यात्रा और पर्यटन पर भाषण

हम यहाँ यात्रा और पर्यटन पर भाषणों की विभिन्न श्रृंखलाएं छात्रों के लिए अलग-अलग शब्द सीमाओं में उनकी जरुरत और आवश्यकता के अनुसार प्रदान कर रहे हैं। सभी यात्रा और पर्यटन पर भाषण आसान और सरल शब्दों का प्रयोग करके विशेष रुप से विद्यार्थियों के लिए लिखे गए हैं। वे यहाँ दिए गए भाषणों में से किसी भी भाषण को अपनी कक्षा के अनुसार चुन सकते हैं। इस तरह के भाषणों के प्रयोग करके, वे किसी भी कार्यक्रम के आयोजन पर बिना किसी झिझक के भाषण बोलने की प्रतियोगिता मे भाग ले सकते हैं।

यात्रा और पर्यटन पर भाषण

यात्रा और पर्यटन पर भाषण 1

आदरणीय प्रधानाचार्य, उप-प्रधानाचार्य, महानुभाव, अध्यापक एवं अध्यापिकाओं और मेरे प्यारे मित्रों, आप सभी को सुप्रभात। मैं भारत में यात्रा और पर्यटन के विषय पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि, हमारा देश संसार के प्राचीनतम देशों में से एक है। यह विभिन्न भारतीय शहरों में आकर्षक ऐतिहासिक स्थलों, पारंपरिक स्थलों, रहस्यमय स्थानों सहित आकर्षक पर्यटक स्थलों से भरा हुआ है जो भारत को यात्रा और पर्यटन के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध करते हैं। पूरी दुनिया के अलग-अलग स्थानों से लोग भारत में खूबसूरत स्थानों पर घूमने, देखने और पर्यटन के लिए आते हैं। वे अपने शहरों में वापस जाकर भारत के ऐतिहासिक स्थलों के बारे में अपने शब्दों में कहानियाँ लिखते हैं। वे अपने देश में भारत के ऐतिहासिक स्थलों के बारे में प्रशंसा करते हैं और भारत में पर्यटन को बढ़ावा देते हैं।

यात्रा और पर्यटन

वास्तु-कला संबंधी और सांस्कृतिक दृष्टि से, भारत पूरे विश्व में सबसे प्रसिद्ध देशों में से एक है। यहाँ परिधान (कपड़े), खान-पान, संस्कृति, परंपरा, भाषा, रहन-सहन का स्तर आदि में, विभिन्न धर्मों की उपस्थिति के कारण पूरे देश में विविधता पायी जाती है। इसलिए लोग अपने जीवन में कम से कम एक बार भारत को देखने के लिए उत्साहित होते हैं। ऐतिहासिक और शान्तिपूर्ण दृश्यों को देखने के लिए भारत एकदम सही स्थान है। भारत सबसे अधिक जनसंख्या वाला और बहुसंस्कृतिक देश है हालांकि, यह विविधता में एकता के लिए भी प्रसिद्ध है। भारत पूरे विश्वभर में प्रसिद्ध नेताओं जैसे; महात्मा गाँधी, गौतमबुद्ध, रानी लक्ष्मीबाई, रतन टाटा आदि महापुरुषों की मातृभूमि हैं। भारत पूरी तरह से विकसित शहरों, ऐतिहासिक विरासतों, स्मारकों, और अन्य देखने योग्य स्थलों जैसे; ताजमहल, हिमालय की पहाड़ियों, बंगाल के चीते आदि भारत के पर्यटन के आइकन माने जाने वाले, पर्यटन के तत्व शामिल हैं।

गोवा और केरल में उन लोगों के लिए बहुत से प्रसिद्ध समुद्र तट (लम्बी समुद्रीय तट रेखा वाले) हैं, जो भारत में सूर्य पर्यटन के लिए तटों को प्राथमिकता देते हैं। वो लोग जो अनोखी चीजें देखना पसंद करते हैं वो भारत में खुजराहो के मंदिर में पर्यटन के लिए जा सकते हैं जो प्रारंभिक मध्ययुगीन काल के भारत का इतिहास बताने के लिए शानदार कला को रखते हैं। विविध रोचक और मनोरंजक मौसमी मेलों, त्योंहारों और कार्यक्रम समारोह नियमित रुप से भारत में आयोजित होते हैं जो वास्तव में, लोगों का दिल जीत लेते हैं। वो लोग जो जीवन में एकबार भारत में आते हैं वास्तव में भारत की आत्मा को महसूस करते हैं।

धन्यवाद।

यात्रा और पर्यटन पर भाषण 2

आदरणीय प्राचार्य, उप-प्राचार्य, सम्मानित अतिथिगण, सर, मैडम और मेरे प्यारे साथियों को मेरा सुप्रभात। मेरा नाम..........है। मैं कक्षा ........में पढ़ता/पढ़ती हूँ। मैं इस अवसर पर भारत में यात्रा और पर्यटन पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। भारत पूरे विश्व में अपने विविध धर्मों के जीवन की उपलब्धता के कारण यात्रा और पर्यटन के लिए बहुत प्रसिद्ध है। हमारा देश ऐतिहासिक विरासतों, स्थलों, ऐतिहासिक स्मारकों, सुन्दर, दर्शनीय स्थलों की सैर आदि से भरा हुआ है जो भारत को सबसे अच्छा पर्यटन स्थल बनाती है। भारत के लिए पर्यटन, देश के लिए आर्थिक आय का स्रोत है और बहुत से लोगों का जीवन इस पर निर्भर करता है। सभी जगह तकनीकी उन्नति के कारण, किसी भी देश के लिए पर्यटन बहुत आसान हो गया है। लोग भारत में प्राकृतिक और ऐतिहासिक पर्यटन स्थलों का भ्रमण के पर काफी हद तक पारस्परिक प्रभाव डाल रहे हैं।

पूरे विश्व में तकनीकी उन्नति में सुधार के कारण, विश्वभर में पर्टन तेजी से बढ़ता व्यवसाय बन गया है। यह विभिन्न तरीकों से बहुत लाभ पहुँचाता है हालांकि, कभी कभी बड़ी चुनौतियाँ देश के विभिन्न संसाधनों को प्रभावित करती हैं जैसे; आर्थिक, पर्यावरणीय, सामाजिक-सांस्कृतिक और शैक्षणिक आदि। यह देश की आर्थिक वृद्धि और विकास को सकारात्मक रुप से प्रभावित करता है जिसमें देश के विभिन्न व्यवसाय शामिल है विशेषरुप से स्वस्थ्य पर्यटन व्यवसाय जैसे: आवास (होटल), परिवहन, कला, मनोरंजन, वन्य-जीवन आदि। हमारे देश में पर्यटन बहुत से लोगों के लिए नौकरी का नया स्रोत और देश के लिए राजस्व है। इसने सबसे अधिक पर्यटन किए जाने वाले स्थलों पर बहुत से स्थानीय निवासियों की जीवन शैली में विशेषरुप से सुधार किया है। आधारभूत वस्तुओं का मूल्य स्थानीय लोगों के द्वारा पर्यटन स्थलों पर यातायात होने के दौरान बढ़ा दिया जाता है।

विकसित देशों के लोग विकासशील देशों में पर्यटन के लिए आते हैं हालांकि, विकासशील देशों के लोग कम आय के स्तर के कारण विकसित देशों में पर्यटन के लिए नहीं जाते। विकासशील देशों में पर्यटन कम कीमत और सस्ते यात्रा पैकेजों के कारण भी ऊंचा है। यद्यपि, देश में पर्यटन के सकारात्मक प्रभावों के साथ-साथ इसके नकारात्मक प्रभाव भी हैं। देश में पर्यटन सबसे पहले, पर्यटन स्थलों के आस-पास के वातावरण को बड़े स्तर पर कचरे जैसे – बोतल, प्लास्टिक अपशिष्ट, खाद्यान्न पदार्थ आदि के एकत्र होने के कारण प्रभावित करता है। यह जीवों और वनस्पति दोनों की जीवन-शैली को प्रभावित करता है।

यह देश में सभी पर्यटक स्थलों पर पर्यटकों की सुरक्षा और बचाव के विषय को भी उठाता है। विदेशों से पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए, देश की सरकार को पर्यटक स्थलों को पर्यटकों के लिए आकर्षक, सुरक्षित बनाने के लिए कुछ धन का निवेश करने की आवश्यकता है। दूसरे देशों के पर्यटकों को पर्यटन स्थल के बारे में सही से दिशानिर्देशित करने के लिए कुछ पेशेवर गाइडो को नियुक्त करने की आवश्यकता है। पर्यटन स्थलों को कुछ सामान्य सुविधाओं जैसे- उचित वातावरण, सुविधापूर्ण होटल, कारों-टैक्सियों की व्यवस्था, 24 घंटे बिजली की आपूर्ति, स्वच्छ पानी की आपूर्ति आदि को पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए और कठिनाईमुक्त यात्रा और जीवन के लिए प्रदान करने की भी आवश्यकता है। आज-कल, अपराधिक गतिविधियों का खतरा बढ़ रहा है जैसे; अपहरण, भीड़ वाले स्थानों पर बम विस्फोट और आंतक की अन्य गतिविधयाँ बढ़ रही है, इसलिए पर्यटन के लिए कड़े सुरक्षा प्रबंधों की आवश्यकता है।

धन्यवाद।

यात्रा और पर्यटन पर भाषण 3

सभी को सुप्रभात। मेरा नाम..........है। मैं कक्षा ........में पढ़ता/पढ़ती हूँ। मैं भारत में यात्रा और पर्यटन के विषय पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। देश के आर्थिक विकास में पर्यटन बहुत ही महत्वपूर्ण स्रोत है। यद्यपि, पर्यटन स्थलों को पर्यटकों के लिए स्वच्छ, अधिक आकर्षित, सुरक्षित करने के उद्देश्य से पहले, निवेश करने की आवश्यकता है। यदि हम देश में पर्यटन के स्तर का विश्लेषण करें तो एक सवाल उठता है कि हमने अपने देश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए क्या किया? क्या हमने देश के सभी गाँवों, कस्बों और शहरों में उचित साफ-सफाई और स्वच्छता को बनाये रखा है? केवल ऐतिहासिक इमारतों, स्मारकों और विरासतों आदि से भरे होने पर पर्यटक आकर्षित नहीं होते। पर्यटक किसी भी देश की पर्यटन स्थलों पर स्वच्छता, सुरक्षा आदि को देखते हैं।

हमारा देश पूरे विश्व में आकर्षक पर्यटन स्थलों को रखने के कारण प्रसिद्ध है। पूरे विश्व भर से लोग हर साल एक भारी भीड़ के रुप में भ्रमण स्थलों को देखने के लिए आते हैं। भारत में विश्वस्तरीय गगनचुंबी इमारतों को रखऩे वाले बहुत से बड़े शहर हैं। हमारा देश खूबसूरत ताजमहल, हिमालय के उत्कृष्ट प्रवेश द्वार, रॉयल बंगाल टाइगर, लोट्स टैम्पल, काशी विश्वनाथ मंदिर, इंडिया गेट, लाल किला, फतेहपुर सीकरी, आगरा का किला, हुमायूं का मकबरा, कुतुब मीनार, हरमंदिर साहिब, आमेर किला, अक्षरधाम, हवा महल, सिटी पैलेस जयपुर, गेटवे ऑफ इंडिया, मैसूर पैलेस, मीनाक्षी अम्मन मंदिर, गोलकुंडा, जामा मस्जिद दिल्ली, लोदी गार्डन, सिद्धिविनायक मंदिर मुंबई, महाबोधि मंदिर, गुरुद्वारा बंगला साहिब, चारमीनार, लेक पैलेस, जंतर-मंतर, सिटी पैलेस उदयपुर, डल झील, फलकनुमा पैलेस, वेंकटेश्वर मंदिर तिरुमाला, और बहुत सी ऐतिहासिक इमारतों का घर है।

भारत में अन्य पर्यटन स्थल श्रीनगर, शिमला, गोवा, कुर्ग, ऊटी, दार्जिलिंग, वाराणसी, महाबलेश्वर, पुणे, गंगटोक, इम्फाल, काजीरंगा, कश्मीर, कन्याकुमारी, केरल, अजंता एलोरा, लेह / लद्दाख, आदि हैं। तथापि, भारत में पर्यटन के स्तर को सुधारने के लिए बहुत से प्रयासों को करना अभी भी बाकी है ताकि हम अपने देश के लिए अधिक पर्यटकों को आकर्षित कर सकें और उन्हें जीवनभर के लिए भारत के पर्यटन से खूबसूरत यादों को दे सकें।

भारत में उच्च स्तर को रखने वाले लोग आमतौर पर अपनी छुट्टियों को लंदन, न्यूयार्क या अन्य स्वीस देशों में बिताना पसंद करते हैं हालांकि, समाज के मध्यमवर्गीय लोग हमेशा अपने देश के ही पर्यटन स्थलों पर मस्ती करना पसंद करते हैं। हमारा देश कई समस्याओं के बावजूद पूरे विश्व में पर्यटन के लिए सबसे अधिक लक्षित देश है, इसलिए भारत में यात्रा और पर्यटन को और अधिक बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

धन्यवाद।


 

यात्रा और पर्यटन पर भाषण 4

आदरणीय प्राचार्य, अध्यापक, अध्यापिकाएं और मेरे प्यारे साथियों को मेरी नमस्ते। मेरा नाम..........है। मैं कक्षा ........में पढ़ता/पढ़ती हूँ। इस अवसर पर उपस्थित यहाँ सभी लोगों के सामने मैं यात्रा और पर्यटन पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भारत पूरे विश्वभर में अपने अद्भुत यात्रा और पर्यटन स्थलों के लिए बहुत ही प्रसिद्ध देश हैं। किसी भी देश में पर्यटन उस देश की आर्थिक वृद्धि और देश के विकास में बहुत अहम भूमिका निभाता है। यदि हम भारत में पर्यटन को देखें तो यह विदेशी पर्यटकों द्वारा विदेशी मुद्रा के माध्यम से भारत का दूसरी सबसे बड़ा कमाई स्रोत है। भारत में लोगों के जीवन का एक बड़ा प्रतिशत केवल पर्यटन पर ही निर्भर ही करता है क्योंकि भारत में, कुशल और अकुशल दोनों ही प्रकार के लोगों की एक बड़ी संख्या पर्यटन उद्योग में लगी हुई है। किसी भी देश में पर्यटन राष्ट्रीय पारस्परिकता और अंतर्राष्ट्रीय भाईचारे को बढ़ावा देता है।

हमारा देश प्राकृतिक और सांस्कृतिक रुप से बहुत से सुंदर और आकर्षक स्थानों से भरा हुआ है जो विश्वभर से आने वाले लोगों को मुग्ध करता है। हमारा देश उन देशों में से है जिसके पास समृद्ध ऐतिहासिक विरासत, धरोहर, स्मारक, किलें, तट, धार्मिक स्थल, पर्वतीय स्थल, हिल स्टेशन, आदि विश्व के कोने-कोने से लोगों को भारत में आने के लिए आकर्षित करते हैं। भारत विविधता में एकता के लिए जाना जाता है जो विभिन्न संस्कृतियों, परंपराओं, और धर्मों के लोगों से समृद्ध है जो यहाँ पर अच्छे पर्यटन का बड़ा कारण है। बहुत से धर्म और भाषाओं से समृद्ध होने के कारण, हमारा देश हस्तकला, लोक नृत्य, मेलों, त्योहारों, संगीत, शास्त्रीय नृत्य, कपड़े, खाने की आदतों, जीवन शैली, भाषा, आदि, की विविधताओं से भरा हुआ है जो दुनिया भर के लोगों के दिलों में भारत भ्रमण की इच्छा को जगाता है।

आजकल, भारत में पर्यटन, पर्यटन विभाग के द्वारा बॉलीवुड अभिनेत्री और अभिनेताओं की मदद से घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर, बड़े स्तर पर समर्थित किया जा रहा है। देश में पर्यटन और पर्यटकों की संख्या को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन सलाहकार बोर्ड की स्थापना की सिफारिश की गयी है। भारतीय पर्यटन आतंकवाद, असुरक्षा और प्रदूषण के कारण बड़े स्तर पर प्रभावित है हालांकि, भारतीय सरकार के द्वारा भारत में पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए ईमानदारी से प्रयास किये जा रहे हैं। यह तेजी से बढ़ते उद्योगों में से एक है और देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका को निभा रहा है। हमारा देश अपने पर्यटन स्थलों के लिए पूरे एशिया महाद्वीप में सबसे प्रसिद्ध देश है जहाँ लोगों की एक भारी भीड़ बहुत सी परेशानियों के बावजूद यहाँ आती है। हमारा देश स्वभाविक रुप से चारों ओर (एक ओर हिमालय की पर्वत श्रृंखला और अन्य तीन ओर बंगाल की खाड़ी, अरब सागर और हिन्द महासागर) से घिरा हुआ है, जो विस्तृत स्तर पर पर्यटन स्थलों की श्रृंखला को प्रदान करता है।

कई विविध भौगोलिक दृश्यों, स्थानों, चीजों और भारत में समारोह की उपलब्धता हर साल पर्यटकों को मगन कर देती है जैसे; स्मारकों, संग्रहालयों, किलों, अभयारण्यों, धार्मिक स्थलों, महलों, हस्तशिल्प, मेलों, त्योहारों, शास्त्रीय और लोक नृत्य, संगीत, भाषा, आगरा, जयपुर, झांसी, नालंदा, मैसूर, हैदराबाद, महाबलेश्वर, दिल्ली, औरंगाबाद, उज्जैन, शिरडी, हरिद्वार, वाराणसी, पुरी, इलाहाबाद, अमृतसर, अजमेर, वैष्णो देवी, बद्रीनाथ, रामेश्वरम, केदारनाथ, श्रीनगर, मनाली, कुल्लू, देहरादून, दार्जिलिंग, नैनीताल, ऊटी, शिमला, कश्मीर आदि।

रोचक गतिविधियों की विविधता जैसे: पानी के खेल, नौकायन, स्कूबा डाइविंग, राफ्टिंग, स्कीइंग, पर्वतारोहण, घर वाली नौका (हाउसबोट), शीतकालीन खेल, आदि भारत में पर्यटन को बढ़ावा देते हैं। लोगों को पर्यटन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए, 2005 में भारतीय पर्यटन विकास निगम (आईटीडीसी) द्वारा ‘अतुल्य भारत’ के नाम से एक अभियान शुरु किया गया। भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए पर्यटन स्थानों को भी विभागों के तहत विभाजित किया गया है, जैसे- आध्यात्मिक पर्यटन, ' पर्यावरणीय पर्यटन','स्पा पर्यटन', और 'साहसिक पर्यटन' आदि।

भारत में प्रदूषण ने भारतीय पर्यटन को बड़े स्तर पर प्रभावित किया है, उदाहरण के लिए, हम आगरा के ताजमहल की वर्तमान स्थिति को देख सकते हैं, सिर्फ संबंधित अधिकारियों की लापरवाही की वजह से मथुरा रिफाइनरी के अपशिष्ट आगरा में ताजमहल के पत्थरों को प्रभावित कर रहे हैं। दूसरा उदाहरण, भारत में सुन्दर समुद्रीय तट है जो अब पर्यटकों द्वारा छोड़े गए बोतलों के कचरें और अपशिष्टों से धीरे-धीरे कचरें के मैदानों में बदल रहे हैं। इसलिए, भारत में प्रदूषण के विषय पर नियंत्रण करने के साथ ही भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए चिकित्सा पर्यटन को बढ़ावा देना है। देश में चिकित्सा पर्यटन बड़े स्तर पर पर्यटकों के लिए राहत, सुरक्षा और बचाव को उपलब्ध कराता है जो लगातार देश में पर्यटन को सुधारेगा। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय और पर्यटन मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से कई पहलों को चिकित्सा सुविधाओं में अंतर्राष्ट्रीय मानकों को बनाए रखने के लिए शुरु किया गया है।

धन्यवाद।