वनोन्मूलन पर स्लोगन (नारा)

वनोन्मूलन का तात्पर्य वनों को नष्ट करने से है। इसके कई कारण है, मुख्यतः मानव अपने लाभ के लिए वनोन्मूलन के कार्य को अंजाम देता है, जैसे की लकड़ी और अन्य उपयोगी वस्तुओं के प्राप्ति के लिए। इसके साथ ही चारागाहों और मानव बस्तियों को बसाने के लिए भी बड़े स्तर पर वनोन्मूलन का कार्य किया जाता है। वनोन्मूलन के कारण पर्यावरण पर कई गंभीर संकट मंडराने लगे है। यही कारण है हमें इस समस्या को रोकने के लिए अभी और प्रयास करने की आवश्यकता है।

वनों की कटाई पर भाषण के लिए यहां क्लिक करें

वनोन्मूलन पर नारा (Slogans on Deforestation in Hindi)

ऐसे कई अवसर आते हैं जब आपको वनोन्मूलन से जुड़े भाषणों, निबंधो या स्लोगन की आवश्यकता होती है। यदि आपको भी वनोन्मूलन से जुड़े ऐसे ही सामग्रियों की आवश्यकता है तो परेशान मत होइये हम आपकी मदद करेंगे।

हमारे वेबसाइट पर वनोन्मूलन से जुड़ी तमाम तरह की सामग्रियां उपलब्ध हैं, जिनका आप अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते हैं।

हमारे वेबसाइट पर वनोन्मूलन के लिए विशेष रुप से तैयार किए गये कई सारे स्लोगन उपलब्ध हैं। जिनका उपयोग आप अपने भाषणों या अन्य कार्यों के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं।

ऐसे ही अन्य सामग्रियों के लिए भी आप हमारे वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं।

Unique and Catchy Slogans on Deforestation in Hindi Language

 

वन पृथ्वी का गहना है, ये हम सबका कहना है।

 

वन पृथ्वी का गहना है, ये हम सबका कहना है।

 

वनों को न काटें इन्हे बचाये, अपने जीवन को स्वस्थ बनाएं।

 

वनों को न काटें इन्हे बचाये, अपने जीवन को स्वस्थ बनाएं।

 

वनोन्मूलन अहितकारी है, वनों को बचाओ अगर जान प्यारी है।

 

वनोन्मूलन अहितकारी है, वनों को बचाओ अगर जान प्यारी है।

 

वनों की जब रखवाली होगी तो पृथ्वी पर हरियाली होगी।

 

वनों की जब रखवाली होगी तो पृथ्वी पर हरियाली होगी।

 

वृक्षों का सम्मान करेंगे, देश को ऊर्जावान करेंगे।

 

वृक्षों का सम्मान करेंगे, देश को ऊर्जावान करेंगे।

 

 

अगर वनों का होगा क्षरण तो कैसे बचेगा पर्यावरण।

 

अगर वनों का होगा क्षरण तो कैसे बचेगा पर्यावरण।

 

वृक्ष हैं प्रकृति का वरदान, वनोन्मूलन रोके इंसान।

 

वृक्ष हैं प्रकृति का वरदान, वनोन्मूलन रोके इंसान।

 

वृक्ष हमे देते हैं जीवन, कैसे जियोगे जब होंगे नहीं वन।

 

वृक्ष हमे देते हैं जीवन, कैसे जियोगे जब होंगे नहीं वन।

 

वन प्राकृतिक सम्पदा है, इसकी समाप्ति एक बड़ी आपदा है।

 

वन प्राकृतिक सम्पदा है, इसकी समाप्ति एक बड़ी आपदा है।

 

वन होंगे हरियाली होगी, तभी पृथ्वी पर खुशहाली होगी।

वन होंगे हरियाली होगी, तभी पृथ्वी पर खुशहाली होगी।

 

 

वन होगा तभी तो जीवन होगा।

 

वन नहीं होंगे तो सब बेकार होगा, चारो तरफ बस हाहाकार होगा।

 

वनों को ना काटें इन्हे बचाये, अपने जीवन को स्वस्थ बनाएं।

 

वनोन्मूलन को रोकना होगा, देश के तरक्की के लिए सोचना होगा।

 

वनोन्मूलन बन रहा पर्यावरण के लिए काल, देश के लिए यह समस्या विकराल।

 

वनोन्मूलन से मचा हुआ है हाहाकार, सुनो तुम यह प्रकृति की मार्मिक चित्कार।

 

यदि पर्यावरण में होगा वृक्षों का अभाव, तो मानव जीवन पर भी होगा इसका प्रतिकूल प्रभाव।

 

प्रदूषण का खत्म करना है अस्तित्व, वनोन्मूलन रोकना है हर नागरिक का दायित्व।

 

उठाओ वनोन्मूलन रोकने का भार, देश में पर्यावरण सुरक्षा का करो विस्तार।

 

वनोन्मूलन रोकने का चलाओ अभियान, लोगो को दो पर्यावरण महत्ता का ज्ञान।

 

देश में वनोन्मूलन रोकने में हाथ बटाओं, लोगो को पर्यावरण का महत्व समझाओ।

 

वनोन्मूलन रोकना है हमारा संकल्प, विश्व की सुरक्षा का है यहीं विकल्प।

 

जब देश के लोग साथ आयेंगे, तभी हम वनोन्मूलन पर काबू पायेंगे।

 

देश में तरक्की का नया अध्याय लिखना है, वनोन्मूलन की समस्या से साथ लड़ना है।

 

वनोन्मूलन रोके बिना भारत की तरक्की है अपूर्ण, पर्यावरण की रक्षा करके करो इसे परिपूर्ण।

 

वनोन्मूलन हमारी भूल है, हर समस्या का मूल है।

 

पर्यावरण रक्षा का करो कार्य, प्रकृति को वनोन्मूलन नही है स्वीकार्य।

 

पर्यावरण रक्षा को हाँ कहो, प्रदूषण और वनोन्मूलन को नाँ कहो।

 

प्रकृति का करो सम्मान, वनोन्मूलन रोकने हेतु चलाओ अभियान।

 

प्रकृति को मत दो कष्ट, वनोन्मूलन से हो जायेगा सब नष्ट।

 

यदि हमने समय रहते वनों की कटाई का कार्य बंद नही किया तो पर्यावरण सुरक्षा पर गंभीर संकट आ जायेगा।

 

वनोन्मूलन एक दिन मानव सभ्यता के लिए काल बन जायेगा।

 

पर्यावरण सुरक्षा के लिए वनोन्मूलन को रोकना जरुरी है।

 

पेड़ो को यू ना काटो अकारण, नही तो यह कार्य बनेगा एक दिन मानव विनाश का कारण।

 

पर्यावरण का पतन नही है संयोग, कारण इसका क्योंकि अंधाधुंध पेड़ काट रहे है लोग।

 

प्रकृति इतना सब देकर करती है परमार्थ, फिर भी पेड़ो को काटकर मानव का पूरा नही होता स्वार्थ।

 

पर्यावरण से ही है मनावता का अस्तित्व, पेड़ो और प्रकृति की रक्षा करना है हमारा दायित्व।

 

प्रकृति की सुरक्षा है अनिवार्य, सबको मिलकर करना होगा वनोन्मूलन रोकने का कार्य।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

वनोन्मूलन पर निबंध

वृक्षारोपण के महत्व पर निबंध

पेड़ बचाओ पर निबंध

प्रकृति संरक्षण पर निबंध

पर्यावरण पर निबंध

जंगल पर निबंध

पर्यावरण बचाओ पर भाषण