वे खाद्य पदार्थ जो चिंता को दूर कर मनोदशा में सुधार करते हैं

एक स्वस्थ्य शरीर किसी भी तरह के दबाव से कम से कम प्रभावित होता है। आपने ऐसा देखा होगा कि आपके सहकर्मी किसी प्रोजेक्ट पर काम करते वक़्त काफी कम प्रभावित होते हैं जबकि उनकी अपेक्षा आप काफी ज्यादा उसे लेकर गंभीर हो जाते हैं और तनाव में भी आ जाते हैं। ऐसा सिर्फ उनकी मजबूत मानसिक शक्ति और उनकी बेहतर डाइट की वजह से होता है।

हर किसी को उसी तरह का खाना, खाना चाहिए जैसा कि उसका काम होता है, जैसे एक रोजाना काम करने वाले मजदूर को ज्यादा से ज्यादा कार्बोहाइड्रेट की आवश्यकता होती है जबकि मानसिक काम करने वाले को ज्यादा प्रोटीन की।

जैसा कि हम सभी जानते हैं हमारे तनाव के पीछे कई वजह होते हैं और एक बार जब आप उस वजह को ढूंढ लेते हैं और कुछ खाने की आदत डाल लेते हैं तो आपको काफी आराम मिलता है। इसी तरह से अपने मूड को बेहतर रखने और कम तनाव महसूस करने के लिए, आपको अपने रोजाना के आहार में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल करना होगा।

8 स्वस्थ खाद्य पदार्थ जो आपको चिंता घटाने और अपने मनोदशा में सुधार करने में मदद करते हैं (8 Healthy Foods that Help you to Reduce Anxiety and Improve your Mood)

1. कद्दू के बीज

तनाव कम करने और आपके मूड को बेहतर करने के लिए कद्दू के बीज सबसे बेहतर खाद्य पदार्थ माने जाते हैं। असल में, जब हमारा शरीर किसी तरह का डर देखता है या उसका सामना करता है तब तनाव की स्थिति उत्पन्न होती है। उस दौरान शरीर से जो हारमोंस निकलते हैं वो तनाव पैदा करते हैं और इस तनाव को कद्दू के बीज से नियंत्रित किया जा सकता है।

इसमें पोटैशियम, जिंक मौजूद होता है जो तनाव को कम करने में सहायक होता है। आपके पास और भी तमाम तरीके हो सकते हैं, जैसे कच्चा बीज या फिर कद्दू के बीज का तेल, स्नैक्स के रूप में सूखे बीज।

यह सलाह दी जाती है कि दिनभर में केवल एक कप कद्दू के बीज का सेवन करना चाहिए क्योंकि अत्यधिक मात्रा में फाइबर का सेवन आपको मुश्किल में डाल सकता है।

2. अंडा

अंडे में भी जिंक मौजूद होता है और जैसा कि हम जानते हैं कि जिंक तनाव को कम करने में सहायक है, जिंक GABA या ग्लूटामेट के स्तर को बढ़ाता है, जो तनाव को घटाने में आपकी मदद करता है।

जिंक में एंटी-स्ट्रेस और एंटी-डिप्रेशन जैसे कुछ प्राकृतिक गुण भी मौजूद होते हैं जो चिंता करते समय आपकी मदद करते हैं। न्यूरोट्रांसमीटर के अनुचित स्तर की उपस्थिति तनाव का कारण बनती है और जिंक इसे संतुलित करता है।

इसमें क्लोरीन भी होता है और यह एसिटाइलकोलाइन के रूप में न्यूरोट्रांसमीटर के उत्पादन के लिए सहायक माना जाता है। इन सभी गुणों के अलावा इसमें विटामिन-डी की भी प्रचुर मात्रा होती है और जैसा कि हम जानते हैं कि विटामिन-डी तनाव या अवसाद को कम करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और यह स्वचलित रूप से आपके मूड को बदल देता है।

ऊपर बताई गयी जानकारियों के अलावा अंडे में अमीनो एसिड, प्रोटीन, ट्रिप्टोफैन भी होते हैं, ये सभी तनाव को कम करने और आपके मूड को बेहतर बनाने में विभिन्न तरीकों से सहायक होते हैं, इसलिए अपने आहार में अंडे को शामिल करना न भूलें।

3. डार्क चॉकलेट

अक्सर ही आपने कई लोगों को काफी अधिक और विशेष रूप से चॉकलेट खाते हुए देखा होगा। असल में, डार्क चॉकलेट खाना काफी अच्छा माना जाता है क्योंकि इसमें पॉलीफेनोल होता है जो न्यूरोइंफ्लेमेशन के स्तर को कम करने में सहायक होता है और आपके मूड को भी बेहतर बनाता है।

इसमें मैग्नीशियम भी होता है जो आपकी याददाश्त में सुधार करता है, तनाव को कम करता है और आपके मूड को हल्का करता है।

चॉकलेट हमारे शरीर में सेरोटोनिन के स्तर में सुधार करता है, जो अवसाद और तनाव को प्रबंधित करने में काफी सहायक माने जाते हैं और हमें अच्छा महसूस कराता है। आमतौर पर, चॉकलेट के एक बार खाने के बाद हम शांत और आराम महसूस करते हैं। इसलिए, चॉकलेट खाना कभी ना भूलें।

4. दही

मानसिक स्वास्थ्य के लिए दही सबसे बेहतर आहार के रूप में माना जाता है। ये हमारे दिमाग को बेहतर तरह से कार्य करने में मदद करता है और इसमें मौजूद प्रोटीन के गुण नोरएपिनेफ्रीन और डोपामाइन के अच्छे स्तर का उत्पादन करने में सहायक होता है। ये सभी सफल और अच्छे हारमोंस के तौर पर भी जाने जाते हैं जो हमेशा हमें प्रेरित रखने में मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स की मौजूदगी भी हमारे दिमाग के स्वास्थ्य के लिए काफी मददगार होती है और हमारा मूड भी बेहतर बनाती है।

5. चिया बीज

अगर आप अक्सर दुखी या निराश महसूस करते हैं तो चिया बीज आपके लिए सबसे अच्छे उपचारों में से एक है। इसमें अमीनो एसिड होता है जो वास्तव में आपकी चिंता से निपटने में मददगार होता है। इसमें विभिन्न पोषक तत्व जैसे मैग्नीशियम, कैल्शियम, फैट जैसे ओमेगा-3, आयरन, आदि शामिल होते हैं। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए भी बेहतर माना जाता है। यह आपको किसी भी प्रकार के मानसिक विकार से बचाता है और आपको शारीरिक तथा मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है।

6. कैमोमाइल

कैमोमाइल एक फूल है और अनुसंधान में, यह साबित हो गया है कि यह तनाव को ख़त्म करने वाले गुणों को वहन करता है। यह विभिन्न प्रकार के त्वचा संक्रमणों, मुंह के घावों आदि में भी सहायक है। आप इसे अपनी चाय में या गोलियों के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं या इसका तरल अर्क भी आसानी से उपलब्ध है।

7. बादाम

बादाम में मैग्नीशियम होता है और यह चिंता के उपचार और इसके विभिन्न लक्षणों के उपचार के लिए बहुत अच्छी तरह से जाना जाता है। यह हमारे मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर के स्तर को प्रभावित करता है और हैप्पी हार्मोन को उत्तेजित करता है। हालांकि बादाम विटामिन ई, फाइबर का एक अच्छा स्रोत, कम संतृप्त वसा और सोडियम-मुक्त पदार्थों का एक समृद्ध स्रोत है। फिर भी, मैग्नीशियम की उपस्थिति चिंता से निपटने के लिए एक आदर्श संयोजन बनाती है।

8. ब्लू बैरीज़

ब्लूबेरी को विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत माना जाता है और यह विटामिन नई कोशिकाओं के विकास में काफी ज्यादा सहायक है। एंटीऑक्सिडेंट की समृद्ध संख्या हमारे मस्तिष्क के चिंता को कम करने में मदद करती है। उन्हें प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में भी जाना जाता है और कई मायनों में ये सहायक भी हैं। ब्लूबेरी पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस विकारों के इलाज में भी सहायक है। इसलिए, ब्लूबेरी को अपने आहार में शामिल करना एक बुरा विकल्प नहीं है।

चिंता को कम करने के लिए कुछ अतिरिक्त सुझाव (Some Additional Tips to Reduce Anxiety)

  • कार्बोहाइड्रेट मस्तिष्क के सेरोटोनिन नाम के रसायन को बनाए रखने में मददगार होते हैं और आपके तनाव के स्तर को कम करते हैं।
  • अधिक मात्रा में कुछ भी खाने से आपको झेलना पड़ सकता है, इसलिए केवल उतना ही खाएं जितना आवश्यक हो।
  • ग्रीन टी, ओट्स, खट्टे फल भी इस मामले में मददगार होते हैं।
  • ओमेगा-3 का भी सेवन करें क्योंकि यह मस्तिष्क के कामकाज में सुधार करता है और आपको विभिन्न मूड विकारों से बचाता है।
  • जिंक युक्त भोजन को शामिल करें क्योंकि सभी प्रकार के चिंता लक्षणों का यही इलाज करता है।
  • ढेर सारा पानी पिएं क्योंकि कभी-कभी ऑक्सीजन की अनुचित आपूर्ति के कारण हमारा मस्तिष्क अजीब तरह से काम करने लगता है और हम बिना किसी कारण के तनाव महसूस करते हैं, इसलिए हमेशा खुद को हाइड्रेटेड रखें।

आपके चिंता की वजह (Reasons behind your Anxiety)

कभी-कभी हम बिना किसी वजह के दुखी हो जाते हैं और कभी-कभी इसके पीछे कोई कारण भी हो सकता है। जब आप किसी कारण से दुखी होते हैं, तो आपको इसके लिए एक समाधान निकालना चाहिए, क्योंकि उस स्थिति में, केवल भोजन ही प्रभावी नहीं होगा। चिंता एक ऐसी चीज है जो आपकी आंतरिक शांति को समाप्त कर देती है और आपके स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर सकती है। जैसा कि हम जानते हैं चिंता के कारण विभिन्न बीमारियां हो सकती हैं जैसे थायराइड, मधुमेह, तनाव, अवसाद, थकान, कई स्वास्थ्य मुद्दे आदि।

चिंता विभिन्न प्रकार की हो सकती है और हम में से कुछ शारीरिक तनाव, मानसिक तनाव, सामाजिक तनाव आदि से पीड़ित हो सकते हैं। शारीरिक तनाव एक ऐसी चीज है जिसे आप किसी चोट या शारीरिक बीमारी के कारण महसूस करते हैं। इसके लिए दवा और कुछ उचित आहार की जरूरत होती है। जबकि कुछ उचित भोजन के साथ-साथ मानसिक देखभाल से सामाजिक और मानसिक तनाव को सुधारा जा सकता है।

खाने की कुछ गलत आदतें जो चिंता को बढ़ाती है (Some Wrong Food Habits that Improve Anxiety)

  • जंक और स्ट्रीट फूड को हमेशा न खाएं, उनमें केवल हानिकारक वसा होती है और इसके अलावा और कुछ नहीं होता। इस तरह के खाद्य पदार्थ में मौजूद हानिकारक वसा शरीर के विभिन्न भागों में रक्त और अन्य पोषक तत्वों की आपूर्ति को रोक देता है और इससे हृदय गति रुक ​​जाती है। वे आपका तनाव भी बढ़ाते हैं, इसलिए जंक फूड को न खाएं।
  • शराब, धूम्रपान, सभी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं और उनके भीतर का जहर हमारे मस्तिष्क के कामकाज में बाधा डालता है और आपके भीतर तनाव और निराशा को बढ़ाता है।
  • डिब्बाबंद फलों का रस, सोडा, आदि चिंता के मामले में अच्छे नहीं हैं क्योंकि उनमे अधिक मात्रा में चीनी मौजूद होती हैं जो हमारे लिए अच्छा नहीं है।
  • चिंता के दौरान कैफीन और उच्च सोडियम वाले भोजन से सख्ती से बचना चाहिए। वे हमारे मूड में जबरदस्त बदलाव लाने के लिए जिम्मेदार होते हैं और आपकी चिंता को बढ़ाते हैं।

चिंता और ख़राब मूड की कुछ प्रमुख कमियां जिनसे आपको बचना चाहिए (Some Major Drawbacks of Anxiety and Bad Mood that You Must Avoid)

  • अगर इलाज नहीं किया गया या उचित देखभाल नहीं हुई तो यह गंभीर अवसाद का कारण बन सकता है।
  • एक तनावग्रस्त व्यक्ति छोटी-छोटी बातों पर चिड़चिड़ापन महसूस कर सकता है और वे आसानी से क्रोधित हो जाते हैं।
  • उनके जीवन में प्रेरणा की काफी कमी होती है और यह उन्हें अवसाद की ओर ले जाता है।
  • वे लगातार सोचते हैं और नकारात्मक दिवा-स्वप्न उन्हें बर्बाद कर देता है।
  • या तो वे बहुत सोते हैं या बिल्कुल भी नहीं सो पाते हैं और हमेशा नींद नहीं आने की शिकायत करते हैं।
  • चिंता आपकी याददाश्त को भी प्रभावित कर सकती है और एकाग्रता की कमी का कारण बनती है। ध्यान का अभाव आपके काम को बुरी तरह से प्रभावित करता है और यह आपको आपके स्तर से काफी पीछे धकेल सकता है।
  • तनावग्रस्त व्यक्ति कभी भी अच्छे निर्णय नहीं ले पाता है, जिसके कारण उन्हें बहुत नुकसान उठाना पड़ता है।
  • चिंता की वजह से आप अपनी तत्काल उम्र से ज्यादा के नजर आने लगते हैं।

निष्कर्ष

लंबी सांस लें और हर एक चरण पर अपनी समस्या के उचित समाधान का पता लगाएं, जैसे शारीरिक, मानसिक आदि पर काम करें। केवल अच्छा भोजन करना ही पर्याप्त नहीं है; आपको अपना मूड बदलने के लिए कुछ शारीरिक गतिविधियों और कुछ अन्य चीजों का भी अभ्यास करना होगा। कभी-कभी हमारी दिनचर्या में एक साधारण बदलाव भी हमारे मूड को बदल सकता है। इसलिए, इन खाद्य आदतों के अलावा हमेशा कुछ नया और अत्यंत उत्साहपूर्ण करने की कोशिश करते रहना चाहिए, इससे आप हमेशा ऊर्जावान और खुश बने रहते हैं।