एक समझदार आदमी को सलाह की आवश्यकता नही पड़ती और एक बेवकूफ कभी सलाह लेता नहीं है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning)

वह कहावत, 'एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की जरूरत नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे नहीं लेता है', इसका मतलब है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति अपने निर्णय लेने के लिए पहले से ही अनुभवी और जानकार होता है, उसे किसी और से सलाह की आवश्यकता नहीं होती है। वह अपनी कार्य और उसके परिणामों का अच्छी तरह से आकलन कर सकता है और उचित निर्णय भी ले सकता है। वहीं दूसरी तरफ, मूर्खों में ज्ञान की झूठी भावना होती है और वे उचित सलाह को समझदारी से स्वीकार नहीं करते हैं। वे सलाह देने वाले व्यक्ति का मजाक उड़ाते हैं और सोचते हैं कि सिर्फ वे ही सही हैं।

उदाहरण (Examples)

इस कहावत को आप इस जाने माने उदाहरण से अच्छी तरह समझ सकते हैं। मैं यहाँ आपकी जानकारी के लिए इस कहावत पर कुछ उदाहरण दे रहा हूं।

"मैंने मोहित को उसके पढाई के समय को बढ़ाने की सलाह देने की कोशिश की लेकिन वह यह कहते हुए पीछे हट गया कि उसे सलाह की ज़रूरत नहीं है; यह सच है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की जरूरत नहीं होती है और मूर्ख व्यक्ति इसे ले नहीं सकता है।"

"मेरे कक्षा के शिक्षक हमेशा किसी भी तरह की सलाह को बहुत ही उदारतापूर्वक स्वीकार करते हैं, यहाँ तक कि अपने छात्रों से भी, लेकिन मेरे एक सहपाठी को जब उसके खराब प्रदर्शन की सलाह दी जाती है तो उसकी तबीयत खराब हो जाती है। किसी ने सही कहा है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की ज़रूरत नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे ले नहीं सकता है।"

"मेरे पड़ोस में एक बहुत जानकार विद्वान रहते हैं। उनके पास सलाह देने वाला कोई नहीं है, फिर भी उन्होंने अपना पैसा समझदारी से निवेश किया और अच्छा धन भी कमाया। यह सच है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की जरूरत नहीं होती है और मूर्ख व्यक्ति इसे ले नहीं सकता है।"

"मेरे पड़ोस में रहने वाली एक लड़की पढ़ाई में काफी अच्छी है, मगर उसका भाई उतना ही ख़राब है। लड़की हमेशा किसी भी सलाह को बहुत ही उदारता के साथ स्वीकार करती है, लेकिन उसका भाई न तो सलाह लेता है और न ही खुद को सुधारता है। यह एक बेहतर उदाहरण है- एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की आवश्यकता नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे ले नहीं सकता है।"

"मैंने आपको अपनी प्रस्तुति के लिए एक पीपीटी तैयार करने के लिए कहा था, लेकिन आपने नहीं सुना; अब यह प्रस्ताव रद्द हो गया। मुझे उम्मीद थी कि प्रस्तुति के लिए मेरे पास एक बुद्धिमान व्यक्ति था। क्या आपने सुना नहीं है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की जरूरत नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे ले नहीं सकता है।"

उत्पत्ति (Origin)

इस कहावत 'एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की आवश्यकता नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे नहीं लेता है' की उत्पत्ति का श्रेय बेंजामिन फ्रैंकलिन (1706-1790) को दिया जाता है, जो संयुक्त राज्य के संस्थापकों में से एक थे।

कहावत के अनुसार, फ्रैंकलिन यह बताने की कोशिश कर रहे थे कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह देने की कोई आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि वह पहले से ही काफी अनुभवी व जानकार होता है; बावजूद इसके वह धैर्यपूर्वक आपकी सलाह को सुनेगा। जबकि एक मूर्ख, सलाह नहीं लेगा क्योंकि वह सोचता है कि वह समझदार और श्रेष्ठ है।

यह कहावत दुनिया भर में अलग अलग भाषाओं में व्यापक स्तर पर इस्तेमाल की जाती है।

कहावत का विस्तार (Expansion)

कहावत यह बताने की कोशिश करता है कि यदि आप एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह देने की कोशिश करते हैं, तो वह धैर्यपूर्वक आपकी सलाह को सुनेगा और यदि वह योग्य है, तो उसे स्वीकार करने में उसे खुशी भी होगी; यह अलग बात है कि वह अपने निर्णय लेने के लिए पर्याप्त समझदार है।

एक बुद्धिमान व्यक्ति के पास जरा भी अहंकार नहीं होता है और वह हमेशा दूसरों की सुनता है। दूसरी तरफ, एक मूर्ख हमेशा सोचता है कि केवल वही सही है और बाकी सभी मूर्ख हैं। इसलिए सलाह दी जाती है कि कभी मूर्खों को सलाह ना दें। मूर्खों को ज्ञान के झूठे अर्थ में उलझाया जाता है, यह सोचकर कि वे सबसे बुद्धिमान हैं। इसी वजह से वे कभी भी दी गई किसी सलाह को नहीं मानते हैं और हमेशा अपना ही रास्ता अपनाते हैं। उनका खुद का अहंकार होता है जो उनकी सोच को बाधित करता है और उन्हें सलाह को गंभीरता से लेने से रोकता है।

महत्त्व (Importance)

यह कहावत 'एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की आवश्यकता नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे लेता नहीं है' हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण सबक है जो हमें बुद्धिमान और मूर्ख लोगों की विशेषता के बारे में बताता है। यह हमें उनके व्यवहार के बारे में चेतावनी देता है वह भी उचित समय पर। इससे हमें मदद मिलती है कि आप किस तरह के व्यक्ति के साथ काम कर रहे हैं - एक मूर्ख या बुद्धिमान व्यक्ति के साथ। वह व्यक्ति, जो आपकी सलाह को उदारतापूर्वक स्वीकार करता है, वह बुद्धिमान है, जबकि जो इसे नहीं सुनता वह मूर्ख है।

यह कहावत हमें यह भी सिखाती है कि यदि हम खुद को बुद्धिमान समझते हैं, तो हमें खुद को हमेशा खुला रखना चाहिए दूसरों की सलाह लेने के लिए। एक बुद्धिमान व्यक्ति की एक महत्वपूर्ण विशेषता यही है कि वह सलाह सुनता है; आकलन करता है कि यह संभव है या नहीं और फिर उसके अनुसार उसे लागू करता है। इसलिए, अगर हम समझदार होना चाहते हैं तो हमें उसी तरह से काम करना चाहिए; अन्यथा, हमें मूर्ख घोषित कर दिया जाता।

एक समझदार आदमी को सलाह की आवश्यकता नही पड़ती और एक बेवकूफ कभी सलाह लेता नहीं है पर लघु कथाएँ (Short Stories on ‘A Wise Man doesn’t Need Advice and a Fool won’t Take it’ in Hindi)


एक अच्छी तरह लिखी गई कहानी किसी कहावत के पीछे के मनोबल को समझने का सबसे बेहतर तरीका माना जाता है। मैं यहाँ कुछ कहानियाँ नीचे दे रहा हूँ जो इस कहावत को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगा।

लघु कथा 1 (Short Story 1)

एक बार की बात है, चीन के एक गाँव में दो किसान दोस्त रहते थे। उनमें से एक शी चिन नाम के एक बहुत ही विद्वान व्यक्ति थे जिन्होंने तमाम धार्मिक ग्रंथों और पुस्तकों को पढ़ा था। उसका दोस्त ज़ी चैन बहुत ज़िद्दी था और उसमे ज्ञान की झूठी भावना भी थी। वह दूसरों को मूर्ख समझता था और खुद को उन सभी में सबसे बुद्धिमान। इसके बावजूद, उनकी दोस्ती काफी अच्छी थी क्योंकि शी चिन वास्तव में एक अच्छा इंसान था।

एक बार दोनों दोस्तों ने एक साथ मिलकर व्यापार करने का फैसला किया, लेकिन, कुछ ही महीनों बाद, योजना बेकार हो गई क्योंकि शी चिन द्वारा दी गई किसी भी सलाह को उसका जिद्दी दोस्त ज़ी चैन नहीं सुनता था। दोनों ने व्यापार की साझेदारी तोड़ ली और और अलग-अलग व्यवसाय चलाना शुरू कर दिया।

एक साल बाद शी चिन का कारोबार तेजी के साथ बढ़ने लगा जबकि जी चैन ने एक बेवकूफी वाले व्यावसायिक विचार की वजह से अपना सारा निवेश गवां दिया। शी चिन की सफलता की एक खास वजह यह भ थी कि वह किसी की भी सलाह को सुनता था जो भी उसे ख़ुशी ख़ुशी देते थे।

शी चिन को अपने दोस्त के नुकसान के बारे में पता चलने पर बुरा महसूस हुआ और एक आम दोस्त की मदद से कुछ पूछताछ करने की कोशिश की। सामान्य मित्र ने बताया कि ज़ी चैन शुरू से ही अपने व्यवसायिक विचार के बारे में अडिग था। जब उसे उसके दोस्तों तथा रिश्तेदारों ने सलाह दी, तो उसने उसपर कोई ध्यान नही दिया यह सोचकर कि उसका विचार ही सबसे अच्छा है। शायद, यह सच है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की ज़रूरत नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे लेता नहीं है।'

लघु कथा 2 (Short Story 2)

एक बार की बात है, दक्षिण भारत में दो राज्य थे। कृष्णदेवआर्य विजयनगर राज्य के एक राजा थे। उनके पास सलाहकारों के रूप में बुद्धिमान दरबारियों की एक समूह था, जो उन्हें शासन से संबंधित तमाम मुद्दों पर सलाह देते थे।

दूसरे राज्य पर एक बहुत ही अहंकारी शासक महासिम्हा का शासन था, जिनके पास एक बेहतरीन सशस्त्र सेना थी, मगर कोई सलाहकार नहीं था। वह खुद को सबसे बुद्धिमान समझता था और सलाह लेने को अपमान के रूप में देखता था।

एक दिन, महासिम्हा ने अपनी सेना को इकट्ठा किया और विजयनगर के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी। उसने सोचा कि विजयनगर राज्य को उसकी सेना के खिलाफ कोई मौका नहीं मिल पायेगा। मगर वह गलत था।

कृष्णदेवआर्य को हमले की जानकारी मिली और फिर भी वह आत्मविश्वास से भरे थे। जब उनके दरबारियों में से एक ने उनसे पूछा कि यह जानने के बावजूद कि महासिम्हा की सेना उनकी सेना की संख्या से अधिक है, तो भी वह कौन सी बात है जो आप इतने शांत है? राजा ने जवाब दिया कि उसे अपने बुद्धिमान सलाहकारों पर पूरा भरोसा है।

यही हुआ - कृष्णदेवआर्य को उनके कुशल दरबारियों द्वारा सलाह दी गयी कि एक अटूट युद्ध योजना बनाई जाए और आसानी से महासिम्हा की विशाल सेना को हराया जाए। महासिम्हा को पकड़ लिया गया और जेल में डाल दिया गया। पेशी के दौरान, महासिम्हा ने पूछा कि वह जानना चाहता है कि कम सेना होने के बावजूद कृष्णदेवआर्य की जीत के पीछे क्या रहस्य है। कृष्णदेवआर्य ने अपने दरबारियों को इशारा करते हुए कहा "एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की आवश्यकता नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति यह लेता नहीं है।"