पेड़ बचाओ पर स्लोगन (नारा)

पेड़ बचाओ का अर्थ पेड़ो की रक्षा से है, जिसके अंतर्गत पेड़ो के रक्षा हेतु तमाम उपाय किये जाते हैं। आज के समय में वनोन्मूलन और अंधाधुंध पेड़ो की कटाई एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है। पर्यावरण में लगातार पेड़ो की घटती संख्या के कारण कई समस्याएं उत्पन्न होने लगी है जैसे कि कार्बन डाई ऑक्साइड के अवशोषण में कमी, आक्सीजन तथा वायु के गुणवत्ता में गिरावट, पशु-पक्षियों की कई सारी प्रजातियों का विलुप्तिकरण आदि।

पेड़ बचाओ पर निबंध के लिए यहां क्लिक करें

पेड़ बचाओ पर नारा (Slogans on Save Trees in Hindi)

यही कारण हैं कि इस समस्या को लेकर हमें अभी से ही सतर्क होने की आवश्यकता है क्योंकि यदि समय रहते पेड़ो के सुरक्षा पर विचार नही किया गया तो वह दिन दूर नही है, जब यह गंभीर संकट का रुप ले लेगा।

ऐसे कई अवसर आते हैं जब आपको पेड़ बचाओ से जुड़े भाषणों, निबंधो या स्लोगन की आवश्यकता होती है। यदि आपको भी पेड़ बचाओ से जुड़े ऐसे ही सामग्रियों की आवश्यकता है तो परेशान मत होइये हम आपकी मदद करेंगे। हमारे वेबसाइट पर पेड़ बचाओ से जुड़ी तमाम तरह की सामग्रियां उपलब्ध हैं, जिनका आप अपनी आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते हैं।

हमारे वेबसाइट पर पेड़ बचाओ के लिए विशेष रुप से तैयार किए गये कई सारे स्लोगन उपलब्ध हैं। जिनका उपयोग आप अपने भाषणों या अन्य कार्यों के लिए अपनी आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं। ऐसे ही अन्य सामग्रियों के लिए भी आप हमारे वेबसाइट का उपयोग कर सकते हैं।

Unique and Catchy Slogans on Save Trees in Hindi Language

 

पेड़ो को काटने की न करना कभी भूल, क्योंकि यह कार्य नही है प्रकृति के अनुकूल।

 

पेड़ो को काटने की न करना कभी भूल, क्योंकि यह कार्य नही है प्रकृति के अनुकूल।

 

पेड़ो बिना हो जायेगा जीवन अपूर्ण, वृक्षारोपण करके करो प्रकृति को परिपूर्ण।

 

पेड़ो बिना हो जायेगा जीवन अपूर्ण, वृक्षारोपण करके करो प्रकृति को परिपूर्ण।

 

पेड़ है प्रकृति के प्राण, इन्हे काटकर न करो इसे निष्प्राण।

 

पेड़ है प्रकृति के प्राण, इन्हे काटकर न करो इसे निष्प्राण।

 

पेड़ है प्रकृति की शान, वृक्षारोपण हेतु चलाओ अभियान।

 

पेड़ है प्रकृति की शान, वृक्षारोपण हेतु चलाओ अभियान।

 

पेड़ हैं प्रकृति के वरदान का प्रतीक, इनके सुरक्षा हेतु अपनाओ नवीन तकनीक।

 

पेड़ हैं प्रकृति के वरदान का प्रतीक, इनके सुरक्षा हेतु अपनाओ नवीन तकनीक।

 

 

पेड़ लगाने का लो संकल्प, प्रकृति को बचाने का यही है विकल्प।

 

पेड़ लगाने का लो संकल्प, प्रकृति को बचाने का यही है विकल्प।

 

पेड़ लगाना मजबूरी नही जरुरी है।

 

पेड़ लगाना मजबूरी नही जरुरी है।

 

पेड़ लगाओ, प्रकृति को बचाओ।

 

पेड़ लगाओ, प्रकृति को बचाओ।

 

पेड़ लगाओ, जीवन में खुशहाली लाओ।

 

पेड़ लगाओ, जीवन में खुशहाली लाओ।

 

वृक्षारोपण है प्रकृति का मान, आओ पेड़ लगाकर करो इसका सम्मान।

 

वृक्षारोपण है प्रकृति का मान, आओ पेड़ लगाकर करो इसका सम्मान।

 

 

हरी भरी धरा से बने जीवन हरा भरा।

 

यह सन्देश सभी तक पहुँचाना है, स्वच्छ वायु के लिए हमें वृक्ष लगाना है।

 

हाथ जोड़ के सबसे विनती करें, वृक्ष लगाते जाएँ ना गिनती करें।

 

वृक्ष धरा का आभूषण है, इनसे ही तो जीवन है।

 

वृक्ष नहीं बचाएंगे तो ऑक्सीजन कहाँ से पाएंगे।

 

चलो वृक्ष लगाएं मिल कर यार, एक दो नहीं दस हज़ार।

 

पर्यावरण स्वतः स्वच्छ होगा, जब हर घर के सामने एक वृक्ष होगा।

 

अपने हाथो से अपनी मौत बाँट रहा है, इंसान वृक्ष नहीं अपनी जिंदगी काट रहा है।

 

अगर जिंदगी को स्वस्थ और दीर्घायु बनाना है, तो वृक्ष काटना नहीं बल्कि लगाना है।

 

आओ मिल कर क़सम ये खाएं, वृक्ष ना काटें इन्हे बचाएं।

 

जो लोग राष्ट्रहित में आगे आ नहीं सकते, उनसे अनुरोध है वृक्ष ना काटें अगर लगा नहीं सकते।

 

नित्य ही जो पेड़ काट रहे हैं लोग, यही कारण है पर्यावरण प्रदूषण नही मात्र संयोग।

 

पेड़ लगाकर रखो प्रकृति का मान, लोगो में जागरुकता लाने के लिए चलाओ अभियान।

 

पेड़ो को काटने की ना करना कभी भूल, क्योंकि यह कार्य नही है प्रकृति के अनुकूल।

 

जैसे-जैसे पर्यावरण में हो रहा है पेड़ो का आभाव, वैसे-वैसे बढ़ रहा है प्रदूषण का प्रभाव।

 

वृक्षारोपण है प्रकृति का मान, आओ पेड़ लगाकर करो इसका सम्मान।

 

पेड़ है प्रकृति का मूल, इन्हे काटने की ना करना भूल।

 

पेड़ है प्रकृति का सम्मान, इन्हें बचाने हेतु चलाओ अभियान।

 

वृक्षारोपड़ है प्रकृति के अनुकूल, पेड़ो को काटने की ना करो तुम भूल।

 

पेड़ो को लगाकर लो प्रकृति की रक्षा का संकल्प, इसी के द्वारा हो सकता है पर्यावरण का कायाकल्प।

 

यदि हमें पर्यावरण को बचाना है तो इसके लिए पहले पेड़ो को बचाना है।

 

पेड़ बिना मानवता की अस्तित्व की कल्पना नही की जा सकती।

 

वृक्ष प्रकृति का मानव को दिये गये सबसे बहूमूल्य उपहारों में से एक है।

 

वृक्ष, वायु, जल, मिट्टी प्रकृति के सबसे बड़े उपहार चार, यह सभी मिलकर तैयार करते हैं मानव जीवन का मूलाधार।

 

अगर ऐसे होता रहा पृथ्वी पर पेड़ो का लोप, तो वह दिन दूर नही जब प्रकृति दिखायेगी अपना भीषण कोप।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

पृथ्वी बचाओ पर निबंध

जल बचाओ पृथ्वी बचाओ पर निबंध