भारत पर स्पीच

भारत की गिनती पूरे विश्व के शक्तिशाली देशों में से एक के रूप में होती है। भारत हजारों सालों से  अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के साथ दुनिया भर के लोगों को ऐतिहासिक स्मारकों, गुफाओं, नदियों, घाटियों, उपजाऊ मैदानों, पहाड़ों और पहाड़ियों की सुन्दरता से आकर्षित कर रहा है। कई बार ऐसे अवसर आते हैं जब भारतीय होने की अनूठी, अविश्वसनीय भावना पर एक स्पीच (भाषण) देने की जरुरत पड़ती है। यहां हम आपको अपने दर्शकों के लिए एक प्रभावशाली स्पीच देने में मदद करने हेतु भारत पर कुछ भाषण उपलब्ध करा रहे हैं।

भारत पर स्पीच (स्पीच ऑन इंडिया)

भारत पर भाषण - 1

माननीय मुख्य अतिथि, माननीय उपराष्ट्रपति, आदरणीय प्रिंसिपल, सम्मानित शिक्षक, प्रशासन विभाग के सम्मानित स्टाफ और मेरे प्रिय साथी छात्र,

हर साल की तरह हम यहां हमारी आजादी का जश्न मनाने के लिए 15 अगस्त को इकट्ठे हुए हैं जिसे हमने 1947 में हासिल किया था। इस शुभ अवसर पर मुझे आप का स्वागत करने का विशेषाधिकार प्राप्त हुआ जिसे पाकर मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रहा हूं। हम सब जानते हैं कि हमने अपनी आजादी को कैसे हासिल किया है। हमारे देश के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं कि असली भारत क्या है?

आप सभी को स्वागत करने और हमारे महान देश के बारे में कुछ पंक्तियाँ कहने के लिए मुझे यह बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। भारत दुनिया में क्षेत्रफल के मामले में सातवां सबसे बड़ा और दुनिया में दूसरी सबसे अधिक आबादी वाला देश है। भारत दक्षिण एशिया में स्थित है और इसकी ब्रिटिश राज से स्वतंत्रता के बाद भारत के रूप में सार्वजनिक रूप से पुष्टि की गई थी।

भारत दुनिया के प्रमुख देशों में है और हर भारतीय को उसके इतिहास, संस्कृति, संघर्ष, धार्मिक महत्व और कई अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं के बारे में पता होना चाहिए।

भौगोलिक रूप से भारत में कई प्रकार की भूमि पाई जाती है। भारत में अत्यधिक ठंड से लेकर पूरे वर्ष चरम गर्मी तक सभी प्रकार की जलवायु पाई जाती है। उत्तरी और अन्य उत्तरी हिस्सों के पहाड़ी क्षेत्रों में यूरोप के कुछ हिस्सों जैसी समानता देखने को मिलती है। जहाँ भारत का दक्षिण क्षेत्र बहुत गर्म है वहीँ पश्चिम क्षेत्र अत्यंत नम है।

देश की सांस्कृतिक विरासत समृद्ध होने के साथ-साथ इसमें विविध संस्कृतियों का भंडार है। भारतीय सभ्यता पांच हजार वर्ष पुरानी है और विविधता में एकता के रूप में सबसे अनन्य पहलू प्रदान करती है।

भारत धर्मनिरपेक्षता में विश्वास करता है और यहां हर किसी को स्वयं पसंदीदा धार्मिक विश्वास का पालन करने की अनुमति है। यहां हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, इस्लाम, जैन धर्म, ईसाई धर्म और सिख धर्म जैसे विभिन्न धर्मों का पालन किया जाता है। यहां 22 आधिकारिक मान्यता प्राप्त भाषाएं तथा विभिन्न बोलियां भी बोली जाती है। विविधता केवल भाषा, धार्मिक विश्वास, नस्लीय रचनाओं आदि के संबंध में नहीं बल्कि जीवित, व्यावसायिक खोज, जीवन शैली, विरासत, उत्तराधिकार, प्रथाओं, जन्म और विवाह आदि के लिए प्रासंगिक अनुष्ठानों के संबंध में देखी जा सकती है।

भारत ने पिछले गुज़रे सालों में आर्थिक और सामाजिक मतभेद देखा है परन्तु फिर भी राष्ट्रीय एकता और सच्चाई के संदर्भ में किसी तरह का कोई समझौता नहीं किया गया। यह कारण है जिसने भारत की संस्कृतियों को अनन्य वर्गीकरण में बदल दिया है।

भारत ने शिक्षा, संगीत, नृत्य, यंत्र, कला, नाटक, थिएटर आदि के क्षेत्र में व्यापक मान्यता प्राप्त की है। यह न केवल भारत को विरासत और संस्कृति में समृद्ध बनाता है बल्कि रोजगार और शिक्षा के क्षेत्र में अवसर भी पैदा करता है। वास्तव में उच्चतर अध्ययन करने या खुद के लिए रोजगार के अवसरों को खोजने के लिए भी कई विदेशी भारत आते हैं।

अपने ऐतिहासिक स्मारकों, गुफाओं और पहाड़ों आदि के लिए प्रसिद्ध भारत पर्यटक केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। पूरे विश्व के लोग भारत को नज़दीक से जानने और अपनी छुट्टियां बिताने के लिए भारत की यात्रा करते हैं।

हालाँकि समृद्ध संस्कृति देश का मुख्य आकर्षण है पर भारत सैन्य शक्तियों, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में भी काफी आत्मनिर्भर है। हमारा देश आधुनिकता के साथ-साथ परंपरा का एक अनूठा मिश्रण है और यह हमारा कर्तव्य और जिम्मेदारी है कि हम देश की संस्कृति और सौंदर्य को बनाए रखें और हमारे कर्मों द्वारा इसकी प्रतिष्ठा वापिस लाए।

भारत पर भाषण - 2

सभी गणमान्य व्यक्तियों को मेरा नमस्कार,

प्रमुख अतिथि तथा सम्मानित अतिथियों का गर्मजोशी से स्वागत करते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है। आशा करता हूँ कि आज का दिन आपके जीवन के सबसे अच्छे दिनों में से एक हो।

क्या आप में से किसी ने कभी यह सोचा है कि विज्ञापनों में या हर जगह एक वाक्यांश के रूप में भारत को अतुल्य भारत के रूप में संबोधित किया जाता है? नहीं ना?

ठीक है। आज हम में से प्रत्येक की ओर से मैं भारत के बारे में बात करूंगा - हाँ, हमारा अविश्वसनीय भारत।

भारत को सबसे शक्तिशाली देशों में से एक माना गया है। इस देश की विभिन्न संस्कृतियों, जातियों, परंपराओं, व्यंजनों, लोगों आदि की वजह से इसे एक प्रसिद्ध सैलानी स्थल माना जाता है जो दुनिया भर के यात्रियों को आकर्षित करता है।

भारत की कई धर्मों, क्षेत्रों और जातीयताओं की अद्वितीय विविधिता के लिए प्रशंसा की जाती है जिसे हम सब 'विविधता में एकता' के रूप में जानते हैं जो बिल्कुल उपयुक्त शीर्षक है। इसके अलावा भारत तेजी से प्रौद्योगिकी, विज्ञान और साहित्य के क्षेत्र में भी लगातार प्रगति कर रहा है।

भारत में कई ऐसे खूबसूरत स्थल है जो आकर्षण का केंद्र हैं जैसे प्रसिद्ध मंदिर, मस्जिदें, चर्चों, गुरुद्वारें, नदियां, घाटियां, उपजाऊ मैदान, पर्वत श्रेणियां, स्मारक आदि। मेरे अनुभव के अनुसार हमारे देश की शांति किसी भी धर्म या देश से संबंध रखने वाले हर व्यक्ति की आत्मा को संतुष्ट करती है। यह देश एक केंद्र है जहां लोग होली, दिवाली, ईद, क्रिसमस आदि जैसे त्योहारों को अत्यंत खुशी और समर्पण के साथ मनाते हैं।

भारत में शैक्षिक रुझानों के बारे में बात करें तो लोग अब और अधिक शिक्षित होने की ओर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं ताकि वे देश की प्रगति के लिए अपना योगदान दे सकें। भारत में दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश बनने की ताकत है क्योंकि यह अकेला ऐसा देश है जहाँ इतनी विविधताओं से बावजूद एकता देखने को मिलती है।

इससे देश के लोगों के बीच आपसी सकारात्मकता बढ़ती जिससे लोग समाज की भलाई के लिए सही कदम उठाते है। असल में, भारत दुनिया में सबसे बड़ा लोकतंत्र है। भारत के सभी नागरिकों को विभिन्न मौलिक अधिकार दिए गए हैं। इस देश में डिजिटल भारत, स्वच्छ भारत जैसी कई बड़ी योजनाओं की शुरुआत की गई है।

भारत हमारी मातृभूमि है। यह हमारा कर्तव्य है कि हम हमारे देश की उन्नति और विकास के लिए दिन-प्रतिदिन प्रयास करें। ऐसा नहीं है कि हम अकेले व्यक्ति के रूप में योगदान नहीं कर सकते हैं। हम में से हर एक को नवीनतम तकनीक को समझने और एक जिम्मेदार नागरिक बनने के लिए शिक्षित होने की जरुरत है जो देश के सभी अच्छे पहलुओं का पालन करता है। अप्रत्याशित रूप से असीमित तरीके हैं जिससे हम अविश्वसनीय भारत की छवि को बनाए रख सकते हैं और अपना योगदान दे सकते हैं।

मेरे विचार का अगर निष्कर्ष निकाला जाए तो मैं यही कहना चाहूँगा कि मैं अपने देश भारत से प्यार करता हूं। मुझे गर्व है कि मैं इसकी विविधताओं का हिस्सा हूं जो इसे पूरी तरह से अविश्वसनीय बनाती है। सचमुच अतुल्य।

चलिए हम एक साथ कहते हैं कि 'हमें भारतीय होने पर गर्व है', हम अपने भारत को प्यार करते हैं और इस देश की प्रगति हेतु योगदान देने के लिए तैयार हैं। भारत एक ऐसा देश रहा है जिसे समृद्धि, अखंडता और शांति के अद्वितीय रंग विरासत में मिले हैं। एक भारतीय होने के नाते हमारी आत्मा को राष्ट्र के प्रति अधिक साहस और प्रतिबद्धता मिलती है।

धन्यवाद।

भारत पर भाषण - 3

माननीय मुख्य अतिथि, आदरणीय प्रधानाचार्य, सम्मानित उपाध्यक्ष, सम्मानित शिक्षकगण और मेरे प्रिय साथी छात्र!

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आज हम यहाँ गणतंत्र दिवस पर इकट्ठे हुए हैं और मैं यहां उपस्थित सभी लोगों को मेरी ओर से इस दिवस की बधाई देना चाहता हूं। अपने मुख्य अथिति और विद्यालय के छात्रों के समक्ष मैं अपने देश पर स्पीच देने का मौका पाकर खुद को बहुत सौभाग्यशाली महसूस कर रहा हूँ।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि 26 जनवरी का दिन हर भारतीय के जीवन में एक विशेष महत्व रखता है क्योंकि इस दिन जो आधुनिक भारत हम आज देख रहे हैं उसका जन्म हुआ था।

1950 में हमारे देश ने आधुनिकता का कानून अपनाया जिसे हम संविधान कहते हैं। आधुनिक भारत का सार गांधीजी द्वारा वर्णित चार मौलिक सिद्धांतों में है अर्थात लोकतंत्र, लिंग समानता, धार्मिक विश्वास की स्वतंत्रता और गरीबी से लिप्त लोगों के लिए आर्थिक विस्तार।

इस प्रकार भारत का अतीत काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा है लेकिन यह सभी राजनीतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अशांति समेत सभी से विजयी हुआ है जिसने उस समय देश को बहुत बुरी तरह से हिलाकर रख दिया था। हमें यह बताने की जरूरत नहीं है कि हमनें अपनी स्वतंत्रता हमारे देश के महान स्वतंत्रता सेनानियों जैसे गांधीजी, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस और चंद्रशेखर आजाद जैसे व्यक्तियों के कारण हासिल की है।

आज के समय में यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि भारत को दुनिया के प्रसिद्ध और समृद्ध देशों में से एक माना जाता है तथा भारतीयों के रूप में हमें भी अपने महान ऐतिहासिक, धार्मिक, सांस्कृतिक और भौगोलिक संपत्ति पर गर्व होना चाहिए जो अलग-अलग स्मारकों, कब्रों, इमारतों, मंदिरों आदि के रूप में पाए जाते हैं। इसमें ताजमहल, आगरा; हवा महल, जयपुर; विक्टोरिया मेमोरियल, कोलकाता; कुतुब मीनार, दिल्ली; हुमायूं का मकबरा, दिल्ली; स्वर्ण मंदिर, अमृतसर, बृहदिशवराम मंदिर, तंजावुर और ऐसे ही बहुत से स्थानों को शामिल किया गया है।

इसके अलावा भारत संस्कृति और परंपरा का जन्मस्थान है जो दुनिया भर में सबसे पुरानी सभ्यता होने के लिए प्रतिष्ठित है। "विविधता में एकता" मात्र एक वाक्यांश नहीं है बल्कि हमारे देश की समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं, अनुष्ठानों और रीति-रिवाजों का प्रतीक भी है। हम एक धर्मनिरपेक्ष देश हैं और सभी को अपनी धार्मिक मान्यताओं का पालन करने के लिए स्वतंत्रता दी गई है। हिंदू, ईसाई, इस्लाम, सिख, बौद्ध और जैन धर्म जैसे विभिन्न धर्मों के लोग यहां रहते हैं। भारत में 22 आधिकारिक तौर पर मान्यता प्राप्त भाषाएं हैं। विविधता केवल भाषा, धर्म या जाति के मामले में ही नहीं बल्कि उनके जीवन शैली, काम करने वाले व्यवसायों, अनुष्ठानों और जन्म और विवाह से जुड़े विश्वासों के मामले में भी देखी जाती है।

इन विविध परंपराओं, सांस्कृतिक और धार्मिक प्रथाओं के कारण ही हमारे देश की पहचान दुनिया के अन्य देशों से अलग बन चुकी है। हमारे अतीत में उतार-चढ़ाव होने के बावजूद हम प्रगति का जीवन जी रहे हैं जहां वैश्वीकरण और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए आविष्कारों ने हमें वैश्विक बाजार का हिस्सा बनने में सक्षम बना दिया है। जहां अन्य देशों के लोग हमारे भारतीय व्यंजनों को पसंद करते हैं वहीँ भारतीय खुद बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम करते हैं, अंतरराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा बनाए कपड़े पहनते है और लक्जरी कार चलाते हैं।

हम भी शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठ हैं और आज विदेशी व्यापार और वाणिज्य के लिए बाजार को आकर्षित करने के लिए भारत अनुभवी डॉक्टरों, इंजीनियरों, वैज्ञानिकों, तकनीशियनों आदि के सबसे बड़े आपूर्तिकर्ताओं में से एक के रूप में प्रतिष्ठित है।

इसलिए हम सभी को अपने देश के विकास और उपलब्धियों पर गर्व महसूस करना चाहिए और वैश्विक बाजार में अपने देश के हित को मजबूत करने के लिए जो कुछ भी हम कर सकते हैं उसमें योगदान करने के लिए प्रतिज्ञा करनी चाहिए।

धन्यवाद।


 

भारत पर भाषण - 4

आदरणीय प्रधानाचार्य, सम्मानित उपाध्यक्ष, सहकर्मियों और मेरे प्रिय छात्रों!

सभी को मेरा नमस्कार।

हालांकि हम सभी भारतीय हैं और जन्म से ही इस देश में रह रहे हैं लेकिन हम में से कितने लोग वास्तव में यह जानते हैं कि भारत क्या है? किस वजह से हमारा देश दुनिया के बाकी देशों से अलग हैं? हमारे देश की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक जीवन का अतीत क्या है? सवाल इतने सारे हैं लेकिन क्या हमारे पास जवाब है? शायद नहीं! इसके बाद हमें इस अवसर पर अपने देश और इसके समृद्ध ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और भौगोलिक विरासत के बारे में और जानना चाहिए ताकि जब जरूरत पड़े तो हम अपने युवा पीढ़ी और बाहरी लोगों को भी हमारे देश की महानता के बारे में सीखा सकें।

इससे पहले कि मैं शुरू करूँ, मैं हमारे देश के बारे में स्पीच देने की बड़ी जिम्मेदारी देने के लिए हमारे प्रिंसिपल को विशेष धन्यवाद देना चाहता हूं। सभी लोगों से अनुरोध है कि मेरे छात्रों के अलावा बाकी सब भी अपने विचारों को हमारे साथ साझा करने के लिए स्वतंत्र महसूस करें और अगर वे चाहें तो प्रश्न भी पूछ सकते हैं।

हमारा देश विशाल विविधता का देश है जहां विभिन्न जाति, पंथ, धर्म और सांस्कृतिक प्रथाओं के लोग रहते हैं। इस विविधता को भारतीय समाज में सामाजिक घृणा और अराजकता के रूप में नहीं बल्कि एक ऐसी विविधता के रूप में देखा जाता है जो हमारे समाज और राष्ट्र को संपूर्ण रूप में समृद्ध करती है। यहां 1.34 अरब से ज्यादा लोग रहते हैं। भारत, चीन के बाद दुनिया में दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला देश बन गया है। भारतीय संस्कृति की विविधता विभिन्न रीति-रिवाजों, भाषा, भोजन और कला के रूप में प्रतिबिंबित होती है। हमारे देश में ऊँचे पर्वत, विशाल समुद्र, असंख्य नदियों, विशाल खेती की भूमि, रेतीले रेगिस्तान और घने जंगल के रूप में एक संपन्न भौगोलिक परिदृश्य है - इन सभी ने असाधारण तरीके से भारत को सजाया है।

यह वाकई दिलचस्प है कि हमारे देश की एकता को राष्ट्रीय त्योहारों के माध्यम से देखा जा सकता है। जैसे गांधी जयंती, स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस जो स्पष्ट रूप से हमारे देश के अविभाज्य चरित्र को प्रदर्शित करते हैं। इन महोत्सवों को स्कूलों, विश्वविद्यालयों कॉलेजों, समाजों, कार्यालयों आदि सहित सभी भारतीय राज्यों में मनाया जाता है। स्वतंत्रता दिवस के दौरान हर भारतीय लाल किले से प्रधान मंत्री द्वारा दिए गए भाषण पर खुद को सौभाग्यशाली महसूस करता है।

वास्तव में कुछ अन्य त्यौहार भी हैं जो हम अपने धर्म और जाति-आधारित मतभेदों को पीछे छोड़ मनाते हैं जैसे दिवाली और होली।

भारत के समृद्ध सांस्कृतिक विविधता को भोजन के रूप में भी देखा जा सकता है। हमारे देश में खाना पकाने की शैली एक क्षेत्र से दूसरे तक भिन्न होती है। मसालों और जड़ी-बूटियों के प्रभावशाली वर्गीकरण के लिए भारतीय व्यंजन जाना जाता है। भोजन के साथ परोसी जा रही रोटी की भी विस्तृत विविधता है जिसमें नान, आटे के ब्रेड, फ्लैटब्रेड, ब्राउन ब्रेड, भठूरे आदि शामिल हैं जिसे उत्तर भारत में बहुत पसंद किया जाता है जबकि यदि आप दक्षिणी भारतीय क्षेत्र में जायेंगे तो आपको बजाए रोटी के चावल, उतपम, डोसा, इडली आदि जैसे व्यंजन खाने को मिलेंगे।

यह अंत नहीं है क्योंकि भारत का सार कई तरीकों से देखा जा सकता है और यह अलग-अलग धार्मिक प्रथाओं, भौगोलिक विविधता और खाद्य विविधता तक ही सीमित नहीं है। हम अपने देश की उल्लेखनीय स्थापत्य संपत्ति, कपड़े की शैलियों, आदि के बारे में बात कर सकते हैं।

इसलिए मैं कह सकता हूं कि हम इस महान भूमि के गौरवशाली भारतीय हैं और हमें हमारे देश को वैश्विक मंच पर प्रशंसा हासिल करने की प्रतिज्ञा करनी होगी।

जय हिन्द!!

धन्यवाद!

 

 

सम्बंधित जानकारी:

भारत पर निबंध

मेरे सपनों का भारत पर निबंध

एक भारत श्रेष्ठ भारत पर निबन्ध

स्वच्छ भारत पर भाषण

मेरा भारत पर कविता

भारत पर स्लोगन