एकता में बल है पर निबंध

एकता में बल है एक पुरानी कहावत है। आज के समय में भी यह कहावत उसी सच की तरह है जैसे यह पहले के ज़माने में होती थी। इसका मतलब है कि अगर हम एकजुट रहें तो हम मजबूत हो जाते हैं।

एकता में बल है एक आम तौर पर इस्तेमाल की जाने वाली कहावत है जिसका महत्व लगभग हर क्षेत्र में है - यह एक व्यक्ति के पेशेवर जीवन, संबंध या समाज को एक संपूर्ण रूप में दर्शाता है। यहां पर विभिन्न लम्बाई के एकता में बल है पर निबंध उपलब्ध कराए गए हैं। जब भी आपको आवश्यकता पड़े तो इस विषय पर अपनी सहायता के लिए आप अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी भी एकता में बल है पर निबंध को चुन सकते हैं:

Short and Long Essay on Unity is Strength in Hindi

एकता में बल है पर निबंध 1 (200 शब्द)

एकता में बल है एक कहावत है जिसे लगभग सभी ने सुना है। यह अक्सर छोटी कक्षाओं में नैतिक विज्ञान पाठ्यक्रम का एक हिस्सा होता है। इस कहावत का अर्थ सरल और गहरा है। हालांकि इसका मतलब यह है कि मजबूत बने रहने के लिए हमें एकजुट रहना चाहिए लेकिन इसका पालन करना आज की प्रतिस्पर्धी दुनिया में मुश्किल सा लगता है। विडंबना यह है कि कैसे हमें एकजुट रहना सिखाया जाता है पर फिर भी हमारे जीवन में हर कदम पर हमें एक-दूसरे के खिलाफ प्रतिस्पर्धा करने के लिए सिखाया जाता है।

“यूनियन इज़ स्ट्रेंथ”, “यूनाइटेड वी स्टैंड,डिवाइड वी फाल", "स्ट्रेंग्थ इज इन यूनिटी" जैसी कई संबंधित कहावतें अतीत में गढ़ी गई हैं। कई कहानियां भी यह बताने के लिए लिखी गई है कि कैसे एकजुट रहने और दूसरों के साथ सौहार्दपूर्ण रिश्तें बनाए रखने से शक्ति बनती है। जब हम एकजुट हो जाते हैं तो हम किसी भी चीज या किसी के साथ भी लड़ सकते हैं क्योंकि हम ज्यादा शक्तिशाली हो जाते हैं। दूसरी ओर अगर हम अपने पड़ोसियों, मित्रों और रिश्तेदारों से लड़ते हैं और लगातार यह साबित करने की कोशिश करते हैं कि हम उनके मुकाबले बेहतर हैं तो अंत में हम अकेले रह जाएंगे। यह तथ्य प्रत्येक संबंध के साथ-साथ हमारे व्यावसायिक जीवन के लिए भी सच है। जब हम एक टीम के रूप में काम करते हैं और एक-दूसरे की मदद करते हैं तो हम किसी भी परियोजना पर बेहतर तरीके से काम करने में सक्षम होते हैं। इसके विपरीत अगर हमारी टीम के भीतर ही संघर्ष होता है तो हम कमज़ोर पड़ सकते हैं।


 

एकता में बल है पर निबंध 2 (300 शब्द)

प्रस्तावना

हर स्थिति में एकजुट रहने के महत्व पर एक कहावत के माध्यम से ज़ोर डाला गया है - एकता में बल है। इसका उपयोग विभिन्न संगठनों के साथ-साथ पूरे विश्व में मिशन के लिए एक आदर्श कथन के रूप में किया गया है। हालांकि कई मामलों में शब्दों के अर्थ को थोड़ा बदला भी गया है लेकिन इसका मूल अर्थ एक ही है।

एकजुट रहने का महत्व

हम विभिन्न स्थितियों में एकजुट रहने के महत्व से इनकार नहीं कर सकते। ज्ञान के इन शब्दों में विश्वास करना और उनके अनुसार कार्य करना बेहतर जीवन बनाने में मदद करता है तथा उनकी अनदेखी करना कठिनाइयां पैदा कर सकता है। एक सामान्य सा उदाहरण एक पारिवारिक स्थिति हो सकती है। यदि एक परिवार में सभी सदस्य एकजुट होकर एक-दूसरे के साथ काम करते हैं तो उन सभी को इससे लाभ पहुंचेगा। हालांकि यदि वे प्रत्येक उदाहरण को एक दूसरे पर थोपते हैं और एक दूसरे पर अपनी विचारधारा और नियमों को लागू करने की कोशिश करते हैं तो वे कभी भी खुश नहीं होंगे। घर पर एक तनावपूर्ण माहौल बनाने के अलावा, जो बच्चों के विकास के लिए विशेष रूप से खराब है, इस तरह के एक दृष्टिकोण से बाहरी लोगों को स्थिति का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा।

 

अगर हम चारों ओर देखे तो वे परिवार, जहां लोगों का सम्मान किया जाता है और एक-दूसरे का ख्याल रखा जाता है, वे खुश होते हैं। बच्चों को एक स्वस्थ वातावरण मिलता है जो उनके विकास के लिए आवश्यक होता है तथा ऐसे परिवारों में वयस्क भी एक स्वस्थ जीवन जीते हैं। वे एक-दूसरे पर निर्भर रहते हैं और आनंद के साथ अपने सभी कर्तव्यों को पूरा करने की जिम्मेदारी लेते हैं। वे पालना, शिकायत या एक-दूसरे के खिलाफ षडयंत्र नहीं करते हैं। दूसरी ओर ऐसे परिवार जहां लोग एक-दूसरे के साथ खड़े नहीं होते हैं और दूसरों को नीचा दिखाने की कोशिश करते हैं वे न केवल अपनी जिंदगी को बर्बाद करते हैं बल्कि अपनी आने वाली पीढ़ियों को भी। ऐसे परिवारों के लोग अक्सर अकेला महसूस करते हैं और अपने आप को अवसाद में घिरा पाते हैं।

निष्कर्ष

यह सही समय है जब लोगों को एकजुट रहने और अपनी जिंदगी में एक स्वस्थ और सुखी जीवन जीने के महत्व को पहचानना चाहिए।


 

एकता में बल है पर निबंध 3 (400 शब्द)

प्रस्तावना

कहावत एकता में बल है का अर्थ है कि जब हम एकजुट रहेंगे तो हम मजबूत बने रहेंगे और लगभग किसी भी समस्या का सामना करने में सक्षम हो सकेंगे। दूसरी ओर अगर हम लड़ते रहेंगे और अपने स्वार्थीपन को दिखाते रहेंगे तो हम परेशानी में फंस जाएंगे।

एकता में बल है - संबंधित नीतियां

यह कहावत सदियों से चली आ रही है और इसका अभी भी व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। अगर हम इसके महत्व को समझते हैं और इसे अपने जीवन में लागू करते हैं तो हम अपने जीवन को बेहतर करने में सक्षम होंगे। कई प्रासंगिक कहावतें समय-समय पर उभर कर आई हैं। इनमें से कुछ इस प्रकार है "यूनियन इस स्ट्रेंग्थ", "यूनाइटेड वे स्टैंड, डिवाइडेड वी फाल", "स्ट्रेंग्थ लाइज इन यूनिटी", "यूनियन गिव्स स्ट्रेंग्थ" और "स्ट्रेंग्थ इस इन यूनिटी"। हालांकि इन सभी कहावतों के शब्दों में थोड़ा-थोड़ा अंतर है पर उनका अर्थ एक ही है। इस कहावत का अर्थ है कि जब हम एकजुट होते हैं तो हम ताकतवर हो जाते हैं बजाए अकेले चलने के जिससे हम कमजोर होते हैं।

इस कहावत को समझने के लिए कई छोटी-छोटी कहानियां भी लिखी गई हैं। इनमें से कुछ कहानियों में किसान और उसके बेटों, कबूतरों का झुंड और शेर और चार बैल की कहानियां शामिल हैं। इन सभी कहानियों की सीख "एकता में बल है"। इनमें से कई कहानियों को जूनियर कक्षाओं में हमें सिखाया गया है।

 

एकता में बल है - यह संकल्पना भूलती हुई प्रतीत होती है

जहाँ बच्चों को अपने स्कूल के दिनों के दौरान एकजुट रहने के महत्व को सिखाया जाता है वही उन्हें इसका अभ्यास करने के लिए सही तरह का पर्यावरण मुहैया नहीं कराया जाता है। आज की दुनिया में इतनी ज्यादा प्रतिस्पर्धा है कि लोग "एकता में बल है" की अवधारणा को भूल गए हैं। वे केवल सफलता के पीछे भाग रहे हैं और अपने साथियों को एक ही बाधा के रूप में देख रहे हैं। प्रतियोगिता स्कूल स्तर से ही शुरू होती है। उस समय जब बच्चों की परवरिश अच्छे नैतिक मूल्यों से की जानी चाहिए तो उस वक़्त उनके माता-पिता उनकी तुलना उनके सहपाठियों, चचेरे भाईयों और दोस्तों के साथ करने में व्यस्त रहते हैं। वे लगातार अपने बच्चों के बारे में सोचते हैं और दूसरों से आगे बढ़ने के लिए उन पर दबाव डालते हैं और इसलिए ये सभी बच्चे सिर्फ इसी बात के बारे में सोचते हैं कि उन्हें अपने साथियों से आगे बढ़ना है। अपने सहपाठियों और दोस्तों के साथ घुलने-मिलने की बजाए वे उन्हें अपने प्रतिद्वंद्वियों के रूप में देखते हैं और आगे बढ़ने के अवसरों की तलाश में रहते हैं।

समय के साथ यह रवैया मजबूत हो जाता है। कॉर्पोरेट कार्यालयों या अलग-अलग पेशों में इन दिनों सभी चीजों के लिए प्रतियोगिता बेहद कठिन हो गई है। यहां तक ​​कि अगर किसी परियोजना को एक टीम के सभी सदस्य सँभालते हैं तो सभी एक टीम के रूप में काम करने और उस पर ध्यान केंद्रित करने की बजाए क्रेडिट लेने की कोशिश करते हैं।

निष्कर्ष

ऐसी परिस्थितियां होती हैं जब हमें अकेले कार्य करने की आवश्यकता होती है और दूसरों को बेहतर प्रदर्शन करने के लिए सहायता करनी पड़ती है। हमें उस समय के दौरान तदनुसार कार्य करना चाहिए। हालांकि हमें दूसरों के प्रति प्रतिद्वंद्विता की भावना पैदा नहीं करनी चाहिए।


 

एकता में बल है पर निबंध 4 (500 शब्द)

प्रस्तावना

आज के समय में जहां हर व्यक्ति अपनी सारी शक्तियों का प्रयोग कर रहा है और शीर्ष पर पहुंचने के लिए हर विधि (निष्पक्ष या अनुचित) को लागू करता है तो बहुत कम लोग हैं जो इस नीति, "एकता में बल है" के महत्व को पहचानते हैं। यह केवल प्रेरक व्याख्यान और प्रेरणात्मक पुस्तकें तक ही सीमित है। बहुत कम लोग वास्तव में इसके महत्व को समझते हैं और अपने जीवन में इसे लागू करते हैं लेकिन जो लोग वास्तव में अधिक संतुष्ट हैं वे ही अपने जीवन के हर क्षेत्र में तृप्त है।

कहावत का उपयोग - एकता में बल है

इस कहावत का प्रयोग सदियों से कई स्थानों पर किया गया है। इसकी उत्पत्ति डच गणराज्य में हुई थी जहां इसे पहली बार उपयोग किया गया था। वर्तमान में हैती और बुल्गारिया के सशस्त्र बलों के राष्ट्रीय कोट में इसे लिखा गया है।

बेल्जियम ने 1830 के क्रांति के बाद अपने आदर्श वाक्य के रूप में इसका इस्तेमाल किया। अन्य देशों ने इस नीतिवर्ग का इस्तेमाल भूतकाल में अपने आदर्श वाक्य के रूप में किया है जिसमें ग्रीस, नीदरलैंड, कनाडा, जॉर्जिया, दक्षिण अफ्रीका गणराज्य, मलेशिया और संयुक्त राज्य शामिल हैं।

इस कहावत से संबंधित कहानियां

इस कहावत को समझाएं तो एक प्रसिद्ध कहानी किसान और उसके पुत्रों की है। यह किसान बहुत मेहनत कर रहा था। उसने अपने परिवार की सेवा करने के लिए दिन-रात काम किया। उसके पास चार पुत्र थे जो हमेशा एक-दूसरे के साथ झगड़े करते थे। किसान चिंतित था कि अगर वे एक दूसरे के खिलाफ ऐसे ही लड़ते रहे तो दूसरे आसानी से उसके बेटों की स्थिति का लाभ उठा लेंगे।

उन्हें एकजुट रहने के महत्व को समझने के लिए किसान ने उन्हें एक लकड़ी लाने के लिए कहा। किसान ने उस लकड़ी को दो भागों में तोड़ने के लिए कहा। उसके बेटों ने अपनी-अपनी लकड़ी आसानी से तोड़ दी। फिर किसान ने उन चार लकड़ियों के बंडल बनाने और इसे तोड़ने का प्रयास करने के लिए कहा। उनमें से हर एक ने बंडल को एक-एक कर तोड़ने की कोशिश की पर सभी असफल रहे। इसके बाद किसान ने समझाया कि जब हम एकजुट हो जाते हैं तो कैसे हम मजबूत हो जाते हैं। जब हम साथ होते हैं तो कोई हमें तोड़ नहीं सकता। दूसरी तरफ अगर हम एक दूसरे से लड़ते रहे और एक-दूसरे का समर्थन नहीं किया तो दूसरों के लिए हमें भावनात्मक रूप से, मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से तोड़ना आसान है। किसान के पुत्रों ने यह सबक समझ लिया और उसके बाद अपने पिता को एकजुट रहने का वचन दिया।

एक और प्रसिद्ध कहानी जो इस कहावत को अच्छी तरह से समझाती है वह है शेर और चार बैलों की। एक जंगल में चार बैल थे जो हमेशा एक समूह में चलते थे और एक साथ रहते थे। यही कारण था कि शेर उनका शिकार करने में सक्षम नहीं था हालांकि उसकी प्रबल इच्छा उन बैलों को खाने की थी। एक दिन एक लोमड़ी ने उनके खिलाफ षडयंत्र किया और उनकी दोस्ती तोड़ी जिसके बाद ये बैल अलग-अलग रहने लगे। वे भोजन की तलाश में अकेले घूमते थे और अलग-अलग रहते थे। शेर को इसके बारे में पता चला और उसने इस स्थिति का फायदा उठाया। शेर ने उनमें से हर एक को एक-एक करके अपना शिकार बनाया और अपने मिशन में सफल रहा। इससे स्पष्ट रूप से इस कहावत का सही अर्थ पता चलता है कि "एकता में बल है"।

निष्कर्ष

बच्चों को नैतिकता के पाठ के एक हिस्से के रूप में एकजुट होने के महत्व को सिखाया जाता है। हालांकि इसके महत्व अक्सर अनदेखी की जाती है। अगर हम अपने जीवन में इसका पालन करे तो दुनिया एक बेहतर जगह हो जाएगी।


 

एकता में बल है पर निबंध 5 (600 शब्द)

प्रस्तावना

एकता में बल है का अर्थ है कि यदि हम एक साथ खड़े हो तो हम हमेशा मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से मजबूत होंगे। जैसा कि मैटी स्टेपनेक ने बताया, "एकता ने शक्ति है ... जब टीमवर्क और आपसी सहयोग होता है तो अद्भुत चीजें प्राप्त की जा सकती हैं"।

एकता में बल है कहावत रिश्तों पर लागू होती है

इस दुनिया में लोग शक्ति और सफलता से इतने अंधे हो चुके हैं कि वे अपने रिश्तेदारों, सहयोगियों और दोस्तों से आगे रहना चाहते हैं। वे एक-दूसरे के साथ निजी और व्यावसायिक प्रतिद्वंद्विता में रहते हैं। वे यह नहीं समझ सकते कि यदि वे अपने ज्ञान को दूसरों के साथ साझा करते हैं और एक-दूसरे की मदद करते हैं तो वे आगे बढ़ सकते हैं और अपने कौशल को बढ़ा सकते हैं। जब हम अपने स्वयं के दल के सदस्यों के खिलाफ जाते हैं और कार्यालय में उनके साथ प्रतिस्पर्धा करना शुरू करते हैं तो अन्य टीमों या विभागों के लोग इस स्थिति से लाभ उठा सकते हैं।

अविश्वास एक और वजह है कि क्यों लोग अलग-थलग रहते हैं। यह तथ्य विशेष रूप से तब सच होता है जब एक पति और पत्नी के रिश्ते की बात आती है जहाँ जोड़े अक्सर एक-दूसरे पर संदेह करते हैं। वे छोटी-छोटी चीजों के लिए एक दूसरे से सवाल करते हैं और धोखाधड़ी या झूठ बोलने का संदेह करते हैं। कई बार बाहरी लोग इस स्थिति का लाभ उठाते हैं। वे संदेह को बढ़ावा देते हैं और अपने स्वयं के स्वार्थी उद्देश्यों को पूरा करने के लिए दोनों के बीच संघर्ष उत्पन्न करते हैं। इसका न केवल पति-पत्नी पर बल्कि उनके बच्चों पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यदि पति और पत्नी एकजुट रहें और एक-दूसरे की रक्षा करें तो कोई भी उनके बीच दरार पैदा कर नहीं कर सकता है।

कई परिवारों में भाई और बहन एक दूसरे से लड़ते हैं और अपने बीच शत्रुता को जन्म देते हैं। आगे जाकर यह अक्सर संपत्ति या परिवार के व्यवसाय के विभाजन को जन्म देता है। ऐसे मामले में बाहरी लोग स्थिति का लाभ उठाते हैं और संपत्ति के एक बड़े हिस्से पर कब्ज़ा कर लेते हैं। यदि भाई-बहन एकजुट हो जाते हैं तो वे अपने संयुक्त प्रयासों और कौशल के साथ व्यापार को बेहतर बनाने में सक्षम होंगे।

संस्थाओं और राष्ट्रों पर भी एकता में बल है लागू होता है

इस कहावत न केवल पेशेवर और व्यक्तिगत संबंधों पर बल्कि पूरे समाज और राष्ट्र पर भी लागू होती है। ऐसे इलाके और समाज जहां लोग एकजुट रहते हैं उन्हें सब प्यार करते हैं। इन क्षेत्रों के लोग मुस्कुराहट के साथ अपने पड़ोसियों से मिलते हैं, संकट में एक-दूसरे की मदद करते हैं, जब पड़ोसी घर पर ना हो तो वे अपने पड़ोसी के घर की रक्षा करते हैं और हमेशा एक दूसरे की मदद के लिए तैयार रहते हैं। वे सभी कार्यों का जश्न एक साथ मनाते हैं और कुछ अन्य सामाजिक समारोहों का आयोजन करते रहते हैं। आज के समय में जब अधिकांश लोग अकेलेपन और अवसाद से पीड़ित हैं तो ऐसा पड़ोस एक वरदान साबित हो सकता है। यह बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए भी अच्छा है जो अक्सर एकल परिवार प्रणाली में अकेला महसूस करते हैं। ऐसी संस्थाओं में चोरी और डकैतियों की संभावना भी कम होती है। यही बात देश के सन्दर्भ में भी लागू होती है। अगर हम आपस में अपनी छोटी-छोटी बातों की वजह से लड़ना बंद कर देते हैं तो हम एक राष्ट्र के रूप में कभी भी मजबूत नहीं हो सकते हैं।

इसी तरह दुनिया भर के विभिन्न राष्ट्र एक दूसरे के साथ संघर्ष कर रहे हैं ताकि यह साबित कर सके कि वे एक-दूसरे से बेहतर हैं। आज हर राष्ट्र के पास परमाणु हथियार हैं इसलिए कई आतंकवादी संगठन गठित हो गए हैं और इतने सारे भ्रष्ट लोग एक दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। लोग लगातार भय में जी रहे हैं। अगर हम इन सभी बुरी प्रथाओं को रोकते हैं और एकजुट हो जाते हैं तो दुनिया जीने के लिए बेहतर जगह बन जाएगी।

भारत का स्वतंत्रता संग्राम एक उपयुक्त उदाहरण है

भारत की स्वतंत्रता संग्राम "एकता में बल है" के सर्वोत्तम उदाहरणों में से एक है। ब्रिटिश सरकार ने भारत में अपनी पकड़ को मजबूत करने के लिए विभाजन और नीति की युक्ति का इस्तेमाल किया लेकिन देश के नागरिक जल्द ही इस हेर-फेर की रणनीति को समझ गए है। वे सभी एक साथ खड़े हुए और अंग्रेजों को देश से बाहर कर दिया।

निष्कर्ष

इस तथ्य के बारे में कोई संदेह नहीं है कि हमारी ताकत एकता में निहित है। अतीत में कई कहानियों और साथ ही वास्तविक जीवन की घटनाओं ने भी यह साबित कर दिया है। हमें एकता के मार्ग का पालन करना चाहिए।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

एकता पर भाषण

राष्ट्रीय एकता पर भाषण

विविधता में एकता पर भाषण

एकता में बल है पर भाषण

विविधता में एकता पर निबंध

एकता में अटूट शक्ति है पर निबंध

धर्म एकता का माध्यम है पर निबंध

राष्ट्रीय एकता पर स्लोगन