ा अन्तर ला सकती है। इस तरह मैं कह सकता हूँ कि सेना के अधिकारी ही एक सच्चे भारतीय होते है।
  • उपरोक्त बातों के अलावा भी उनकी कुछ बड़ी जिम्मेदारियां होती है, जैसे कि अपने राष्ट्र की रक्षा करना और प्रत्येक नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित करना।
  • वे अलग-अलग बटालियनों में काम करते है और उन्हें हर स्थिति के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। एक सेना के अधिकारी को किसी भी बटालियन का पिता कहा जाता है और वे एक साथ ही रहते है, एक साथ काम करते है और सब एक साथ मिलकर आनंद भी लेते है। वे अपने स्वयं के परिवारों से दूर रहकर विभिन्न सीमाओं वाले क्षेत्रों में तैनात रहते हुए वे सभी एक परिवार की तरह रहते है, और देश की रक्षा करते है।
  • सेना का कोई भी व्यक्ति बहुत सारे बलिदान करता है और बस ये राष्ट्र ही उसके लिए सबकुछ है। वो कभी भी किसी भी स्थिति का सामना करने से कभी नही हिचकिचाते और न ही घबराते है और हमारी रक्षा के लिए वो सबकुछ करते है।

एक सेना अधिकारी की दैनिक दिनचर्या

  • सेना के किसी भी व्यक्ति को हमेशा फिट रहना चाहिए, इसलिए वो रोजाना सुबह जल्दी उठते है और अपनी पी.टी. और अन्य अभ्यास को करते है।
  • वे हर चीज के लिए एक समय निर्धारित करते है, जैसे कि उदाहरण के लिए 30 मिनट के ब्रेक में उन्हें नाश्ता करना है, और यदि वहां कोई लेट पहुचता है तो उसे नाश्ता परोसा नहीं जाता है।
  • इसके बाद वे फिर से अपनी बटालियन के साथ विभिन्न उपकरणों और तकनीकीयों का प्रशिक्षण करने के लिए मैदान पर जाते है और अभ्यास करते है।
  • इसके बाद उनके पास दोपहर के भोजन के लिए कुछ समय और उसके बाद खेलों के लिए कुछ समय और कुछ समय उनके खुद के लिए होता है।
  • शाम को वे अपने साथियों के साथ समय बिताते है और कुछ समय प्रशासनिक कार्यों के लिए भी देते है।
  • वास्तव में उनके पास बहुत ही सख्त और व्यस्थ कार्यक्रम होता है।

निष्कर्ष

भारतीय सेना हम में से बहुत सारे लोगों के लिए एक प्रेरणा का स्रोत होते है, जैसे कि वो किस तरह से चलते है, किस तरह से बात करते है, उनकी हेयर स्टाइल उनके हथियार और उनके सभी चीजों के बारे में जो भी है मुझे उनसे प्यार है। एक सेना का अधिकारी होना इतना आसान नहीं है, इसके लिए बहुत साहस और अभ्यास की जरुरत होती है। हर साल कई उम्मीदवार सिर्फ ऐसे ही दबाव को सहन नही कर पाते है और वो प्रशिक्षण छोड़ देते है। लेकिन एक बार जब आप इसमें सफल हो जाते है तो दुनिया की कोई भी ताकत आपको एक सैनिक और फिर सेना का अधिकारी बनने से रोक नही सकती है।