रेनवाटर हार्वेस्टिंग (वर्षा का जल संचयन) पर भाषण

वर्तमान समय में दुनिया भर में वर्षा जल संचयन एक अत्यंत महत्वपूर्ण गतिविधि है क्योंकि पूरे विश्व में जल संरक्षण और इसकी बर्बादी से बचने की बहुत जरूरत है ताकि हमारी अगली पीढ़ी को इस प्राकृतिक संसाधन की कमी में न रहना पड़े। चूंकि यह विषय बहुत महत्वपूर्ण रहा है इसलिए इसे वर्षा जल संचयन पर भाषणों को कवर करने के लिए उपयुक्त माना गया है। चाहे आप एक छात्र हो, शिक्षक हो, एक सार्वजनिक छवि के व्यक्ति या फिर आम आदमी, जो इस विषय पर भाषण देने या इस महत्वपूर्ण गतिविधि पर एक लेख लिखने की तलाश में हैं, तो वर्षा जल संचयन पर हमारे दोनों छोटे भाषण और लंबे भाषण आपको एक अच्छे संदर्भ बिंदु के रूप में मदद कर सकते हैं और अपनी असाइनमेंट को प्रभावशाली बनाने में सक्षम हो सकते हैं और आप अपने दर्शकों से प्रशंसा अर्जित कर सकते हैं।

रेनवाटर हार्वेस्टिंग/वर्षा का जल संचयन पर लंबे और छोटे भाषण (Long and Short Speech on Rainwater Harvesting in Hindi)

रेनवाटर हार्वेस्टिंग (वर्षा का जल संचयन) पर भाषण 1

प्रतिष्ठित पैनलिस्ट और सम्मानित दर्शकों। सुप्रभात! मैं रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पर सेमिनार में आपका स्वागत करता हूं!

मैं राजेश शर्मा, जयपुर जल संरक्षण विभाग का अध्यक्ष, आज के लिए आपका मेजबान हूँ। वर्षा जल संचयन एक बहुत ही उचित गतिविधि है। इसमें जल निकासी के साथ-साथ प्राकृतिक पानी या मानव निर्मित जलाशयों में बारिश के पानी का भंडारण भी शामिल है। वर्षा जल संचयन का एक अन्य तरीका भी है जिसे रूफटॉप हार्वेस्टिंग के रूप में जाना जाता है। रूफटॉप हार्वेस्टिंग में धातु की चादरें, टाइलें और प्लास्टिक के रूप में ऐसी सतहें हैं जिनमें पत्ल के पत्ते या घास को छोड़कर वर्षा जल प्रवाह को बाधित किया जा सकता है और हमारे घरों में प्रीमियम गुणवत्ता वाला पानी उपलब्ध करवाया जा सकता है जो संभवतया बारह महीने भंडारण सुविधा प्रदान कर सकते हैं।

ऐसे अन्य उपयोग हैं जिनमें सिंचाई, उद्यान, पशुधन आदि के लिए पानी शामिल किया जाता है। वर्षा जल संचयन की विधि का उपयोग करने के पीछे कारण निम्न कारण हैं:

  1. इससे पानी की आपूर्ति तथा भोजन का उत्पादन सुधारने में मदद मिलती है जिससे अंततः आपको खाद्य सुरक्षा मिलती है।
  2. ग्रामीण क्षेत्रों या घरों में पानी की कमी से पीड़ित लोगों को वर्षा जल संचयन की व्यवस्था से लाभ मिलता है।
  3. वर्षा जल संचयन पानी की लगातार आपूर्ति को सुनिश्चित करता है जो बदले में खाद्य सुरक्षा प्रदान करते हैं जिसके परिणामस्वरूप आय उत्पादन में बढ़ोतरी होती है।

क्या आप जानते हैं कि किस भारतीय राज्य ने पहली बार वर्षा जल संचयन को अनिवार्य बनाने का फैसला किया था? 30 मई 2014 को तमिलनाडु राज्य सरकार ने चेन्नई शहर के विभिन्न हिस्सों में 50,000 चैनल वर्षा जल संचयन स्थापित करने की घोषणा की थी।

तमिलनाडु राज्य में लगभग 4,000 मंदिर परंपरागत रूप से पानी के टैंकों को बनाए रखते थे जिनका उपयोग अलग-अलग रीति रिवाजों के लिए किया जाता था। टैंक प्राकृतिक जलमंताओं की तरह होते थे और भूजल को बहाल करने में मदद करते थे। हालांकि समय गुज़रने के साथ उन टैंकों में से कई को त्याग दिया गया था और उनकी जगह कचरा और गाद ने ले ली जो उसमें उपस्थित पानी को बदल देते थे।

अब स्वैच्छिक संगठनों और साथ ही पानी की आपूर्ति और उपयोग के विभाग के अधिकारियों द्वारा चलाए जा रहे अभियानों के माध्यम से चेन्नई के अधिकारियों ने शहर के प्रमुख मंदिरों में लगभग 40 टैंकों को पुनर्स्थापित करने का निर्णय लिया है। इस प्रयास से इस तरह के पानी के टैंक को वर्षा जल संचयन के लिए जल निकासी बेसिनों में परिवर्तित करना है।

तमिल राज्य के अलावा वास्तव में भारत के अन्य राज्यों को भी इस उपकरण को अपनाना चाहिए ताकि हमारे घरों में पानी की उपलब्धता और भूमिगत जल बहाल हो सके। एक अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क जिसे RAIN नाम दिया गया है जो कि विकासशील देशों में बच्चों और महिलाओं को वर्षा जल जमा और भंडारण करके विशेष रूप से कमजोर क्षेत्रों के लिए पानी की उपलब्धता को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया है।

इस प्रकार यह पद्धति पानी की कमी या पानी की अपर्याप्त आपूर्ति की स्थिति से निपटने के लिए बेहद उपयोगी साबित होती है और उन गतिविधियों को समर्थन देती है जो पानी के बिना संभव नहीं हो सकती जैसे कि सिंचाई, बागवानी, पशुपालन आदि।

अब मैं पैनल के सदस्यों से मंच पर आने और अपने मूल्यवान विचारों को साझा करने का अनुरोध करता हूं और वर्षा जल संचयन की प्रणाली को बेहतर बनाने तथा किस प्रकार इस तरीके का सबसे अच्छा इस्तेमाल किया जा सकता है पर कुछ सुझाव देना चाहता हूं।

धन्यवाद!

 

रेनवाटर हार्वेस्टिंग (वर्षा का जल संचयन) पर भाषण 2

आदरणीय सभी बच्चों के माता-पिता और मेरे प्रिय दोस्तों – आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

वर्षा जल संचयन पर अपने भाषण को शुरू करने से पहले मैं सभी माता-पिता को एक छत के नीचे एक साथ आने और हमारे कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद देना चाहता हूँ। जैसा कि हमारे स्कूल में हमें वर्षा जल संचयन के लाभों में पढ़ाया गया है इसलिए सभी बच्चों ने अपने परिवारों और मित्रों के बीच इस ज्ञान को फैलाने का फैसला किया है और हर किसी को इसके लाभों के बारे में जानकारी दी है।

वर्षा जल संचयन, लैंडस्केप सिंचाई, पशु पालन, बागवानी आदि जैसे उपयोगों के लिए वर्षा जल इकट्ठा और संग्रह करने के लिए एक दिलचस्प तरीका है। बारिश आने पर हम उस पानी के संरक्षण के लिए कभी भी कोई प्रयास नहीं करते हैं। पानी को विभिन्न कठिन सतहों से एकत्र किया जा सकता है जैसे छत और/ या मैदान के ऊपर अन्य कृत्रिम कठिन सतह पर। अगर जलवायु शुष्क है जैसे कि दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में तो वर्षा जल संचयन की तकनीक पर्यावरण के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकती है।

कई ग्रामीण परिवारों को अपनी संपत्ति के लिए बारिश के पानी को संरक्षित करना पड़ता है और वर्षा का जल नदी, बांधों या बोर के पानी की तुलना में घर को अपेक्षाकृत बेहतर गुणवत्ता की आपूर्ति करता है। हालांकि वर्षा जल संचयन केवल ग्रामीण क्षेत्रों के लिए ही नहीं है क्योंकि कई शहरी परिवार भी जल आपूर्ति के लिए एक जालीदार (मुख्य) स्रोत से जुड़े हुए हैं। वर्षा जल संचयन की इस पद्धति में मुख्य जल स्रोतों का उपयोग काफी कम हो सकता है।

अब सवाल उठता है कि वर्षा जल संचयन के क्या फायदे हैं? यह एक बड़ा लाभ यह है कि यह आपके जल के बिल को कम करने में आपकी सहायता करेगा। दूसरी बात यह है कि पानी के संकट की स्थिति के दौरान आपको पानी की आपूर्ति का एक वैकल्पिक स्रोत मिलेगा और तीसरा यह आपके बाग को हरा-भरा बनाए रखने में आपकी सहायता करेगा। मौसम और पानी के टैंक पर अत्यधिक निर्भरता सही नहीं है और इसलिए वर्षा जल संचयन पानी के मुख्य स्रोतों पर भारी बोझ को कम करने में मदद कर सकता है।

वर्षा जल संचयन तूफान के पानी से बचने में मदद करता है। इस प्रकार यह स्थानीय बाढ़ के जोखिम को भी कम करते हैं। आप वर्षा के पानी की गुणवत्ता की आवश्यकता के आधार पर विभिन्न छतों से बारिश का पानी एकत्र कर सकते हैं। उदाहरण के लिए बाग़ या बगीचे की सिंचाई के लिए वर्षा के जल की आवश्यकता है तो:

  • बिना सील के एस्बेस्टस के अलावा किसी भी छत की सतह से इसे लीजिए
  • सुनिश्चित करें कि सभी गटर आउटलेट से जुड़े हुए हो
  • कोशिश करें की गटरों के लिए एक अच्छे कवर का उपयोग करें
  • गटर के आउटलेट का प्रयोग करें जिसे गटर के नीचे समायोजित किया जा सकता है

अन्य विविध उपयोगों के लिए:

  • छत से वनस्पति को लटकने ना दें
  • सिस्टम को लगाने से पहले गटर और साथ ही अपनी छत को साफ करें
  • गटर के नीचे अच्छी गुणवत्ता से बने एक लीफ स्क्रीन को स्थापित करें या बदले में लीफ-शेडिंग गटर लगाएं।

पीने के उद्देश्य के लिए कृपया वर्षा के जल को एकत्रित न करें:

  • छत के अनुभागों से जहाँ एस्बेस्टस शीटिंग या लीड फ्लैशिंग हैं यह छतों से जिन्हें पेंट किया गया है। यदि आप इस से बच नहीं सकते तो ठीक से सतह को सील कर दें और इसे एक अच्छी गुणवत्ता वाले छत सीलेंट के साथ पेंट करें और सीलिंग के बाद शुरुआती बारिश के पानी को एकत्रित करने से बचें।
  • उन क्षेत्रों में जहां हवाई प्रदूषण की गतिविधियां मौजूद है जैसे रासायनिक प्रसंस्करण और फसल-धूल।

इसलिए वर्षा जल का सुरक्षित उपयोग करने के लिए ऊपर दिए गए उपायों का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। अब मैं अपने दूसरे दोस्तों से मंच पर आने और इस संबंध में कुछ शब्द कहने का अनुरोध करता हूं।

धन्यवाद!

 

रेनवाटर हार्वेस्टिंग (वर्षा का जल संचयन) पर भाषण 3

नमस्ते दोस्तों - हर किसी को नमस्कार और मैं, समक्ष दत्त, रेन वॉटर हार्वेस्टिंग पर इस जागरूकता कार्यक्रम में आपका स्वागत करता हूं! पिछले 2 वर्षों से इस तरह के जागरूकता कार्यक्रमों का हिस्सा होने के नाते मुझे इस तरह के उचित मुद्दे पर बात करने और हमारे लोगों को इसके बारे में बात करने का यह शानदार अवसर दिया गया है। इसलिए मैं ईमानदारी से आप से सहयोग की उम्मीद करता हूं और आशा करता हूं कि हर कोई मुझे धैर्य से सुनेगा।

अब वर्षा जल संचयन नामक विषय पर आ रहा है - भले ही यह पानी को बचाने के लिए एक महत्वपूर्ण तकनीक है फिर भी हमारी आबादी के अधिकांश लोग इस बात से अवगत नहीं हैं कि यह कैसे और किस प्रकार किया जाता है और किस तरीके से हम इसका लाभ उठा सकते हैं। यदि मैं सरल शब्दों में वर्षा जल संचयन की प्रक्रिया को समझाऊं तो मैं कहूंगा कि यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें घरेलू, कृषि और व्यावसायिक उपयोग के लिए वर्षा जल एकत्र करना और भंडारण करना शामिल है। तेजी से बदलते माहौल के साथ आबादी का विकास और वैश्विक तापमान में वृद्धि के कारण दुनिया भर के देशों को पानी की बड़ी कमी का सामना करना पड़ रहा है। जल स्तर में धीरे-धीरे होती कमी चिंता का एक गंभीर कारण है न केवल इसलिए कि यह पानी के संकट की स्थिति को जन्म देती है बल्कि मुख्यतः तटीय क्षेत्रों में भी यह लवणता में असंतुलन पैदा करती है।

शीघ्र औद्योगिकीकरण और रासायनिक उत्पादन के विभिन्न जल निकायों में डंपिंग जैसे कि झील, नदियां आदि प्रदूषण के अत्यधिक स्तर के कारण हैं। यह वास्तव में एक वैश्विक घटना है और इसके तत्काल समाधान की आवश्यकता है। हमारे ग्रह पर ताजा पानी की आपूर्ति संवर्धित नहीं हो सकती। इसलिए एक वैकल्पिक समाधान की तलाश की जानी चाहिए और ऐसा ही एक समाधान वर्षा जल संचयन है।

संकट की ऐसी स्थिति को नियंत्रित करने के लिए वर्षा जल संचयन एक आर्थिक और आसान तरीका है। जैसे-जैसे लोग पर्यावरण के प्रति जागरूक होते जा रहे हैं वर्षा जल संचयन की विधि विशाल गति प्राप्त कर रही है जिससे पर्यावरण संरक्षण और उचित प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग संभव है। पानी का गिरता स्तर बड़े पैमाने पर फैला हुआ है और शहरी क्षेत्रों में बहुत से लोग बोतलबंद पानी पर निर्भरता चाहते हैं जो न तो बजट के अनुकूल है और न ही भरोसेमंद है।

वर्षा जल संचयन तकनीक को विकसित करने का महत्व संक्षेप में नीचे दिया गया है:

  • एकत्रित किया गया बारिश का पानी अक्सर कृषि गतिविधियों के लिए उपयोग किया जाता है। सूखे की स्थिति से छुटकारा पाने में पर्यावरण की मदद की जा सकती है।
  • पशुओं को खिलाने के लिए पानी की आवश्यकता को पूरा किया जा सकता है।
  • पानी की निरंतर मांग को पूरा किया जा सकता है।
  • भूमिगत पानी की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है।
  • गटर, नाली या किसी भी अन्य कारण से बहने वाले पानी को बर्बाद होने से रोका जा सकता है और किसी भी रूप में जल निकायों को नुकसान पहुँचाने से बचाया जा सकता है।
  • पानी की मात्रा में वृद्धि हो सकती है और मिट्टी का क्षरण होने से बचा जा सकता है।
  • सामान्य सड़कों और गहन सड़कों पर जल प्रवेश को रोका जा सकता है और बाढ़ के खतरे से घरों को सुरक्षित बनाया जा सकता है।

अंत में मैं यह कहना चाहूंगा कि यह प्रकृति के प्रति हमारी शत्रुतापूर्ण दृष्टिकोण है जिससे जल निकायों में प्रदूषण हो गया जिस कारण वे पीने या अन्य उपयोगों के लिए अयोग्य बना गए। भगवान ने हमें प्राकृतिक धन उपहार में दिया है लेकिन मनुष्य इसका उचित उपयोग करने में सक्षम नहीं है और दुर्भाग्य से इनका निर्माण कार्यशालाओं में भी नहीं किया जा सकता है। वर्तमान में दुनिया के कई देशों को पानी की कमी का सामना करना पड़ रहा है और इसलिए उनके अस्तित्व के लिए इस वर्षा जल संचयन तकनीक का सहारा लिया जा रहा है। इसलिए मैं आप सभी को इस मुद्दे की गंभीरता का एहसास करने और सक्रिय उपायों को अपनाकर इसे दूर करने के लिए अनुरोध करता हूं।

धन्यवाद!


 

रेनवाटर हार्वेस्टिंग (वर्षा का जल संचयन) पर भाषण 4

देवियों और सज्जनों नमस्कार - मैं आपके सभी का जल बचाओ अभियान में स्वागत करता हूं और हर किसी से पानी के संकट की स्थिति की ओर गंभीरता विकसित करने का आग्रह करता हूं। यह खतरा हमारे सिर पर लगातार मंडरा रहा है और यदि हम चाहते हैं कि हमारी आने वाली पीढ़ी इस ग्रह पर कामयाब हो तो हम ज्यादा कुछ नहीं करने की बजाए सिर्फ इस मुद्दे का बहादुरी से सामना ही कर सकते हैं।

चूंकि हमारे अभियान का नाम जल बचाओ अभियान है इसलिए मेरी टीम के सदस्य जल बचत तकनीक पर जागरूकता फैलाने के लिए यहां हैं। जैसा हम सभी बहुत अच्छी तरह से जानते हैं जल एक बहुत ही महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन है जिसके बिना मनुष्य अपने अस्तित्व की कल्पना नहीं कर सकता लेकिन जब यह प्राकृतिक संसाधन जो जीवन देने वाला स्रोत भी है तेजी से घट रहा है तो मानव अस्तित्व पर गंभीर मंडरा रहा है। भूजल स्तर में तेजी से गिरावट चिंता का एक प्रमुख कारण है।

अब सवाल उठता है कि इस स्थिति को कैसे नियंत्रण में लाना है? यह केवल कुछ प्रमुख तकनीकों के माध्यम से ही किया जा सकता है जैसे वर्षा जल संचयन। तुलनात्मक रूप से यह सरल तकनीक हमारे रोज़मर्रा के जीवन में अंतर पैदा कर सकती है और हमें पानी के संकट की स्थिति से उबरने में मदद कर सकती है। इस तकनीक का उपयोग दोनों घरेलू और व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है जिनमें से विभिन्न तरीकों को नीचे वर्णित किया गया है:

  1. घरेलू वर्षा जल संचयन

घरेलू वर्षा जल संचयन प्रक्रिया की दो प्रमुख प्रणालियां हैं अर्थात् पम्प फीड सिस्टम - इस प्रक्रिया में टैंक जमीन स्तर पर स्थापित किया जाता है या कभी कभी भूमिगत होता है जहां एक पंप का उपयोग घर के चारों ओर पानी वितरित करने के लिए किया जाता है। वास्तव में कोई भी संयुक्त पंप को चुनने के साथ-साथ गुरुत्वाकर्षण प्रणाली भी चुन सकता है जो पानी को किसी के घर के ऊपर एक अन्य टैंक में स्थानांतरित करता है और फिर इसे पाइप के माध्यम से इस्तेमाल किया जा सकता है।

ग्रेविटी फीड सिस्टम – ऐसा सिस्टम अक्सर एक घर के ऊपर नहीं रखकर घर के विभिन्न हिस्सों में पानी का संचार करने के लिए गुरुत्वाकर्षण शक्ति का इस्तेमाल किया जाता है। इन्हें बिजली की तरह किसी अन्य स्रोत की आवश्यकता नहीं होती है। बारिश शुरू होने पर जल जमा हो जाता है और सीधे टैंक के फ़िल्टर सिस्टम में डाला जाता है।

  1. पानी के पीपे

पानी के पीपे अक्सर इस तकनीक का सबसे सरल रूप माना जाता है। वे और कुछ नहीं बल्कि एक जल निकासी पाइप या प्राकृतिक वर्षा के माध्यम से पानी के भंडारण के लिए बड़े प्लास्टिक के कंटेनर हैं और पौधों को जलाने के लिए बगीचे में उपयोग हेतु अधिकतर घर में बनाए रखे जाते हैं।

यदि आपके घर में सही आकार का एक बगीचा है तो एक पीपा मुख्य रूप से आपकी पानी की खपत पर नज़र रखने में वास्तव में सहायक हो सकता है। आप एक बारिश तश्तरी के साथ इन पीपों को भी जोड़ सकते हैं जो गहराई के साथ गटर की तुलना में बारिश के पानी को और अधिक प्रभावी ढंग से एकत्रित करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला छाते जैसा है।

  1. वाणिज्यिक वर्षा जल संचयन

वाणिज्यिक प्रयोजनों के लिए जो चीज़ मुख्य है वह है अंतर और आकार। तकनीक कम या ज्यादा ही होती है और यह कुछ हद तक उच्च तकनीक भी हो सकती है। अगर इमारत वास्तव में लंबी है तो गुरुत्वाकर्षण फ़ीड सिस्टम सबसे अधिक संभव विकल्प होगा क्योंकि इससे पानी के बड़े दबाव का उत्पादन किया जा सकता है।

  1. विविध रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम

गटर या छतों से अधिक पानी एकत्र किया जा सकता है और उपयोग किया जा सकता है लेकिन यह नवीनतम विकास नहीं है क्योंकि नवीनतम विकास पानी के लिए झरझरा फ़र्श का इस्तेमाल करने के बारे में है, जिसमें ऐसी व्यवस्थाएं शामिल हैं, जो वास्तव में उद्यानों के नीचे बनाई गई हैं और ये पानी के बिलों को कम करने का एक स्थायी तरीका प्रदान करते हैं।

मुझे लगता है कि मैंने इस विषय पर अपने शब्द पर्याप्त रूप से आपके आगे रखे हैं। अब मैं अपने दूसरे दल के सदस्यों से मंच पर आकर मेरे साथ जुड़ने के और मैंने जो कुछ कहा है उसमें अपने तथ्य जोड़ने का अनुरोध करूँगा।

धन्यवाद!