विश्व विरासत दिवस पर भाषण

हर साल 18 अप्रैल को मनाया जाने वाला विश्व विरासत दिवस महान वैश्विक महत्व का दिन है। इसके अलावा भारत एक सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और धार्मिक कलाकृतियों से भरी भूमि है जो आगंतुकों के मन में आश्चर्य की भावना पैदा करती है और निश्चित रूप से हर भारतीय इस मूल्यवान अधिकार पर गर्व महसूस करता है। इसलिए लोगों के बीच जागरूकता फैलाने और लोगों को अपनी राष्ट्रीय विरासत को संरक्षित करने के लिए प्रोत्साहित करने हेतु विश्व विरासत दिवस पर भाषण दिया जाता है। इस विषय पर व्यापक और प्रासंगिक ज्ञान देने के लिए विश्व विरासत दिवस पर लंबे भाषणों के साथ-साथ छोटे भाषण भी हैं जो संक्षिप्त लेकिन वर्णन के लिए उपयोगी हैं। तो पृष्ठों के माध्यम से पढ़ें और इस महत्वपूर्ण विषय पर स्वयं के साथ-साथ दूसरों के ज्ञान में भी वृद्धि करें।

विश्व विरासत दिवस पर लंबे और छोटे भाषण (Long and Short Speech on World Heritage Day)

विश्व विरासत दिवस पर भाषण – 1

सुप्रभात बच्चों - मुझे आशा है कि आप सभी अच्छे से अपनी पढाई कर रहे हैं और यदि आपको अपने अध्ययन से संबंधित कोई समस्या है तो कृपया मेरे कार्यालय में मुझसे मिलने में संकोच महसूस ना करें। आज मेरे साथ-साथ शिक्षकों ने विश्व विरासत दिवस पर भाषण समारोह के लिए सभी बच्चों को इकट्ठा करने का फैसला किया। चूंकि विश्व विरासत दिवस नजदीक ही है इसलिए मैं इस विषय पर अपने बच्चों को कुछ बताना चाहता था। इस विद्यालय के प्राचार्य के रूप मे मैं न केवल शिक्षा में अपने बच्चों को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहता हूँ बल्कि उन विषयों पर ज्ञान प्रदान करने के लिए काम करता हूं जो मानव जाति को बहुत फ़ायदा पहुंचा सकते हैं।

विश्व विरासत को मानव जाति की आम संपत्ति के रूप में वर्णित किया गया है। यह दिन हमारे समृद्ध सांस्कृतिक अतीत का एक शानदार अनुस्मारक है और हमारी जिम्मेदारी न केवल हमारे लिए बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए हमारी विरासत को संरक्षित करने की भी है। निस्संदेह विरासत स्थलों की देख-रेख और उन्हें संरक्षित किया जाना चाहिए। वे मानव जाति के लिए अमूल्य संपत्ति हैं। विश्व विरासत दिवस को मनाने की तारीख 18 अप्रैल है और इसकी शुरुआत पहली बार वर्ष 1982 में हुई थी। आईसीओएमओएस, यानी इंटरनेशनल काउंसिल फॉर मोनुमेंट्स एंड साइट्स (स्मारकों और स्थलों के लिए अंतर्राष्ट्रीय परिषद) ने अफ्रीकी देश ट्यूनीशिया में एक संगोष्ठी शुरू की थी।

दुनिया भर में "स्मारकों और साइटों के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस" मनाने का आह्वान किया गया था। इस विचार ने लोगों का ध्यान आकर्षित किया और समिति के सदस्यों ने सुझाव के लिए अनुमोदन दिया। इस प्रस्ताव को बाद में यूनेस्को सामान्य सम्मेलन में पेश किया गया जहां नवंबर 1983 के महीने में एक डिक्री पारित की गई थी।
उस महत्वपूर्ण दिन के बाद से पूरी दुनिया ने "अंतर्राष्ट्रीय स्मारक और साइट्स दिवस" का निरीक्षण करना शुरू किया जिसे 18 अप्रैल को "विश्व विरासत दिवस" भी कहा जाता है। हमारी साइट्स और स्मारकों को केवल वैश्विक समुदाय के संयुक्त प्रयासों के माध्यम से ही सुरक्षा दी जा सकती है। विश्व विरासत के दिन हमारी सांस्कृतिक संपदा की विविधता के बारे में लोगों को जानकारी प्रदान करने के लिए जागरूकता अभियान आयोजित किए जा रहे हैं और इसे सुरक्षित और संरक्षित करने के लिए समाधान की आवश्यकता है। यह सच है कि विरासत स्थलों पर विभिन्न जोखिम कारक मंडरा रहे हैं और इसलिए हमें इन बहुमूल्य संपत्तियों को सुरक्षा प्रदान करने में हमारी सर्वोत्तम क्षमता का उपयोग करना चाहिए।
दिलचस्प बात यह है कि वर्ष दर वर्ष इस विषय का जश्न मनाने के लिए थीम चुनी जाती है। उदाहरण के लिए वर्ष 2010 में "कृषि विरासत" को थीम के रूप में तय किया गया था। इस थीम के पीछे पूरा विचार इस धरती पर मनुष्य के विकास और प्रकृति के साथ इसके अनिवार्य संबंधों पर प्रकाश डालना था। कृषि विरासत ने विभिन्न प्रकार की कृषि गतिविधियों, परिदृश्य और प्रणालियों पर बल डाला और कैसे मानव सभ्यता की प्रगति के रूप में उन्होंने आकार लिया यह भी बताया।

इस प्रकार विश्व विरासत दिवस कई तरीकों से मनाया जाता है। इन सांस्कृतिक संपत्तियों को संरक्षित करने के महत्व को उजागर करने के उद्देश्य से साइटों और स्मारकों के दौरे की योजना बनाई जाती है। जब मरम्मत का काम पूरा हो जाता है तो लोगों को अक्सर इन साइटों पर जाने के लिए आमंत्रित किया जाता है। इन चीजों पर व्यापक मीडिया कवरेज भी की जाती है जो प्रभावशाली स्मारकों पर प्रकाश डालती है। साक्षात्कार और सम्मेलन भी हर जगह आयोजित किए जाते हैं। बहस और चर्चाएं आयोजित की जाती हैं और अच्छी झांकियों के लिए प्रदर्शन भी लगाए जाते हैं। यह दिन वास्तव में देश के हर संबंधित नागरिक के लिए अपने देश की महान सांस्कृतिक संपत्ति पर गर्व महसूस करने का एक दिन है।

मुझे आशा है कि हर किसी ने इस भाषण को सुनने में उतना ही आनंद लिया जितना मैंने इसे देने में लिया। मुझे बस इतना ही कहना था।
धन्यवाद!

विश्व विरासत दिवस पर भाषण – 2

हमारे सम्मानित मुख्य अतिथि और प्रिय दर्शकों सहित - हमारी राधाकृष्ण सांस्कृतिक समिति के 97वीं संगोष्ठी में आपका स्वागत है! आज के लिए मैं - राजीव शुक्ला आपका मेजबान हूं जो पिछले चार सालों से इस समिति का सक्रिय हिस्सा रहा हूं।

दोस्तों चूंकि हम सभी यहां मौजूद हैं इसलिए विश्व विरासत दिवस पर भाषण देने की मेरी प्रबल इच्छा है क्योंकि कहीं ना कहीं मुझे लगता है कि लोग अपनी राष्ट्रीय सांस्कृतिक विरासत और वैश्विक स्तर पर अलगाव की भावना का अनुभव करते हैं। हमें अपनी राष्ट्रीय सांस्कृतिक संपदा पर गर्व की भावना महसूस करना और आने वाली पीढ़ी के लिए इसे संरक्षित करना बेहद जरूरी है ताकि आने वाली पीढ़ियों को अपने देश की सांस्कृतिक संपत्तियों की सराहना करने का विशेषाधिकार प्राप्त हो सके।

विश्व विरासत दिवस के महत्व को विस्तार से बताने से पहले कृपया मुझे विश्व विरासत स्थलों पर कुछ प्रकाश डालने दें। विश्व विरासत स्थल को मानव निर्मित, प्राकृतिक भवन या ऐसे क्षेत्र के रूप में वर्गीकृत किया गया है जिसका अपना वैश्विक महत्व और एक विशेष स्थान है तथा जिसके लिए विशेष ध्यान और सुरक्षा की आवश्यकता है। ऐसे स्थलों को आधिकारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र के साथ-साथ यूनेस्को द्वारा मान्यता दी जाती है जिन्हें यूनाइटेड नेशन एजुकेशनल साइंटिफिक एंड कलचरल आर्गेनाइजेशन के रूप में संबोधित किया जाता है। यूनेस्को के मुताबिक इन स्थलों को विश्व विरासत के रूप में वर्गीकृत किया गया है जो मानवता के लिए महत्व के साथ-साथ भौतिक और सांस्कृतिक महत्व भी रखते हैं।
यह दिवस विश्व विरासत स्थलों को संरक्षित करने में अधिकारियों द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों के बारे में जागरूकता फैलाता है। इस वर्ष 2017 में विभिन्न समुदायों को एक साथ आने और सतत पर्यटन के जबरदस्त प्रभाव का जश्न मनाने तथा समुदायों को कैसे मजबूत किया जा सकता है इसके बारे में जनता को सूचित करने की अनुमति दी है।

अगर मैं यह कहूं कि पूरे विश्व में लगभग 1,052 विश्व विरासत स्थल हैं तो कृपया आश्चर्यचकित न हों। इनमें से 814 सांस्कृतिक श्रेणी के अंतर्गत आते हैं, 203 प्राकृतिक माने जाते हैं और 35 दोनों श्रेणियों का मिश्रण होता है। जीसस के जन्म स्थान बेथलहम में उनके जन्म का चर्च और तीर्थ मार्ग सहित लगभग 55 स्थल खतरे का सामना कर रहे हैं।

आईसीओएमओएस यानी इंटरनेशनल काउंसिल फॉर मोनुमेंट्स एंड साइट्स इस दिन के वैश्विक महत्व का जश्न मनाने के बारे में कई विचार सुझाती है:

  • स्थलों और स्मारकों की यात्रा को प्रोत्साहित करें और साथ ही पुनर्स्थापन कार्यों को मुफ्त प्रवेश के साथ अनुमति दें।
  • पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में लेख प्रकाशित करें और रेडियो और टेलीविजन पर संदेश भेजें।
  • मुख्य ट्रैफिक की जगहों या शहर के वर्गों के आसपास इस दिन तक लोगों का ध्यान खींचने और हमारी सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण को प्रोत्साहित करने के लिए बैनर लगाएं।
  • साक्षात्कार और सम्मेलनों के विशेषज्ञों सहित राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय व्यक्तित्वों को आमंत्रित करना।
  • शहर के हॉल, सांस्कृतिक केंद्रों और कई अन्य सार्वजनिक स्थानों में चर्चा को आयोजित करना।
  • पोस्ट-कार्ड, पोस्टर, टिकटें और सबसे महत्वपूर्ण किताबों के प्रकाशन को प्रोत्साहित करना।
  • पेंटिंग्स, फोटो इत्यादि के माध्यम से प्रदर्शनी लगाना।
  • उन लोगों और संगठनों को पुरस्कार देना जिन्होंने पदोन्नति के लिए असाधारण रूप से योगदान दिया है और साथ ही साथ हमारी सांस्कृतिक विरासत का भी संरक्षण किया है और साथ ही साथ इस विषय पर उत्कृष्ट पब्लिकेशन किया है।
  • ऐसी गतिविधियों को प्रोत्साहित करना जो स्कूल जाने वाले बच्चों के साथ-साथ युवाओं के बीच भी जागरूकता बढ़ाती है।
  • नवीनीकृत स्मारक को पुन: देना शुरू करें।

इस प्रकार कई तरीकों से हम अपनी सांस्कृतिक संपत्तियों को संरक्षित रखने और वैश्विक मंच पर लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।
धन्यवाद!

विश्व विरासत दिवस पर भाषण – 3

माननीय प्राचार्य, उपाध्यक्ष, सम्मानित शिक्षकगण और मेरे प्रिय मित्रों – आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

सबसे पहले मैं यहां पर एकत्रित होने और इस समारोह को आयोजित करने के लिए हमारे स्कूल के सम्मानित प्राचार्य और उपाध्यक्ष के साथ-साथ हमारे प्रिय शिक्षकों को धन्यवाद देना चाहता हूं। दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आने वाले सप्ताहांत में हमारे स्कूल द्वारा जयपुर की राष्ट्रीय विरासत को देखने के लिए यात्रा आयोजित की गई है जिसके लिए हम बेहद उत्साहित हैं और वास्तव में इसका बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

इसलिए इस आने वाली यात्रा पर विचार करते हुए हम छात्रों के रूप में विश्व विरासत दिवस पर एक भाषण समारोह आयोजित करना चाहते थे ताकि छात्रों के बीच अधिक जागरूकता फैल सके और हमारी विरासत स्थलों को संरक्षित करने के लिए गंभीरता पैदा की जा सके।
मैं अपने व्यक्तिगत अनुभव की तर्ज पर बात कर रहा हूं और मुझे यकीन है कि आप में से प्रत्येक ने कहीं ना कहीं यह देखा होगा कि हमारे आसपास के कई लोगों में हमारी राष्ट्रीय विरासत के प्रति लापरवाही भरा रवैया विकसित हो गया है। यही कारण है कि हमें विरासत में मिले ऐतेहासिक भवनों से अक्सर छेड़छाड़ या वे क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। हालांकि ऐसा अधिकारियों द्वारा ऐतेहासिक स्थलों की निरंतर मरम्मत के काम के कारण है जिससे हमारा देश अभी भी अपनी सुंदरता को संरक्षित करने में सक्षम है और अगर ऐसा पूरी तरह से नहीं तो कम से कम इतना तो कर ले कि ये स्थल हर साल लाखों पर्यटकों को आकर्षित करे।

विरासत में मिले स्थल चाहे वे हमारे देश की या विदेशी भूमि से संबंधित हों उनका सम्मान किया जाना चाहिए और उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाया जाना चाहिए। इसलिए एक विशिष्ट दिन यानी 18 अप्रैल को समृद्ध सांस्कृतिक संपदा की विविधता के बारे में लोगों की चेतना को बढ़ाने और इन स्थलों की भेद्यता के बारे में जागरूक करने के लिए विश्व विरासत स्थलों को यह दिवस समर्पित किया गया है।

इस दिन लोगों को विश्व विरासत स्थलों की सुरक्षा करने और उन्हें संरक्षित करने की आवश्यकता के बारे में लोगों को जागरूक करने और इन स्मारकों जुड़े सांस्कृतिक मूल्यों के बारे में दुनिया को अवगत करने के स्पष्ट उद्देश्य के साथ मनाया जाता है। यह अमूल्य संपत्ति मानव जाति के लिए बहुत सम्मान का विषय है। चाहे वह ताजमहल हो - प्यार और प्रेम का एक प्रतीक या चीन की महान दीवार हो जिसे चंद्रमा स्व भी देखा जा सकता है या ग्रेट बैरियर रीफ हो जिसमें पानी के नीचे की दुनिया शामिल है या फिर माचू पिचू खंडहरों की संपत्ति हो जो इंकस की अवधि की गौरवशाली प्रतीक है - प्रत्येक विरासत स्थल के पास अपने आगंतुकों को लुभाने के लिए वास्तव में कुछ अद्वितीय प्रस्ताव है।

कई तरीकों से हम हम विश्व विरासत स्थलों के रखरखाव की दिशा में योगदान दे सकते हैं ताकि उनकी सुंदरता खत्म न हो और ये दुनिया भर के लोगों के लिए आकर्षण का बिंदु बने रहें। कम से कम हम इतना जरुर कर सकते हैं कि इन विरासत स्थलों के आस-पास कहीं भी कचरा या कूड़ा ना फेंकें। इस तरह हम प्रदूषण स्तर को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकते हैं। प्राकृतिक विरासत के साथ-साथ तटीय क्षेत्रों की ओर भी विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है क्योंकि वे विभिन्न लुप्तप्राय प्रजातियों को आश्रय प्रदान करते हैं। उदाहरण के लिए राष्ट्रीय उद्यान में जानवरों का शिकार करने पर सख्ती पाबंदी लगाई जानी चाहिए क्योंकि ये जानवर हमारे पृथ्वी ग्रह के पारिस्थितिक संतुलन को बनाए रखने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले कुछ दशकों में मानवीय गतिविधियों के कारण 100 से अधिक प्राकृतिक विरासत स्थलों के साथ छेड़छाड़ की गई है और अब गंभीरता से सोचने का सही समय है कि हम खुद ऐसे कदम उठाने से परहेज़ करें और दूसरों को इन स्थलों पर कचरा फ़ैलाने से रोकें।

मुझे बस इतना ही कहना था। धन्यवाद!


विश्व विरासत दिवस पर भाषण – 4

देवियों और सज्जनों नमस्कार - आप सभी का यहाँ स्वागत है और इस सांस्कृतिक विरासत यात्रा का हिस्सा बनने और इसे सफल बनाने के लिए बड़ी संख्या में आने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद। चूंकि मैं इस यात्रा के आयोजकों में से एक हूं इसलिए मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि आपको बेहद मज़ा आएगा और हमारे प्राचीन स्मारकों और विरासत स्थलों की शाही सुंदरता को अच्छे से समझ पाएंगे। आप अपने कैमरे और अन्य आवश्यक चीजें साथ ले जा सकते हैं ताकि आप यात्रा के हर पल का आनंद उठा सकें और इन स्थलों की यादें कैमरे में कैद कर सकें।

लेकिन दोस्तों इस यात्रा को शुरू करने से पहले कृपया मुझे हमारे विरासत स्थलों के महत्व और विश्व विरासत दिवस के उत्सव के पीछे कारणों के बारे में चर्चा करने का मौका दें। वैश्विक विरासत के रूप में हमारे जीवन में विश्व विरासत स्थलों के महत्व को समझने के लिए व्यक्तियों के साथ-साथ स्थानीय समुदायों को प्रेरित करने के उद्देश्य से दुनिया भर में विश्व विरासत दिवस मनाया जाता है। हर वर्ष यह दिवस 18 अप्रैल को मनाया जाता है। आईसीओएमओएस यानी फ्रांस में स्थित इंटरनेशनल काउंसिल ओन मोनुमेंट्स एंड साइट्स जिसने 1982 में विश्व विरासत दिवस के रूप में 18 अप्रैल के दिन को नामित किया था। इसके परिणामस्वरूप यूनेस्को आम सभा ने अगले वर्ष 1983 में इस प्रस्ताव को पारित किया।

इस दिन कई प्रकार के समारोह आयोजित किए जाते हैं जो लोगों को अपना प्राचीन अतीत याद करने में मदद करती हैं। हेरिटेज वाक जैसे कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। सांस्कृतिक और वैचारिक विचारों को आदान-प्रदान में सुविधाजनक बनाने के लिए विशेषज्ञ पैनलिस्टों के बीच चर्चाएँ और बहसें भी आयोजित की जाती हैं। चूंकि प्रत्येक वर्ष के लिए एक थीम तय की गई है और उस विशेष थीम पर ही वह दिवस मनाया जाता है। विश्व विरासत स्थलों के पालन के लिए पिछले वर्षों की थीम निम्नलिखित थी:

• हमारे ऐतिहासिक गांवों को बचाओ
• 20वीं शताब्दी की विरासत
• पानी के नीचे सांस्कृतिक विरासत
• औद्योगिक विरासत
• आईसीओएमओएस की 40वीं वर्षगांठ
• सांस्कृतिक परिदृश्य और प्रकृति के स्मारक
• मिट्टी वास्तुकला और विरासत
• विरासत, विज्ञान और कृषि विरासत
• धार्मिक विरासत और पवित्र स्थान

इस तरह एक थीम पर हर साल विश्व विरासत दिवस आयोजित किया जाता है ताकि बड़ी संख्या में लोग एक साथ आ सकें और इसकी ओर योगदान दे सकें। इस वर्ष आइए हम प्रतिज्ञा लें कि हम अब केवल पर्यटकों के रूप में ही कार्य नहीं करेंगे बल्कि जिम्मेदार यात्रियों के रूप में भी कार्य करेंगे। एक पर्यटक के रूप में यात्रा करने की बजाए एक स्वयंसेवक के रूप में विभिन्न स्थानों की यात्रा करें और मेजबान समुदायों के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए सार्थक योगदान दें जो विरासत स्थलों के रखरखाव की देखभाल कर सकते हैं। यदि आप विदेश यात्रा करते हैं, उनकी संस्कृति को अपनाते हैं और उपलब्ध संसाधनों का आनंद उठाते हैं, उदाहरण के लिए रेस्तरां में स्थानीय व्यंजनों को पसंद करना, पारंपरिक बाजारों से अपने लिए खरीदारी करना और स्थानीय परिवहन के माध्यम से यात्रा करना तो इससे उनकी अर्थव्यवस्था को जरूरी समर्थन मिलेगा।

जैसा कि विश्व पर्यटन संगठन ने बताया वर्ष 2017 में जब विश्व विरासत दिवस की थीम सतत पर्यटन थी, जो इस प्रकार है "पर्यटन वह है जो अपने वर्तमान और भविष्य के आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय प्रभावों की पूरी जिम्मेदारी लेता है, आगंतुकों की आवश्यकताओं, उद्योग, पर्यावरण और मेजबान समुदायों को संबोधित करता है"।

इस प्रकार नागरिकों के रूप में हमें न केवल हमारे देश के विरासत स्थलों को संरक्षित करना चाहिए बल्कि जिम्मेदार पर्यटकों के रूप में भी कार्य करना चाहिए और उस स्थान के समाज, अर्थव्यवस्था और पर्यावरण पर सकारात्मक प्रभाव डालने चाहिए।

धन्यवाद!