भारत पर स्लोगन (नारा)

भारत, भारतीय उपहाद्वीप का सबसे बड़ा देश है। इसे इण्डिया तथा हिंदुस्तान जैसे अन्य कई नामों से भी जाना जाता है। भारत का इतिहास सदैव से ही गौरवशाली रहा है। प्राचीन काल में भारत विश्व शक्ति का केंद्र भी रहा है तथा आज भी इसे विश्व का धार्मिक और आध्यात्मिक केंद्र माना जाता है। यही कारण है कि यहां से विश्व के चार महत्वपूर्ण हिंदु, जैन, बौद्ध तथा सिख धर्म जैसे धर्मों की उत्पत्ति हुई है। वर्तमान में भारत एक लोकतांत्रिक देश होने के साथ ही जनसंख्या के आधार पर विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश भी है। यही कारण है कि भारत को विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के रुप में जाना जाता है।

ऐसे कई अवसर आते हैं जब आपको भारत से जुड़े भाषणों, निबंधो या स्लोगन की आवश्यकता होती है। यदि आपको भी भारत से जुड़े ऐसे ही सामग्रियों की आवश्यकता है तो परेशान मत होइये हम आपकी मदद करेंगे। हमारे वेबसाइट पर भारत से जुड़ी तमाम तरह की सामग्रियां उपलब्ध हैं, जिनका आप अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते हैं।

भारत पर नारा (Slogans on India in Hindi)

हमारे वेबसाइट पर भारत के लिए विशेष रुप से तैयार किए गये कई सारे स्लोगन उपलब्ध हैं। जिनका उपयोग आप अपने भाषणों या अन्य कार्यों के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं। ऐसे ही अन्य सामग्रियों के लिए भी आप हमारे वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं।

Unique and Catchy Slogans on India in Hindi Language

भारत के राष्ट्रीय पर्व पर निबंध के लिए यहां क्लिक करें

 

हमारा प्यारा भारत देश, जिसमें बसते है कुल 29 प्रदेश।

 

हमारा प्यारा भारत देश, जिसमें बसते कई विविध प्रदेश।

 

हमारा भारत है सबसे महान, जिसके लिए क्रांतिकारियों ने लुटाये अपने प्राण।

 

दुनिया में सबसे प्यारा हमारा भारत, दुनिया में सबसे न्यारा हमारा भारत।

 

भारतीय सभी धर्मों से रखते समभाव, इसलिए तो सब धर्मों का भारत में है प्रभाव।

 

जहा है धर्म और न्याय का सम्मान, ऐसा स्थान है मेरा भारत महान।

 

जहा सबको खुशियां मिलती सहर्ष, ऐसा देश है हमारा भारतवर्ष।

 

 

जिस भारत की स्वतंत्रता खातिर लाखो हुए कुर्बान, उस भारत की तुम सदैव बनाये रखना शान।

 

स्वतंत्रता भारत की शान है, लोकतंत्र इसकी आन है।

 

जहां होता है हर धर्म का सम्मान, वह स्थान है मेरा भारत महान।

 

नित्य तरक्की कर रहा है भारत आज, क्योंकि कानून और लोकतंत्र का है यहां राज।

 

स्वदेशी है भारत के तरक्की के अनुकूल, यह है भारत के उन्नति का मूल।

 

भारत वह देश है जिसने किया हर व्यक्ति को स्वीकार, जिसने किया परिश्रम उसे मिला यहां पुरस्कार।

 

कुछ भी हो जाय भारत को ना बनने देना भ्रष्ट, बुराई को रोककर देश की छवि को करना है स्पष्ट।

 

हर व्यक्ति में स्वाभिमान को जगाना है, भारत के अभिमान को बचाना है।

 

भारत की स्वतंत्रता को बचाना है, देश को दुर्व्यसन मुक्त बनाना है।

 

 

आओ मिलकर स्वदेशी अपनाये, भारत को फिर से विश्व गुरु बनाये।

 

इस भूमि ने अनगिनत महापुरुषो को दिया है जन्म, इस धरती पर देव भी जन्म लेकर हो जातें है धन्य।

 

भारत का गौरव वापस लाना है, भारत को फिर से विश्व गुरु बनाना है।

 

सबसे प्यारा है भारत हमारा, जहां है हर ओर स्वतंत्रता का उजियारा।

 

स्वतंत्रता के साथ भारत में हुआ था नवयुग का आरंभ, लोगो ने पाई खुशी हुई प्रगति प्रारंभ।

 

भारत वह देश है जहां हर धर्म को बराबर का सम्मान मिलता है।

 

भारत वह देश है जहां भारतीय गणतंत्र में सबको बराबरी का अधिकार मिलता है।

 

भारत में हर व्यक्ति को मिलता सम्मान, लोकतंत्र देता सबको गौरव और अभिमान।

 

भारत का लोकतंत्र है इसकी शक्ति, यह देता है सबको आजादी की अभिव्यक्ति।

 

भारत वह देश है जिसने विश्व को सभ्यता और योग का उपहार दिया है।

 

सम्बंधित जानकारी:

भारत पर निबंध

भारतीय संस्कृति पर निबंध

एक भारत श्रेष्ठ भारत पर निबन्ध

भारत के राष्ट्रीय पर्व पर निबंध

मेरे सपनों का भारत पर निबंध

भारत के विकास में विज्ञान की भूमिका पर निबंध

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

सुगम्य भारत अभियान पर निबंध

भ्रष्टाचार मुक्त भारत पर निबंध

भारत में आतंकवाद पर निबंध

भारत पर भाषण

स्वच्छ भारत पर भाषण