बैसाखी पर भाषण

बैसाखी भी एक महत्वपूर्ण त्योहार है जिसे हरियाणा और पंजाब राज्य में व्यापक रूप से मनाया जाता है। यह त्योहार रबी फसलों की परिपक्वता को दर्शाता है और इसलिए यह कृषि समुदाय के लिए समृद्धि और धन का प्रतीक भी है। चूंकि यह त्योहार नजदीक आ रहा है तो हो सकता है कि कई लोग इस उत्सव की योजना बना रहे हों। वास्तव में लोगों को इस त्योहार के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए बैसाखी पर भाषण देते हुए देखा भी जा सकता है। इस शुभ अवसर पर संदर्भ बिंदु लेने के लिए और प्रभावशाली संक्षिप्त भाषण तैयार करने में आपकी मदद करने के लिए बैसाखी पर दोनों लंबे और छोटे भाषणों को कवर किया गया है। आप अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए हमारे द्वारा उपलब्ध कराए भाषणों को पढ़ सकते है, उन भाषणों को पढ़ने से आपको वाकई खुशी का एहसास होगा।

बैसाखी पर लम्बे और छोटे भाषण (Long and Short Speech on Baisakhi in Hindi)

बैसाखी पर भाषण 1

माननीय प्रधानाचार्य, उपाध्यक्ष, शिक्षकगण और मेरे प्रिय मित्रों - आप सभी को सुप्रभात!

जैसा कि हम जानते हैं कि बैसाखी का त्यौहार वास्तव में बहुत दूर नहीं है और हम पहले ही वातावरण में इसकी तरंगों को महसूस कर सकते हैं। माहौल जीवंत, उज्ज्वल और जोशीला हो गया है। इसलिए इस त्योहारी मौसम के मूड में मैं बैसाखी पर एक छोटा भाषण देने और संदेश को उन लोगों तक फैलाना जरुरी समझता हूं जो वास्तव में नहीं जानते कि बैसाखी के त्यौहार का क्या महत्व है।

यह सबसे लोकप्रिय रूप से मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है और जो राज्य जहां यह उत्सव सबसे अधिक मनाया जाता है वह पंजाब के अलावा अन्य कोई नहीं है। रबी की फसलों की कटाई का जश्न मनाने के लिए बैसाखी वहां मनाया जाता है। बैसाखी का महोत्सव सिख आबादी के लिए भी एक बड़ा धार्मिक महत्त्व रखता है जो राज्य में जनसँख्या के हिसाब से बहुमत रखते हैं। इसे इतना महत्व इसलिए दिया जाता है क्योंकि बैसाखी के दिन अर्थात 1699 में सिखों के महान सम्मानित दसवें गुरु - गुरु गोबिंद सिंह ने खालसा पंथ की नीवं रखी थी।

13 अप्रैल को बैसाखी का त्यौहार अधिक बार मनाया जाता है लेकिन हर 36 सालों में एक बार यह त्यौहार 14 अप्रैल को आता है। पंजाब के लोग इस उत्सव का बेसब्री से इंतज़ार करते हैं और इस दिन को बेहद उत्साह और जोश के साथ मनाते हैं। क्या आप जानते हैं कि इस दिन का मुख्य आकर्षण क्या हैं? यह सिख समाज के पारंपरिक गिद्दा और भांगड़ा नृत्य के साथ-साथ विशेष लंगर है जो गुरुद्वारों में सभी भक्तों को दिया जाता है।

इस दिन की तैयारियों के लिए लोग सुबह जल्दी जागते हैं। इस स्वाभाविक दिन को चिह्नित करने के लिए पवित्र नदी में स्नान करना भी एक अनुष्ठान है। सभी तैयारियां करने के बाद लोग गुरुद्वारा जाते हैं, जो उनके पड़ोस में होते हैं, और वे इस दिन को यादगार बनाने के लिए विशेष प्रार्थना समारोहों का हिस्सा बनते हैं। बैसाखी अरदास के बाद के अंत में भक्तों को विशेष रूप से तैयार किया सूजी का मीठा हलवा दिया जाता है जिसे लोग आमतौर पर प्रसाद कहते हैं। यह आम तौर पर सामुदायिक भोजन या गुरु के लंगर के बाद दिया जाता है।

इसके बाद सिख समुदाय के लोग पंज प्यारों के मार्गदर्शन में जुलूस निकालते हैं। यह दृश्य बहुत शानदार दिखता है क्योंकि जुलूस शहर के प्रमुख इलाकों से बच्चों, पुरुषों और महिलाओं द्वारा गाए भक्ति गीतों के आधार पर प्रदर्शन करता हुआ बीच से गुजरता है। गिद्दा, भांगड़ा और दूसरे छोटे-मोटे प्रदर्शन सोने पर सुहागा का काम करते हैं क्योंकि वे जुलूस को वास्तव में जीवंत और रंगीन बनाते हैं। लोग नए कपड़े खरीदते हैं और नाचते, गाते और इस त्यौहार पर अच्छा भोजन खाते हैं।

सभी उत्सव और प्रदर्शनों के अलावा हरियाणा और पंजाब के राज्यों में किसानों के बड़े समुदाय के लिए बैसाखी की विशेष प्रासंगिकता है। यह नए साल के समय को सही मायने में चिह्नित करता है क्योंकि यह रबी फसल काटने का सबसे अनुकूल समय है। इसलिए इस दिन किसान समुदाय फसल का आशीर्वाद प्राप्त करने और ज्यादा फसल उगाने के लिए भगवान से प्रार्थना करता है। वे आगे भी ऐसे ही समय के लिए भगवान से प्रार्थना करते हैं।

अब मैं अपने साथी दोस्तों से मंच पर मुझसे जुड़ने और कुछ शब्द कहने का अनुरोध करता हूँ।

धन्यवाद।

बैसाखी पर भाषण 2

प्रिय मित्रों - आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

त्योहारी मौसम और लोगों की मनोदशा को ध्यान में रखते हुए मैंने बैसाखी पर भाषण समारोह की मेजबानी करने का फैसला किया है। हमारी वृंदावन सोसाइटी का सचिव और सदस्य होने के नाते मैं भी उतना ही उत्साहित, रोमांचित और त्योहारों को बहुत धूमधाम के साथ मनाने के लिए उत्सुक हूँ जितना आप सभी हैं लेकिन इससे पहले कि हम बैसाखी की तैयारी की योजना बनाए सभी को औपचारिक रूप से न्यौता भेजने और इस त्योहार के बारे में और जागरूकता फैलाना महत्वपूर्ण है क्योंकि बहुत से लोगों को इस शुभ दिन के बारे में जानकारी नहीं है।

संक्षेप में कहें बैसाखी का त्यौहार बैसाख महीने के पहले दिन आता है, अर्थात् अप्रैल से मई के बीच, जिसे सिख कैलेंडर के अनुसार या पारंपरिक रूप से नानकशाही कहा जाता है। इस वजह के कारण बैसाखी को वैकल्पिक रूप से वैसाखी भी कहा जाता है। अगर हम अंग्रेजी कैलेंडर का हिसाब देखे तो बैसाखी दिनांक हर साल 13 अप्रैल को या हर 36 सालों में 14 अप्रैल को मनाई जाती है। तारीखों में यह अंतर त्योहार सौर मंडल के अनुसार माना जाता है न कि चंद्र कैलेंडर के अनुसार। बैसाखी का यह स्वाभाविक दिन पूरे देश में अलग-अलग नामों के साथ और विभिन्न मज़ेदार अनुष्ठानों के साथ-साथ इसका जश्न मनाया जाता है। बैसाखी की तारीख बंगाल में 'नाबा बारशा' के साथ, केरल में 'पूराम विशु', असम में 'रोंगली बिहू' और तमिलनाडु के 'पुथंडू' के साथ मेल खाती है।

वर्ष 1699 में और गुरु गोबिंद सिंह के तत्वावधान में पहली बार बैसाखी का त्योहार मनाया गया था। इस दिन पंज प्यारे या जिन्हें अक्सर पांच प्रिय पुजारियों के रूप में भी जाना जाता है, धार्मिक छंद पढ़ते हैं। दिलचस्प है कि श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने पंज प्यारों को आशीर्वाद देने के लिए लोहे के पोत में अमृत को अपने हाथों से तैयार किया था। तब से यह एक अनुष्ठान बन चुका है और आज तक ऐसे ही लोहे के पोत में पवित्र अमृत या शरबत तैयार किया जाता है, जिसे अंततः सभी भक्तों के बीच वितरित किया जाता है, जो जाप अवधि के दौरान इकट्ठा होते हैं। यह एक परंपरा है कि भक्त पांच बार अमृत लेते हैं और सभी के बीच शांति को फैलाने और भाईचारे की भावना के लिए काम करते हैं। अमृत के वितरण के बाद धार्मिक गीत यानी की कीर्तन होते हैं और इकट्ठे हुए लोगों में आध्यात्मिकता को प्रोत्साहित किया जाता है।

दोपहर के समय के दौरान, बैसाखी अरदास के अनुष्ठान के बाद, स्वादिष्ट प्रसाद या मीठी सूजी के हलवे को गुरु गोबिंद सिंह जी को चढ़ाया जाता है और उनसे आशीर्वाद की अपेक्षा की जाती है। इसके बाद प्रसाद इकट्ठे हुए लोगों के बीच वितरित किया जाता है। हालांकि इस शुभ दिन की समाप्ति का प्रतीक सामुदायिक भोजन या विशेष लंगर ही नहीं और भी कुछ है। लोगों को लंबी पंक्तियों में बैठाया जाता है जो स्वयंसेवक भक्तों को शाकाहारी भोजन प्रदान करते हैं। हजारों भक्तों को एक छत के नीचे इकट्ठे होते देखना, गुरु से प्रार्थना करना और सद्भाव में काम करते देखना वाकई बहुत अद्भुत नज़ारा है।

तो चलिए अपनी कॉलोनी में बैसाखी समारोह की योजना बनाते हैं और इस दिन का फायदा उठाते हैं।

धन्यवाद!

बैसाखी पर भाषण 3

प्यारे बच्चों और मित्रों - आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

जैसा कि आप जानते हैं कि इस सभा का आयोजन सभी लोगों, जिसमें हमारे बच्चे भी शामिल हैं, को आमंत्रित करने के लिए किया गया है जो कि बैसाखी के उत्सव से संबंधित है। इस संगठन के एक सदस्य के रूप में मुझे इस विशाल समारोह की योजना बनाने और सभी सिखों के लिए इसे अधिक विशेष बनाने की इच्छा है। इसलिए जिस तरह से हम इस उत्सव को भव्य और विशेष बना सकते हैं हम सब करेंगे और हर जगह भाईचारा और शांति का संदेश फैलाने में मदद करेंगे।

हालांकि हर किसी के सुझावों को आमंत्रित करने से पहले कृपया मुझे बैसाखी पर एक छोटा सा भाषण देने और इस शुभ अवसर के बारे में प्रासंगिक जानकारी साझा करने की अनुमति दें ताकि इस उत्सव के पीछे के कारण को अधिक से अधिक लोग जान सकें।

1660 के दशक के दौरान प्रसिद्ध मुगल सम्राट- औरंगजेब ने अपने परिवार में सभी को सिंहासन प्राप्त करने की लड़ाई में पराजित किया और भारत के सम्राट बनने के लिए सिंहासन पर विजय प्राप्त की। राजा बनने और अपने विचारों की ओर बढ़ते हुए उसने धार्मिक उत्पीड़न की नीति निर्धारित की और भारत में इस्लामीकरण की प्रक्रिया की शुरूआत की। औरंगजेब ने मुख्य रूप से इस प्रक्रिया के दौरान ब्राह्मणों को निशाना बनाया क्योंकि उसे विश्वास था कि अगर ब्राह्मण इस्लाम को गले लगाएगा तो अन्य लोग भी स्वयं ही इस्लाम को अपना लेंगे। अपने उद्देश्य का एहसास कराने के लिए औरंगजेब ने हिंदुओं पर अनुचित धार्मिक कर लगाया और उनके शिक्षण संस्थानों और मंदिरों को बंद कर दिया।

इस संकट की स्थिति के दौरान नौवें सिख गुरु गुरु तेग बहादुर को उनके नेतृत्व और समर्थन के लिए संपर्क किया गया। इसके बाद गुरु तेग बहादुर दिल्ली की ओर चले जो मुगल शासन के अधीन था।

हालांकि बाद में गुरु तेग बहादुर को कई लोगों के सामने शहीद कर दिया गया। जल्लाद ने खुलेआम हमारे गुरू के शरीर की बोटी-बोटी कर दी और सबसे निराशाजनक बात तो यह है कि किसी ने भी आगे बढ़कर गुरु के शरीर का धार्मिक अनुष्ठान करने के लिए दावा नहीं किया। यहां तक ​​कि उनके सबसे समर्पित शिष्यों ने भी उन्हें पहचानने से इंकार कर दिया और इसके बाद अचानक मौसम तूफानी हो गया और दो लोगों ने स्थिति का फायदा उठाया तथा चुपके से गुरू तेग बहादुर के शरीर को दफनाने को उठा लिया। कायरता के इस प्रदर्शन ने गुरु तेग बहादुर के पुत्र गोविंद राय को क्रोधित किया और उन्होंने सिखों को अपनी खुद की पहचान प्रदान करने का वचन दिया।

अपने उत्साही भाईयों के बीच ताकत और साहस पैदा करने की इस प्रबल इच्छा से गोविंद राय को दसवें सिख गुरु के रूप में मान्यता प्राप्त हुई। जब वे 33 वर्ष के थे तो गुरु गोबिंद को अपने शिष्यों से पालन करने के लिए एक दिव्य संदेश मिला। इसके बाद गुरु ने बैसाखी के अवसर की स्थापना यह सोच कर कि वह यह उन्हें अपने लक्ष्य को समझने में मदद करेगी क्योंकि प्रत्येक वर्ष भक्त बड़ी संख्या में इकट्ठा होंगे और इस समय आनंदपुर आएंगे अर्थात वसंत का समय और गुरु के प्रति प्रार्थना करेंगे। पहले साल 1699 में, बैसाखी के महीने से पूर्व, गुरु गोबिंद राय ने भक्तों को असाधारण अनुदेश भेजे थे कि बैसाखी का दिन एक विशेष दिन होगा। लोगों से कहा गया था कि वे अपने बालों को ना काटे और उन्हें अपनी चुन्नी और पगड़ी के नीचे इकट्ठा करें। इसके अलावा पुरुषों को अपनी दाढ़ी बढ़ाने के लिए भी कहा गया था।

शासकों के राजनीतिक अत्याचार के विरूद्ध लड़ाई शुरू करने के अलावा गुरु गोबिंद सिंह जी ने यह भी सुनिश्चित किया कि समाज जाति, वर्ग और लिंग के आधार पर भेदभाव से मुक्त होना चाहिए और इस तरह उन्होंने खालसा पंथ की नींव रखी। वास्तव में गुरु द्वारा बनाए गए पंज प्यारे दोनों उच्च और साथ ही कम जाति के लोगों द्वारा गठित किए जाते हैं ताकि हमारे समाज में सद्भाव और शांति हो सके।

तो आइए हम इस दिन हमारे श्रद्धेय गुरु जी और हमारे भक्तों के लिए मनाए जो हमारे समाज की भलाई के लिए काम करते हैं।

धन्यवाद!


 

बैसाखी पर भाषण 4

प्रिय मित्रों - सुप्रभात !! मुझे उम्मीद है कि यह दिन आपके लिए ख़ुशी भरा होगा।

आज मैं यहां बैसाखी पर एक छोटा भाषण देने के लिए हूँ। बैसाखी का त्यौहार वास्तव में शुभ है और हर किसी के जीवन में खुशी लाता है। इस समय के दौरान रबी फसलों को काटा जाता है। हरियाणा और पंजाब में यह त्योहार समाज के हर वर्ग के लोगों द्वारा मनाया जाता है। मुस्लिम, हिंदू और सिख सभी इस उत्सव का एक हिस्सा हैं। यह दिवस 13 अप्रैल को हर वर्ष मनाया जाता है और लोग इस दिन नए कपड़े पहनते हैं। स्वादिष्ट व्यंजन तैयार किए जाते हैं जिसमें हलवा भी शामिल है जिसे श्री गुरु गोबिंद सिंह जी को चढ़ाया जाता है।

इस मनोरंजक त्योहार को मनाने के लिए मेले का आयोजन हर जगह किया जाता है। मेले में धार्मिक वस्तुएं भी होती हैं और बेचे जाने वाली हर चीज़ भगवान और मानवता के साथ एकता के बारे में एक मजबूत संदेश देती है। अधिकतर मेलों का आयोजन नदी के किनारे किया जाता है क्योंकि धार्मिक संस्थान मेले की जिम्मेदारी उठाता है।

मेलों के अलावा आपको इस दिन एक जीवंत बाजार भी देखने को मिल सकता है। वहाँ आप भव्य खाद्य पदार्थों के साथ-साथ मीठे व्यंजनों को भी खा सकते हैं। बच्चों के हित के लिए आकर्षक खिलौनों की भी दुकानें हैं। इसमें कोई शक नहीं कि आपको इस दिन मेलों में बहुत ज्यादा भीड़ देखने को मिलेगी और पूरा दृश्य नहुत मनोरंजक होता है। बाजार के एक तरफ आपको आनंद लेने के लिए दिलचस्प झूले, जो हवा में ऊपर जाते हैं, देखने को मिल सकते हैं जहां सभी उम्र के लड़कियां और लड़के इसका आनंद लेते हैं। इसके अलावा रस्सी नर्तक भी रस्सी पर अपने अविश्वसनीय आसन करते हैं। बंदर भी इसके अलावा कई करतब दिखाते हैं जिससे लोगों में बहुत उत्साह बनता है।

बाजार के दूसरे छोर पर गोले के आकार में लोगों की भीड़ खड़ी हो जाती है जिसमें से ज्यादातर किसान होते हैं। वे लोक नृत्य प्रदर्शन करते है और ढोल की थाप पर कदमों से कदम मिलाकर नाचते-गाते हैं। प्रत्येक किसान अपने हाथ में एक छड़ी रखता है जिसे वह हवा में तब उठाता है जब बाकि कलाकार नृत्य करते हैं। यह दृश्य बहुत बढ़िया होता है क्योंकि नर्तकियों का उत्साह और उत्तेजना स्पष्ट होता है। वास्तव में जो लोग स्वभाव से अंतर्मुखी होते हैं वे भी इस दिन अपनी शर्मीली प्रकृति को भूल जाते हैं और इस पर्व प्रदर्शन का एक हिस्सा बन जाते हैं।

इन प्रदर्शनों के साथ-साथ धार्मिक उत्सव भी चलते हैं विशेष रूप से बुजुर्ग लोगों के लिए जो आत्माओं के उत्थान का अनुभव करते हैं। बुज़ुर्ग भजन को सुनते हैं और मंत्रों का जाप करते हैं। आर्य समाजवादी, हिंदू और सिख उनके शामियाने की मेजबानी करते हैं जिसमें वे धार्मिक और आध्यात्मिक व्याख्यान देते हैं और भजन गाते हैं। जो लोग शामियानाओं का हिस्सा हैं वे इन सांसारिक अनुलग्नकों से ऊपर हैं। वे मंत्र का आनंद लेते हैं और भगवान की सेवा करते हुए काम करते हैं।

इस दिन के दौरान कई घटनाओं का आनंद लेने के बाद लोग शाम होते-होते थक जाते हैं और वे अपने बच्चों के खिलौने, मिठाई और फलों के साथ अपने घर लौट जाते हैं। इस प्रकार किसी अन्य त्यौहार की तरह बैसाखी का दिन लोगों को एकजुटता और उत्साह की भावना का अनुभव करने का अवसर प्रदान करता है।

धन्यवाद।