बाल मजदूरी पर स्लोगन (नारा)

वर्तमान में प्रगतिशील भारत के लिए बाल मजदूरी एक गंभीर समस्या का विषय है। यह ना सिर्फ देश की तरक्की के लिए बाधक है बल्कि मानवता और देश के लिए भी अपमानजनक है, क्योंकि बाल्यकाल मजदूरी करने का समय नही होता है। यह समय बच्चों के जीवन का आधार स्तंभ होता है, जिस दौरान उन्हें शिक्षा और स्नेह की आवश्यकता होती है, ताकि वह अपने आगे के जीवन में तरक्की प्राप्त कर सकें।

बाल मजदूरी पर निबंध के लिए यहां क्लिक करें

बाल मजदूरी पर नारा (Slogans on Child Labor in Hindi)

ऐसे कई अवसर आते हैं जब आपको बाल मजदूरी से जुड़े भाषणों, निबंधो या स्लोगन की आवश्यकता होती है। यदि आपको भी बाल मजदूरी से जुड़े ऐसे ही सामग्रियों की आवश्यकता है तो परेशान मत होइये हम आपकी मदद करेंगे।

हमारे वेबसाइट पर बाल मजदूरी से जुड़ी तमाम तरह की सामग्रियां उपलब्ध हैं, जिनका आप अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते हैं।

हमारे वेबसाइट पर बाल मजदूरी के प्रति विरोध प्रदर्शित करने के लिए विशेष रुप से तैयार किए गये कई सारे स्लोगन उपलब्ध हैं। जिनका उपयोग आप अपने भाषणों या अन्य कार्यों के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं।

ऐसे ही अन्य सामग्रियों के लिए भी आप हमारे वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं।

Unique and Catchy Slogans on Child Labor in Hindi Language

 

बाल मजदूरी एक व्यापार है, बचपन में खेलना बच्चों का अधिकार है।

 

बाल मजदूरी एक व्यापार है, बचपन में खेलना बच्चों का अधिकार है।

 

बाल मजदूरी है मानवता पर कलंक, इसे रोककर बनाओ समाज को अकलंक।

 

बाल मजदूरी है मानवता पर कलंक, इसे रोककर बनाओ समाज को अकलंक।

 

बाल मजदूरी एक पाप है, जिसके जिम्मेदार खुद आप हैं।

 

बाल मजदूरी एक पाप है, जिसके जिम्मेदार खुद आप हैं।

 

बाल मजदूरी एक कुप्रथा है, इस से देश की दुर्दशा है।

 

बाल मजदूरी एक कुप्रथा है, इस से देश की दुर्दशा है।

 

बाल मजदूरी का करें दमन, बच्चों को लौटाएं उनका बचपन।

 

बाल मजदूरी का करें दमन, बच्चों को लौटाएं उनका बचपन।

 

 

बाल मजदूरी जड़ से मिटायें, देश के बच्चों को शिक्षित बनाएं।

 

बाल मजदूरी जड़ से मिटायें, देश के बच्चों को शिक्षित बनाएं।

 

चलो मिल के हाथ बढ़ाएं, बाल मजदूरी को जड़ से मिटायें।

 

चलो मिल के हाथ बढ़ाएं, बाल मजदूरी को जड़ से मिटायें।

 

जिम्मेदारी का बोझ नहीं बचपन की मस्ती थमाएं, इन बच्चों में उड़ने को पंख लगाएं।

 

जिम्मेदारी का बोझ नहीं बचपन की मस्ती थमाएं, इन बच्चों में उड़ने को पंख लगाएं।

 

बच्चे खेलेंगे कूदेंगे विकास करेंगे, जब हम बाल मजदूरी का विनाश करेंगे।

 

बच्चे खेलेंगे कूदेंगे विकास करेंगे, जब हम बाल मजदूरी का विनाश करेंगे।

 

बाल मजदूरी अत्यंत बुरी है, इस से देश की विपत्ति जुड़ी है।

 

बाल मजदूरी अत्यंत बुरी है, इस से देश की विपत्ति जुड़ी है।

 

 

बच्चो को बचपन की उड़ान दे दें, मजदूरी रोक उनके चेहरे पर मुस्कान दे दें।

 

छीन के बच्चो के हाटों से टूल्स, तैयार कर के भेजे उनको स्कूल।

 

बाल मजदूरी को नाँ कहना है, तरक्की को हाँ कहना है।

 

शिक्षा को हाँ कहो, बाल मजदूरी को नाँ कहो।

 

बाल मजदूरी एक पाप है, मानवता के लिए अभिशाप है।

 

जीवन का बस एक ही नारा, बाल मजदूरी मुक्त बने भारत हमारा।

 

बाल मजदूरी रोको, देश के साक्षरता के विषय में सोचो।

 

देश को तरक्की के मार्ग पर बढ़ाना है, बाल मजदूरी को मिटाना है।

 

बाल मजदूरी को रोकना है संकल्प, यह तरक्की का एकमात्र विकल्प।

 

बाल मजदूरी बच्चों का भविष्य खा जायेगा, भारत को अंधकार के ओर ले जायेगा।

 

बाल मजदूरी पर प्रतिबंध जरुरी।

 

बाल मजदूरी पर लागाओ अंकुश, बच्चों के जीवन में लाओ नया सुख।

 

बाल मजदूरी बन रहा बच्चों के जीवन का अवरोध, तरक्की के लिए इसका करो विरोध।

 

बाल मजदूरी का करो अंत, देश के लिए खुशिया लाओ अनंत।

 

बाल मजदूरी है कई समस्याओं का मूल, इसे छोटा समझने की ना करना भूल।

 

बाल मजदूरी के विरुद्ध अभियान चलाना है, बच्चों के शिक्षा का गुणगान गाना है।

 

बच्चों की शिक्षा का कार्य है सबसे बड़ा परमार्थ, बाल मजदूरी का अपने मन में ना पालो स्वार्थ।

 

शिक्षा और स्नेह है बच्चों के जीवन का मूल आधार, इनके बिना बचपन हो जाता बेकार।

 

बाल मजदूरी लेने की ना करना तुम भूल, क्योंकि यह कार्य नही है राष्ट्रहित के अनुकूल।

 

बाल मजदूरी को खत्म करने का लगाओ जोर, ताकि देश में हो तरक्की हर ओर।

 

बाल मजदूरी को रोके बिना भारत की तरक्की संभव नही है।

 

बाल मजदूरी ना सिर्फ बच्चों का जीवन खराब करता है बल्कि भारत की छवी भी धूमिल करता है।

 

बाल मजदूरी को रोकने के लिए हम सबको एक साथ मिलकर प्रयत्न करना होगा।

 

जब देश के लोग साथ आयेंगे, तभी हम बाल मजदूरी पर काबू पायेंगे।

 

देश में तरक्की का नया अध्याय लिखना है, बाल मजदूरी की समस्या से साथ लड़ना है।

 

बाल अधिकारों के बिना भारत की तरक्की है अपूर्ण, बाल मजदूरी रोककर करो इसे परिपूर्ण।

 

बाल मजदूरी है एक भूल, यह है हर समस्या का मूल।

 

बच्चों को शिक्षित करने का करो कार्य, बाल मजदूरी को ना करो स्वीकार्य।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

बाल मजदूरी पर निबंध

बाल मजदूरी पर भाषण

बाल स्वच्छता अभियान पर निबंध

बाल दिवस पर निबंध

बाल दिवस पर भाषण

बाल अधिकार दिवस

बाल दिवस

बाल दिवस पर कविता