युवा पर भाषण

इस तथ्य पर संदेह नहीं किया जा सकता कि एक युवा ही है जो देश के भविष्य को आकार देता है। यदि यह युवा मेहनती और परिश्रमी है तो वह राष्ट्र की प्रगति के लिए बाध्य है लेकिन अगर यह युवा सुस्त और आलसी है तो कोई भी उस देश को पतन से नहीं बचा सकता है। वर्तमान समय में "युवा" एक प्रासंगिक विषय है क्योंकि युवाओं को शिक्षित करने और उनके भविष्य के क्रियान्वयन के लिए बहुत अधिक ध्यान दिया जा रहा है जो बदले में किसी भी राष्ट्र के भाग्य को निर्देशित करेगा। यदि आप इस प्रासंगिक विषय को अधिक जानना चाहते हैं तो युवा पर हमारा भाषण आपको एक अच्छी अंतर्दृष्टि प्रदान करेगा। हमने युवा पर छोटे और साथ ही साथ युवा पर लंबे भाषण उपलब्ध कराएँ हैं ताकि हमारे पाठकों की विविध आवश्यकताओं का पता चल सके और उन्हें एक मंच पर ही इस विषय के बारे में विस्तृत जानकारी दी जा सके।

युवा पर छोटे और लंबे भाषण (Long and Short Speech on Youth in Hindi)

युवा पर भाषण 1

प्रिय बच्चों - आप सभी को नमस्कार! मुझे उम्मीद है कि आप सभी इस बार अपनी बोर्ड की परीक्षा के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

आप सभी आज अपनी कक्षा में मेरी मौजूदगी के कारण हैरान होंगे लेकिन जैसा कि आपके कक्षा अध्यापक ने पहले ही आपको सूचित किया था कि आज प्रधानाचार्य आपकी कक्षा का दौरा करेंगे इसलिए आप सभी थोड़े कम आश्चर्यचकित हैं। मैं आप सभी को डांटने के लिए यहाँ नहीं हूं बल्कि आपके साथ बुद्धिमत्ता के कुछ शब्द साझा करने के लिए हूं। चूंकि यह आपकी 12वीं कक्षा है और आपकी बोर्ड की परीक्षा के बाद आप हमसे अलविदा लेंगे इसलिए मैं इसे कुछ शब्दों का आदान-प्रदान करने के लिए एक उपयुक्त क्षण मानता हूं जो आपके जीवनकाल के लिए आपके साथ रहेंगे।

जाहिर है आप आज के युवा और हमारे देश के युवा हैं। युवा उत्साह, ऊर्जा और गतिशीलता का झरना है। यह हमारे देश के युवा हैं जो हमारे देश की विरासत को आगे बढ़ाने वाले हैं और विकास और उपलब्धियों की नई ऊंचाइयों को हासिल करने में मदद करेंगे लेकिन अगर यह युवा भ्रष्ट हो जाता है तो उस देश का भाग्य अंधेरे में ही होगा। ऐसा राष्ट्र प्रगति नहीं कर सकता है और तेज गिरावट का सामना करना लाज़मी है। इसलिए हमारे युवाओं की निरंकुश शक्ति को मापना और इसे सही दिशा देना बहुत महत्वपूर्ण है। इस ऊर्जा को प्रभावी ढंग से अवरुद्ध करके कोई भी राष्ट्र असीम ऊंचाई प्राप्त कर सकता है और अपने देश के लिए प्रशंसा हासिल कर सकता है।

और चूंकि आप सब आज के युवा हैं और आपके गुरु या शिक्षकों के रूप में हम आपके भविष्य को आकार देने और आपको सही दिशा देने के ज़िम्मेवार हैं। हालांकि हम केवल आपको सही रास्ते चुनने में मदद कर सकते हैं। केवल आपको ही उस रास्ते पर चलना होगा। और यदि आप वर्तमान में अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं तो निकट भविष्य में इसके गंभीर नतीजे हो सकते हैं।

तो ईमानदारी से अपने भविष्य को आकार देने की दिशा में काम करें। इसे उज्ज्वल और सुंदर बनाएं क्योंकि यही भविष्य हमारे राष्ट्र के भविष्य के विकास के लिए रास्ता तैयार करेगा। आज की गई कड़ी मेहनत बर्बाद नहीं जाएगी और आने वाले दिनों में निश्चित रूप से आपको इसका भुगतान मिलेगा। परिश्रम, ईमानदारी और कड़ी मेहनत के साथ अपने युवाओं का पोषण करें। इस समय आप जिन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं वे कल आपको छोटी दिखाई देंगी और आप गुजरने वाले समय के साथ बेहतर होते जाएंगे। लेकिन यह बेहद जरूरी है कि आप अपने लक्ष्यों की दिशा में सचमुच गंभीर रूप से बढ़े। जैसे गुजरने वाले समय के साथ आप बड़े हो रहे हैं तो बढ़ती उम्र के साथ आपको अधिक बुद्धि और ज्ञान आना चाहिए? यह सही कहा गया है कि समय पैसा है क्योंकि जो भी समय का न्यायसंगत उपयोग करना जानता है वह वास्तव में जीवन में बहुत आगे और सफलता के शिखर पर पहुंच जाता है।

इसलिए आज की मेरी सलाह यह है कि कभी भी अपनी युवा क्षमता को बर्बाद नहीं करें और अपनी इष्टतम क्षमता का इस्तेमाल करें। चाहे आप जीवन में जो भी बनना चाहते हैं - एक डॉक्टर, इंजीनियर, शिक्षक, मूर्तिकार, अभिनेता आदि कभी भी आप जो भी करें उसे पूरा करने के लिए अपने सबसे अच्छे प्रयासों में कमी ना आने दें।

मुझे आशा है कि मैंने जो भी कुछ कहा है आप उससे ध्यान रखेंगे और हमेशा के लिए मेरे शब्दों को याद रखेंगे। अंत में मैं आप सभी को मेरी ओर से शुभकामनाएं देना चाहता हूं और सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि हर गुजरता दिन आपके लिए बेहतर हो और जीवन में किसी भी तरह की बाधाओं से आप निराश ना हो - उनका साहसपूर्वक और समझदारी से सामना करें।

धन्यवाद!

 

युवा पर भाषण 2

हमारे गैर-सरकारी संगठन के प्रिय सदस्यों - आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार! जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमारे गैर-सरकारी संगठन हमारे युवाओं के पुनर्वास के लिए काम करते हैं और उन्हें सही दिशा देने में मदद करते हैं इस प्रकार यह समझना महत्वपूर्ण हो जाता है कि युवाओं के उत्थान की दिशा में काम करना और उनकी ऊर्जा को सही दिशा दिखाना क्यों महत्वपूर्ण है।

युवाओं से संबंधित मामले को संबोधित करने से पहले चलिए हमारे समाज की बुनियाद को समझें। हर समाज का गठन विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि, वर्गों, आयु समूह और मूल्यों के लोगों द्वारा किया जाता है। यह कहने की जरूरत नहीं है कि हर व्यक्ति समाज में एक भूमिका निभाता है जो तत्काल और साथ ही आने वाले भविष्य में कुछ प्रतिक्रियाएं उत्पन्न करती है। समाज के आधार को मजबूत बनाने के लिए काम करने की हमारे देश के प्रत्येक नागरिक की जिम्मेदारी है। तात्विक रूप से बोलते हुए हर समाज फूलों के एक बंडल की तरह है जहां हर फूल की सुंदरता फूलों के पूरे गुलदस्ते को शानदार बनाने में सक्षम होने के लिए महत्वपूर्ण है। हर फूल की अलग खुशबू है, एक अलग आकार और रंग है लेकिन जब प्रत्येक गुण एक साथ आते हैं तो बना गुलदस्ता अधिक उज्ज्वल और मनोरम दिखाई देता है।

इसी तरह युवा फूलों की तरह ही किसी भी समाज का एक जटिल हिस्सा है और उनकी भूमिका अति महत्वपूर्ण है। युवा की भागीदारी के बिना कोई भी समाज अधूरा है। एक समाज को प्रगतिशील और गतिशील बनाने के लिए युवा लोगों को इसका एक अनिवार्य हिस्सा बनना चाहिए। किसी ने ठीक ही कहा है कि "आज का युवा बल, आशा और कल का नेता है" क्योंकि वे बड़े पैमाने पर हमारे समुदाय, समाज और देश का चेहरा हैं। युवा लोग समाज में परिवर्तन के दूत हैं और हमारी सरकार या सिस्टम को अपनी भूमिका प्रभावी रूप से निर्वहन करने के लिए प्रेरित कर सकते हैं। लेकिन हमारे युवाओं को भी निर्वहन करने के लिए महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां मिली हैं। उनके लिए अतीत से सबक लेना, वर्तमान में सतर्क रहना और बेहतर भविष्य देखने की आशा के साथ जीना ज़रूरी है - एक भविष्य जो आने वाली पीढ़ी के लिए उज्ज्वल और अधिक आशाजनक होगा।

हमारे युवाओं का कर्तव्य अपनी जिम्मेदारी पूरी करनी है अर्थात् वास्तविक, ईमानदार और अच्छे नैतिक मूल्यों को बनाए रखना। उसे अपने समाज और देश के विकास के लिए अविरत रूप से काम करना चाहिए। युवाओं को अपने समाज में एक सार्थक परिवर्तन लाने के लिए अपने मस्तिष्क, रचनात्मकता, ताकत और कौशल को लागू करना चाहिए और इसे यथासंभव सर्वोत्तम तरीके से कार्य करने में सक्षम बनाना चाहिए। यह हमारे युवा और एकमात्र युवा ही है जो विकास और प्रगति के बीज बो सकते हैं और राष्ट्र की रीढ़ की हड्डी बन सकते हैं ताकि सिद्धांतों और नैतिकता के आधार पर उज्ज्वल भविष्य की नींव रखी जा सके।

ये सब सपने सच होने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि हमारे युवा पहले अपने अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करें और स्वयं को अच्छी तरह से शिक्षित करें क्योंकि यह केवल शिक्षा ही है जो उन्हें सशक्त बनाएगी और हमारे देश के भविष्य का निर्माण करने में उनकी मदद करेगी। बौद्धिक अध्ययन के अलावा शारीरिक शिक्षा भी जरूरी है क्योंकि बिना किसी अच्छे स्वास्थ्य के उनका दिमाग स्वस्थ नहीं रह सकता है। इसलिए यदि हमारे युवा स्वस्थ रहेंगे तो वे अपने देश के लिए काम करने में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर सकते हैं।

धन्यवाद!

 

युवा पर भाषण 3

देवियों और सज्जनों! आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार - हमारे जन-उत्थान काफिले के 99वें समारोह में आपका स्वागत है! आज के युवा पर मेरे भाषण को शुरू करने से पहले कृपया मुझे पहले हमारे अतिथि, श्रीमती निर्मला पांडे, का सम्मान करने का मौका दें। वे पिछले 20 सालों से युवा क्लब की सेक्रेटरी जनरल रही हैं और अपने क्लब के पुनर्वास शिविर में भी सक्रिय रूप से शामिल रही हैं तथा हमारे जन-उत्थान काफिले से भी जुड़ी हुई हैं। इस क्षेत्र में उनकी उपलब्धियां हमारे जैसे लोगों को हमारे समाज और राष्ट्र के उत्थान के लिए बिना किसी स्वार्थ हित के काम करने के लिए प्रेरित करती हैं।

मैं अपने दल के सदस्यों को इस उचित मुद्दे को संबोधित करने का यह अद्भुत मौका देने के लिए धन्यवाद देना चाहूंगा। मैं बहुत अधिक रोमांचित हूँ क्योंकि मैंने संगठन के साथ एक महीना भी पूरा नहीं किया है और इस आयोजन की मेजबानी करने का मौका मुझे मिला है।

सबसे पहले हम खुद से पूछे कि कितनी बार हमें बड़ी चीज़ों से जुड़े होने का अवसर प्राप्त हुआ है? कितनी बार हमें वापसी करने और हमारी गलतियों से सीखने तथा आगे बढ़ने का फैसला कैसे करें यह जानने का मौका मिला है? खैर कुछ अवसर जीवन भर के लिए रहते हैं।

तो इस सभा के साथ जुड़े होने के बाद मैं व्यक्तिगत रूप से सैकड़ों और हजारों युवाओं के साथ बातचीत करने और उनके एजेंडे को सुनने के बाद बेहद रोमांचक और आनंद का अनुभव महसूस करता हूं। आज की पीढ़ी या वर्तमान समय के युवा एक असुरक्षित और अप्रत्याशित वातावरण में बढ़ रहे हैं। जहाँ एक ओर अवसरों की कोई कमी नहीं है, जिसका सही समय पर फायदा उठाकर लोगों के जीवन में एक बड़ा परिवर्तन लाया जा सकता है, वहीँ दूसरी तरफ असीम जोखिम और चुनौतियां मौजूद हैं जिनको सही ढंग से निपटाया नहीं गया तो युवाओं की क्षमता कमजोर पड़ सकती हैं।

अवसर, शक्ति और धन के मामलों में कई स्तरों पर अंतर है। क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि दुनिया भर में लगभग 65 मिलियन आबादी युद्ध और संघर्ष के कारण अपने घर को छोड़ने के लिए मजबूर हो गई थी? यह आने वाले दशक में श्रमिकों के लिए लगभग 600 मिलियन नई नौकरियां पैदा करेगा। पर्यावरण और जलवायु परिवर्तनों के हानिकारक प्रभाव हैं जिन पर दुनिया को तत्काल ध्यान देने की जरूरत है अन्यथा पूरी दुनिया इनके घातक परिणामों की पकड़ में फंस जाएगी।

हमारे देश में जहां हमारे पास युवा जनसंख्या का इतना बड़ा अनुपात है जिनकी क्षमता का पर्याप्त रूप से फायदा नहीं उठाया गया तो हमारे देश के विकास पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए यदि हम अपने युवाओं की क्षमता का सही आंकलन कर उनकी प्रतिभा को बर्बाद नहीं करने का प्रयास करें तो हम अपने देश के लिए बड़ा योगदान प्रदान करने में सक्षम होंगे।

इसलिए सभी नेताओं को एक साथ आने और हमारे युवाओं को सशक्त बनाने के लिए प्रोत्साहित करें। मैं सभी युवाओं को अपने साथियों के समूहों को व्यवस्थित करने के लिए भी कहता हूं। यह केवल हमारे सबसे बड़े खजाने का उपयोग करके ही किया जा सकता है - हमारे युवा - हमारे लिए एक बेहतर दुनिया का निर्माण कर सकते हैं।

धन्यवाद!


 

युवा पर भाषण 4

माननीय अध्यक्ष महोदय, समिति के सदस्यों और मेरे प्रिय साथियों - आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार! मैं हमारे राष्ट्रीय अभिविज्ञान समूह के भाषण समारोह में हर किसी का स्वागत करता हूं।

मैं, संजय खंडेलवाल - हमारे समूह का वरिष्ठ सक्रिय सदस्य आज के लिए आपका मेजबान हूँ। चूंकि मैं पिछले 10 वर्षों से हमारे युवाओं के उत्थान के लिए काम कर रहा हूं और सक्रिय रूप से उनके साथ भी जुड़ा हुआ हूं इसलिए आज के मेरे भाषण का विषय केवल युवा पर है। आज सम्पूर्ण इतिहास पर नज़र डाले तो विश्व में युवाओं की सबसे बड़ी आबादी है और मैं अपने राष्ट्र के भविष्य को आकार देने की उनकी क्षमता में बहुत उम्मीद रखता हूं।

हालांकि जब मैं युवाओं को बेकार की चीज़ों में अपना समय ख़राब करते हुए देखता हूं तो मुझे उनके व्यवहार को सुधारने और उनके समय को समझदारी से उपयोग करने की इच्छा मन में जगती है। हम सभी को इस तथ्य को समझना चाहिए कि आज के युवा ही कल के लिए हमारी एकमात्र आशा है और हम उनके प्रति जिम्मेदारी की भावना रखते हैं अर्थात् उनका मार्गदर्शन करने, उनका पालनपोषण करने और उन्हें सही रास्ता दिखाने आदि। हमारी युवा पीढ़ी विदेशी देशों के युवाओं के मुकाबले कम नहीं है और विश्वभर में हमारे देश का नाम चमकाने की उनमें काफी संभावनाएं हैं। हमारे देश की एक मजबूत नींव रखने के लिए उनके पास अपेक्षित कौशल, रवैया, व्यवहार, क्षमता और ज्ञान है।

मेरा विश्वास है कि देश की प्रगति, विकास तथा उसका उज्ज्वल भविष्य केवल तभी संभव है जब हमारे देश की युवा विचारधाराओं में मेहनती और प्रगतिशील युवा शामिल होंगे और अगर युवा लोगों को मजबूत नैतिक मूल्य, उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान की जाती है और अच्छा स्वास्थ्य का उपहार मिलता है तो उस राष्ट्र को सफलता की महान ऊंचाइयों तक पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता है। हालांकि यदि देश का युवा अक्षम और खराब हो गया है तो उस राष्ट्र का कोई भविष्य नहीं बचा है - क्योंकि ऐसा हमेशा कहा जाता है कि "मजबूत इमारतों की हमेशा एक मजबूत नींव होती है"।

हमारा युवा नवप्रवर्तन और परिवर्तन के मुहाने पर खड़ा है और उनमें से कई तो चमत्कार करने की असीम क्षमता रखते हैं। ज़रूरत है तो सिर्फ सही दिशा दिखाने की और उनकी क्षमता को उत्कृष्टता या प्रदर्शन करने के लिए सही अवसर दिए जाने की। हमारे समाज में विभिन्न सामाजिक बुराइयों से लड़ने के लिए चल रहे कई गैर सरकारी संगठनों में बहुत से युवा स्वयंसेवक हैं जो शानदार काम कर रहे हैं। इसी तरह अन्य क्षेत्रों को भी दुनिया में नवाचार लाने के लिए युवा जोश और गतिशील दिमाग की आवश्यकता होती है। युवा होने का अर्थ है विशाल क्षमता, जिज्ञासा, अनंत संभावनाएं, ऊर्जा, रचनात्मकता, हिम्मत और धैर्य आदि। यह जीवन में विशेष आनन्द ले आता है।

आज हम युवा प्रतिभाओं की पहचान और उनके कौशल को अपनी इष्टतम क्षमता में सम्मानित करने के विभिन्न तरीकों का पता लगाने के लिए इक्कट्ठा हुए हैं। हम जानते हैं कि युवा व्यक्तियों में अज्ञात सीमाओं की खोज करने और दुनिया को नए अविष्कार और कलात्मक रचनाएं प्रदान करने की क्षमता है। तो चलिए हम इस तरह की प्रतिभा को पहचानते हैं और उन्हें आगे आकर अपने दिल से बात करने की अनुमति देते हैं ताकि उन्हें अपनी सच्ची क्षमता को महसूस करने में कोई बाधा का सामना न करना पड़े।

अब मैं अपने दूसरे समूह के सदस्यों से अनुरोध करता हूं कि वे आगे आएं और इस विषय पर कुछ शब्द बोलें जिसके मायने हमारे लिए अनमोल हैं।

धन्यवाद!