कैसे कुछ अलग हटकर सोचना शुरू करें (How to Start Thinking Outside the Box)

हमारे सोचने का तरीका हमारे व्यक्तित्व को दर्शाता है, हम अपने आसपास से क्या और कितना ग्रहण करते हैं और उसे किस अंदाज में लेते हैं उसी का परिणाम है कि हम क्या सोचते हैं। आसान शब्दों में, "अलग हटकर सोचना", अर्थात हमारे सोचने की क्षमता को उत्पादक तरीके से बढ़ाती है। हर व्यक्ति के सोचने की एक क्षमता होती है जो उसे दूसरों से अलग बनाती है। अगर हम अपने व्यक्तित्व से कुछ अलग करना चाहते हैं तब किसी एक खास वजह को लेकर कलात्मक सोच ही अलग हटकर सोचने को बढ़ावा देती है।

सोचने के परंपरागत तरीके अब रचनात्मक सोच वाले तरीकों से बदल गए हैं जो एक सकारात्मक रवैया है और कुछ अलग करने की चाहत दिखाता है। यह लीक से हटकर सोचने में मदद करता है।

हमें अलग हटकर सोचने की जरूरत क्यों है? (Why do we need to think Out of the Box?)

  • अलग हटकर सोचना इसलिए महत्वपूर्ण है ताकि रूढ़िवादी मानसिकता को तोड़ा जा सके और परंपरागत तरीके से परे सोचा जा सके।
  • अलग हटकर सोचने से खुद में आत्मविश्वास की भावना बढ़ती है और ये हमारे व्यक्तित्व को भी निखारती है।
  • रचनात्मक सोच ही सफलता की कुंजी है।
  • अलग हटकर सोचना हमें भीड़ में एक पहचान दिलाती है।

6 सर्वश्रेष्ठ तरीके जो आपकी मदद करेंगे कि कैसे आप अलग हटकर सोचें (Top 6 Ways that Help You How to Develop/Practice Thinking Outside the Box)

ऊपर किये गए चर्चा में, हमने यह तैयार किया है कि यहाँ पर कुछ विशेष मानसिक सोच क्षमता पैरामीटर हैं जो संयुक्त रूप से कुछ अलग हटकर सोचने की इस अवधारणा को बनाते हैं। ये पैरामीटर हमें एक अनोखे तरीके से सोचने का मौका देंगे। ये इस प्रकार हैं:

1. रचनात्मकता (Creativity)

रचनात्मकता एक विशेष तरह से सोचने की क्षमता है, जो जीवन के प्रति और कुछ अलग हटकर सोचने के लिए रचनात्मक तरीके इजाद करते हैं। अप्रत्‍यक्ष रूप से कह सकते हैं कि सक्रीय रूप से सोचना, ठीक उसी तरह से जैसा कि एक लेखक को हमेशा कुछ नए विचार की आश्यकता होती है इसलिए उनके क्षेत्र में रचनात्मकता एक अहम किरदार निभाती है।

2. नयापन (Innovation)

जब हम अपने रोजाना के दिनचर्या से कुछ अलग सोचना शुरू करते हैं, तब हम निश्चित रूप से कुछ नवीन विचारों के साथ आते हैं। नयापन भी एक मुख्य कारक है जो कुछ अलग हटकर सोचने को प्रेरित करता है। नयेपन का दृष्टिकोण बस किसी भी कार्य को करने के रचनात्मक तरीके के रूप में संदर्भित करता है।

3. पार्श्व सोच (Lateral Thinking)

अप्रत्यक्ष और रचनात्मक दृष्टिकोण के साथ जटिल समस्याओं को हल करने की मानसिक क्षमता को ही पार्श्व सोच कहा जाता है, इसमें तार्किक विचार और जटिल समस्याओं को हल करते समय किए गए प्रयास भी शामिल होते हैं। कुछ अलग हटकर सोचने को पार्श्व सोच के रूप में परिभाषित किया गया क्योंकि इसके पीछे रचनात्मक दृष्टिकोण और समस्या को सुलझाने के तरीके, पार्श्व सोच को संदर्भित करते हैं।

4. सरलता (Ingenuity)

सरलता का मूल शब्द सरल है जिसका लैटिन भाषा में मतलब है इंजीनियरिंग। सरलता का वास्तविक अर्थ किसी भी जटिल परिदृश्य को एक नए तरीके से हल करने की प्रवृत्ति, जैसा कि ऊपर हमने पार्श्व सोच के बारे में बताया; उसी तरह सरलता भी हमारे कम्फर्ट जोन से बाहर सोचने का एक तरीका है।

5. सकारात्मक सोचें (Think Positive)

सकारात्मक सोच और कुछ अलग हटकर सोचने के तरीके के बीच एक मजबूत संबंध है यानी कि सकारात्मकता हमें आत्मविश्वास और दूसरों से कुछ अनोखा करने की इच्छा देती है। कुछ अलग हटकर सोचना केवल तभी लागू हो सकता है जब पहले हम इसके सकारात्मक पहलुओं के बारे में सोचेंगे, इसमें कोई संदेह नहीं है कि हर प्रयास में काफी जोखिम होता है लेकिन यह जोखिम-उठाने वाली प्रवृत्ति केवल सकारात्मक सोच रखने वाले लोगों द्वारा ही प्राप्त की जा सकती है।

6. नकारात्मकता को खत्म करें (Eliminate Negativity)

नकारात्मकता या नकारात्मक विचार रखना हमारे जीवन को देखने के नजरिये को सीमित कर देता है। पारंपरिक मानसिकता से परे सोच के लिए, यह बहुत ही आवश्यक है की सबसे पहले हम अपने विचारों से नकारात्मकता को निकालें। नकारात्मकता निराशावादी दृष्टिकोण की तरफ ले जाती है। लेकिन, एक बार जब नकारात्मक दृष्टिकोण हट जाता है, यह स्वतः ही हमारी सोचने की क्षमता को काफी ज्यादा विस्तृत कर देता है। इस तरह से, नकारात्मक सोच के कारण लिए गए किसी भी गलत फैसले के लिए आसानी से सही रास्ता खोज सकते हैं।

अलग-अलग पेशों में कुछ अलग हटकर विचार कैसे लायें (How to Get Out of the Box Ideas in Different Professions)

अलग-अलग मनोरंजक सोच तकनीकों का विश्लेषण करने के बाद, हमने कुछ महत्वपूर्ण तत्व निकाले जो हमारी मानसिक क्षमता और विचार शक्ति को बढ़ाने में सहायक होंगे:

A. एक छात्र की तरह कैसे कुछ अलग हटकर सोचें (How to Think Out of the Box as a Student?)

एक छात्र के जीवन में, हर चरण उसे कुछ न कुछ सिखाता है। यह कहा जाता है कि सीखने की कोई उम्र नहीं होती है और छात्रों का जीवन वो वह मूल है जो आज हम है। छात्र भी अपने ज्ञान को समझने के लिए कुछ अलग हटकर सोच सकते हैं। यहां हम कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओं को सूचीबद्ध कर रहे हैं जो ज्ञान के क्षेत्र को व्यापक बनाने में सहायक हो सकते हैं:

  • प्रतिदिन अपने विचार लिखें (Write your thoughts daily)

जब हम एक छात्र की अवस्था में होते हैं, हम हमेशा सुनते हैं कि यह प्रतिदिन लिखने की आदत बनाओ, चाहे वह लिखावट सुधारने के उद्देश्य से हो या फिर हमारे बौद्धिक उद्देश्य के लिए; लिखना आवश्यक है। छात्र की अवस्था में, अगर हम अपने विचारों को लिखना शुरू करते हैं, तो इससे न सिर्फ हमारी मानसिक क्षमता में वृद्धि होती है, बल्कि रचनात्मक सोच भी विकसित होगी।

  • पाठ्यतर गतिविधियों द्वारा (By Extra-curricular Activities)

पाठ्यतर गतिविधियां हमारे दैनिक शैक्षणिक पाठ्यक्रम से बाहर विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों को शामिल करती हैं। छात्र अपनी रुचि के अनुसार अपने स्कूलों में थिएटर, संगीत और नृत्य, क्लब, आदि में शामिल हो सकते हैं। ऐसा करने से उनमे आत्मविश्वास का विकास होता है और यह उनके व्यक्तित्व को बढ़ाने में भी मददगार होगा।

  • एक उद्देश्य के लिए अपने विचारों को इक्कठा कीजिये (Collect Your Ideas For a Purpose)

अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए, यह बहुत ही आवश्यक है कि आप अपने विचारों को इस तरह से इकट्ठा करें जो न सिर्फ आपके भविष्य के लिए मायने रखता हो बल्कि आज के लिए भी हो। संक्षेप में बोला जाये तो विचारों को इक्कठा करना हमारी मानसिक क्षमता के विस्तार में काफी उपयोगी है। अपने विचारों को एक निश्चित तरीके से संकुचित करने का प्रयास करें, जैसा कि हमने ऊपर उल्लेखित कर रखा है कि लिखने की आदत आपके नवीनतम विचारों का लेखा-जोखा रखने में उपयोगी हो सकती है।

  • विचार-मंथन वाली पहेलियाँ सुलझाना (Solving Brainstorming Puzzles)

समूह समस्या हल करने की तकनीक यानी विचार-मंथन का अभ्यास करके, छात्रों की मानसिक क्षमता में सुधार किया जा सकता हैं। कक्षा में, कुछ महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करते समय छात्र विचार-मंथन तकनीक आजमा सकते हैं, और अपने-अपने विचार क्रमशः कागज के एक टुकड़े पर रख सकते हैं और समूह के विचारों से निकाले गए सामान्य निष्कर्ष को अंतिम परिणाम के रूप में लिया जाएगा।

  • मदद के लिए पूछना (Ask for Help)

पढ़ाई में सलाह और मदद मांगने से छात्रों में एक आत्मविश्वास का व्यवहार विकसित होगा, अगर वे बिना किसी हिचकिचाहट के मदद मांगते हैं, तो इससे उन्हें आत्मविश्वास बनाने में मदद मिलेगी और अपनी समस्याओं से खुलकर निपटने की आदत भी विकसित होगी। लोग, जो उनके प्रश्नों को हल करने में उनकी मदद करते हैं, वो उन्हें एक नया तरीका प्रदान कर सकते हैं।

B. लेखक के रूप में कुछ अलग हटकर कैसे सोचें? (How to Think Out of the Box as a Writer)

लेखन के क्षेत्र में, हर कलम को बाकी दूसरों से अलग होना होता है क्योंकि केवल तब ही रचनात्मक वस्तु का निर्माण होगा। लेखन के लिए अवलोकन की आवश्यकता होती है, विचारों को समेटना, विचारों का निर्माण और फिर उन्हें अपने तरीके से घटनाओं की नई श्रृंखला में डालना। यहाँ हम आपको कुछ ऐसी अवधारणाएँ प्रदान करने जा रहे हैं जो एक लेखक के लिए कुछ अलग हटकर सोचने में मददगार होंगी-:

  • अपने लेखन की आदत बदलें (Change Your Writing Habit)

अपनी लेखन आदत को बदलना दर्शाता है कि,  पारंपरिक कुर्सी और मेज के उस दृश्य को जिसे हम हमेशा सोचते हैं। लेखन को बदला जा सकता है, लेखक अपने आस-पास से प्रभावित होता है, वह कभी नहीं जानता कि वह अपनी अगली रचना के लिए विचार कहाँ प्राप्त कर सकता है, लेकिन क्या होगा जब वह लम्बे समय तक एक ही डेस्क पर बैठा रहेगा, और एक वक़्त के बाद उसकी सोचने की क्षमता बंद हो जाएगी, इसलिए लंबे समय तक एक ही जगह पर बैठे रहेने की इस आदत को बदला जा सकता है।

  • क्रन्तिकारी विचारों को सूचीबद्ध करें (List Out the Striking Ideas)

एक लेखक के लिए यह सबसे जरूरी है कि उसके दिमाग में आने वाले विचारों के संग्रह को सूचीबद्ध करे, यह उसकी सोच की क्षमता को दूसरे स्तर पर ले जाने के लिए तराशती है। गैर-पारंपरिक विचारों के संग्रह से बाहर निकलना उबाऊ हो सकता है लेकिन अगर विचारों को एक समन्वित तरीके से सूचीबद्ध किया जाए तो लेखक ने जो भी तरीका अपनाया हो वह अधिक रचनात्मक और प्रभावी होगा।

  • स्वतंत्र लेखन की आदत बनाओ (Make a Habit of Freewriting)

अगर आप अपना भविष्य, लेखन के क्षेत्र में देख रहे हैं, तो बेतरतीब लिखने की आदत डालें। अपने आसपास से कोई भी एक विषय चुनें, जैसे आप राजनीति, प्रमुख राष्ट्रीय मुद्दों के बारे में लिख सकते हैं। लेखन उद्योग में स्वतंत्र लेखन पहला कदम है। स्वतंत्र लेखन की आदत से ही आप अद्वितीय विचार और तकनीक तैयार कर सकते है।

  • विचार-मंथन (Brainstorming Ideas)

विचार-मंथन हमारे दिमाग में एक समय के लिए आने वाले तमाम विचारों का एक ढांचागत प्रतिनिधित्व है। विचारों की सचित्र प्रतिनिधित्व तकनीक हमें उस अंतिम विषय तक पहुँचने में मदद करती है जिसकी हम मांग कर रहे हैं। हमारी मानसिक सोच की क्षमता को प्रति मिनट में होने वाले उतार-चढ़ाव के रूप में परिभाषित नहीं की जा सकती है, इसलिए यदि हम अपने हर विचार की तस्वीर बनाते हैं, तो निष्कर्ष हमें हमारे अगले लेखन सामग्री के बारे में एक महान विचार बनाने में मदद करेगा।

C. एक उद्यमी के रूप में कुछ अलग हटकर कैसे सोचें? (How to Think Out of the Box as an Entrepreneur)

एक व्यवसाय चलाते समय हमेशा कुछ अलग हटकर सोचने की जरूरत होती है। एक उद्यमी के लिए, हमेशा सर्वोत्तम प्रबंधन की आवश्यकता होती है और इसे तभी हासिल किया जा सकता है जब अन्य व्यावसायिक लीडरों से हटकर कुछ अलग तकनीक को लागू किया जाए। उद्यमी के दृष्टिकोण से कुछ अलग हटकर सोचने को बढ़ावा देने वाले कुछ बिंदु यहां दिए गए हैं:

  • अपने निर्णय में भरोसा रखें (Be Confident in Your Decision)

एक उद्यमी के लिए, बिना किसी ‘अगर और मगर’ के निर्णय लेना बेहद महत्वपूर्ण है। उद्यमी को अपने निर्णय में स्पष्ट होना चाहिए और उसे अपने निर्णय पर और भविष्य के परिणामों को ध्यान में रखकर समझदारी से काम लेना चाहिए। उसे यह सोचना होगा कि जो निर्णय वह लेने जा रहा है वह उसके व्यवसाय के लिए बेहतर है और इसका जो भी परिणाम होगा वह उसे सकारात्मक रूप से लेगा और उसका यह रवैया उसे एक अलग व्यावसायिक एजेंडा बनाने में मदद करेगा।

  • नवीनतम तकनीक (Innovative Techniques)

यदि कोई व्यवसाय योजनाबद्ध तरीके से चल रहा है तो कोई भी व्यक्ति सफलता को बाधित नहीं कर सकता है। लेकिन यहाँ सवाल यह है कि एक अच्छी व्यावसायिक योजना का मंत्र पेशेवर और नौसिखियों के लिए क्या है? जो इस क्षेत्र में नए हैं अपने नए स्टार्ट-अप के साथ? हर व्यवसाय के लिए, कुछ विचारों का एक समूह होता है, लेकिन रचनात्मकता के लिए कोई सीमा नहीं होती है और ज्यादा से ज्यादा नवीन विचार एक सफल व्यवसाय की कुंजी होती हैं। जैसे थॉमस अल्वा एडिसन, अमेरिका की सदी का सबसे बड़ा आविष्कारक जो सफलता का सबसे बेहतर उदाहरण है, उनके समर्पण और उत्कृष्ट प्रयासों के कारण उन्हें फोनोग्राफिक, मोशन पिक्चर्स और अन्य वैज्ञानिक उद्योगों के क्षेत्र में 1,093 पेटेंट का अधिकार मिला।

  • तुलनात्मक रूप से अध्ययन करें (Study Comparatively)

बाजार में स्थापित अन्य उद्योग क्या हैं और वे दूसरों से अलग कैसे हैं, एक तुलनात्मक अध्ययन आपके व्यवसाय के लिए रचनात्मक विचार प्राप्त करने में मददगार होगा। तुलना उद्योगों के बीच प्रतिस्पर्धा पैदा करती है और यह प्रतियोगिता नवीन विचारों को विकसित कर सकती है।

  • अनुकूलन क्षमता (Adaptability)

एक बेहतर व्यवसाय योजना के लिए, उस स्थिति के अनुकूल होना आवश्यक होता है जो आपके चारों ओर हो रहा है। मान लीजिए अगर राष्ट्र मुद्रास्फीति अर्थव्यवस्था का सामना कर रहा है, तब हमारा व्यवसाय भी इसकी वजह से प्रभावित होगा, इसलिए उद्यमियों को किसी अन्य योजना के साथ तैयार रहना होगा। हमारे व्यवसाय के लिए नए विचारों और तकनीकों को विकसित करना जो हमारे व्यवसाय के लिए अनुकूल हो वह काफी अच्छा है।

  • कार्य की गुणवत्ता पर ध्यान दें (Focus on the Quality of Work)

कर्मचारियों से गुणवत्तापूर्ण कार्य प्राप्त करने के लिए, उद्यमी नई-नई तकनीकों और नए विचारों को लागू कर सकते हैं। वही 8 घंटे की नौकरी कभी-कभी कर्मचारियों के लिए काफी ज्यादा बोझिल हो जाती है, इस थकान के मुद्दे का हल निकालने के लिए उद्यमी उनके वेतन में वृद्धि कर सकते हैं जिससे कर्मचारी का मनोबल बढ़ता है, कार्यालय परिसर के अंदर कुछ कार्यक्रम आयोजित किया जा सकता है और कर्मचारियों के मनोबल को बढ़ाने के लिए कई अन्य रणनीतियों को भी लागू किया जा सकता है और यदि वे संतुष्ट होंगे तो उनकी कार्य करने की क्षमता स्वतः ही बढ़ जाएगी।

  • स्थान बदलें (Change Places)

नियमित दिनचर्या से हटना, चाहे वह आपका कार्यस्थल हो या फिर आपका घर, यह आपको स्वतंत्र रूप से सोचने में काफी मददगार होता है। यहां शिफ्ट करने से मतलब अपने नौकरी को बदल लेना बिलकुल भी नहीं है, इसका मतलब उस जगह से है जहां आप आमतौर पर काफी घंटे सोचते-विचारते हुए बिताते हैं, इसे कुछ समय के लिए बदल दें। टहलने जाएं और फिर उसी मुद्दे के बारे में सोचें, निश्चित रूप से, आप अपने दिमाग में बेहतर परिणाम ले कर आयंगे।

  • दूसरों से सीखें (Learn From Others)

कोशिश करें कि खुद को हमेशा रचनात्मक व्यक्तित्वों के साथ घिरा रखें, जो आपको न सिर्फ सकारात्मक तरीके से सलाह दें, बल्कि आपके नकारात्मक गुणों की आलोचना भी करें। यह कहना मुश्किल है कि कौन लोगों को प्रभावित कर रहा है और कौन नहीं, इसलिए अपने आसपास के हर व्यक्ति से कुछ सकारात्मक हासिल करने की कोशिश करें। हर किसी से कुछ अच्छा सीखने का यह जुनून हमारी मानसिक क्षमता का विस्तार करता है और हम अपने दिमाग में बसे एक ही तरह के ढाँचे से बाहर निकलना शुरू कर देते हैं।

  • ऐसा सोचें कि कोई बॉक्स है ही नहीं (Think Like There is No Box)

सोचिये कि कोई बॉक्स है ही नहीं, सोचने की कोशिश करें कि यहाँ पर सोचने की तकनीक का कोई पारंपरिक या पुराना तरीका नहीं है और हमारे पास सोचने के लिए कोई सीमा नहीं है, अपने व्यक्तित्व विकास की प्रक्रिया के लिए जो भी चाहें सकारात्मक सोच सकते हैं। एक बार कुछ अलग हटकर सोचने की अवधारणा को स्वतंत्र रूप से सोचने में बदल दिया जाएगा, तब समस्याओं का आधा हल तो वैसे ही हो जाएगा।

कुछ अलग हटकर सोचने के लिए कुछ अन्य गतिविधियाँ (Some more Activities for Thinking out of the Box)

  • दिमागी पहेली, सुडोकू, याहत्ज़ी जैसे गेम खेलें, गणितीय समीकरणों को हल करें, विजुअल ब्रेन टीज़र, तार्किक विचार और नाइन डॉट्स जैसी पहेलियाँ हमारी मानसिक विचार क्षमता में सुधार ला सकती हैं।
  • कविताएँ लिखना, लघु कथाएँ और डायरी लिखना हमारी कल्पना शक्ति को बढ़ा सकता है।
  • रचनात्मक विचारों को उत्पन्न करने के लिए यात्रा भी आपकी काफी मदद कर सकती है।
  • ध्यान का अभ्यास करना, योग हमारी सोचने की क्षमता को बढ़ा सकता है।
  • कभी-कभी शावर के नीचे स्नान करना भी विचार उत्पन्न करने में मदद करता है।

प्रसिद्ध व्यक्तित्व जिन्होंने इस अवधारणा को सही ठहराया (Famous Personalities Who Justified the Concept)

दुनिया भर में तमाम ऐसी दिग्गज हस्तियां हैं जिन्होंने कुछ अलग हटकर करने की तकनीक को अपनाया और जब उन्होंने अपने विचारों को एक तस्वीर में उतारा, तो उन्होंने दुनिया की मदद की और उन्होंने अपने काम से एक नया मानदंड स्थापित किया। इस तरह के व्यक्तित्व वालों में अल्बर्ट आइंस्टीन, थॉमस अल्वा एडिसन, एपीजे अब्दुल कलाम, और एंटोन चेखव तथा तमाम ऐसे ही महान लोग शामिल है जो विज्ञान और प्रौद्योगिकी, साहित्य और अन्य क्षेत्रों से जुड़े हुए हैं।

संकल्पना की उत्पत्ति (Origin of the Concept)

ऐसा कहा जाता है कि 1970 और 1980 के दौरान कुछ व्यावसायिक सलाहकारों ने अपने ग्राहकों की मानसिक क्षमता को परखने के लिए कुछ अलग हटकर करने की सोच वाली थ्योरी को उत्पन्न किया था। उन्होंने एक नाइन डॉट्स वाली पहेली बनाई और पहेली को हल करते समय उठाए गए ग्राहकों द्वारा अधिकतम प्रयास उनकी पार्श्व सोच के मानदंड थे।

नाइन डॉट पहेली - कुछ अलग हटकर सोचने से कैसे सम्बंधित है? (How is Nine Dot Puzzle Related to Thinking Out of the Box?)

नाइन डॉट्स पहेली वाले सिद्धांत को वर्ष 1969 में जॉन आदिर द्वारा परिचित कराया गया था। माइक वेंस, जो एक मशहूर प्रबंधन सलाहकार थे उन्होंने कार्पोरेट जगत में नाइन डॉट पहेली सिद्धांत की पहल भी की थी।

नौ निश्चित डॉट्स का एक सेट जो एक दूसरे से एक निश्चित दूरी में व्यवस्थित है उसे नाइन-डॉट पहेली कहा जाता है। यह पहेली हमारी मानसिक क्षमता और हमारी बुद्धि की जाँच के लिए बनी है। इस पहेली को खेलने के नियम कुछ इस प्रकार से हैं:

  1. पेन या पेंसिल से एक बार में, चार सीधी रेखाएं डॉट्स को एक दुसरे से जोड़ते हुए खिंची जाएँगी।
  2. लाइन खींचने के दौरान पेन या पेंसिल उठनी नहीं चाहिए।
  3. रेखा खींचने के संभावित प्रयासों की संख्या को गिना जाएगा।
  4. वह प्रयास किसी भी व्यक्ति की पार्श्व सोच के बारे में बताएगा।

निष्कर्ष (Conclusion)

कुछ अलग हटकर सोचने की धरणा कई तकनीकियों और सकारात्मक विचार वालों द्वारा अपनाई गयी थी। यह धारणा अपने आप में ही रचनात्मकता और पार्श्व सोच के बारे में बताती है; अपने विचारों में रचनात्मकता लाने के लिए और अपनी मानसिक क्षमता को बढ़ाने के लिए हम प्रेरित होते हैं, कुछ अलग हटकर सोचने के लिए। यदि हम अपने आराम क्षेत्र से बाहर निकलें, अपने पूर्वनिर्धारित मनःस्थिति से बाहर निकलें तो निश्चित रूप से हमारे दिमाग में साहसी विचार आएंगे।