बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर स्लोगन (नारा)

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गयी थी। इस योजना का मुख्य मकसद बालिकाओ कि शिक्षा और लिगांनुपात की सुरक्षा सुनिश्चित करना है। इस योजना को सबसे कम लिंगानुपात वाले 100 जिलो से शुरु किया गया था, इस प्रयास के द्वारा समाजिक क्षेत्र में परिवर्तन लाने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास किया गया था।

ऐसे कई अवसर आते है जब आपको बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से जुड़े भाषणो, निबंधो या नारो की आवश्यकता होती है। यदि आपको भी बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से जुड़े ऐसे ही सामग्रियों की आवश्यकता है, तो परेशान मत होइये हम आपकी मदद करेंगे। हमारे वेबसाइट पर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से जुड़ी तमाम तरह की सामग्रियां उपलब्ध है, जिनका आप अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर नारा (Slogans on Beti Bachao Beti Padhao in Hindi)

हमारे वेबसाइट पर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के विषय के लिए विशेष रुप से तैयार किए गये कई सारे नारे उपलब्ध है। जिनका उपयोग आप अपने भाषणो या अन्य कार्यो के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते है। ऐसे ही अन्य सामग्रियों के लिए भी आप हमारे वेबसाइट का उपयोग कर सकते है।

 

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण के लिए यहा क्लिक करें

Unique and Catchy Slogans for Beti Bachao Beti Padhao in Hindi Language

 

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, देश को प्रगति के पथ पर लाओ।

 

बेटी है इसे तुम बोझ ना मानना, इसकी शिक्षा में कोई बाधा ना डालना।

 

कंधो से कंधा मिलाकर खड़ी हो गयी है, शिक्षा पाकर एक बेटी बड़ी हो गयी है।

 

छोटी सी उम्र में इन्हे ना ब्याहो, बेटी है यह इसे तुम पढ़ाओ-लिखाओ।

 

मेरी बेटी मेरा स्वाभिमान, पढ़ लिखकर एक करेगी रोशन मेरा नाम।

 

मेरी जीवन का आधार, मेरी बेटी मेरा संसार।

 

इस बार हमने ठाना है, बेटी को शसक्त बनाना है।

 

उनके जन्म पर खुशिया मनाओ, बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ।

 

यदि देश में बालिकाओ की शिक्षा नही सुनिश्चित की गयी तो देश का भविष्य अंधकारमय हो जायेगा।

 

 

देश को प्रगतिशील बनाना है, बेटियों को पढ़ाना है।

 

जीवन का है वह आधार, बेटी वह है जो सबके सपनो को करती साकार।

 

बेटी जब पढ़-लिखकर बड़ी हो जाती है, तरक्की की राह पर खड़ी हो जाती है।

 

इनकी है हर एक बात मनोहर, बेटियां है हमारी धरोहर।

 

नन्ही बच्चियां बिखेरती है अपनी मुस्कान, बाल विवाह करके ना करो इनका अपमान।

 

बेटिया है बेटो से कम नही, जीवन है इनका अपना दूसरो के दम पे नही।

 

एक दो नही करवाओ तुम बीसो कार्य, पर बिना पढ़ा-लिखाकर घर बैठाकर ना करो इनपर अत्याचार।

 

बेटिया पढ़ लिखकर हर बाधा को पार कर जाती है, अपने अच्चे कर्मो से अपने परिवार का नाम जगत में रोशन कर जाती है।

 

इनका मस्तक तुम ना झुकाओ, बाल विवाह जैसी कुरीति से इन्हे ना दबाओ।

 

जब देश में लड़किया साक्षर होंगी तभी देश प्रगति के मार्ग पर अग्रसर होगा।

 

नारी सशक्तिकरण का अर्थ तब सार्थक होगा, जब देश में कन्या भ्रूण हत्या पूर्ण रुप से बंद हो जायेगा।

 

लड़किया विकास का वह मार्ग है, जिनका निर्माण किए बिना विकास के लक्ष्य तक पहुचना असंभव है।

 

अगर हमें वास्तव में कन्या को पूजनीय बनाना है तो इन्हे शिक्षित बनाना होगा।

 

बेटियो को पढ़ा-लिखाकर शिक्षा व्याप्त करेंगे, समाज में फैली हर बुराई को समाप्त करेंगे।

 

देश की तरक्की को मिलेगा नया आयाम, जब बेटिया पढ़-लिखकर करेंगी रोशन देश का नाम।

 

ना जाने कितनो के जीवन को पूरा करती है, बेटी है वह जो समाज से अंधियारा दूर करती है।

 

वह छू सकती है हर आकाश, बेटी है वह अनमोल रतन बस जिसे शिक्षा की है तलाश।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

बेटी बचाओ पर भाषण

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

बेटी बचाओ पर निबंध

बेटी पर कविता