क्या आप भी अपने पार्टनर के बदलते मिजाज़ से जूझ रहे हैं - जानें, कैसे निपटें (How to Deal with Wife’s Mood Swings)

मनःस्थिति में तेजी से हो रहे बदलाव को बदलते मिजाज के रूप में संबोधित किया जा सकता है जब कोई व्यक्ति अचानक कुछ दिनों के लिए अति प्रसन्न महसूस करता है और उदास भी हो जाता है। एक दो-धुरी वाली मनःस्थिति जब हम उनके व्यवहार की भविष्यवाणी नहीं कर सकते, तो उसे मनःस्थिति में बदलाव के रूप में कहा जा सकता है। सामान्यतः इसे मनोदशा में तेजी से बदलाव के रूप में परिभाषित किया गया है। कभी-कभी इनका होना ठीक है, लेकिन किसी भी इस तरह की भावना का अधिक मात्रा में होना मनोदशा विकार का कारण बनती है।

इसकी गंभीरता के आधार पर, आमतौर पर यह हल्के और मध्यम श्रेणी वाली भावनाओं के बीच होता है। कुछ घंटों की वैद्यता के आधार पर जिसे 'अल्ट्रापैरिड' के नाम से पुकार सकते हैं से लेकर कुछ दिनों के लिए जिसे 'अल्ट्रॉडियन' के नाम से जाना जाता है और जब यह विकार चार दिनों या एक सप्ताह तक लगातार होता है, तो इसे दो-धुरी विकार के रूप में जाना जाता है। इसलिए, हम इसका बढ़ाये हुए समयावधि के रूप में निष्कर्ष निकाल सकते हैं जब आपके पास ग्लानी और उत्साह दोनों की भावना होती है तब यही बदलता हुआ मिजाज होता है।

अपने पति या पत्नी के बुरे मनोदशा को प्रबंधित करने के लिए 6 सर्वश्रेष्ठ तरीके (6 Best Ways to Manage your Spouse’s Bad Moods)

कभी-कभी जब मानसिक विकार नहीं होता है तो बदलते मिजाज का इलाज करना बेहद कठिन हो जाता है। ये या तो अत्यधिक सोचने या फिर किसी प्रकार के तनाव या परिस्थितियों के कारण हो सकता है। यह सामान्य है, इसलिए हमेशा मामले को सुलझाने की कोशिश करें और इलाज कराने की बजाय अनावश्यक तनाव से बचें। बदलता मिजाज बेहद आम बात हैं और हमने नीचे कुछ घरेलू उपायों पर चर्चा की है। अपनी पत्नी को अच्छे स्वास्थ्य के लिए रोजाना अभ्यास करने में मदद करें और अच्छे स्वास्थ्य से स्वतः ही बदलते मिजाज का प्रतिशत कम हो जाएगा।

1. एक स्वस्थ आहार की आदत डालें

एक संतुलित आहार आपके शरीर को फिट रखता है और आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है और एक स्वस्थ शरीर स्वतः ही अचानक होने वाले मनोदशा विकार की संभावना को कम कर देता है। इसलिए हमेशा संतुलित आहार लेने का प्रयास करें जिसमें आवश्यक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, मिनिरल्स, विटामिन, आदि शामिल हों।

यह आपके शरीर में रक्त शर्करा की मात्रा होती है जो आपके मनोदशा को बर्बाद करती है, इसलिए दिनभर में कम-कम मात्रा में भोजन करने की कोशिश करें। यह निश्चित रूप से आपको मानसिक विकारों से निपटने में मदद करेगा।

2. तनाव से बचें

या तो वह अपने कार्यस्थल या फिर अपने घर को लेकर चिंतित हो सकते है, हमेशा उसे तनाव मुक्त रखने की कोशिश करें। यह तभी संभव है जब आप उसे दूसरे काम में व्यस्त रखते हैं, जहाँ वह खुद का ध्यान बदल सके या तनाव से मुक्ति पाने के कुछ और तरीके आजमा सकते है जैसे :

  • संगीत सुनाएँ: संगीत में उपचार करने की काफी ज्यादा शक्ति होती है और यह एक आदर्श औषधि के रूप में काम करती है जिससे आप सकारात्मक महसूस करते हैं। इसलिए, जब कभी भी आप कितने भी तनावग्रस्त क्यों न हो, तब आप कुछ धीमे धुन वाले संगीत सुनाने की कोशिश करें, ये निश्चित रूप से आपकी मदद करेंगे।
  • ध्यान के द्वारा: यह आपको शांत रहने और आपको तनाव मुक्त बनाये रखने में मदद करता है। श्वास व्यायाम आपके मस्तिष्क को आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन प्रदान करते हैं और यह आपको ताज़ा और तनाव मुक्त महसूस कराता है।
  • मसाज थैरेपी आजमा सकते हैं: उसे सिर और शरीर पर हल्का मसाज दें। मालिश तनाव को कम करता है और एक व्यक्ति को तरोताजा और आराम का एहसास कराता है।
  • उससे बात करें: एक पति हमेशा अपनी पत्नी का सबसे अच्छा दोस्त होता है और वह अपने सभी रहस्यों को उसके साथ साझा कर सकती है, इसलिए उसके साथ बातचीत करने की कोशिश करें और उन खूबसूरत यादों के बारे में बात करें जो आप दोनों ने साथ बिताये हैं और कुछ भविष्य की योजनाएं या फिर यदि संभव हो, तो कोशिश करें उसके तनाव के पीछे का कारण जानने की। यह तनाव को प्रबंधित करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है।

3. व्यायाम का अभ्यास करें

उचित व्यायाम उसके शरीर को चुस्त-दुरुस्त बनाएगा और यह उसे तनाव मुक्त सकारात्मक जीवन जीने में भी मदद करेगा और यह स्वतः ही उसके बदलते मिजाज से निपटने में मदद करेगा।

4. एक अच्छी नींद लें

सात से आठ घंटे की एक अच्छी नींद उसे तनाव मुक्त रख सकती है और इसके साथ साथ उसे कई प्रकार की बीमारियों से भी बचा सकती है और यह बदलते मिजाज के लिए सबसे अच्छी दवा है। जब कोई व्यक्ति उचित नींद लेता है, तो वह आराम और ताजगी महसूस करता है, जो उसके व्यवहार में सकारात्मक दृष्टिकोण लाता है। इसलिए हमेशा यह सुनिश्चित कर लें कि आपकी पत्नी को पर्याप्त नींद मिले।

5. कैफीन पेय से बचें

किसी भी तरह का पेय जिसमे कैफीन या चीनी आदि हो उसका सेवन आपके रक्त में शुगर के स्तर को बढ़ा सकता है और यह अवसाद के रोगी के लिए बेहद हानिकारक होता है, यह स्थिति को बदतर बना सकता है। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि शराब सहित ऐसे किसी भी प्रकार के पेय के सेवन से बचना चाहिए। जैसा कि हम जानते हैं कि अवसाद बदलते मिजाज का एक परिणाम होता है।

6. कभी भी उसे अकेला न छोड़ें

जब आप अपनी पत्नी के मिजाज को बदलते हुए देखते हैं, तो उसके साथ ज्यादा वक़्त बिताने की कोशिश कीजिये और उसके साथ रहिये, उससे बात कीजिये या उसके साथ कोई गेम खेलिए या साथ में टीवी भी देख सकते हैं। यह सब उसे व्यस्त रखेगा और वह केंद्रित रहेगी और खुश रहेगी। इससे मिजाज बदलने की संभावना कम हो जाएगी।

मिजाज बदलने के कारण (Reasons behind Mood Swings)

  • दवाओं का इस्तमाल: एंटीबायोटिक्स के उपयोग से आपके शरीर में कुछ भावनात्मक विकार पैदा हो सकते हैं और वे बदलते मिजाज की वजह बन सकते हैं। कभी-कभी यह कुछ हफ्तों तक रह सकता है और एक गंभीर स्थिति पैदा कर सकता है।
  • शराब का इस्तमाल: हालाँकि शराब हानिकारक है फिर भी लोग इसका सेवन करते हैं और लगातार करते हैं, यह आपके मनःस्थिति को भी उत्तेजित करता है और मिजाज को बदल देता है।
  • सोने का तरीका: कभी-कभी अनिद्रा के कारण या उनके नींद के तरीके में किसी प्रकार के बदलाव होने के कारण लोग अजीब तरीके से प्रतिक्रिया करना शुरू कर देते हैं, जिसे मिजाज में बदलाव के रूप में जाना जाता है।
  • आत्म-सम्मान: आमतौर पर, यह देखा गया है कि जब हम उपेक्षित महसूस करते हैं या अपने परिवार में या दोस्तों के बीच अपना महत्व खोने लगते हैं, तो यह हमें नकारात्मकता की ओर ले जाता है और मिजाज के बदलने का कारण बनता है।
  • ऊर्जा: आमतौर पर एक महिला अपने शरीर की संरचना की वजह से अपने ऊर्जास्तर में उतार-चढ़ाव को महसूस कर सकती है और संभवतः यह उसके बदलते मिजाज की एक वजह हो सकती है।
  • आहार: एक अस्वास्थ्यकर या अनुचित आहार या कभी-कभी हमारे भोजन को छोड़ने की वजह से भी हमारे मिजाज में बदलाव आ सकता है क्योंकि जब हम लंबे समय के बाद भोजन करते हैं, तो हम एक बार में बहुत अधिक शर्करा का सेवन करते हैं और इससे हमारे शरीर में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है और यह भी मिजाज बदलने का एक कारण हो सकता है।

आपके मिजाज बदलने के पीछे कुछ अन्य प्रमुख कारण हो सकते हैं जैसे आपका तंत्रिका तंत्र स्वास्थ्य, किसी भी प्रकार का रोग, हार्मोनल असंतुलन या आपकी जीवन शैली या किसी भी प्रकार का मस्तिष्क विकार (द्विध्रुवी विकार और अवसाद) भी हो सकता है।

मिजाज बदलने के मुख्य वजह (Major Conditions Causing Mood Swings)

1. ध्यान अभाव सक्रियता विकार (Attention deficit hyperactivity disorder)

यह एक तरह का मानसिक विकार है जो 6 महीने तक रहता है और वक़्त से पहले होने वाले व्यवहार से संबंधित होता है जो उम्र के अनुसार नहीं होता है। आमतौर पर, इस प्रकार के विकार का सामना करने वाले बच्चे ध्यान देने में असमर्थता जैसी समस्या का सामना करते हैं जो स्कूल में उनके परिणामों में खराब प्रदर्शन की ओर जाता है। इस विकार के लक्षण लड़कियों में लड़कों से अलग हो सकते है, हालाँकि यह ज्यादातर लड़कों में देखा जा सकता है। लगभग 50% लोगों ने बच्चों को इस प्रकार के विकार को अपने वयस्कता में ले जाते हुए देखा है। इस विकार में, वयस्क अतिसक्रिय महसूस कर सकते हैं।

लक्षण

कुछ प्रमुख लक्षण उस प्रकार से हैं -

  • जब कोई व्यक्ति अपनी गतिविधियों को जल्दी-जल्दी बदलता है या जल्दी ही ऊब जाता है।
  • चीजों को व्यवस्थित करने या किसी कार्य पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं हो पाना।
  • चीजों को समझने में कठनाई होना या आसानी से विचलित हो जाना।
  • ऐसा लगता है कि आप बेहद ऊर्जावान है मगर एक ही जगह पर लम्बे समय तक बैठे रह पाना मुश्किल लगता है।
  • बिना रुके बात करता है और अधीर महसूस करना।
  • वयस्कों में, बेचैन मन कुछ आपराधिक गतिविधियों को जन्म दे सकता है।

जिम्मेदार कारक : वातावरण, समाज, परिस्थितियाँ आदि।

इलाज : कुछ उपचार, उचित आहार और ध्यान के द्वारा।

2. आत्मकेंद्रित (Autism)

एक प्रकार का मनोदशा विकार जो ज्यादातर बच्चों में देखा जाता है, यह चुपचाप कई वर्षों तक रहता है और कुछ वर्षों के बाद इसका पता चल पाता है। इस तरह के विकार में, एक बच्चे को बातचीत करने और सामाजिक संपर्क में कठिनाई महसूस होती है। मस्तिष्क में सूचना देने का काम इस मनोदशा विकार की वजह से प्रभावित होता है।

फिलहाल इसके पीछे का कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है, लेकिन यह देखा गया है कि गर्भावस्था के दौरान माता-पिता का तनाव, शराब का सेवन, वातावरण में प्रदूषण, संक्रमित भोजन का सेवन, किसी भी प्रकार की बीमारी जैसी बातों को मिजाज में बदलाव के लिए जिम्मेदार बताया जा सकता है।

लक्षण

यह केवल एक ही तरह के व्यवहार से निर्धारित नहीं किया जा सकता है, इसलिए हम इस प्रकार के मानसिक विकार का पता लगाने के लिए निम्न व्यवहार पर विचार करते हैं-

  • सिमित दिलचस्पी।
  • वे खुद को और अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में सक्षम नहीं होते हैं।
  • वे सामाजिक संपर्क के लिए अच्छी तरह से सक्षम नहीं हैं।
  • दोहराव वाला व्यवहार होना।
  • उचित संचार कौशल का अभाव।
  • संवेदनशील असामान्यताएं प्रमुखता से देखी जा सकती हैं।
  • नींद की समस्या।

जिम्मेदार कारक : गर्भावस्था के दौरान किसी भी प्रकार का संक्रमण, जैसे कि रूबेला, वायु प्रदूषण, ऑटोइम्यून रोग, कोकीन का सेवन, गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन, आदि।

इलाज : इसका कोई विशेष इलाज नहीं है; उनमें कुछ बदलाव लाने के लिए विभिन्न प्रकार की थेरेपी, ध्यान, आदि से कोशिश करते हैं।

3. दोध्रुवी विकार (Bipolar Disorder)

इसे 'उन्मत्त अवसाद' के रूप में भी जाना जाता है। किसी भी चीज की अधिकता को उन्माद और हाइपोमेनिया कहा जा सकता है। किसी भी भावना की अधिक मात्रा अवसाद और मिजाज में तेजी से बदलाव का कारण बन सकती है। आम तौर पर, मनोविकृति सामान्य मामलों में अनुपस्थित होता है और उन्माद के दौरान, एक व्यक्ति या तो बहुत खुश या फिर उदास और चिड़चिड़ा हो जाता है। जबकि अवसाद नकारात्मकता विकसित करता है और लोग निराशाजनक महसूस करते हैं और वे आमतौर पर रोते हैं। इस मामले में आत्महत्या का जोखिम काफी ज्यादा बढ़ जाता है। अगर इलाज न किया जाए, तो यह 3 से 6 महीने तक रह सकता है। इसमें शामिल विभिन्न प्रकरण इस प्रकार से हैं -

लक्षण

  • एक ही बार में कई तरह के विचार रखना।
  • बहुत तेजी से बोलना।
  • मानसिक विशेषताओं का अभाव।
  • निराश महसूस करना।
  • बहुत ज्यादा सोना
  • मौत या आत्महत्या के विचार आना।

जिम्मेदार कारक : आनुवंशिक, पर्यावरणीय कारक, न्यूरोलॉजिकल (किसी भी प्रकार की चोट जैसे स्ट्रोक, मस्तिष्क की चोट, आदि)।

इलाज : मनोचिकित्सा, मनोदशा स्थायीकरण, अवसादरोधी, एंटीसाइकोटिक्स आदि।

4. मिर्गी (Epilepsy)

यह एक प्रकार का आपके मस्तिष्क में होने वाला परिवर्तन है, जो तंत्रिका संबंधी विकार के एक समूह से संबंधित है और यह लंबे समय तक मौजूद रह सकता है। इस तरह का विकार मस्तिष्क के कार्टेक्स में असामान्य न्यूरोनल गतिविधियों के कारण होता है, जहां मस्तिष्क कुछ सेकंड से मिनटों तक बंद हो जाता है।

यह विभिन्न प्रकार का होता है जो रोगी की उम्र के अनुसार और उसके मस्तिष्क के हिस्से के आधार पर होता है। इसे दीर्घकालिक जोखिम के रूप में भी निर्धारित किया जाता है।

लक्षण

  • सिरदर्द या माइग्रेन।
  • बोलने में कठिनाई।
  • थकान।
  • कुछ असामान्य व्यवहार।
  • अचानक प्रहार होना।

जिम्मेदार कारक : इस विकार का मुख्य कारण अभी भी अज्ञात हैं लेकिन कुछ ऐसे कारक हैं जिनपर विचार किया जा सकता है, वे हैं, किसी प्रकार की मस्तिष्क की चोट, ब्रेन ट्यूमर, जो जन्म के समय से है, मस्तिष्क में किसी प्रकार का संक्रमण, आदि।

इलाज : सर्जरी, आहार में परिवर्तन, न्यूरोस्टिम्यूलेशन आदि।

महिलाओं में मिजाज के बदलाव के कुछ मुख्य कारण (Some major Causes of Mood Swings in Females)

1. तनाव

  • इसे आप मुख्य वजहों में गिन सकते हैं। यह कई वजहों से हो सकता है और उनमें से एक आपका स्वास्थ्य हो सकता है। जब कोई व्यक्ति अस्वस्थ होता है, तो वह थका हुआ महसूस करता है और आसानी से किसी भी बात से चिढ़ जाता है और जिसकी वजह से तनाव हो सकता है जो मिजाज में बदलाव का अनुसरण करता है।
  • कभी-कभी ऐसी परिस्थितियां होती हैं जो तनाव को और भी ज्यादा भड़काने का काम करती हैं।

2. प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS)

90% से अधिक महिलाएं अपने पीरियड्स से पहले ही अवसाद, थकान, सिरदर्द, मरोड़ और मिजाज में बदलाव महसूस करती हैं। यह स्वतः ही एक सप्ताह में सामान्य हो जाता है। एस्ट्रोजन हार्मोन के नाटकीय वृद्धि और कमी इस तरह के मिजाज के कारणों में से एक माने जाते है।

3. गर्भावस्था

  • गर्भावस्था के दौरान, उनका शरीर एक बच्चे के विकास के लिए विभिन्न तरह के हार्मोन्स का उत्पादन करता है और हार्मोनल असंतुलन मिजाज में बदलाव का कारण हो सकता है।
  • जबकि कभी-कभी महिलाएं गर्भावस्था के दौरान या इसके बाद तनावग्रस्त और उदास महसूस करती हैं, जिससे मिजाज परिवर्तन होता है।

4. दवाओं का सेवन

तरह-तरह की दवाइयों का सेवन कभी-कभी तनाव और अनचाही चिंता को बढ़ा देता है और आप अवसाद में चले जाते हैं। विशेष रूप से स्टेरॉयड, जो आपके मिजाज में बदलाव को बढ़ा सकता है और आपको अपने द्विध्रुवी गतिविधियों के लिए उकसाता है। यह आपको लंबे समय तक जगाए रखता है जो आपके बदलते मिजाज को और भी ज्यादा भड़काता है।

5. हार्मोनल परिवर्तन

कुछ हार्मोनल थैरेपी और हाइपरथायरायडिज्म जैसी बीमारियों की वजह से, हमारे शरीर को हार्मोनल संतुलन में कुछ वृद्धि और गिरावट महसूस होती है और इससे मिजाज में बदलाव होता है। हम एक ही समय में परेशान और उदास महसूस कर सकते हैं। हाइपरथायरायडिज्म के मामले में, थायरॉयड ग्रंथि, जरूरी मात्रा में हार्मोन का स्राव नहीं करती है।

6. मेनोपोज

जीवन का वह चरण जब एक महिला अपने मासिक धर्म को खो देती है और तब वह गर्भवती नहीं हो सकती है। यह ओवुलेशन कार्य के नुकसान की वजह से होता है और जीवन का यह चरण महिलाओं के शरीर में बहुत सारे बदलाव लाता है जिससे अनावश्यक तनाव और उसके मिजाज में बदलाव हो सकता है। ऐसे में, यदि कोई महिला बहुत सारे बदलावों का अनुभव करती है, तो उसे निश्चित रूप से किसी चिक्तिसक से मिलना चाहिए।

7. मनोभ्रम

मस्तिष्क के क्षतिग्रस्त होने पर मन की वह स्थिति जब लोग अपनी पिछली और पुरानी यादों को भूल जाते हैं। मन की इस स्थिति में, एक व्यक्ति निराश, विचारशील और अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में सक्षम नहीं होता है, उसे अजीब लगता है और इससे उसके मिजाज में परिवर्तन होता है।

8. किशोरावस्था

जीवन का एक चरण जब एक लड़की, महिला में बदलती है और इसकी वजह से उसके जीवन में बहुत सारे बदलाव आते हैं, जहां वह कुछ शारीरिक और भावनात्मक बदलाव महसूस करती है। इससे ढेर सारी भावनायें भी आती है और हम इस उम्र में मिजाज में बदलाव देख सकते हैं।

निष्कर्ष

मिजाज में बदलाव एक आम बात है और ऐसा करीब करीब हर महिला में देखा जा सकता है। इसलिए, चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, हाँ यह कुछ मामलों में संवेदनशील और गंभीर हो जाता है जब आप कुछ खास दवाओं को ही प्राथमिकता देती हैं। आमतौर पर एक महिला अपने जीवन के कुछ चरणों में मिजाज में बदलाव महसूस कर सकती है। एक साथी होने के नाते आप हमेशा उसके साथ रहें ताकि हाइपर डिप्रेशन जैसे मामलों से बचा जा सके। उसे प्रेरित और ऊर्जावान बनाए रखें। उसे अपने जीवन में हासिल करने के लिए कुछ निश्चित लक्ष्य दें, इस तरह वह खुद को व्यस्त रख सकती है और एक खुशहाल और स्वस्थ जीवन जी सकती है। मिजाज में बदलाव की सबसे खराब स्थितियों के दौरान वास्तव में उचित उपचार और देखभाल की आवश्यकता होती है। अपनी पत्नी का ख्याल रखें क्योंकि उसके जीवन में सबसे ज्यादा जरूरत आपकी है।