भूकंप पर भाषण

समय-समय पर दुनिया के विभिन्न हिस्सों में भूकंप आते रहते हैं। भूकंप एक प्राकृतिक आपदा है और यह सुनामी, अकाल या बाढ़ के रूप में विनाशकारी हो सकता है। कई बार प्राकृतिक आपदाओं ने लोगों को चकित और हैरान कर दिया और उनके खत्म हो जाने के बाद वे असहाय बन गए। आपको विभिन्न अवसरों पर भूकंप पर भाषण देना आवश्यक हो सकता है इसलिए हमने भूकंप पर भाषण के विभिन्न नमूनों को यहां साझा किया है। भूकंप पर छोटे भाषणों में इस्तेमाल की जाने वाली भाषा बेहद सरल है और बच्चों को इसका अर्थ समझाने के लिए स्कूल स्तर पर इनका इस्तेमाल किया जा सकता है। आप कार्यालय या कॉर्पोरेट स्तर पर भूकंप पर हमारे लंबे भाषणों का उपयोग कर सकते हैं। ये भूकंप पर भाषण व्यापक हैं और इन नमूनों से आप अपनी खुद की भाषा में भूकंप पर भाषण तैयार कर सकते हैं।

भूकंप पर लम्बे और छोटे भाषण (Long and Short Speech on Earthquake in Hindi)

भूकंप पर स्पीच/भाषण 1

आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकगण और प्रिय छात्रों!

सबसे पहले मुझे अपने स्कूल के वार्षिक उत्सव के लिए आमंत्रित करने के लिए मैं स्कूल प्राधिकरण को धन्यवाद देना चाहूंगा। मैं पर्यावरण खतरों और आपदा प्रबंधन, भारत के साथ काम कर रहा हूं। आज मैं भूकंप के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी साझा करने जा रहा हूं।

आप सभी युवा और बुद्धिमान बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं। प्राकृतिक आपदा के घटने पर आपको कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाए जाने के बारे में पता होना चाहिए। मुझे यकीन है आपको याद होगा कि गुजरात में आए 2001 के भूकंप को भूज भूकंप के रूप में भी जाना जाता है। 26 जनवरी को जब पूरा भारत गणतंत्र दिवस मना रहा था तो उस दिन आया यह सबसे बड़ा भूकंप था।

विनाशकारी भूकंप में लगभग दो मिनट तक चला जिसमें 19727 लोगों सहित कई स्कूल के बच्चे मृत्यु के काल में समा गए और लगभग 166,000 लोग घायल हुए थे।

मुझे यकीन है कि आप जानते हैं कि भूकंप से पृथ्वी कांपती है। जब पृथ्वी की परत के टुकड़े अचानक हिलते हैं तो यह भूकंप का कारण बनता है। पृथ्वी की बाहरी परत जो पतली है पृथ्वी के अंदर गहरी गर्म पत्थर के समान है बजाए ठंडे और नाजुक होने के। पतली परतें छोटी और बड़ी दरारों से भरी हुई हैं जिन्हें फाल्ट्स कहा जाता है। ये फाल्ट्स बहुत लंबे समय तक हो सकते हैं लेकिन हम आमतौर पर दरारें नहीं देख सकते हैं क्योंकि वे धरती के अंदर गहराई में छिपी होती हैं तथा धरती की क्रस्ट बहुत मजबूती से साथ संकुचित हो जाती है।

जो प्रमुख ताकतें क्रस्ट टुकड़े को संकुचित करती हैं वे पृथ्वी को धीरे धीरे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं। पृथ्वी की परत कई वर्षों तक एक साथ बनी रहती है लेकिन अंततः प्रमुख शक्ति जो उन्हें धक्का देती है वो उन्हें टुकड़ों में तोड़ने और चलने के लिए मजबूर करती हैं। चट्टान में इस तरह के अचानक हिलन-डुलन से चारों ओर की सभी चट्टानें स्थानांतरित हो जाती हैं जिसे भूकंप कहा जाता है।

आप सभी को भूकंप के दौरान और भूकंप के बाद में उठाने वाले कदमों के बारे में जानकारी होनी चाहिए। जब भूकंप आता है तो आपको अपने शरीर की हलचल को कम करना चाहिए। आपको पता होना चाहिए कि ज़्यादातर चोटें भूकंप के दौरान लगती हैं क्योंकि लोग अति उत्तेजित होते हैं और चारों ओर घूमने लगते हैं नतीजतन गिरकर मस्तिष्क और सिर की चोटों के शिकार होते हैं। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपके सिर और शरीर सुरक्षित है। अगर भूकंप खत्म होने के बाद आपको स्कूल के परिसर को छोड़ने का मौका मिलता है तो लिफ्ट की बजाए सीढ़ियों का उपयोग कीजिए। भूकंप के बाद के झटके और बिजली की कटौती लिफ्ट को बंद कर सकती है। अपने स्कूल परिसर या अपने घर से बाहर निकलने से पहले आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई ऐसा मलबा या इमारत न हो जो आप पर गिर जाए।

अगर आप खेल के मैदान में हैं या घर से दूर हैं तो आपको केवल तभी लौटना चाहिए जब स्थानीय अधिकारी आसपास की सुरक्षा की पुष्टि कर दें। आपको अपने रिश्तेदारों, पड़ोसियों, मित्रों और अपने आप का ध्यान रखना चाहिए और किसी भी चोट के मामले में प्राथमिक उपचार प्राप्त करना चाहिए।

यह आमतौर पर देखा गया है कि एक विनाशकारी भूकंप के बाद पृथ्वी में हल्के झटकें जारी रहते हैं। आपको संभावित भूस्खलन और झटके यहां तक ​​कि एक बड़ी आपदा के लिए तैयार करना चाहिए। यदि आप किसी भी भूकंप के बाद के झटकों को महसूस करते हैं तो आपको खुद को सुरक्षित जगह ले जाना चाहिए और उसी जगह पर बैठ जाना चाहिए। एक और बात जिस पर विचार करना चाहिए वह आग है। यदि आपको कहीं थोड़ी सी भी आग दिखती है तो उसे बुझाने की कोशिश करें।

ज्यादातर समय भूकंप की स्थिति में लोग स्तब्ध हो जाते हैं। यदि भूकंप लम्बे समय तक चला तो यह विनाशकारी साबित हो सकता है। आपको न केवल खुद की रक्षा करनी है बल्कि दूसरों को भी बचाना है। पृथ्वी में हलचल होने से सावधानी बरतें और समझदारी से कार्यवाही करें।

धन्यवाद।

 

भूकंप पर स्पीच/भाषण 2

प्रिय दोस्तों!

आज विश्व आपदा न्यूनीकरण दिवस है और मुझे विशेष रूप से इस मीटिंग के लिए बुलाया गया है ताकि प्राकृतिक आपदाओं को रोकने के लिए हमारी कंपनी द्वारा उठाए कुछ महत्वपूर्ण कदमों के बारे में आपको अवगत कराया जा सके। सबसे खतरनाक प्राकृतिक आपदाओं में से एक भूकंप है और हम सभी जानते हैं कि अगर उचित देखभाल नहीं की गई तो भूकंप की घटना कितनी ख़तरनाक हो सकती है।

भूकंप की स्थिति पृथ्वी के अचानक और तेज झटकों की वजह से पत्थर की परत के खिसकने के कारण उत्पन्न होती है। प्रारंभिक मामूली से झटके कुछ सेकंड के भीतर ही अत्यधिक ख़तरनाक साबित हो सकते हैं। अधिकांश मामलों में अतिरिक्त झटकों को भूकंप के प्रभाव के रूप में जाना जाता है जो प्रारंभिक भूकंप का अनुसरण कर सकते हैं।

भूकंप वर्ष के किसी भी समय या दिन आ सकता है तथा चेतावनी दिए बिना भी आ सकता है। भले ही भूकंप सामान्य रूप से एक मिनट से भी कम समय तक आते हैं पर भूकंप के बाद के प्रभाव भी कभी-कभी अधिक खतरनाक होते हैं। ये प्रभाव कुछ घंटे, दिन, सप्ताह या महीनों के लिए भी हो सकते हैं। यद्यपि वैज्ञानिक इस पर काम कर रहे हैं लेकिन भूकंप की भविष्यवाणी नहीं की जा सकती।

भूकंप के परिणामस्वरूप होने वाली आपदाओं को रोकने के लिए हमारे कार्यालय ने महत्वपूर्ण उपाय किए हैं। हालांकि हमारा कार्यालय 'भूकंप रहित' प्रौद्योगिकी पर बना है लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि हम खुद को जागरूक करें और भूकंप की स्थिति में बुद्धिमानी से कार्यवाही करें। आपको इस स्थिति में उठाने वाले कदमों के बारे में पता होना चाहिए चाहे आप कार्यालय के परिसर में हो या अपने घर में।

जब आपको भूकंप जैसी हलचल महसूस हो तो उन सभी चीजों की सुरक्षा को जांचे जो गिरकर आपको चोट पहुंचा सकती हैं जैसे जल हीटर, कंप्यूटर, टीवी, म्यूजिक सिस्टम, शीशा, बुकशेल्फ़ और लाइट फ़िक्सर। आपको इस चीज़ का अभ्यास करना चाहिए कि जमीन पर कैसे चले, बाहों के साथ कैसे अपने सिर को ढंके और गर्दन को कवर करें आदि। यदि आप पास में एक सुरक्षित जगह देखते हैं तो आपको बिना समय गवाएं उस तक पहुंचने की कोशिश करनी चाहिए। कवर को बनाए रखने के लिए रेंग कर पहुंचे।

भले ही भूकंप आने पर भी आप कभी-कभी चकित या हैरान हो सकते हैं लेकिन आपको तेजी से कार्रवाई करने और आवश्यक वस्तुओं जैसे दवाएं, पानी और दस्तावेजों को संग्रहित करने की कोशिश करनी चाहिए। आपको परिवार के सदस्यों के साथ भी योजना और अभ्यास करना चाहिए कि ऐसी स्थिति में आप कैसे एक-दूसरे के साथ संवाद करेंगे। परिवार के लिए आपातकालीन संचार योजना तैयार करना और विविध तरीकों सहित संकट के मामलों में मदद मिल सकती है।

भूकंप के परिप्रेक्ष्य से कमजोर और मजबूत क्षेत्रों में अपने घर की जांच करने के लिए एक संरचनात्मक इंजीनियर से सलाह लेना भी आवश्यक है।

भूकंप या कोई भी प्राकृतिक आपदा खतरनाक होती है और य आपदाएं जीवन को क्षतिग्रस्त करने सहित कई इमारतों को भी क्षतिग्रस्त कर देती हैं। जब भूकंप और झटके बंद हो जाएं तो आपको सुरक्षा के लिए चारों ओर अवसर तलाशने चाहिए। भूकंप की स्थिति में आपको तुरंत अपनी जगह छोड़ देनी चाहिए और मैदान की तरह एक खुली जगह पर जाना चाहिए। अगर आपको या दूसरों को चोट लगती है तो सबसे पहले उसकी जांच करें और यदि आपको प्रशिक्षित किया गया है तो चोट लगने वाले व्यक्ति को प्राथमिक उपचार प्रदान करें। अगर आप सुरक्षित और चोट रहित हैं तो आपको बचाव कार्यवाही में भी मदद करनी चाहिए। खुद भारी मलबे को हटाने का प्रयास न करें। बचाव कार्यवाही में सहायता करते समय आपको कई परेशान और दुखी लोगों को भावनात्मक समर्थन प्रदान करने की भी आवश्यकता पड़ सकती है। भूकंप की गंभीरता उसके केंद्र बिंदु पर निर्भर करती है जो कई जगहों के हिलने या नींव में हलचल से इमारतों को गिराने का कारण बन सकती है। इससे कई उपयोगी चीजों को नुकसान पहुँच सकता है या विस्फोट और आग भी लग सकती है। इस प्रकार आपको सावधान रहना चाहिए और ऐसी परिस्थितियों में बुद्धिमानी से कार्य करना चाहिए।

धन्यवाद!

 

भूकंप पर स्पीच/भाषण 3

सुप्रभात माननीय प्राचार्य महोदया, शिक्षकगण और मेरे प्रिय दोस्तों!

जैसा कि हम जानते हैं कि हमारे क्षेत्र ने हाल ही में एक भूकंप देखा है जिससे लोगों को जान-माल का बहुत नुकसान पहुंचा है। कई इमारतें ढह गईं और इमारतों में रहने वाले लोग या तो मारे गए या गंभीर रूप से घायल हो गए। पीड़ितों की सहायता करते हुए हमारे स्कूल ने भूकंप के कारण होने वाले विनाश के कारण नुकसान का सामना करने वाले लोगों के जीवन को पुनर्जीवित करने के लिए एक शिविर का आयोजन किया है। छात्र और अन्य लोग जो स्वेच्छा से भोजन, कपड़ों आदि से उन लोगों की मदद करने में रुचि रखते हैं वे स्कूल के खेल के मैदान में लगे शिविरों का दौरा कर सकते हैं। हम सभी के प्रति सहानुभूति रखते हैं और मुझे आशा है कि सभी को पर्याप्त सहायता भी मिलेगी लेकिन शिविर शुरू होने से पहले मैं भूकंप से होने वाले नुकसान के बारे में कुछ जानकारी पर चर्चा करना चाहता हूं क्योंकि आज भूकंप के पीछे के कारण को समझना बहुत महत्वपूर्ण हो गया है।

तो वास्तव में भूकंप क्या है? पृथ्वी की सतह की कंपन भूकंप के रूप में जानी जाती है। भूकंप भूवैज्ञानिक फाल्ट्स के आसपास ज्वालामुखीय गतिविधि या हलचल के कारण होता है। भूकंप का परिणाम पृथ्वी के लिथोस्फेयर में ऊर्जा की रिहाई में होता है जो भूकंपीय लहरों का कारण बनता है। भूकंपी लहरें कंपन हैं जिन्हें हम भूकंप के दौरान महसूस करते हैं। भूकंप को अनुभवी भूकंप की आवृत्ति, प्रकार और आकार से मापा जा सकता है। कम आवृत्ति के कारण कुछ भूकंप कम हानिकारक हैं जबकि कुछ इतने ज्यादा हिंसक हैं कि वे सब कुछ नष्ट कर सकते हैं।

दुनिया भर में कई जगहें हैं जैसे चीन, जापान जहाँ सबसे बुरे और सबसे विनाशकारी भूकंपों देखे गए हैं जबकि अंटार्कटिका जैसे कुछ स्थानों में मामूली भूकंप देखे गए हैं। पैमाने के अनुसार एशिया में अधिकतम भूकंप देखे गए हैं। भूकंप के कारण दुनिया भर के कई देशों को सबसे ज्यादा विनाश का सामना करना पड़ा है।

भूकंप की घटना को नियंत्रित करने या कम करने के लिए हमें सख्त कार्यवाही करनी ज़रूरी है। इन दिनों भूकंप में वृद्धि का मुख्य कारण पर्यावरणीय गिरावट है। वनों की कटाई, वातावरण में CO2 की अधिक उपस्थिति, जल निकायों की कमी, ज्वालामुखी विस्फोट पृथ्वी पर भूकंप के उत्पन्न होने के कुछ मुख्य कारण हैं। हमें प्रकृति के महत्व को समझना होगा। हमें पानी को कम करने या ध्यान से उसका उपयोग करके तथा वर्षा जल संचयन के माध्यम से कम करने से पहले जल निकायों की रक्षा करनी चाहिए। हमारे परिवेश में जहां कहीं भी संभव हो सके अधिक से अधिक पेड़ लगाकर इस मामले में बड़ी मदद मिल सकती है। CO2 या अन्य हानिकारक गैसों का उत्पादन करने वाले ईंधन के उपयोग में कटौती से प्रदूषण को कम करने में मदद मिलेगी जो जलवायु परिवर्तन और कई अन्य समस्याओं को जन्म देते हैं।

यह सही समय है जब धरती को ऐसी हानिकारक आपदाओं से बचाने की जरूरत है जो इंसानों के कारण जन्म लेती हैं और यह तभी संभव है जब हम कुछ ऐसे कारगर उपाय करें।

इसी के साथ मैं अपने शब्दों को विराम देता हूं और भूकंप पीड़ितों की मदद करने और सभी छात्रों, शिक्षकों तथा लोगों को मदद करने के लिए इस तरह के एक महान और बड़ा प्रयास करने के लिए हमारे माननीय प्राचार्य महोदया को विशेष धन्यवाद देना चाहता हूं। इस शिविर को सफल बनाने के लिए अब छात्र और अन्य लोग स्कूल में खेल के मैदान में लगे शिविर तक पहुंच सकते हैं।

धन्यवाद और आप सभी का दिन शुभ हो।


 

भूकंप पर स्पीच/भाषण 4

देवियों और सज्जनों नमस्कार!

सबसे पहले मैं आपको इस आयोजन में सहयोग करने के लिए सभी का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं जो भूकंप के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए आयोजित किया गया है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हमारे देश में भूकंप की घटना दिन-ब-दन बढ़ रही है और इस तरह सभी के लिए ज़िंदगी बचाने के लिए ज़रूरी कदम उठाना महत्वपूर्ण हो जाता है। इस घटना के पीछे हमारा मकसद लोगों को जागरूक बनाना और भूकंप के प्रति निवारक उपाय करने के लिए तैयार करना है।

हर साल भूकंप के कारण जान और माल का भारी विनाश होता है और पर्यावरण में गिरावट के कारण यह विनाश तेजी से बढ़ रहा है। भूकंप पृथ्वी की सतह को हिलाते हैं जो कई भूवैज्ञानिक कारकों को जन्म दे सकता है। इसका परिणाम भूकंपीय लहरें या कंपन होता है। भूकंप कम नुकसानदायक और हानिरहित भी हो सकता है या यह ख़तरनाक और विनाशकारी भी हो सकता है। वे सूनामी, बाढ़, भूस्खलन, हिमस्खलन आदि जैसी अन्य आपदाओं को जन्म देने के लिए भी जाने जाते हैं। ये अप्रत्याशित हैं और कभी भी या कहीं भी हो सकते हैं। वैज्ञानिक भूकंप की भविष्यवाणी करने के तरीकों को पहचानने के लिए काम कर रहे हैं। आमतौर पर एक भूकंप एक मिनट से भी कम समय तक रहता है लेकिन ऐसा हर बार हो यह ज़रूरी नहीं है।

हाल ही में भारत ने गुड़गांव और हरियाणा में सुबह 4:30 बजे भूकंप महसूस किया गया और इसका पैमाना 4.4 रिक्टर स्केल पर था। इसने उस क्षेत्र में रहने वाले लोगों को हैरान कर दिया। न केवल भारत लेकिन दुनिया भर के अन्य देशों ने भी पहले भूकंप का अनुभव किया है। अमरीका, जापान, चीन आदि ऐसे देश हैं जो भूकंप से ग्रस्त हैं। अधिकांश भूकंप हल्के होते हैं लेकिन उनमें से कुछ लोगों को बर्बाद करते हुए उन्हें गहरा सदमा दे जाते हैं। भूकंप के रूप में सुनामी, भूजल, हिमस्खलन आदि हो सकते हैं। यह कई जगहों के लिए बहुत खतरनाक हो सकता है क्योंकि इससे इमारतों में हलचल उत्पन्न हो सकती है जिससे उनके गिरने की संभावना हो जाती है। इससे संपत्तियों का भारी नुकसान हो सकता है।

कुछ महत्वपूर्ण उपाय हैं जिन्हें संभवत: सुरक्षित होने के लिए भूकंप के दौरान इस्तेमाल में लाना चाहिए। मान लीजिए कि यदि आप किसी इमारत में हैं तो उस वक़्त चलना या भागना बेहद खतरनाक हो सकता है। इसलिए उस व्यक्ति को उस स्थान पर रहना चाहिए जहां वह मौजूद है तथा किसी जगह छुप कर बैठ जाना चाहिए। टूटने वाली चीजें जैसे शीशा, क्रॉकरी आदि चीजों से दूर रहना चाहिए क्योंकि यह खतरनाक है और गंभीर शारीरिक चोट भी पहुंचा सकता है। जिस स्थान पर आप हैं उस जगह के हिसाब से ऐसे कई उपाय हैं जिनका आप इस्तेमाल अलग-अलग तरीके से कर सकते हैं। ये कुछ ऐसे तत्काल उपाय हैं जिनका इस्तेमाल समय पर करना चाहिए लेकिन हमारे दैनिक जीवन में कुछ ऐसे अन्य उपाय भी हैं जिनका अभ्यास नियमित रूप से करना चाहिए जो हमारे ग्रह पर दीर्घकालिक प्रभाव डालते हैं जैसे वृक्षारोपण, जल निकायों की रक्षा, ईंधन की खपत में कटौती आदि।

लोगों को यह समझने में सहायता करने के लिए कुछ गतिविधियों का आयोजन किया गया है कि भूकंप के दौरान उन्हें क्या करना चाहिए और मुझे उम्मीद है कि भारी संख्या में लोग इसमें शामिल होंगे। यह वह समय है जब हम सभी को ऐसे आघातों, जैसे भूकंप, से लड़ने के लिए इकट्ठे होंगे और हमारी धरती को फिर से हरा-भरा कर देंगे।

इसी के साथ मैं अपना भाषण समाप्त करना चाहूंगा और उन सभी लोगों को विशेष धन्यवाद देना चाहूंगा जिन्होंने इस समारोह के आयोजन में हमें समर्थन दिया है और सभी लोगों के साथ जुड़ने और इसे सफल बनाने के लिए सहयोग दिया है।

धन्यवाद और आशा करता हूँ कि आप सभी का दिन शुभ हो।