गांधी जयंती

गांधी जयंती 2020

गांधी जयंती 2020 शुक्रवार, 2 अक्टूबर को मनाया जायेगा।

2 अक्टूबर - महात्मा गांधी का जन्म दिवस

महात्मा गांधी जिन्हें भारतवासी प्यार से बापू भी कहते हैं उनका जन्म 2 अक्टूबर वर्ष 1869 को पोरबन्दर में गुजरात में कर्मचन्द गाँधी और पुतलीबाई के यहाँ हुआ था। यह प्रत्येक वर्ष गाँधी जयंती के नाम से धूम-धाम से मनाया जाता है, और पूरे भारत में राजपत्रित अवकाश होता है। महात्मा गाँधी को भारतीयों की स्वतंत्रता के लिए अपने अविस्मरणीय योगदान और संघर्ष के कारण भारत में बापू के नाम से जाना जाता है।

इस दिन राष्ट्रीय अवकाश होने के कारण सभी सरकारी कार्यालय, बैंक, स्कूल, कॉलेज, डाकघर इत्यादि बंद रहते हैं। इस दिन को गाँधी जयंती के रूप में मनाने के लिए कुछ व्यवसाय, विद्यालय और संगठन कुछ घंटे के लिए खुलते हैं। तरह-तरह के इवेंट रखे जाते हैं, जिनमे कोई महात्मा गाँधी का वेश धारण करता है तो कोई उनके मित्रों और माता-पिता का, और बापू द्वारा किये गए चुनिंदा  कार्यों को नाटक द्वारा पेश किया जाता है।

राजघाट पर गांधी जयंती का जश्न (राष्ट्र के पिता का स्मारक)

भारत में गांधी जयंती प्रार्थना सभाओं और राजघाट, नई दिल्ली में गांधी प्रतिमा के सामने श्रद्धांजलि देकर राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है। गांधी जयंती 2018 में अक्टूबर 2 पर मंगलवार को पङेगा। महात्मा गांधी की समाधि पर (राष्ट्रपति और भारत के प्रधानमंत्री की उपस्थिति में) प्रार्थना आयोजित की जाती है, जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनका सबसे पसंदीदा और भक्ति गीत (रघुपति राघव राजा राम) उनकी याद में गाया और बजाया जाता है। जिसे सुनकर लोगो के मन में उनकी प्रति और श्रद्धा आ जाती है। राज घाट का निर्माण वानू जी. भूता नामक आर्किटेक्ट द्वारा किया गया था जिसमें महात्मा गांधी जी की जीवन की सादगी को दर्शाया गया था।

स्कूलों में गांधी जयंती का जश्न

प्रमुख स्कूलों द्वारा हर साल 2 अक्टूबर को गांधी जयंती मनाने के लिये भव्य समारोह कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। स्कूल के बच्चे गाँधी जयन्ती के कार्यक्रम में पूरे उत्साह के साथ हिस्सा लेते है। गांधी जयंती, महात्मा गांधी के जन्मदिन की सालगिरह दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस के रूप में भी मनायी जाती है। छात्र बापू के सत्य और अहिंसा के संदेश पर आधारित एक गीत गाते हैं, कविताएं सुनाना और भाषणों और गायन से गांधीवादी दर्शन पर अपने स्वयं के दृष्टिकोण प्रस्तुत करते हैं।

छोटे बच्चे उस कार्यक्रम पर बिल्कुल गाँधी जी के रुप में तैयार होने के साथ ही राष्ट्रवादी गीतों पर अभिनय करते है। छात्र बैनर का उपयोग कर रैली में भाग लेते हैं जो देश भर में शांति और अहिंसा के महत्व को बताते हैं। समारोह के अंत में, छात्र और शिक्षक एक शपथ लेते है।

गांधी जयंती

यह कैसे मनाया जाता है?

भारत में लोगों 2 अक्टूबर को हर साल महात्मा गांधी के जन्मदिन की सालगिरह का जश्न निम्नलिखित कार्यक्रमों द्वारा मनाते है:

  • कला प्रदर्शनियों और निबंध प्रतियोगिताओं द्वारा।
  • जीवन के एक अहिंसक तरीके को उत्तेजित करने वाली परियोजनाओं के पुरस्कारों की प्रस्तुति।
  • महात्मा गांधी के जीवन और उपलब्धियों पर फिल्मों और पुस्तक पढ़ने का प्रदर्शन।
  • कई लोग गांधी के पसंदीदा भक्ति गीत रघुपति राघव राजा राम गाते हैं। फूलों या फूलों के मालाओं के बंच पूरे भारत में महात्मा गांधी की कई मूर्तियों पर रखे जाते हैं।
  • पूरे भारत में लोग प्रार्थना सेवाओं, स्मारक समारोह और श्रद्धांजलि देते हैं।
  • कला, विज्ञान की प्रदर्शनियों और निबंध की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है।
  • अहिंसक जीवन जीने के लिये बढावा देने के लिये पुरस्कार प्रस्तुतियों का आयोजन किया जाता है।
  • लोग महात्मा गांधी की उपलब्धियों और जीवन संघर्ष से संबंधित किताबें पढ़ते है और फिल्मों को देखते है।
  • भारत में कई जगहों पर लोग जैसे स्कूलों, कॉलेजों में बापू का प्रसिद्ध भक्ति गीत "रघुपति राघव राजा राम" को गाते है।
  • पूरे भारत के लोगों द्वारा सुंदर फूलों की माला महात्मा गांधी की प्रतिमाओं पर रखी जाती है।
  • कुछ लोग इस दिन मांस और शराब लेने से बचते है।
  • पूरे भारत में कई जगहों पर प्रार्थना सेवाएं, स्मारक समारोह और श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

 

महात्मा गांधी के बारे में

महात्मा गाँधी का पूरा नाम मोहन दास कर्मचन्द गाँधी है जिनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था। वह आमतौर पर राष्ट्रीय पिता या बापू के नाम से जाने जाते है। उनकी मृत्यु 30 जनवरी 1948 को हुई। उन्होंने राजनीतिक और आध्यात्मिक नेता के रुप में संघर्ष पूर्ण जीवन व्यतीत किया। भारत के लोगों द्वारा भारत की आजादी में उनकी प्रमुख भूमिका अविस्मरणीय है यही कारण है कि लोगों द्वारा उनके जन्मदिन की सालगिरह कई तरह के उत्सवों और समारोह के माध्यम से याद किया जाता है। बापू ने भारत की आजादी के लिए अहिंसक विरोध की अपनी खुद की तकनीकों का विकास किया था। उन्होंने अपने गैर हिंसक (अहिंसा) विरोध को सत्याग्रह अर्थात् नैतिक शासन का नाम दिया।

उन दिनों वह भारत और दक्षिण अफ्रीका भर में अपने अहिंसक सामाजिक अवज्ञा के लिए प्रसिद्ध हो गये थे। उन्होंने 1922 को अपने असहयोग आंदोलन के साथ ही 12 मार्च 1930 को नमक सत्याग्रह या नमक (दांडी) मार्च शुरू किया था। बापू के तथा सभी स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्ष पूर्ण प्रयासों के कारण ही भारत साल 1947 में 15 अगस्त को अपनी स्वतंत्रता प्राप्त करने में सक्षम हो गया है। पूरा देश रो रहा था जब वर्ष 1948 में 30 जनवरी को उनकी हत्या कर दी गई थी। संयुक्त राष्ट्र के द्वारा 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी का जन्मदिन मनाने के लिये यह अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रुप में मनाया जाता है।

वह सम्मानित व्यक्ति थे जिन्होंने भारतीय लोगों को अपने कपङे बनाकर पहनना सिखाया था। एक बार, ब्रिटिश सरकार ने 1800 के अंत और 1900 के प्रारंभ में भारत में कपड़ा की आपूर्ति पर प्रतिबंध लगा दी थी, तो महात्मा गांधी ने कुछ करने की ठानी। उन्होंने महसूस किया कि भारतीय जब तक आजाद नहीं हो सकते जब तक कि वे अपने खुद के कपङे और आवश्यक वस्तुओं का निर्माण नहीं करते। बापू ने पारंपरिक कताई पहियों और भारत के करघों का उपयोग करके अपने खुद के देसी सूती कपड़े बनाने के लिए भारतीय लोगों को प्रोत्साहित करना शुरू कर दिया। उस समय से पारंपरिक हाथ कताई पहियें और करघें बापू के भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष और जीवन का प्रतीक बन गया।

भारत में मुख्य समारोह

भारत में तीन स्थान महान और यादगार हैं जहां महात्मा गांधी के जन्मदिन समारोह मनाया जाता है:

  • नई दिल्ली में (गांधी स्मृति में शहीद स्तंभ), जहां 30 जनवरी 1948 में बापू को गोली मार दी गयी थी।
  • नई दिल्ली में (यमुना के तट पर राजघाट), जहां 31 जनवरी 1948 को बापू के शरीर का अन्तिम संस्कार किया गया था।
  • स्थान (त्रिवेणी संगम) जहाँ सभी तीनो नदियाँ, जिनके नाम है, गंगा, यमुना, सरस्वती, इलाहाबाद में मिलती है।

 

बापू (महात्मा गांधी) के कुछ प्रसिद्ध उद्धरण:

  • "जब भी आप एक प्रतिद्वंद्वी के साथ सामना करते हैं। तो प्यार के साथ उसे जीतें ।"
  • "अहिंसा, किसी भी प्राणी को विचार, शब्द या कर्म से चोट नहीं पहुँचाता है, यहाँ तक कि किसी प्राणी के लाभ के लिए भी नहीं।"
  • "जहाँ प्यार है, वहाँ जीवन है।"
  • "मैं आपके मसीहा (ईशा) को पसन्द करता हूँ, मैं आपके ईसाइयों को पसंद नहीं करता। आपके ईसाई आपके मसीहा (ईशा) के बहुत विपरीत हैं।"
  • "सबसे पहले आपकी उपेक्षा करते है, तब वे आप पर हंसते हैं, तब वे आप से लड़ते हैं, तब आप जीतते है।"
  • "मैं खुद के लिए कोई पूर्णता का दावा नहीं करता। लेकिन मैं सच्चाई के पीछे एक भावुक साधक का दावा करता हूँ, जो भगवान का दूसरा नाम हैं।"
  • "मेरे पास दुनिया को पढ़ाने के लिए कोई नई बात नहीं है। सत्य और अहिंसा पहाड़ो के जैसे पुराने हैं। मैंनें पूर्ण प्रयास के साथ विशाल पैमाने पर दोनों में प्रयोगों की कोशिश है, जितना मैं कर सकता था।"
  • "कमज़ोर कभी माफ नहीं कर सकते। क्षमा ताकतवर की विशेषता है।"
  • "आंख के बदले आंख पूरी दुनिया को अंधा बना देगी।"
  • “खुद में वो बदलाव लाये जो दुनिया में आप देखना चाहते है।”
  • "खुशी जब मिलेगी जब जो आप सोचते है, कहते है, और जो करते है, सामंजस्य में हों।"
  • “गरीबी दैवी अभिशाप नहीं बल्कि मानवरचित षडयन्त्र है।”
  • “ऐसे जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले हो। ऐसे सीखो की तुम हमेशा के लिए जीने वाले हो।”

 

 

छात्रों के लिए:

गाँधी जयंती पर निबंध

महात्मा गाँधी के प्रसिद्ध भाषण

महात्मा गांधी पर निबंध

महात्मा गाँधी पर भाषण

गाँधी जयंती पर भाषण

गाँधी जंयती पर स्लोगन

गांधी जयंती (2 अक्टूबर)

गाँधी जयंती पर कविता