ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध

“ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, यह कहावत बहुत ही प्रसिद्ध कहावत है हालांकि, इसे अधिक प्रभावी बनाने के लिए इसका सभी के द्वारा अपने जीवन में पालन किया जाना चाहिए। विद्यार्थियों को आमतौर पर यह विषय स्कूलों में किसी भी परीक्षा या निबंध लेखन प्रतियोगिता आदि में अपने विचार प्रदर्शित करने के लिए दिए जाते हैं। हम यहाँ विद्यार्थियों की मदद करने के उद्देश्य से “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, पर कुछ सरल और साधारण निबंध उपलब्ध करा रहे हैं। इसलिए, प्यारे विद्यार्थियों आप “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है” पर निबंध में कोई भी निबंध अपनी जरुरत और आवश्यकता के अनुसार चुन सकते हैं।

“ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है” पर निबंध (आनेस्टी इज दी बेस्ट पालिसी एस्से)

You can get below some essays on honesty is the Best Policy in Hindi language for students in 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध 1 (100 शब्द)

“ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है” का अर्थ है, पूरे जीवन में यहाँ तक कि किसी भी बुरी परिस्थिति में हमें ईमानदार और सच्चा रहना चाहिए। “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है” के अनुसार, एक व्यक्ति को किसी भी सवाल का जवाब देते समय या दुविधा में भी, पूरे जीवन भर सदैव वफादार और सच बोलने वाला होना चाहिए। जीवन में ईमानदार, वफादार और सच्चा होना, व्यक्ति को मानसिक शान्ति प्रदान करता है।

ईमानदार व्यक्ति हमेशा सुखी और शान्तिपूर्ण रहते हैं क्योंकि, वे बिना किसी अपराध के अपना जीवन जीते हैं। सभी के साथ जीवन में ईमानदार होना, हमारी मानसिक शान्ति को प्राप्त करने में मदद करता है, क्योंकि हमें उन झूठों को याद करने की आवश्यकता नहीं पड़ती, जो हमने दूसरों से खुद को बचाने के लिए बोले हैं।

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध 2 (150 शब्द)

“ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, कहावत का अर्थ अपने जीवन में लोगों के साथ ईमानदार रहना है। ईमानदार होना, लोगों का हम पर हमेशा विश्वास बनाए रखने में मदद करता है और हमारा वास्तविक चरित्र उन्हें दिखाता है, जो उनके लिए यह जानने के लिए काफी है कि, हम हमेशा सच बोलते हैं। भरोसेमंद होना, दूसरों को हमारे भरोसेमंद प्रकृति के बारे में आश्वस्त करके रिश्तों को मजबूत बनाने में हमारी मदद करता है। वहीं दूसरी तरफ, जो लोग बेईमान होते हैं, उन्हें लोगों से एक बार झूठ बोलने के बाद शायद ही दूसरा मौका मिलता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि लोग यह सोचते है कि, वे भविष्य में भी बेईमान लोगों के द्वारा बहुत से झूठ बोलने के माध्यम से ठगे जाएगें।

ईमानदारी जीवन में एक अच्छे हथियार की तरह है, जो हमें बहुत से लाभों के द्वारा लाभान्वित करती है और इसे बिना किसी लागत के प्राकृतिक रुप से विकसित किया जा सकता है। ईमानदारी हमें जीवन में सबकुछ उम्मीद के अनुसार देती है, वहीं एक झूठ हमारे रिश्तों को बर्बाद करने के माध्यम से हमें बर्बाद कर सकता है। एक झूठा व्यक्ति अपने परिवार के सदस्यों, मित्रों, और अन्य करीबियों के दिलों में से अपने लिए भरोसे को खो देता है। इसलिए, “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है” कहावत, हमारे जीवन में बहुत अच्छी भूमिका निभाती है।

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध 3 (200 शब्द)

बेंजामिन फ्रेंकलिन के द्वारा कही गई एक आम कहावत “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, बहुत ही प्रसिद्ध कहावत है। ईमानदारी जीवन में सफलता प्राप्त करने का सबसे अच्छा उपकरण है और एक प्रसिद्ध व्यक्ति ने इसे किसी भी रिश्ते की रीढ़ की हड्डी कहा है, जो एक अच्छी तरह से विकसित समाज का निर्माण करने में सक्षम होती है। जीवन में ईमानदार न होना, किसी के भी साथ वास्तविक और भरोसेमंद मित्रता या प्यार का रिश्ता बनाने में कठिन होता है। वे लोग जो आमतौर पर सच बोलते हैं, वे बेहतर रिश्ते और इस प्रकार बेहतर संसार बनाने में सक्षम होते हैं। कुछ लोग जिनमें अपने प्रिय लोगों से भी सच बोलने का साहस नहीं होता, वे आमतौर पर झूठ बोलते हैं और बेईमान होने के कारण बुरी परिस्थितियों का सामना करते हैं। वहीं दूसरी ओर, सच बोलना हमारे चरित्र को मजबूत बनाने में मदद करता है और हमें मजबूत बनाता है। इसलिए, ईमानदार होना (विशेषरुप से परिवार, मित्रों और प्रियजनों के साथ), हमारी पूरे जीवनभर बहुत तरीकों से मदद करता है। रिश्तों की रक्षा करने के लिए ईमानदारी सबसे प्रभावशाली उपकरण है।

स्थिति को सुरक्षित करने के लिए झूठ बोलना, स्थिति को और भी अधिक बदतर बना सकता है। सच कहना और बोलना चरित्र को मजबूती देने के साथ ही हमे में विश्वास लाता है। जीवन में अच्छी और बुरी दोनों तरह की स्थितियाँ होती है और मेरे विचार से हम में से सभी इस बात का अहसास करते हैं कि, अपने प्रियजनों से सच बोलना हमें राहत और खुशी प्रदान करता है। इसलिए, इस कहावत के अनुसार, ईमानदार होना वास्तव में मनुष्य के जीवन में अच्छा होता है।


 

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध 4 (250 शब्द)

बेंजामिन फ्रेंकलिन ने सच ही कहा है कि “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”। ईमानदारी को सफल और सही तरह से कार्य करते रिश्ते की रीढ़ की हड्डी माना जाता है। रिश्तों में ईमानदार होना बहुत ही महत्वपूर्ण है, क्योंकि कोई भी रिश्ता विश्वास के बिना सफल नहीं होता है। जीवन में पूरी तरह से ईमानदार होना कहीं थोड़ा सा कठिन भी है, लेकिन यह दूर तक साथ चलती है हालांकि, बेईमान होना बहुत ही आसान होता है, लेकिन थोड़ी दूर तक साथ देता है और दर्दनाक रास्ते पर ले जाता है। परिवार और समाज में सच्चा व्यक्ति होना जीवनभर के लिए अपने प्रियजनों के साथ ही प्रकृति के द्वारा सम्मानित होने जैसा है। ईमानदारी भगवान द्वारा उपहार के रुप में प्रदान किए गए जीवन में प्रतिष्ठा से जीने का उपकरण है। ईमानदारी हमें जीवन में किसी भी बुरी परिस्थिति का सामना करने की शक्ति देती है, क्योंकि हमारे आसपास के लोग हम पर विश्वास करते हैं और हमारा प्रत्येक परिस्थिति में साथ देते हैं। हो सकता है कि, शुरुआत में सफेद झूठ बोलना हमें अच्छा महसूस कराए हालांकि, यह अन्त में बहुत बुरी तरह से हानि पहुँचाता है।

बहुत से वर्षों में यह साबित हो चुका है कि “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, ने अपने देश के नागरिकों का विश्वास जीतकर बड़े साम्राज्य का निर्माण करने में महान लोगों की मदद की है। इतिहास हमें बताता है कि, झूठ बेलना कभी भी सफल नहीं होता है और स्थितियों को और भी अधिक बुरा बना देता है। कुछ लोग बहुत से कारणों से सच का रास्ता नहीं चुनते हैं या फिर उनमें ईमानदारी से जीने का साहस नहीं होता है। यद्यपि, जीवन के कठिन समय में वे ईमानदारी के महत्व को महसूस करते हैं। झूठ बोलना हमें बड़ी कठिनाईयों में जकड़ सकता है, जिसे हम सहन नहीं कर सकते हैं, इसलिए हमें अपने जीवन में ईमानदार और भरोसेमंद होना चाहिए।

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध 5 (300 शब्द)

सबसे प्रसिद्ध कहावत “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है” के अनुसार, जीवन में ईमानदार होना सफलता की ओर ले जाता है। ईमानदार होना हमारे आस-पास के लोगों या करीबियों का विश्वसनीय बनाने में मदद करता है। ईमानदारी का अर्थ केवल सत्य बोलना ही नहीं है हालांकि, हमारे जीवन से संबंधित लोगों की भावनाओं का सम्मान और देखभाल करना है। हमें पद और योग्यता की परवाह किए बिना सभी का सम्मान करना चाहिए। यदि हम उनसे झूठ बोलते हैं, हम उनका विश्वास कभी भी नहीं जीत सकते हैं और इस प्रकार, उस विशेष कार्य या योजना को करने में परेशानी होती है। हम उनका विश्वास हमेशा के लिए खो सकते हैं, क्योंकि एकबार विश्वास के खो जाने के बाद उसे वापस पाना बहुत ही मुश्किल होता है। रिश्तों, व्यवसाय और अन्य कार्यों को करने के लिए ईमानदार लोगों की बहुत माँग की जाती है। जीवन के बहुत से बुरे और अच्छे अनुभवों, लोगों से व्यवहार में कैसे ईमानदार होना चाहिए आदि को सीखने में व्यक्तियों की मदद करते हैं।

ईमानदार होना व्यक्ति के अच्छे और साफ चरित्र को प्रदर्शित करता है, क्योंकि ईमानदारी व्यवहार में गुणवत्ता को विकसित करती है। ईमानदारी व्यक्ति को बाहरी के साथ ही आन्तरिक रुप से बिना किसी नुकासन के और मस्तिष्क को बहुत शान्त करके बदल सकती है। एक शान्त मस्तिष्क शरीर, मन और आत्मा के बीच अच्छा सन्तुलन बनाने के द्वारा एक व्यक्ति को सन्तुष्टि देता है। ईमानदार व्यक्ति हमेशा लोगों के दिलों में रहते हैं और हम यह कह सकते हैं कि, भगवान के दिल में भी। वे लोग जो ईमानदार है उनका परिवार और समाज में हमेशा सम्मान होता है और संसार के सबसे सुखी व्यक्ति होते हैं। यद्यपि, एक बेईमान व्यक्ति हमेशा परेशानियों और समाज के लोगों के बुरे शब्दों का सामना करता है। ईमानदारी और अच्छा चरित्र अन्य कीमती वस्तुओं, जैसे- सोने या चाँदी से भी अधिक ईमानदार व्यक्ति की सबसे बहुमूल्य सम्पत्ति होती है।

ईमानदारी सफल जीवन जीने का सबसे महत्वपूर्ण यंत्र होती है। यह किसी भी व्यक्ति को किसी के साथ जीवन में कुछ गलत या बुरा करने का दोषी नहीं बनाती। यद्यपि, यह आत्मविश्वास और अच्छाई की भावना लाती है और इस प्रकार जीवन को सफल और शान्त बनाती है।


 

ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है पर निबंध 6 (400 शब्द)

जीवन में ईमानदार होना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह बहुत सी समस्याओं को हल करती है और शान्ति व सफलता की ओर ले जाती है। ईमानदारी वह सम्पत्ति है, जो ईमानदार व्यक्तियों को जीवन में बहुत अधिक विश्वास और सम्मान देती है। “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, प्रसिद्ध व्यक्ति बेंजामिन फ्रेंकलिन क द्वारा कही गई प्रसिद्ध कहावत है। सादगी के साथ एक ईमानदार जीवन सभी अनावश्यकताओं से अलग जीवन है, जिसका यदि सभी के द्वारा पालन किया जाए तो परिवार और समाज में एकरुपता लाती है। ईमानदारी अच्छी सम्पत्ति है, जो शान्तिपूर्ण जीवन और सम्मान के साथ सफलता प्राप्त करने में मदद करती है। ईमानदार होना जीवन में सबसे महत्वपूर्ण चीजों पर ध्यान केन्द्रित करने में मदद करता है।

हालांकि, ईमानदारी की आदत को विकसित किए बिना, हम सरलता और जीवन की अन्य अच्छाईयों को प्राप्त नहीं कर सकते हैं। हम कह सकते हैं कि, ईमानदारी सरलता के बिना हो सकती है पर सरलता ईमानदारी के बिना कभी भी नहीं हो सकती है। बिना ईमानदारी के हम दो संसारों में रहते हैं, अर्थात् एक सच्चा संसार और अन्य दूसरा वह संसार जो हमने विकल्प के रुप में बनाया है। फिर व्यक्ति “ईमानदारी सर्वश्रेष्ठ नीति है”, का जीवन के हरेक पहलु (व्यक्तिगत, व्यवसाय, नौकरी, और अन्य रिश्तों) में पालन करते हैं और आमतौर पर एक समान जीवन जीते हैं। एक तरफ जहाँ ईमानदारी हमें सरलता की ओर ले जाती है; वहीं दूसरी ओर बेईमानी हमें दिखावे की ओर ले जाती है।

नीचे दिए गए कुछ बिन्दु ईमानदारी की जीवन-शैली के लाभों का वर्णन करते हैं:

  • जीवन में ईमानदारी का अर्थ अंतरंगता (पारस्परिकता) का रास्ता है अर्थात् यह हमारे मित्रों को हमारे बहुत करीब सच्चे मित्र की तरह वास्तविक सच के साथ लाती है; न कि उनके करीब जहाँ हमें दिखावा करना पड़ता है।
  • यह जीवन में अच्छा, वफादार, और उच्च गुणों वाले मित्रों को बनाने में मदद करती है, क्योंकि ईमानदारी सदैव ईमानदारी को आकर्षित करती है।
  • यह भरोसेमंद होने में हमारी मदद करती है और जीवन में बहुत अधिक सम्मान को प्राप्त करती है, क्योंकि ईमानदार लोगों पर दूसरे हमेशा विश्वास करते हैं।
  • यह मजबूती और आत्मविश्वास लाती है और दूसरों के द्वारा खुद को कम करके न आंकने में मदद करती करती है।
  • ऐसा देखा जाता है कि, ईमानदार लोग आसानी से कल्याण की भावना विकसित कर लेते हैं और शायद ही कभी जुकाम, थकान, निराशा, अवसाद, चिंता और अन्य मानसिक समस्याओं को विकसित करते हैं।
  • ईमानदार लोग एक बेईमान की तुलना में राहत के साथ आरामदायक जीवन जीते हैं।
  • यह शान्तिपूर्ण जीवन का सबसे महत्वपूर्ण उपकरण है और हमें परेशानियों से बाहर निकालता है।
  • शुरुआत की स्थिति में, ईमानदारी को विकसित करने में बहुत से प्रयास लगते हैं हालांकि, बाद में यह बहुत आसान हो जाती है।

जीवन में अच्छा चरित्र, विश्वास और नैतिकता आसानी से ईमानदारी को विकसित करती है, क्योंकि एक अच्छे चरित्र वाले व्यक्ति के पास किसी से भी छिपाने के लिए कुछ भी नहीं होता है, इस प्रकार आसानी से ईमानदार बन सकते हैं। ईमानदारी हमें बिना किसी बुरी भावना के आत्म-प्रोत्साहन की भावना देती है।