दादा-दादी/नाना-नानी पर भाषण

दादा-दादी/नाना-नानी दिवस को प्रत्येक विद्यालय में बहुत ही प्यार से मनाया जाता है और इस अवसर पर बच्चे सुबह की सभाओं में भाषण/स्पीच देते हैं। ज़रूरी नहीं है कि विशेष दिन पर ही भाषण दिया जाए। कभी-कभी सार्वजनिक समारोहों में जहां दादा-दादी/नाना-नानी के बारे में बातचीत होती हैं वहां इन विशेष शब्दों के माध्यम से हमारे बच्चों के जीवन में मौजूद दादा-दादी/नाना-नानी का धन्यवाद करना आवश्यक है। इस साइट पर हमने यहां दादा-दादी/नाना-नानी पर भाषण के कुछ उदाहरण साझा किए हैं जो कि किसी भी अवसर पर आपकी सहायता कर सकते हैं। दादा-दादी/नाना-नानी पर हमारे संक्षिप्त भाषण स्कूल या कॉलेज स्तर पर इस्तेमाल किए जा सकते हैं और दादा-दादी/नाना-नानी पर लंबे भाषण स्कूल या कॉलेज के बच्चों के अलावा अन्य वक्ताओं द्वारा उपयोग किए जा सकते हैं। भाषा बहुत सरल है और आसान उदाहरणों के साथ समझाया गया है। आप हमारे भाषणों के द्वारा अपने दर्शकों के लिए अपने भाषणों को दिलचस्प बना सकते हैं।

दादा-दादी/नाना-नानी पर लंबे और छोटे भाषण (Long and Short Speech on Grandparents in Hindi)

दादा-दादी/नाना-नानी पर स्पीच/भाषण 1

आदरणीय महोदया, शिक्षकगण और मेरे प्रिय मित्रों,

आज दादा-दादी/नाना-नानी दिवस है! वे बच्चों के लिए कहते हैं यह हर दिन बाल दिवस है! मुझे कहना चाहिए कि बहुत सही कहा! हम हमारे माता-पिता और हमारे दादा-दादी/नाना-नानी की आंखों के तारों हैं। हमने अपने माता-पिता को कई बार उनके माता-पिता से कहते सुना है बल्कि शिकायत करते देखा है कि "आपने हमें उतना प्यार नही किया जितना आप हमारे बच्चों से प्रेम करते हैं!" और हम जानते हैं कि वे सही हैं!! जी हाँ वे हैं।

हमारे दादा-दादी/नाना-नानी एक पुस्तकालय हैं, हमारे निजी गेम सेंटर हैं, सर्वश्रेष्ठ रसोइए हैं, सर्वश्रेष्ठ समर्थन देने वाले व्यक्ति हैं, अच्छे शिक्षक हैं और प्यार से भरी दुनिया, जिसमें दो आत्माओं को एक साथ रखा गया है, वे हमेशा हमारे लिए मदद के लिए खड़े रहते हैं। माता-पिता के माता-पिता यह शब्द हमारे दादा-दादी/नाना-नानी के लिए बहुत उपयुक्त है। मैं सिर्फ इतना कह सकता हूं। दादा-दादी/नाना-नानी वे हैं जिन्होंने हमारे माता-पिता को पाल-पोस कर बड़ा किया है जो हमारे जीवन में एक और अद्भुत सहायक है। उनके चेहरे पर आई झुर्रियां इस सबूत हैं कि वे हमारे घरों में सबसे अधिक अनुभवी लोग हैं। इसलिए हम बच्चों के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम उनके साथ जुड़े, सीखें, जो वे हमें सिखाते हैं, उनके अनुभव से सीखें और फिर हमारे जीवन का निर्माण करें। अगर हम ऐसा करते हैं तो अधिक मजबूत होंगे।

मैं यह बहुत आत्मविश्वास से कह सकता हूं कि नानी के घर जाने का विचार हम सभी के लिए इस उम्र में भी बहुत खुशी लेकर आता है। मज़ेदार दिन, खुशी, आनंद, बिना शर्त प्यार मिलना और सबसे ज्यादा प्यार वाले हाथों से अच्छी तरह से पकाया विशेष भोजन खाना। यहां तक ​​कि दादी मा द्वारा कहा उनका सबसे पसंदीदा कथन, "क्या तुम जानते हो कि तुम अपने बचपन में कितने शरारती थे या पढ़ लेगा उसे थोड़ी देर के लिए खेलने दो" इन सभी प्यारे क्षणों को हम आनंद ले सकेंगे क्योंकि हमारे पास सबसे अच्छे व्यक्ति हैं। तो अगली बार जब हम अपने कार्यक्रमों में, हमारे दोस्तों में, फोन, आई-पैड, एक्स-बॉक्स और पार्टियों में व्यस्त होंगे तो हमें अपने दादा-दादी/नाना-नानी के लिए कुछ समय निकालना चाहिए। उनकी ही वजह से हमें इतना प्यारा बचपन मिला है। उनके कारण ही हमारे पास अच्छे नैतिक मूल्य हैं उन्होंने हमें बिना शर्त प्यार करना सिखाया है, धैर्य रखना सिखाया है, उठना और उस समय प्रयास करना सिखाया जब सब कुछ असंभव लग रहा था।

हमारे दादा-दादी/नाना-नानी को प्यार से ज्यादा कुछ नहीं चाहिए और थोड़ा सा हमारा समय जिसमें हम उनके साथ अपनी उपलब्धियों को साझा कर सके, उन्हें व्हाट्सएप पर भजन चलाना या अपने दोस्त को भेजना सिखा सकें या यूट्यूब पर मूवी देखना सिखा सकें। वे हमारी पीढ़ी के साथ चलने की कोशिश कर रहे हैं। तो इन सबसे प्यारे, सबसे बुद्धिमान, थोड़े भुलक्कड़, आराध्य स्नेह से भरे हुए लोगों के सामने मैं मानता हूँ और कहता हूं कि "आप मेरी सबसे बहुमूल्य संपत्ति हैं और आशा करता हूँ कि आप मेरी अगली पीढ़ियों के लिए मेरे साथ हो सकते हैं और वे भी उसी तरह धन्य हो जैसे आज मैं हूं"।

धन्यवाद।

 

दादा-दादी/नाना-नानी पर स्पीच/भाषण 2

आज यहाँ उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्तियों को मेरी ओर से सुप्रभात! आज हम सभी यहां बड़ो का सम्मान करने के लिए एकत्र हुए हैं जिनकी उपस्थिति का मतलब है कि किसी भी घर में सबकी भलाई और सकारात्मकता की वृद्धत्व का जश्न मनाना। दादा-दादी/नाना-नानी वास्तव में किसी भी परिवार में सबसे मजबूत बंधन प्रदान करते रहे हैं जो घर के सदस्यों को विस्तारित परिवार सहित एक साथ रखता है। अवकाश के दौरान चाचा-चाची और चचेरे भाईयों के साथ रहने का अवसर मिलना भी सभी के जीवन का सबसे अच्छा हिस्सा है। यह अवसर हमारे दादा-दादी/नाना-नानी के घर पर ही मिलता है। इसलिए मैं सभी दादा-दादी/नाना-नानी को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने समय निकाला और हमसे  अपने अनमोल क्षणों को साझा करने के लिए अपनी अनुसूची बदल दिया।

जिस व्यक्ति का अपने माता-पिता और दादा-दादी/नाना-नानी द्वारा पोषण किया जाता है उसे जीवन में हर चीज़ दोगुनी मिलती है, दोगुना अनुभव, दोगुना प्यार, दोगुना मज़ा और दोगुना मूल्यों का मिलना और मार्गदर्शन प्राप्त करना। दादा-दादी/नाना-नानी अपने प्यारे बच्चों से उनका सर्वश्रेष्ठ गुण बाहर लाने के लिए उनके जीवन में सूर्य की तरह हर समय उपस्थित रहते है। वे बच्चे जिन्होंने अपने दादा-दादी/नाना-नानी को नहीं देखा वास्तव में बहुत दुर्भाग्यशाली हैं। वे बहुत अच्छे विचारों और तथ्यों से वंचित रह जाते हैं जो उन्हें मिलने चाहिए। जिन मूल्यों को वे अपने पोता-पोती में डालते हैं वे मूल्य वो हैं जिन्हें केवल उनके माता-पिता ऐसा करने का सपना देखते हैं। माता-पिता अपने करियर में व्यस्त रहते हैं। सभी अच्छी चीजों को और जीवन के उच्च मानकों को प्राप्त करने की कोशिश करते हैं जिन्हें हम सभी अपने लिए बहुत उच्च मानते हैं। ऐसा नहीं है कि यह बुरा है, लेकिन बच्चों के साथ समय बिताना जब उन्हें आपकी आवश्यकता है, यह माता-पिता के लिए असंभव हो जाता है।

लेकिन वास्तव में भगवान का धन्यवाद जिन्होंने दादा-दादी/नाना-नानी को बनाया! जी हाँ, क्या यह सच नहीं है? जहां दादा-दादी/नाना-नानी मौजूद हैं वहां माता-पिता वो सब कर सकते हैं जो वे अपने करियर के साथ करने का इरादा रखते हैं। वे जानते हैं कि उनके प्यारे बच्चों को सँभालने के लिए उनके सबसे भरोसेमंद साथी उनके साथ हैं। ऐसा नहीं है कि दाई या प्ले स्कूल की कमी है लेकिन ये दादा-दादी/नाना-नानी की क्षमताओं का मिलान भी नहीं कर सकते। मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मैं उनकी किसी भी प्रकार की सहायता से तुलना कर रहा हूं। मैं सिर्फ यह कह रहा हूं कि ऐसे भी परिवार हैं जिनके लिए दादा-दादी/नाना-नानी वरदान के समान हैं। उनके दादा-दादी/नाना-नानी अपने गृह में उनके साथ हैं या पूरा परिवार बेहतर अवसरों के लिए किसी दूसरे देश में चला गया और दादा-दादी/नाना-नानी नहीं गए। मेरे हिसाब से ऐसे परिवार कम भाग्यशाली हैं।

जहां पिता और मां दोनों नौकरी कर रहे हैं वहां पूर्ण समय के लिए सहायता लेना सही है, इस स्थिति में दादा-दादी/नाना-नानी, जो हर दिन वृद्ध हो रहे हैं, पर कोई शारीरिक दबाव नहीं होता। इस तरह दादा-दादी/नाना-नानी अपनी शारीरिक ताकत पर निर्भर नहीं रहते हैं और हमेशा अपने छोटे बच्चों की मदद के लिए तत्पर रहते हैं जिन्हें प्यार, पोषण और अच्छी तरह से देखभाल की आवश्यकता होती है। मैं इसे दादा-दादी/नाना-नानी के लिए दूसरी पारी के रूप में देखता हूं। उन्होंने अपनी सभी सारी सांसारिक जिम्मेदारियों को पूरा किया है जो भी अब तक उनके जीवन में सामने आई है। तो उनकी जिंदगी में तनाव का स्तर लगभग शून्य के करीब है! अब अगर इसकी माता-पिता के साथ तुलना करें तो मैं देखता हूं कि उनका जीवन एक प्रकार की गतिविधि से भरा है, जोश और उमंग से भरा है इसलिए वे अपने बच्चों के साथ स्थिति के हिसाब से व्यवहार करेंगे न कि अपनी मनमर्जी और पसंद से। स्वाभाविक रूप से परिवार में दादा-दादी/नाना-नानी बेहद मददकर्ता हैं। मैं दादा-दादी/नाना-नानी के बिना किसी भी घर की कल्पना नहीं कर सकता। यद्यपि आजकल बहुत अधिक एकल परिवार प्रणाली प्रचलित है लेकिन मुझे यकीन है कि यदि उन्हें मौका मिला तो वे अपने बड़ों के साथ रहना चाहेंगे या उनके घरों के करीब रहना चाहेंगे।

 

यह कहना ज़रूरी नहीं कि जब हम उनकी अच्छी देखभाल करेंगे तभी हम उन्हें खुश रख सकेंगे। जब हम उनके साथ समय बिताएंगे तो हमें बदले में बहुत सी चीजें सीखने को मिलेंगी हैं जो कि हमें कोई भी नहीं सिखाएगा और जो प्रेम, देखभाल और धैर्य की मात्रा हमें उनसे मिलेंगी वह अतुलनीय है। वे कहते हैं कि एक संबंध हमेशा दो तरीके के होते हैं। मैं कहता हूँ एक हद तक यह सच भी है लेकिन जब बच्चों को प्यार करने की बात आती है तो मैं कहता हूं कि दादा-दादी/नाना-नानी एक अपवाद हैं। उनका प्यार बिना शर्त, बिना बाध्य, शुद्ध, बिना किसी मांग का और सभी रहस्यों से ऊपर है। वे अपने बच्चों या नाती-पोतों से बदले में कुछ भी उम्मीद नहीं करते हैं। वे बिना थके और बिना रुके अपनी कहानियों के पिटारे के साथ बढ़ते चले जाते हैं और बच्चों को अपने साथ जोड़ उन्हें भविष्य के लिए तैयार करते हैं। बच्चों के मन में स्वाभाविक रूप से अपने दादा-दादी/नाना-नानी के लिए बहुत सारा प्यार थोड़ा सा सम्मान और देखभाल होनी चाहिए।

मैं यह कहकर अपने भाषण को समाप्त करना चाहूंगा कि एक ऐसा घर जहां बड़ों को सम्मान और आदर दिया जाता है उस घर में खुद भगवान रहते हैं। दादा-दादी/नाना-नानी प्यार का जीवन चक्र है। किसी ने एक बार कहा था, "वे थोड़े से माता-पिता हैं, थोड़े से शिक्षक हैं और थोड़े से दोस्त हैं"।

धन्यवाद और आशा करता हूँ कि आपका दिन प्यार, ख़ुशी और हँसी से भरा हो।


 

दादा-दादी/नाना-नानी पर स्पीच/भाषण 3

आज इस कमरे में उपस्थित सभी लोगों को मेरी ओर से नमस्कार। आज हम सब दादा-दादी/नाना-नानी के दिन का जश्न मनाने के लिए यहां इकट्ठा हुए हैं। यह एक ऐसा दिन है जिसे हम अपने दादा-दादी/नाना-नानी के सम्मान के साथ चिन्हित करते हैं, उन्हें स्कूलों में बुलाते हैं, उनके बच्चों के रूप में उन्हें अपनी विभिन्न प्रतिभाएं दिखाते हैं। विभिन्न कार्यक्रमों, जो हम उन्हें प्रस्तुत करते हैं, के माध्यम से हम उन्हें बताते हैं कि उनकी उपस्थिति हमारे जीवन में कितनी महत्वपूर्ण है।

आज मैं मंच पर यह बोलने के लिए हूं कि मैं अपने बारे में कैसा महसूस करता हूं। मेरे सभी दोस्तों का प्रतिनिधित्व करने और उनकी ओर से भी अपनी बात रखने के लिए मैं खुद को सम्मानित महसूस कर रहा हूँ। मेरे कुछ दोस्त गा रहे हैं, कुछ नृत्य कर रहे हैं, कुछ कविताएं पढ़ रहे हैं जबकि कुछ विद्यालय के समूह गायन में शामिल हैं। एक बात तो निश्चित है कि हमारे शिक्षकों, माता-पिता और दादा-दादी/नाना-नानी के प्रयासों के कारण ही हम सभी एक हैं। मैं इस अवसर पर मेरी दादी और मेरे दादाजी को मेरी जिंदगी में रहने और मुझे बेहतर व्यक्ति बनने में मदद करने के लिए धन्यवाद देता हूं। मेरे जीवन का प्रत्येक दिन बहुत खास हो जाता है। आज मैं यहां पूरे साल के तीन सौ पैसठ दिनों में से एक दिन दादा-दादी के दिन का जश्न मनाने के लिए आया हूं शेष दिन वे हैं जिसे बच्चों के दिन के रूप में मनाते हैं। प्रत्येक दिन को वे अपने विभिन्न तरीकों से विशेष महसूस कराते हैं।

हर दिन मैं अपने दादाजी या मेरी दादी से कुछ नया सीखता हूं। जब मैं अपनी दादी के पास जाता हूं तो वे बहुत आसानी से मुझे सिखाती है कि कैसे कपड़े पहनने चाहिए और कैसे मेरी माँ की अपने कमरे को साफ रखने में मदद करनी चाहिए। मेरे दादाजी ने मुझे यह सिखाया है कि जब हम शाम को खेल कर या शाम को अपने दोस्तों से बात-चीत कर वापिस आते हैं तो गंदे जूतों को जूता रैक में रखने से घर में धूल और कीटाणुओं को रोकने में मदद मिलती है। कभी-कभी वे मुझे यह भी सिखाते हैं कि तार को प्लग कैसे किया जाए। उन्होंने मुझे यह भी सिखाया है कि कभी भी स्विचबोर्ड में तार को छूने की कोशिश न करें। सभी चीजों को ध्यान से निकालना चाहिए। मैंने उनसे यह भी सीखा है कि हर समय जब भी आप किसी से मिलते हैं तो हमेशा आदरपूर्वक और विनम्र होना जरूरी है भले ही उसी व्यक्ति से बार-बार मिलना हो।

जब भी आप घर पर इस तरह के ईश्वर के वरदान के साथ हैं तो आप जानते हैं कि आप एक ऐसी जगह हैं जहां आप जानते हैं कि आप हर गलती जो करते हैं उससे आप थोड़ा और सीख रहे हैं। दादा-दादी/नाना-नानी बड़े दिल वाले लोग हैं क्योंकि वे आपको ऐसा करने की अनुमति देते हैं! वे जानते हैं कि बच्चों के लिए उनकी अपनी गलतियों से सीखना महत्वपूर्ण है इसलिए वे बहुत धैर्य रखते हैं। हमारे माता-पिता हालांकि कभी-कभी हमारे साथ जल्दी में रहते हैं। नहीं मैं बिल्कुल भी शिकायत नहीं कर रहा हूं क्योंकि मैं समझता हूं कि वे कितने व्यस्त हैं और उनका समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। वे काम कर रहे हैं और उन पर अपने काम का दबाव है जैसे मेरे साथ है! जब मेरी परीक्षाएं होती हैं और मुझे कई कामों को एक साथ करना होता है तो मैं अच्छे नंबर लाने के लिए यहाँ वहां भागता रहता हूं और कड़ी मेहनत करता हूं वैसे ही काम पर अच्छे अंक की ज़रूरत उन्हें भी है।

चिंता की कोई बात नहीं मुझे पता है कि मैं अपने दादा-दादी/नाना-नानी के साथ मज़ाकिया और शरारती हो सकता हूं! तो मैं वास्तव में अपने दिल की गहराई से उन्हें धन्यवाद करता हूं और मेरा रोम-रोम मेरे दादा-दादी को हमेशा मेरे साथ रहने के लिए धन्यवाद करता है। मैं उनको मुझे सिखाने के लिए और मुझे उन मूल्यों और नैतिकताओं को मुझ में आत्मसात करने के लिए धन्यवाद करता हूं जो मुझे उन जैसा बनाते हैं - धैर्यशील और कुशल। मैं उन्हें प्यार करता हूं और उनकी पूजा करता हूं क्योंकि वे किसी भी खतरे से निपटने में मेरी सबसे मजबूत ढाल हैं। वे मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं। मैं उनके साथ कुछ भी साझा कर सकता हूं। वे मुझे सबसे अच्छी सलाह देते हैं और मैं उनका यहाँ होने के लिए धन्यवाद करता हूं क्योंकि वे मेरे माता-पिता के माता-पिता हैं और वे उनके समान भी दिखते हैं। दो अलग-अलग माता-पिता विभिन्न निकायों और आयु समूहों के साथ। क्या आप इसे मेरे जैसे बच्चों के लिए दोगुनी सहूलियत नहीं कहेंगे?

धन्यवाद।


 

दादा-दादी/नाना-नानी पर स्पीच/भाषण 4

सम्मानित प्राचार्य, शिक्षकगण, अभिभावक, दादा-दादी/नाना-नानी और मेरे प्रिय मित्रों

आज हम सभी यहाँ इस दिन इकट्ठा हुए हैं जिसे हम दादा-दादी/नाना-नानी दिवस के रूप में मनाते हैं। इस संस्था में पढ़ते हुए छोटे और बड़े बच्चों के सभी माता-पिता और दादा-दादी/नाना-नानी का स्वागत करना मेरा विशेषाधिकार है। उनकी ओर से मैं आज यहां उपस्थित हर किसी का दिल से स्वागत करता हूं। दादा-दादी हो या नाना-नानी, उन सभी का अपने नाती-पोतों के जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका होती है। दोनों परिवारों के माता-पिता समान रूप से बच्चों को पोषित करते हैं, प्यार करते हैं और उनके साथ रहने के लिए उत्सुक रहते हैं।

आज के इस युग में नाती-पोतों के जीवन में उनके दादा-दादी/नाना-नानी और उनकी भूमिकाओं में बदलाव आया है। आज की दादी/नानी डिजाइनर के रूप में काम कर रही एक व्यवसायी महिला भी हो सकती है और यही स्थिति दादा/नाना के साथ भी हो सकती है जो अभी-अभी बहुत ही सक्रिय कैरियर से सेवानिवृत्त हुए हैं। वह एक सेना अधिकारी या किसी संगठन में प्रबंधक या व्यापारी हो सकते हैं। वे सभी रंग और आकार में आते हैं! लेकिन एक चीज जो स्थिर होती है वह है उनका प्यार और स्नेह जिसे वे अपने नाती-पोतों पर बौछार करते हैं। ग्रैंड का मतलब बड़ा या महान है। इसका अर्थ है शानदार, प्रतिष्ठित और गरिमापूर्ण। ये सभी विशेषण हैं जिन्हें मैं उनका वर्णन करने के लिए उपयोग करूंगा। यह उनके अंदर है जो उन्हें प्रत्येक बच्चे के लिए विशेष बनाते हैं। यहां तक ​​कि सड़क के किनारे पर जूते साफ़ करने वाला भी सबसे अच्छा दादा/नाना हो सकता है। वह वो हो सकता है जिसने अपने दोपहर के भोजन से अपने पोते के लिए साईकिल या खिलौना खरीदने के लिए पैसे बचाए। अपने पोते के लिए वह उनका सुपर हीरो है जो उनकी सभी मांगों और सपनों को पूरा करेगा।

और फिर वह समय आ जाता है जब बच्चे बड़े हो जाते हैं। वे धीरे-धीरे इतने ज्यादा व्यस्त होते चले जाते हैं कि वे हर समय अपने जीवन और करियर पर ध्यान देते रहते हैं। दादा-दादी/नाना-नानी अपने नाती-पोतों के लिए पूरा संसार हैं क्योंकि उन्होंने उनके माता-पिता को भी पाल-पोस कर बड़ा किया है। इस तरह दादा-दादी/नाना-नानी दो बार अपनी भूमिका को अच्छी तरह से निभाते हैं! एक भूमिका जिसे वे अच्छी तरह से निभा चुके हैं और दूसरी जिसे अच्छी तरह से निभाने जा रहे हैं! उनके पास बेहद धैर्य, प्यार और देखभाल की असीमित आपूर्ति है। इन बड़े-बड़े बच्चों को अपने दादा-दादी/नाना-नानी की इतनी जरूरत अब भी होती है, जितनी तब थी जब वे बच्चे थे। उनसे मिलने वाली अमूल्य सलाह, अंतर्दृष्टि, उनकी प्रवृत्ति और निर्णय बेमिसाल हैं। जीवन के कपड़े में माता-पिता और दादा-दादी/नाना-नानी मज़बूत धागा हैं और बच्चे सुंदर रेशा हैं। तो यह हमारे परिवार के सदस्य के रूप में हमारा कर्तव्य है कि प्रत्येक व्यक्ति और उसकी ज़रूरतों का ध्यान रखना चाहे वह भावनात्मक हो या शारीरिक हो। मुझे यकीन है कि संयुक्त परिवार में एक साथ रहने वाले सभी परिवार ऐसा ही करते हैं। मुझे प्रत्येक दिन मेरे व्हाट्सएप पर सन्देश मिलते हैं जो मुझे नैतिक मूल्यों के बारे में सिखाते हैं, मुझे सिखाते हैं कि कैसे मुझे दादा-दादी/नाना-नानी की अच्छी तरह देखभाल करनी चाहिए। उन सभी संदेशों को देखना और पढ़ना वाकई बहुत अच्छा लगता है। जब मैं चारों ओर देखता हूं तो मुझे बहुत खुशी होती है कि इतने सारे बच्चे इतना सब कुछ कर रहे हैं जो करना जरूरी है। अपने दादाजी/नानाजी को रेलवे की वेबसाइट पर इंटरनेट के माध्यम से टिकट बुक करन सिखा रहे हैं या अपनी दादी/नानी को बता रहे हैं कि कैसे स्काइप या अन्य वीडियो कॉल के माध्यम अपने दूसरे नाती-पोतों से बात करें। यह देखना बहुत प्यारा लगता है कि कैसे हमारे दादा-दादी/नाना-नानी वो सब कर सकने में सफल हो सकेंगे जो उनके नाती-पोतें रोज़ बता रहे हैं।

इसलिए दादा-दादी/नाना-नानी दिवस के इस अवसर पर मुझे अपने दादा-दादी/नाना-नानी को देखकर खुशी हो रही है जिन्होंने अपने नाती-पोतों के लिए समय निकाला और उन प्रदर्शनों को, शिक्षकों, माता-पिता यहाँ तक की दूसरे दादा-दादी/नाना-नानी के साथ, देखने आए जिनमें उनके बच्चे शामिल थे। हम इस दिन का जश्न उस संबंध के महत्व को चिह्नित करने के लिए मनाते हैं जो छोटे बच्चों के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण अहमियत रखता है जिनके लिए हम एक सुंदर कल बनाने की कोशिश करते हैं। यदि हम मूर्तिकार हैं तो आप वे हैं जो हमें बेहतरीन सामग्री प्रदान करते हैं जिनकी हमें आवश्यकता होती है। साथ में हम ईश्वर की सृष्टि के एक मजबूत, अच्छी तरह से निर्मित, अद्भुत टुकड़े के रूप में बन सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति में अपने स्वयं के सकारात्मक और नकारात्मक गुण होते हैं। हम इंसान हैं - "गलती इंसान करता है और क्षमा भगवान करता है।" इसलिए हमारे सर्वोत्तम प्रयासों और इरादों के बावजूद मेरे और आपके साथ प्रत्येक व्यक्ति में सुधार की हमेशा गुंजाईश रहती है। इस प्रकार अकेले सकारात्मक गुणों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए मैं उन सभी महान लोगों का ऋणी हूं जिनके बिना छोटे बच्चों की रचना अधूरी होगी। अपने नाती-पोतों के जीवन का हिस्सा बनने के लिए सभी दादा-दादी/नाना-नानी को धन्यवाद और मुझे आशा है कि आपका पोषित समर्थन हमेशा आपके प्यारे बच्चों के लिए एक प्रकाशस्तंभ के रूप में मार्गदर्शक बनेगा जो एक तूफानी रात में भी जहाज को रास्ता दिखाता है। आपका मार्गदर्शन और प्रेम हर दिन उन्हें और ज्यादा मजबूत बनाता है। धन्यवाद!

 

Related Information:

शिक्षक पर भाषण

माँ पर भाषण

दादा-दादी पर निबंध

मेरा परिवार पर निबंध