कहावत

समय ही धन है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) “समय ही धन है” इस कहावत का अर्थ है कि धन कमाना आपके समय नियोजन पर आधारित होता है। आपने अपना समय प्रबंधन किस तरह से किया है यह तय करता है कि आप आर्थिक रूप से कितनी तरक्की कर रहे हैं। हर एक क्षण का इस्तेमाल होना चाहिए, सही काम करते हुए, …

समय ही धन है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

परोपकार घर से आरंभ होती है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) “परोपकार घर से आरंभ होती है” इस कहावत का मतलब है कि पहले अपने परिवार की जरूरतों को पूरा करो उसके बाद पुण्य के लिए बाहर वालों की मदद करो। इस बात का कोई मतलब नहीं बनता है कि आप बाहरियों की मदद करते फिरें जबकि आपके अपके घर में ही ऐसे लोग …

परोपकार घर से आरंभ होती है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

समय में एक सिलाई नौ बचाता है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) ‘समय में एक सिलाई नौ बचाता है’ इस कहावत का मतलब है कि अगर कपड़े का एक उधड़ा हुआ हिस्सा नहीं सिला जाये, तो वह उधड़न, समय के साथ और भी बड़ा हो जाएगा। यह सन्दर्भ समस्याओं का समाधान करने की तरफ है या समय पर समस्याओं को बांटने की तरफ; अन्यथा, वे …

समय में एक सिलाई नौ बचाता है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

हजारो मील के सफर की शुरुआत एक छोटे से कदम से होती है' - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) ‘हजारो मील के सफर की शुरुआत एक छोटे से कदम से होती है’ इस कहावत का अर्थ ये है कि बड़ी उपलब्धियां छोटे लेकिन ठोस हल के माध्यम से की जाती हैं। जीवन का लक्ष्य और सपने एक योजना बनाकर और उसकी ओर पहला कदम बढ़ाकर ही हासिल किया जाता हैं। पहला कदम …

हजारो मील के सफर की शुरुआत एक छोटे से कदम से होती है’ – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

आग लगाने के लिए एक चिंगारी ही काफी है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) ‘आग लगाने के लिए एक चिंगारी ही काफी है’ इस कहावत का मतलब ये है कि एक छोटा सा कार्य बड़ा बदलाव ला सकता है। तूफान के वक़्त एक छोटी सी चिंगारी जंगल में आग लगा सकती है, जो विकराल रूप लेकर पूरे जंगल को जला सकती है। इतिहास में झांके तो हम …

आग लगाने के लिए एक चिंगारी ही काफी है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

ज़रूरत में काम आने वाला दोस्त ही सच्चा दोस्त होता है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) ‘ज़रूरत में काम आने वाला दोस्त ही सच्चा दोस्त होता है’ इस कहावत का अर्थ यह है कि जब मुसीबत के वक़्त आपका दोस्त आपके साथ है, तो समझ लीजिये सही मायने में वही आपका दोस्त है। दोस्ती मुश्किल वक्त में ही परखी जाती है और दोस्त जो अच्छे बुरे हर वक़्त में …

ज़रूरत में काम आने वाला दोस्त ही सच्चा दोस्त होता है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

एक समझदार आदमी को सलाह की आवश्यकता नही पड़ती और एक बेवकूफ कभी सलाह लेता नहीं है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) वह कहावत, ‘एक बुद्धिमान व्यक्ति को सलाह की जरूरत नहीं होती है और एक मूर्ख व्यक्ति इसे नहीं लेता है’, इसका मतलब है कि एक बुद्धिमान व्यक्ति अपने निर्णय लेने के लिए पहले से ही अनुभवी और जानकार होता है, उसे किसी और से सलाह की आवश्यकता नहीं होती है। वह अपनी कार्य …

एक समझदार आदमी को सलाह की आवश्यकता नही पड़ती और एक बेवकूफ कभी सलाह लेता नहीं है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »

कथनी से अधिक करनी बोलती है - अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व

अर्थ (Meaning) ‘कथनी से अधिक करनी बोलती है’ इस कहावत का अर्थ है कि किसी के विचार, योजना और कार्यसूची पर कार्य करना, उसके बारे में बोलने से कहीं अधिक महत्वपूर्ण होता है। दूसरों के द्वारा आपका कार्य देखा जाता है, ना कि आपके द्वारा कहा गया कुछ। आप जो भी कहते है संभव है …

कथनी से अधिक करनी बोलती है – अर्थ, उदाहरण, उत्पत्ति, विस्तार, महत्त्व Read More »