स्वच्छ भारत अभियान

भारत जोकि एक प्राचीन सभ्यता है, इसे एक पवित्र राष्ट्र माना जाता है। यहां के लोग बहुत धार्मिक हैं। भारत में विभिन्न धर्मों के लोग रहते है; हिन्दू, मुस्लिम, ईसाई, सिक्ख, पारसी, जैन आदि और वे अपने धर्मों का पूरी निष्ठा से पालन करते है। लेकिन यह हमारे देश की कड़वी सच्चाई है कि सभी स्वच्छता और धर्मपरायणता केवल धार्मिक गतिविधियों और रसोई तक ही सीमित है। हम भारतीय आस-पास की गंदगी के लिये गंभीर नहीं हैं, कहीं भी कोई गंदगी का ढ़ेर देख सकता है। अपने आस-पास के वातावरण को साफ और स्वच्छ रखना हमारे व्यवहार में नहीं है। अधिक से अधिक हम अपने घर को साफ रखते है और सड़क, रास्ते, पार्क या सार्वजनिक जगहों के प्रति हम चिंतित होना हमारा मसला नहीं है। यहाँ तक कि आजादी के 65 साल बाद भी ये सच में शर्मनाक है कि भारतीय अपने अस्वास्थ्यकर व्यवहार के लिये प्रसिद्ध हैं।

अभी हाल ही में नई सरकार सत्ता में आई है और उसकी प्राथमिकता भारत को स्वच्छ बनाने का है। और इसी लक्ष्य के लिये सरकार ने एक अभियान की भी शुरुआत की जिसका नाम है “स्वच्छ भारत अभियान”। सरकार ने देश के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को इस अभियान से जोड़ा है, क्योंकि देश में स्वच्छता को लेकर वे पहले से चिंतित थे तथा वह अपने पूरे जीवन साफ-सफाई और स्वच्छता की गतिविधियों से जुड़े रहे।

स्वच्छ भारत अभियान क्या है ?

स्वच्छ भारत आंदोलन: भारत को स्वच्छ बनाने के लक्ष्य के साथ नई दिल्ली के राजघाट पर 2 अक्दूबर 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस अभियान की शुरुआत की गइ। इसका लक्ष्य है 2 अक्दूबर 2019 तक, हर परिवार को शौचालय सहित स्वच्छता-सुविधाएं उपलब्ध कराना। ठोस और द्रव अपशिष्ट निपटान व्यवस्था, गाँव में सफाई और सुरक्षित तथा पर्याप्त मात्रा में पीने का पानी उपलब्ध हो। ये भारत के राष्ट्रपिता को उनके 150वें जन्मदिवस पर सबसे उपयुक्त श्रद्धांजलि होगी। ये बहुत महत्वपूर्ण है कि इस अभियान को सफल बनाने के लिये प्रधानमंत्री स्वयं अग्रसक्रिय भूमिका निभा रहे हैं; राजघाट पर उन्होंने खुद सड़कों को साफ कर इस मुहिम की शुरुआत की।

यह स्वच्छता अभियान एक सरकारी योजना मात्र नहीं है, यह सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है, जिसे पूरा करने कि जिम्मेदारी पूरे भारत की है। इसे कोई एक व्यक्ति पूरा नहीं कर सकता, जरूरत है सबके साथ की। भारतिय नागरिक होने का हमारा कर्तव्य है कि हमारा देश स्वच्छ रहे।

स्वच्छ भारत अभियान का इतिहास

स्वच्छ भारत आंदोलन मुहिम आज तक की सबसे बड़ी स्वच्छता मुहिम है। इस अभियान को विश्वस्तर पर प्रसिद्ध करने के लिये तथा आम जनता को इसके प्रति जागरुक करने के लिये, स्कूलों तथा कॉलेज के विद्यार्थियों सहित लगभग 3 लाख सरकारी कर्मचारीयों ने इसके शुभारंभ में भाग लिया। 1500 लोगों की मौजूदगी में 2 अक्टूबर 2014 को राष्ट्रपति भवन में इस कार्यक्रम को आयोजित किया गया था। भारतीय राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने झंडा दिखाकर इस आंदोलन की शुरुआत की।

इस मुहिम को आगे बढ़ाने के लिये व्यापार, खेल और फिल्म उद्योग से जुड़े नौ प्रसिद्ध व्यक्तियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नामित किया। उन्होंने उन नौ व्यक्तियों से निवेदन भी किया कि वे और नौ लोगों को इस अभियान से जोड़ें और स्वच्छता का यह आंदोलन, देश के कोने-कोने में रहने वाले हर एक भारतीय तक पहुंचे।

नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इस मुहिम को चुनौती की तरह लेना चाहिये तथा व्यक्तिगत (पेड़ की शाखाओं की तरह) तौर पर दूसरे नौ लोगों को आमंत्रित करना चाहिये, जिससे स्वच्छता का ये दृष्टिकोण 2019 तक पूरा किया जा सके और हमेशा के लिये भारत एक स्वच्छ देश बन जाए।

इस भारतीय अभियान से प्रेरणा लेकर 3 जनवरी 2015 को, इंडो-नेपाल डॉक्टर एसोसिएशन ने एक मुहिम की शुरुआत की जिसको “स्वच्छ भारत नेपाल- स्वच्छ भारत नेपाल अभियान” कहा गया। इसकी शुरुआत इंडो-नेपाल बाडर्र क्षेत्र, सुनौली-बेलिहिया (भगवान बुद्ध के जन्म स्थल, पवित्र शहर लुंबिनी, नेपाल) से हुई।

भारत में स्वच्छता के दूसरे कार्यक्रम जैसे, केन्द्रीय ग्रामीण स्वच्छता कायर्क्रम (सीआरएसपी) का प्रारंभ 1986 में पूरे देश में हुआ। जो कि गरीबी रेखा से नीचे के लोगों के इस्तेमाल के लिये स्वास्थ्यप्रद शौचालय बनाने पर केन्द्रित था। इसका उद्देश्य सूखे शौचालयों को अल्प लागत से स्वास्थ्यप्रद शौचालयों में बदलना, खासतौर से ग्रामीण महिलाओं के लिये शौचालयों का निर्माण करना तथा दूसरी सुविधाएँ जैसे हैंड पम्प, नहान-गृह आदि का निर्माण था। गाँव में उचित सफाई व्यवस्था जैसे जल निकासी व्यवस्था, जल सोखने वाले गड्ढ़े, ठोस और द्रव अपशिष्टों का निपटान, स्वास्थ्य शिक्षा के प्रति जागरुकता, सामाजिक, व्यक्तिगत, घरेलू और पर्यावरणीय साफ-सफाई व्यवस्था आदि की जागरुकता।

ग्रामीण साफ-सफाई कार्यक्रम को पुनः आरंभ करने के लिये, भारतीय सरकार द्वारा 1999 में पूर्ण स्वच्छता अभियान (टीएससी) की शुरुआत की गई। पूर्ण स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देने के लिये, साफ-सफाई कार्यक्रम के तहत 2003 में जून के महीने में निर्मल ग्राम पुरस्कार की शुरुआत हुई। यह एक प्रोत्साहन योजना थी, जिसे भारत सरकार द्वारा 2003 में लोगों को पूर्ण स्वच्छता की विस्तृत सूचना देने, पर्यावरण को साफ रखने के लिये साथ ही पंचायत, ब्लॉक और जिलों द्वारा गाँव को खुले में शौच मुक्त करने के लिये प्रारंभ की गई थी।

निर्मल भारत अभियान की शुरुआत 2012 में हुई थी और उसके बाद स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत 2 अक्टूबर 2014 में हुई। जबकि इससे पूर्व भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे है सभी सफाई-सफाई व्यवस्था और स्वच्छता कार्यक्रम 2014 के स्वच्छ भारत अभियान जितने प्रभावी नहीं थे।

 

गाँधीजी और साफ-सफाई पर उनके विचार

महात्मा गाँधी स्वच्छता के बहुत बड़े समर्थक थे। वे गंदी सड़कें, रास्ते, मंदिर और खास तौर से देश की हरिजन बस्ती के बारे में बहुत ज्यादा चिंतित रहते थे। दक्षिण अफ्रिका से लौटने के तुरंत बाद उन्होंने महसूस किया कि, स्वच्छता और साफ-सफाई के मामले में भारत की स्थिति बहुत खराब है। गाँधी जी ने लोगों को प्रेरित करने कि जिम्मेदारी अपने ऊपर ली और व्यक्तिगत रुप से भारत को गंदगी मुक्त बनाने का फैसला किया।

4 फरवरी 1916 से पहले, बनारस हिन्हू विश्वविद्यालय के लोकार्पण कार्यक्रम में जनसमूह को संबोधित करते हुए, गाँधीजी ने स्वच्छता के महत्व को बताया और हर जगह फैली गंदगी को लेकर दुख व्यक्त किया। उन्होंने अपने विश्वनाथ मंदिर के दर्शन का उदाहरण दिया और उसके अंदर और चारों तरफ फैली गंदगी के बारे में बताया। उन्होंने कहा ”क्या ये महान मंदिर हमारे चरित्र को नहीं बताता है?” अपने दुख को व्यक्त करते हुए उन्होंने पूछा क्या अंग्रेजों के देश से चले जाने के बाद भी मंदिर गंदा और मैला रहेगा। इसलिये उनके लिये सफाई उतनी ही महत्वपूर्ण है, जितनी राष्ट्र की आज़ादी।

गाँधीजी का हमेशा ये विचार रहा है कि, सभी को पहले खुद में वे बदलाव लाने चाहिये जो वे दुनिया में देखना चाहते है। इसलिये, जहाँ कहीं भी और जब कभी भी गाँधी जी को मौका मिलता वे उस जगह को खुद साफ करने लगते। रचनात्मक कार्यक्रम मे भाग लेने के तहत, उन्होंने पूरे देश भर में भ्रमण किया और अंग्रेजों के खिलाफ बड़े संघर्ष के लिये लोगों को तैयार करने के अलावा वो साफ-सफाई तथा स्वच्छता के महत्व बारे में भी लोगों को भाषण देते थे। डी.जी तेंडुलकर के “महात्मा”, के तीसरे खण्ड में इस बात का संदर्भ है कि 1934 में गाँधीजी पटना छोड कर अपने हरिजन दौरे के भाग लेने के लिये उड़ीसा गये थे। चंपापुरहट में, उन्होंने पाया कि गाँधी सेवा आश्रम के जमींन पर एक चिकित्सालय था और उस अवसर का भरपूर उपयोग किया और वहां के जन सभा में लोगों को संबोधित करते हुए उपचार के लिये दवाईयों के भरोसे न रहने कि सलाह दी। उन्होने बताया की सदैव साफ-सफाई का ध्यान रखने पर, हमें कोई बिमारी होगी ही नहीं और न ही हमें दवाईयों कि जरुरत पड़ेगी।

गाँधीजी ने हमेशा साफ-सफाई और स्वास्थ्य विज्ञान के बारे में ग्रामीणों को शिक्षित करने की जरुरत पर जोर दिया। उनके अनुसार, आश्रम का सच्चा कार्य बीमारी से बचाव करने के लिये लोगों को शिक्षित करना था। गाँधीजी और उनके स्वयंसेवक ग्रामीणों के साथ एक विशाल जन- संपर्क कार्यक्रम का संचालन करते थे, वे स्वच्छता की जरुरत, रहने की जगह को साफ रखने, और व्यक्तिगत स्वच्छता के बारे में बात किया करते थे।

जब गाँधी आश्रम के निकट ग्रामीण जमींन से मल ढकने को कहते तो लोग मना कर देते है, ये मानते हुए कि ये एक भंगी का कार्य है और गाँधी जी खुद गाँवों में साफ-सफाई का कार्य शुरु कर देते। उदाहरण प्रस्तुत करने के लिये वो खुद झाड़ू और बाल्टी के साथ गाँवों में जाते थे और सफाइ का काम करने लगते।

गाँधीजी के आश्रम में सभी साफ-सफाई के कार्य उनके साथ रहने वाले लोग करते थे। आश्रम की जमीन हमेशा साफ रहती थी। यहाँ-वहाँ गड्ढा होता था जिसमें कूड़ा फेंका जाता था, एक अलग से खाद का गड्ढा होता है, सब्जियों के छिलके और बचे हुए खाने को उसमें डाला जाता था। बेकार पानी का इस्तेमाल बागवानी के लिये होता था।

गाँधीजी हमेशा अपनी पत्रिका ‘हरिजन’ में स्वच्छता के महत्व लिखते थे। इसलिये हमारे राष्ट्रपिता न सिर्फ अंग्रेजों के खिलाफ़ लड़े बल्कि स्वाथ्य और साफ-सफाई को लेकर लोगों के गलत कार्य-प्रणाली के खिलाफ़ भी लड़े। उन्होंने पूरे जीवन लोगों को खुद के और साबके स्वास्थ्य को बेहतर करने और रखने के तरीके सिखा कर सबको प्रोत्साहित किया।

इसलिये, महात्मा गाँधी के जन्मदिन 2 अक्टूबर को सरकार ने “स्वच्छ भारत अभियान” की शुरुआत कर उनको सच्ची श्रद्धांजलि दी है।

 

स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य

2 अक्टूबर 2019 तक “स्वच्छ भारत” के मिशन और दृष्टि को पूरा करने के लिये भारतीय सरकार द्वारा कई सारे लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की गई जो कि महान महात्मा गाँधी का 150वाँ जन्म दिवस होगा। ऐसा अपेक्षित है कि भारतीय 62000 करोड़ रुपये अब तक खर्च हो चुके हैं (9.7 b$)। सरकार ने यह घोषणा किया गया है कि ये अभियान राजनीति के उपर है और देशभक्ति से प्रेरित है। अब तक 4,378 शहरी स्थानीय निकायों में से 4,284 को खुले में शौच मुक्त घोषित किया जा चुका है। अलग-अलग शहर हर वर्ष स्वच्छता प्रतियोगिताओं की दौड़ मे पहले, दूसरे पायदानों पर अपने स्थान सुनिश्चित करने में लगे हुए हैं।

स्वच्छ भारत अभियान के निम्न कुछ महत्वपूर्ण उद्देश्य:

  • भारत को खुले में शौचमुक्त बनाना।
  • अस्वास्थ्यकर शौचालयों की मरम्मत।
  • शौचालय के उपयोग के बाद हाथों को साबुन से साफ करने के लिये प्रेरित करना।
  • लोगों को अच्छे स्वास्थ्य के विषय में जागरुक करना।
  • जन-जागरुकता पैदा करने के लिये सार्वजनिक स्वास्थय और साफ-सफाई के कार्यक्रम से लोगों को जोड़ना।
  • साफ-सफाई से संबंधित सभी व्यवस्था को नियंत्रित, डिज़ाइन और संचालन करने के लिये शहरी स्थानीय निकाय को मजबूत बनाना।
  • पूरी तरह से वैज्ञानिक प्रक्रियाओं से निपटानों का दुबारा प्रयोग और म्युनिसिपल ठोस अपशिष्ट का पुनर्चक्रण।
  • सभी संचालनों के लिये पूँजीगत व्यय में निजी क्षेत्रकों को भाग लेने के लिये जरुरी वातावरण और स्वच्छता अभियान से संबंधित खर्च उपलब्ध कराना।

कॉरपोरेट भारत और स्वच्छ भारत अभियान

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बुलावे पर ध्यान देते हुए कॉरपोरेट भारत ने भी इस अभियान को सफल बनाने के लिये उत्साह के साथ कदम आगे बढ़ाया।

अनिवार्य कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के तहत स्वच्छता गतिविधियों में सार्वजनिक और निजी कंपनीयों को जोड़ा जा रहा है, जो कि कंपनी अधिनियम 2013 के तहत कानूनी जरुरत है। सीएसआर एक क्रियाविधी है जिसके द्वारा कंपनियाँ पूरे समाज के भले कार्यों में पूँजी लगाती है।

हाल ही में बड़े कॉरपोरेट घराने जैसे एलएनटी, डीएलएफ, वेदांता, भारती, टीसीएस, अंबुजा सीमेंट, टोयोटा किरलोस्कर, मारुती, टाटा मोटर्स, कोका कोला, डॉबर्र, आदित्य बिरला, अदानी, इंफोसिस, टीवीएस और कई दूसरों के पास स्वच्छ भारत अभियान के लिये निश्चित किये गये बजट हैं। एक अनुमान के मुताबिक कॉरपोरेट सेक्टर द्वारा 1000 करोड़ की कीमत के कई स्वच्छता परियोजनाएँ पाइपलाइन में है। दूर-दराज़ के गाँवों में शौचालय बनाने सहित इन परियोजनाओं के व्यवहार में बदलाव लाने के लिये कार्यशाला चलाना, कचरा प्रबंधन तथा साफ पानी और दूसरी चीजों में साफ-सफाई क्रिया-कलाप आदि है।

स्वच्छ भारत अभियान के लिये एक बोली में कॉरपोरेट्स धन को आमंत्रित करना, अभी हाल ही में सरकार ने ये फैसला लिया कि इस स्कीम में कॉरपोरेट भागीदारी को सीएसआर खर्चे में गिनती होगी। और बाद में इसे स्पष्ट करने के लिये कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय ने भी कंपनी अधिनियम के शेड्यूल 7 को संशोधित किया ये उल्लिखित करने के लिये कि स्वच्छ भारत कोष में योगदान सीएसआर के लिये योग्य होगा। इसलिये, ना केवल सरकरी और निजी शख्स बल्कि कॉरपोरेट क्षेत्रक भी भारत को स्वच्छ बनाने में अपनी भूमिका निभा रहे है।

स्वच्छ भारत अभियान से कैसे जुड़े

देश में रह रहे सभी नागरिकों के प्रयासों के द्वारा भारत को एक स्वच्छ भारत बनाने के लिये स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत हुई। इसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा स्पष्ट रुप से घोषित किया, कि कोई भी इस कार्यक्रम में किसी भी समय सक्रिय रुप से भाग ले सकता है। उसे बस गंदी जगहों की एक तस्वीर लेनी है और इसके बाद उसे उस जगह की सफाई करने के बाद तस्वीर लेनी है और पहले और बाद की फोटो सोशल मीडिया वेबसाइटों जैसे फेसबुक, ट्वीटर आदि पर अपलोड कर देनी है जिससे इसी तरह का कार्य करने के लिये दूसरे आम लोग इससे परिचित और प्रेरित हो स्वच्छ भारत के दृष्टी को पूरा कर सके।

भारतीय जनता से भारतीय प्रधानमंत्री के द्वारा इस तरह की अपील के बाद ये भारत के लोगों द्वारा तेजी से शुरु हुआ। इस कार्यक्रम के आरंभ होने के दिन से ही लोग बहुत सक्रिय और प्रेरित हुए और इसको वैश्विक बनाने के लिये पहले और बाद की स्नैप लेकर सोशल मीडिया वेबसाइटों पर अपलोड कर उसी तरह शुरु किया गया। नरेन्द्र मोदी द्वारा ये भी कहा गया कि जो भी इस मुहिम को आगे बढ़ायेगा, उसे सोशल मीडिया वेबसाइटों पर सरकरा द्वारा सराहा जायेगा। बॉलीवुड, टॉलीवुड, राजनीतिज्ञ, खेल, व्यापार उद्योग, आदि से जुड़े बहुत सारे प्रसिद्ध व्यक्तित्व जैसे आमिर खान, अमिताभ बच्चन, रितीक रोशन, सचिन तेंदूलकर, मृदुला सिन्हा जी, अनिल अंबानी, बाबा रामदेव, शशि थरुर, कमल हासन, प्रियंका चोपड़ा, एम.वेंकैया नायडु, अमित शाह, सलमान खान, तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम और कई सारी हस्तियाँ अपने समयानुसार इस मुहीम से जुड़े तथा फेसबुक और ट्वीटर पर इससे जुड़ी तस्वीरें अपलोड की।

इसे स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय के छात्रों और दूसरे शैक्षणिक संस्थानों के द्वारा भी किया जा रहा है। दैनिक रुटीन कार्य और दूसरे व्यवसायिक गतिविधियों में लगे देश के युवा भी कार्यक्रम में भाग लेते है तथा इसी तरह का कार्य करते है। सभी क्रिया-कलाप प्रसिद्ध व्यक्तित्व, विद्यार्थी तथा देश के युवा द्वारा समर्थित होता है और आम जनता को इसमें सक्रिय रहने के लिये प्रोत्साहित किया जाता है। अपने आस-पास के जगह को साफ और उत्तम करने के लिये हमें भारतीय होने के नाते अपने हाथों में झाड़ू लेने की जरुरत है।

ज्यादातर स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थियों ने ग्रुप कार्यक्रमों में भाग लिया था तो हम क्यूँ पीछे है? हमें भी इसमें पूरी सक्रियता से भाग लेना चाहिये। इस अभियान को सफल अभियान बनाने के लिये कई स्वतंत्र एप्लिकेशन प्रोग्राम डेवलपर ने मोबाईल तकनीक का इस्तेमाल कर कई मोबाईल एप्लिकेशन बनाए। मीडिया ने भी अपने लेख और खबर प्रकाशन के द्वारा इस अभियान को बढ़ावा दिया। इस अभियान की ओर लोगों को टाइम्स ऑफ इंडिया ने भी अपने लेख “फेसबुक को देशी कंपनी ने हराया ‘स्वच्छ एप्स रेस’ में” से प्रेरित किया। दूसरा प्रकाशित लेख है-“ये भारतीय एप बदल सकता है कैसे लोग अपनी सरकार से बात करें”।

2019 तक 100% खुले में शौचमुक्त भारत का लक्ष्य प्राप्त करने के लिये इस अभियान के तहत ठीक ढ़ंग से शौचालय बनाया जाना है। जिसमें से 98% जनवरी के माह तक बनाया जा चुका है। लोगों को स्वच्छ भारत का महत्वपूर्ण संदेश पहुँचाने के लिये एनआईटी राऊरकेला पीएचडी विद्यार्थीयों द्वारा स्वच्छ भारत पर एक लघु फिल्म बनाई गई है। हमें भी अपने हाथ इस मिशन के लिये जोड़ना चाहिये और इसे अपने जीवन का महत्वपूर्ण भाग समझना चाहिये। स्वच्छ भारत केवल एक का नहीं बल्कि सभी भारतीय नागरिकों की जिम्मेदारी है। सरकार काफी हद तक अपने मकसद में कामयाब हो चुकि है।

उत्तर प्रदेश में स्वच्छता की एक और पहल

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मार्च 2017 में जब पहली बार सचिवालय की इमारत का दौरा किया और सरकारी इमारत में पान के दाग वाली दीवारों, कोनों को देखा तो उन्होंने तुरंत ही सभी सरकारी कार्यालयों में ड्यूटी के दौरान चबाने वाला पान, पान मसाला, गुटखा और अन्य तम्बाकू उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया। यह पहल सरकारी इमारतों में सफाई सुनिश्चित करने के लिए शुरू की गई है।

स्वच्छ भारत अभियान से जुड़ी मशहूर शख्सियत

आमिर खान

अमिताभ बच्चन

रितीक रोशन

सचिन तेंदूलकर

मृदुला सिन्हा जी

अनिल अंबानी

बाबा रामदेव

शशि थरुर

कमल हासन

प्रियंका चोपड़ा

एम.वेंकैया नायडु

अमित शाह

सलमान खान

तारक मेहता का उल्टा चश्मा की टीम

स्वच्छ भारत अभियान में अन्य हस्तियां जो शामिल हैं वह हैं अनुपम खेर, परिणीति चोपड़ा, अक्षय कुमार, आलिया भट्ट, नेहा धूपिया, अजय देवगन, सुभाष घई (फिल्म निर्माता), गगन नारंग (भारतीय शूटर), विजेंदर सिंह (भारतीय बॉक्सर), मनोज तिवारी, मैरी कोम, नागार्जुन, तमन्ना भाटिया, हेमा मालिनी इत्यादि।

 

Related Information:

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

स्वच्छ भारत अभियान पर लेख

स्वच्छ भारत पर भाषण

स्वच्छ भारत अभियान पर स्लोगन

स्वच्छता पर निबंध

स्वच्छ भारत/स्वच्छ भारत अभियान पर कविता

स्वच्छता पर भाषण

Archana Singh

An Entrepreneur (Director, White Planet Technologies Pvt. Ltd.). Masters in Computer Application and Business Administration. A passionate writer, writing content for many years and regularly writing for Hindikiduniya.com and other Popular web portals. Always believe in hard work, where I am today is just because of Hard Work and Passion to My work. I enjoy being busy all the time and respect a person who is disciplined and have respect for others.

Recent Posts

मेरी माँ पर भाषण

माँ के रिश्ते की व्याख्या कुछ शब्दों करना लगभग असंभव है। वास्तव में माँ वह व्यक्ति है जो अपने प्रेम…

5 months ago

श्रमिक दिवस/मजदूर दिवस पर कविता

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस का दिन विश्व भर के कामगारों और नौकरीपेशा लोगों को समर्पित हैं। 1 मई को मनाये जाने…

5 months ago

मेरी माँ पर निबंध

माँ वह है जो हमें जन्म देने के साथ ही हमारा लालन-पालन भी करती हैं। माँ के इस रिश्तें को…

5 months ago

चुनाव पर स्लोगन (नारा)

चुनाव किसी भी लोकतांत्रिक देश की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है, यहीं कारण है कि इसे लोकतंत्र के पवित्र पर्व के…

5 months ago

भारत निर्वाचन आयोग पर निबंध

भारत में चुनावों का आयोजन भारतीय संविधान के द्वारा गठित किये गये भारत निर्वाचन आयोग द्वारा किया जाता है। भारत…

5 months ago

चुनाव पर निबंध (Essay on Election)

चुनाव या फिर जिसे निर्वाचन प्रक्रिया के नाम से भी जाना जाता है, लोकतंत्र का एक अहम हिस्सा है और…

5 months ago