बच्चे के प्रति अपने गुस्से को कैसे नियंत्रित करें

How to Control Your Anger towards Your Child

अच्छी परवरिश एक कला है जिसमें बहुत धैर्य की आवश्यकता होती है और माता-पिता के रूप में कोई पैदा नहीं होता है, लेकिन लोग समय के साथ इसे सीखते हैं। पेरेंटिंग के दौरान, आप कुछ चीज़ों पर प्रतिक्रिया या अतिप्रतिक्रिया कर सकते हैं, जिसे गुस्सा कहा जा सकता है। क्रोध को मन की स्थिति के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है, जब आपका मन अपनी चेतना खो देता है और अशिष्ट व्यवहार करना शुरू कर देता है। जिस तरह एक संतुलित आहार में सभी प्रकार के पोषक तत्व होते हैं, उसी तरह एक स्वस्थ शरीर भी सभी प्रकार की भावनाओं को प्रदर्शित करता है, लेकिन किसी भी भावना की अधिकता कभी-कभी आपके लिए खतरनाक हो सकती है।

गुस्सा एक ऐसी बीमारी है जो आपके स्वास्थ्य, रिश्तों और कई अन्य चीजों को खराब कर सकती है। हमेशा गुस्से को दूर करने के लिए कुछ दैनिक दिनचर्या का अभ्यास करने की सिफारिश की जाती है, क्योंकि आमतौर पर, माता-पिता अपने बच्चों पर अपनी कुंठा और निराशा को बाहर निकालते हैं।

क्रोध हमें कुछ जैविक नुकसान भी पहुंचाता है, जिसके कारण विभिन्न जैविक क्रियाओं के साथ-साथ शारीरिक परिवर्तन भी होते हैं। जैविक परिवर्तन जैसे आपका रक्तचाप बढ़ सकता है और यह आपके बच्चे को होने वाली कुछ शारीरिक क्रियाओं में बीमारी और शारीरिक दुष्परिणामों का कारण बन सकता है।

कभी-कभी यह उनकी गलती के कारण और कभी यह आपकी मनोदशा है कि उन्हें आपके क्रोध को सहना पड़ता है। कुछ शारीरिक प्रभाव हैं जो बताते हैं कि जिन बच्चों के माता-पिता उन पर अधिक गुस्सा करते हैं, वे थोड़े अलग होते हैं। वे डरे-डरे से दिखते हैं और यह उनके आईक्यू को भी प्रभावित करता है। उनका आईक्यू बहुत कम होता है और वे सुस्त हो जाते हैं। उनमें आत्मविश्वास की भी कमी देखने को मिलती है। इसलिए हमेशा अपने गुस्से पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें। गुस्से में यह न भूल जायें कि वह आपका अपना बच्चा है।

अपने गुस्से को नियंत्रित करने के 6 खास तरीके (6 Best Tips to Control Your Anger)

आपके गुस्से के पीछे कई कारण हो सकते हैं, लेकिन जब आप अपने स्वभाव को जानते हैं तो आपको हमेशा इसके लिए काम करना चाहिए क्योंकि यह न केवल आपको नुकसान पहुंचाएगा बल्कि आपके रिश्ते को भी नुकसान पहुंचाएगा। हम सभी जानते हैं कि 'बचाव इलाज से बेहतर है', इसी बात पर ध्यान देते हुए, गुस्से के कारणों का पता लगाए और उसे खत्म करें। अपने रिश्ते में इन तरीकों का पालन करने की कोशिश करें और आप अंतर खुद देखेंगे।

  1. ध्यान का अभ्यास करें (Practice Meditation)

आप योग, ध्यान या प्राणायाम जैसे विभिन्न विधियों का अभ्यास कर सकते हैं। इंटरनेट और पत्रिकाओं पर सैकड़ों अभ्यास उपलब्ध हैं जो आपको विभिन्न श्वास अभ्यास सिखा सकते हैं या यदि आप इसे उचित अवलोकन के तहत करना चाहते हैं तो आप विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए भी जा सकते हैं। हर किसी के लिए अपने गुस्से को नियंत्रित करने में विभिन्न ध्यान तकनीक निश्चित रूप से मदद करती है।

2. अपनी आवृत्ति की गणना करें (Calculate your Frequency)

कभी-कभी अपने गुस्से पर नज़र रखना आवश्यक है, क्योंकि यह संभव है कि आप सामान्य से अधिक क्रोधित हो रहे हों। बस गणना करें कि आप अपने बच्चों पर कितनी बार गुस्सा करते हैं? और एक बार जब आपको जवाब मिल जाता है, तो आप अपने गुस्से को नियंत्रित कर सकते हैं। आप स्वयं महसूस करेंगे कि यह आपके बच्चे को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है।

3. कठोरता से पेश न आएं (Don’t be Harsh)

बच्चे बहुत नरम दिल के होते हैं और आपका गुस्सा उन्हें बुरी तरह प्रभावित कर सकता है, इसलिए हमेशा मामले को शांति से सुलझाने की कोशिश करें, क्योंकि हर बार अपना गुस्सा दिखाना जरूरी नहीं है; क्योंकि, यह देखा गया है कि कई बार बच्चे हमारे अपने खराब मूड के कारण अनावश्यक रूप से डांट खाते हैं।

4. उन्हें सही पाठ पढ़ाएं (Teach them Lesson)

बच्चे कहानियों से प्यार करते हैं और अगर वे कुछ ऐसा करते हैं जो आपको डराता है, और यदि आप वास्तव में चाहते हैं कि वे उस आदत को छोड़ दें, तो उन्हें डांटने और गुस्सा करने के बजाय उन्हें सही सबक सिखाने की कोशिश करें। उन्हें कहानियां सुनाएं, जिसे सुनकर उन्हें अपनी गलती का एहसास हो। यह न केवल उन्हें उचित सबक देगा, बल्कि आपको शांत रहने में भी मदद करेगा। डांटना कभी-कभी उनके दिमाग को नकारात्मक रुप से प्रभावित करता है और उन्हें कुछ गलत करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।

5. अपने रिश्ते को स्वस्थ बनाएं (Make your Relationship Healthy)

बच्चे हमेशा अपने माता-पिता से सीखते हैं और वे हमेशा अपने माता-पिता को अपना आदर्श मानते हैं, इसलिए उनके लिए कोई गलत उदाहरण पेश न करें। आमतौर पर बच्चे घर के माहौल से प्रभावित होते हैं, इसलिए कभी भी अपने घर में किसी भी तरह का नकारात्मक माहौल न होने दें, हमेशा अपने घर में कम बातचीत करें। कहते है, माँ अक्सर पिता-पुत्र के बीच एक पुल का काम करती है। हमेशा अपने जीवनसाथी और अपने बच्चों के बीच एक स्वस्थ संबंध बनाने का प्रयास करें। यदि आपको कुछ गलत लगता है, तो अपना गुस्सा दिखाने के बजाय उस पर चर्चा करने का प्रयास करें। यह न केवल आपके बच्चे को आपसे हमेशा के लिए प्यार की डोर से बांध कर रखेगा, बल्कि एक शांतिपूर्ण पारिवारिक वातावरण में उसे विकसित होने में मदद करेगा।

6. समस्या-समाधान प्रकृति को अपनाएं (Adopt a Problem-Solving Nature)

जब आप अपने क्रोध से परिचित होते हैं तो आपको उस पर काबू पाने के लिए कुछ गुणों को अपनाना चाहिए, क्योंकि उनमें से कुछ की चर्चा ऊपर की जा चुकी है और अन्य उपाय है -  समस्या को सुलझाने वाली प्रकृति का विकास करना। यह संभव है कि आपको ज्यादा गुस्सा आता हो, इसलिए उस समय बस शांत रहें और लंबी-लंबी सांसे लें। इसके अतिरिक्त आप किसी सलाहकार से मिल सकते हैं या आप अपनी समस्या का खुद विश्लेषण कर सकते हैं। बातचीत से या मामले पर विचार करके समस्या-समाधान प्रकृति को अपनाया जा सकता है। यह ज्यादा मुश्किल भी नहीं।

कौन-कौन से कारक आपको आक्रामक बनाते हैं? (Factors that make You Aggressive?)

मनोवैज्ञानिक तथ्य के अनुसार, कुछ लोग दूसरों की तुलना में गरम-मिज़ाज के होते हैं और आसानी से क्रोधित हो जाते हैं। कुछ लोग शारीरिक क्रिया करते हैं जबकि कुछ कड़वे शब्द बोलते हैं। जो लोग शारीरिक क्रियाओं में आसानी से शामिल होते हैं, उनमें बहुत कम सहन करने की क्षमता होती है। उनके आक्रामक स्वभाव के पीछे कई कारण हो सकते हैं; हमने उनमें से कुछ पर चर्चा की है:

  1. स्वास्थ्य

सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक स्वास्थ्य है क्योंकि सामान्यतः महिलाएं पुरुषों की तुलना में जल्दी थक जाती हैं। इसलिए, यदि आप जल्दी-जल्दी आवेशित हो रहे हैं, जोकि आपकी आदत नहीं तो कृपया तुरंत स्वास्थ्य जांच करवाएं। 30 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद, महिलाओं को हड्डी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए कुछ अतिरिक्त पोषक तत्वों और कुछ स्वस्थ खाद्य पदार्थों की आवश्यकता होती है, और इन विटामिनों और खनिजों की कमी के कारण वे जल्दी थकान महसूस कर सकती हैं और यह आप में अधिक आक्रामकता का कारण बन सकता है।

आपके गुस्से के पीछे कुछ सामान्य स्वास्थ्य कारणों को नीचे वर्णित किया गया है:

  • अनिद्रा: नींद न आना भी आपके गुस्से को बढ़ा सकता है क्योंकि नींद की कमी से आप चिड़चिड़ापन महसूस कर सकते हैं।
  • आराम की कमी: उचित आराम का अभाव भी आपके मूड को बदल सकता है और आपको परेशान महसूस करा सकता है।

2. मानसिक स्वास्थ्य

हममें से हर कोई, किसी न किसी प्रकार के मानसिक दबाव का सामना कभी न कभी करता ही है। उनमें से कुछ को इसे प्रबंधित करने में कोई कठिनाई महसूस नहीं होती है, लेकिन कुछ को यह बहुत मुश्किल लगता है और वो अपने परिवार या विशेष रूप से अपने बच्चों पर अपना गुस्सा उतारते हैं। इसलिए, अच्छा मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त करने का सबसे अच्छा विकल्प संगीत सुनना, योग करना या अपनी समस्या को अपने परिवार के साथ साझा करना होता है। ये सभी निश्चित रूप से मानसिक शांति प्राप्त करने में आपकी मदद करेंगे।

3. परिस्थिति

किसी भी प्रकार के परिस्थितिजन्य तनाव के कारण हर परिवार को कुछ न कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इससे निपटने के लिए आपको समुचित उपाय करने चाहिए, इससे न केवल आपके परिवार का माहौल बदलेगा बल्कि आपका तनाव भी कम होगा। हर समस्या का समाधान होता है, बस जरुरत है, उस पर विचार करने की। आपको समाधान मिल जाएगा।

आपके बच्चे के अनुचित व्यवहार के पीछे का कारण

आपके बच्चे के अनुचित व्यवहार के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिससे आपका गुस्सा बढ़ सकता है। बच्चे बहुत नाजुक और मासूम होते हैं, इसलिए उनका हमेशा ठीक से ध्यान रखना चाहिए। बच्चे कुछ भी बिना कारण नहीं करते। उनके नए व्यवहार के पीछे हमेशा एक कारण होता है और एक अभिभावक के रूप में, आपको हमेशा यह जानने का प्रयास करना चाहिए। उन्हें डांटे नहीं, बल्कि उसके पीछे के कारण का पता लगाएं। क्रोध कोई समाधान नहीं है और इससे आपके बच्चे पर नकारात्मक असर पड़ सकता है। हमने नीचे कुछ कारणों पर चर्चा की है:

1. आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए

कभी-कभी बच्चे उपेक्षित महसूस करते हैं और माता-पिता का ध्यान आकर्षित करने के लिए वे कुछ ऐसा करते हैं जिससे आपका खून खौल उठे। इसलिए, डांटने के बजाय उन्हें समझने की कोशिश करें क्योंकि वे आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए ऐसी हरकतें करते हैं। वे आपसे प्यार और समय चाहते हैं। अतः गुस्सा न हो।

2. जब वे उपेक्षित महसूस करते हैं

यह देखा गया है कि छोटे भाई-बहन होने पर बच्चे अक्सर उपेक्षित महसूस करते हैं और वे अपने माता-पिता का ध्यान आकर्षित करने के लिए ऐसी क्रियाओं का अभ्यास करते हैं, जिससे आपका ध्यान उन पर पड़े। बच्चों को हमेशा लाड़-प्यार की ज़रूरत होती है और जब वे उपेक्षित महसूस करते हैं, तो वे कुछ ऐसे कार्य करते हैं जो आपको परेशान कर दे और आप अपना आपा खो दें। इसलिए, उन्हें डांटने के बजाय उनकी कार्रवाई के लिए परिस्थितियों का विश्लेषण करने का प्रयास करें।

3. अगर उन्हें कुछ चाहिए हो

जब एक बच्चा छोटा होता है, तो उसे कुछ भी चाहिए होता है तो वह रोना शुरु कर देता है और अभिभावक उसकी सभी मांगो को पूरा कर देते हैं। वह बच्चा अपने मन में यह धारणा बना लेता है, कि रोने से उसे सब कुछ मिल सकता है। बच्चों में ऐसी धारणा न पलने दें। उसकी नाजायज मांगों को मानने की जरुरत नहीं, उस पर गुस्सा न करें, बल्कि उसे स्पष्ट कर दें, कि उसकी हर मांग पूरी नहीं की जा सकती।

4. पर्यावरणीय कारक

कभी-कभी यह उनका वातावरण हो सकता है जो कुछ अवांछित कार्यों जैसे दुर्व्यवहार आदि को भड़काता है। एक अभिभावक के रूप में, आपको हमेशा अपने बच्चे के मित्र मंडली को जानना चाहिए। क्योंकि संगत का बहुत प्रभाव पड़ता है। कुछ बच्चे हो सकते हैं जो आपके बच्चे को गुमराह कर सकते हैं। इसलिए किसी भी तरह के धोखे और बुरी संगत से बचाने के लिए हमेशा उस पर नज़र रखें, और सतर्क रहें।

निष्कर्ष

बच्चे बहुत खास हैं और हमें उन तरीकों को विकसित करना चाहिए, जिससे हम अपने बच्चों का माइंड मेकअप कर सकें। यदि उनके साथ अच्छा व्यवहार किया जाए, तो इससे उनमें सकारात्मकता आएगी और वे गलत तरीके से व्यवहार नहीं करेंगे। अगर वे क्रोध और अहंकार से भरे नकारात्मक माहौल में पलते-बढ़ते हैं, तो वे निश्चित रूप से उसी मानसिकता के साथ विकसित होंगे। बच्चे हमारा भविष्य हैं और हमें उनका पालन-पोषण उचित तरीके से करना चाहिए। उनकी और देश की प्रगति के लिए, उनकी जरूरतों को पूरा करना चाहिए, यह हमारा कर्तव्य भी है, और जिम्मेदारी भी। क्योंकि बच्चों को पालना बच्चों का खेल नहीं।