अहंकार के नकारात्मक पहलू और अहंकार छोड़ने के आसान और असरदार तरीके

चंद अक्षरों से मिलकर बना यह शब्द 'अहंकार' सिर्फ देखने में छोटा लगता है, होता बहुत ही विनाशकारी है। हम जो भी क्रिया या कुछ भी करते हैं वह ऊर्जा का एक रूप है और जैसा कि हम जानते हैं कि ऊर्जा नष्ट नहीं हो सकती है, इसे केवल एक रूप से दूसरे रूप में बदला जा सकता है। ठीक इसी तरह से, हम जो भी महसूस करते हैं वह ऊर्जा का ही एक रूप है और अहंकार भी एक ऊर्जा है, लेकिन समस्या ये है की कई लोग इसे नकारात्मक तरीके से लेते हैं, ऐसा इसलिए है क्योंकि इसे एक अच्छी चीज या भावना नहीं माना जाता है।

हर चीज के दो पहलू होते हैं पहला सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक। अब यह हमारी पसंद है कि हम इसे कैसे लेते हैं। यह कोई भी स्थिति, विचार, कार्य या कुछ भी हो सकता है, और यह हम पर निर्भर करता है। इसे ही आशावादी प्रकृति कहा जाता है। इसलिए, यह हमेशा कहा जाता है कि जीवन में सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाना चाहिए। जब हम नकारात्मक पक्ष लेते हैं, तो यह हमारे जीवन में विनाशकारी भूमिका निभाता है, जबकि यदि हम सकारात्मक पक्ष लेते हैं तो यह रचनात्मक भूमिका अदा करता है।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम क्या सोचते हैं, अगर कुछ मामलों में प्रतिक्रिया होती है। तो, क्या सकारात्मक दृष्टिकोण का चयन करना बहुत कठिन है? नकारात्मकता किसी भी तरह से अच्छा नहीं होता है, इसलिए, मैंने यहां अहंकार के कुछ नकारात्मक पहलुओं पर चर्चा की है जिसमें अहंकार छोड़ने के प्रभावी तरीके शामिल हैं। साथ ही, मैंने इस तीन अक्षरों वाले शब्द 'इगो' को छोड़ने के तमाम लाभ का भी उल्लेख किया है। कभी-कभी यह आपको परेशानी में डाल सकता है और कभी ऐसा भी हो सकता है कि इसकी वजह से एक ही समय में आपके लिए अप्रत्याशित सफलता आ सकती है। कई लेखकों ने जीवन के सात घातक पापों में अहंकार को भी जोड़ा है क्योंकि ये पाप प्रकृति में विनाशकारी है। लेकिन मुझे एक प्रसिद्ध कहावत याद है कि "कुछ भी असंभव नहीं है"।

अहंकार के नकारात्मक पहलू और अहंकार छोड़ने के आसान और असरदार तरीके
अहंकार के नकारात्मक पहलू और अहंकार छोड़ने के आसान और असरदार तरीके

अहंकार के नकारात्मक पहलू/ अहंकार के हानिकारक प्रभाव

अहंकार विचारों का एक प्रकार है या हमारे मन में बनी एक छवि है। यहाँ आपके लिए एक कहानी है:

एक बार एक गरीब आदमी था जो धन कमाने के लिए शहर गया था और जब वहां पहुंचा, तो एक छोटे से दुकान के मालिक के अलावा कोई नहीं था और उस व्यक्ति ने उसकी मदद की और जैसे-जैसे समय बीतता गया, वह आगे बढ़ता गया और सफल होता गया, उसने नाम के साथ साथ पैसा भी कमाया। लेकिन जब छोटे दुकान के मालिक उससे मिलने गए, तो उन्होंने उनसे मिलने से इनकार कर दिया और यह उसका अहंकार ही था जिसने उसे ऐसा करने से रोक दिया। मगर बाद में जब उन्हें एहसास हुआ, तो उसने खुद अपने दोस्त से मुलाकात की और उसके व्यवसाय में मदद की।

1. सच्चाई से आपको दूर रखता है

हां, यह आपके दिमाग में एक अलग दुनिया का निर्माण करता है और आपको अपने इस शहर के शहंशाह जैसा महसूस कराता है। यह हवा में महल बनाने जैसा कुछ है। आप इसे उपरोक्त कहानी से भी संबंधित कर सकते हैं: जैसा कि गरीब ग्रामीण ने खुद को शहर का सबसे शक्तिशाली और सफल व्यक्ति होने की कल्पना की थी और दूसरों के अच्छे कार्यों को भूल गया था। यह आपको वास्तविकता से दूर रखता है।

यहाँ पर भारतीय पौराणिक ग्रन्थ 'रामायण' से एक और उदाहरण है। यह रावण का अहंकार था जिसने उसकी असमय मृत्यु को बुलाया। जब उन्होंने तपस्या की और इसके परिणामस्वरूप, भगवान शिव ने उन्हें अमरता का आशीर्वाद दिया। इसके पश्चात, रावण खुद को सर्वशक्तिमान समझने लगा और परिणामस्वरूप, रामायण का महान युद्ध हुआ और आखिरकार, उन्होंने अपने पुत्रों के साथ-साथ अपने जीवन तथा सम्पूर्ण साम्राज्य को भी खो दिया।

दरअसल, अहंकार आपकी आंखों के सामने एक अपारदर्शी दीवार बना देता है और वहां आप केवल वही तस्वीरें देख सकते हैं जो आपके दिमाग में चल रही होती हैं।

2. आपको मतलबी और खुदगर्ज बनाता है

यह आपको खुदगर्ज बनाता है और लोग आपको अपनी ही प्रशंसा करते हुए देखने लगते हैं या आप खुद ही अपनी क्षमताओं को बढ़ावा देने के बारे में बातें करते हैं। दरअसल, जब आप एक समूह में होते हैं, तो आपको हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि बातचीत के दौरान आपको कभी भी मतलबी या सिर्फ खुद की ही बातें नहीं करनी चाहिए। आपको बाकी सभी की बात सुननी भी चाहिए। जब हम लोगों के बीच होते हैं तो यह ज्यादा बेहतर होता है कि आप ऐसा व्यवहार करें जैसे आपके पास कुछ भी नहीं है, क्योंकि आपका अहंकार आपके लिए अपमान और शर्म भी ला सकता है।

मान लीजिए कि आप किसी पार्टी में आये हुए हैं और आपकी मानसिकता है कि आप पार्टी में सबसे अमीर हैं और एक एक ऐसी चर्चा में भी शामिल है जिसमें आपने अनजाने में अपने बैंक बैलेंस की चर्चा ऐसे व्यक्ति से की है जो आपसे ज्यादा कमाता है। यह एक ऐसी स्थिति है जब आस-पास के लोग आप पर मजाक बनाना शुरू कर देंगे। यह आपको तकलीफ दे सकता है, इसलिए चुप रहना बेहतर है और ध्यान रखें कि इस दुनिया में आप अकेले व्यक्ति नहीं हैं, आपके जैसे कई हो सकते हैं। यहां तक ​​कि आलिया, सलमान जैसे सितारों के समान और भी लोग मौजूद हैं।

3. आपकी आंतरिक शांति को नष्ट कर देता है

इस विनाशकारी शब्द के चंद अक्षर आपके आंतरिक शांति को आसानी से नष्ट कर सकता हैं। क्योंकि यह संभव है कि आप दूसरों से श्रेष्ठ महसूस करते हैं, लेकिन जब लोग आपके साथ इस तरह का व्यवहार नहीं करेंगे, तो यह आपको नुकसान पहुंचाएगा और अनावश्यक तनाव पैदा कर सकता है। कभी-कभी यह किसी रिश्ते को भी बर्बाद कर देता है और सिर्फ अहंकार के कारण तलाक जैसे कई मामले भी देखे गए हैं।

वास्तव में किसी को भी यह समझना चाहिए कि उसके कुछ कर्तव्य हैं और उन्हें उनका पालन करना चाहिए, भले ही वे कितने भी अमीर क्यों न बन जाएं। यह वास्तव में दुखद है कि लोग विचलित हो जाते हैं और उनकी असफलताएं उन्हें एहसास दिलाती हैं कि वे कितने गलत थे।

4. आपको हर किसी से श्रेष्ठतर महसूस कराता है

कभी-कभी सफलता प्राप्त करना आसान होता है, लेकिन लंबे समय तक उस गरिमा को बनाए रखना थोड़ा मुश्किल होता है। और यह जीवन की कला है, यह इस बारे में नहीं है कि आप क्या और कितना कमाते हैं, यह सब इसके बारे में है कि आप कितना बचाते हैं। हम सभी इंसान हैं और हम इस दुनिया में एक दूसरे की मदद करने तथा जरूरतमंदों को बचाए रखने के लिए ही हैं। यदि आपके पास आंखें हैं और कोई व्यक्ति अंधा है, तो उसका मजाक बनाने के बजाय आपको उनकी मदद करनी चाहिए। वास्तव में, यही मानवता है जिसके लिए हम पृथ्वी पर हैं। हम जो कुछ भी है, उसे लेकर हमें श्रेष्ठ या गर्व महसूस नहीं करना चाहिए, बजाय इसके दूसरों की मदद करें और यकीन मानिए यह आपको परम संतुष्टि देगा।

5. सफलता पाने से आपको रोकता है

अहंकार अति-आत्मविश्वास की भावना विकसित कर सकता है जो आपके लिए किसी भी कीमत पर अच्छा नहीं है। आपको सफल होने के लिए कड़ी मेहनत करने और बाजार में सर्वश्रेष्ठ होने की आवश्यकता है लेकिन आपका अहंकार आपको यह महसूस कराता है कि आप सबसे बेहतर हैं और आपको किसी भी प्रकार से खुद को और तराशने की आवश्यकता नहीं है। आत्मविश्वास होना अच्छा है लेकिन अति-आत्मविश्वास होना घातक हो सकता है। सफलता प्राप्त करने का केवल एक ही नियम है, सीखना और प्रगति करना जो आपका अहंकार आपको कभी करने की अनुमति नहीं देता है।

6. आप पर हावी होना और कभी भी आपको आजाद नहीं छोड़ना

यदि आप कभी किसी अहंकारी व्यक्ति से मिले होंगे, तो आपने उन्हें देखा होगा कि वे कितने ज्यादा जुनूनी दिखते हैं। असल में, आपका अहंकार आपको कभी स्वतंत्र नहीं होने देता और न ही आपको शांतिपूर्ण जीवन जीने देता है, जो वास्तव में होता है वह है अहंकार जो हमें श्रेष्ठ महसूस कराता है, आप खुद को सर्वशक्तिमान महसूस करते हैं लेकिन यह हमेशा सच नहीं होता है। अहंकार आपके विचारों, आपके पहनावे के तरीकों, आपके भोजन और तक़रीबन हर चीज को बर्बाद कर देता है।

7. आपको निडर और शक्तिशाली होने का झूठा अनुभव कराना

पैसा कमाना और ढेर सारा बैंक बैलेंस रखना बुरा नहीं है लेकिन अपना पैसा दिखाना भी ठीक नहीं है। यह हमेशा जरूरी नहीं है कि आप जहाँ कहीं भी जाएं, सिर्फ आप ही सबसे अमीर व्यक्ति होंगे क्योंकि लोग अपने चेहरे पर बैंक बैलेंस नहीं रख सकते हैं। अहंकार आपके सामने एक काल्पनिक दुनिया का निर्माण करता है और आपको हमेशा सबसे शक्तिशाली महसूस कराता है। अक्सर ही लोग इस तरह के लोगों का साथ पसंद नहीं करते हैं और हमेशा उनसे दूरी बनाए रखते हैं। इसलिए, अपने अहंकार को छोड़ दें और एक स्वस्थ और खुशहाल जीवन व्यतीत करें।

8. खुद में 'नए को' कभी भी जानने नहीं देगा

जैसा कि ऊपर चर्चा किया गया है, अहंकार आपको कभी भी नई चीजें सीखने नहीं देता है, और नई चीजों को सीखना आपको नया जानने का सबसे बेहतर तरीका होता है। हममें से अधिकांश लोग अपनी क्षमताओं को भी नहीं जानते हैं और आपका अहंकार आपको कभी ऐसा करने की अनुमति नहीं देगा। अहंकार आपको हमेशा श्रेष्ठ महसूस कराता है और आपको कभी भी खुद से कुछ बेहतर करने के लिए नहीं उकसाता है। परिवर्तन जीवन का एक हिस्सा है और जब कोई परिवर्तन ही नहीं होगा, तो यह स्वतः उबाऊ और बेकार हो जाता है, आप इसे कई चीजों से संबंधित कर सकते हैं जैसे कि यदि आपको अपने कार्यालय में हर दिन एक ही काम करना है तो आप ऊब जाएंगे, जबकि हर दिन आपको अलग अलग तरह के कार्य सौंपे जाते हैं तो इसे आप एक नए ऊर्जा स्तर के साथ बेहतर तरीके से निभा सकते हैं।

अहंकार छोड़ने के आसान और असरदार तरीके

यहाँ मैंने कुछ सरल तकनीकों का उल्लेख किया है जो आपको अपना अहंकार छोड़ने में मदद करेंगे:

1. ध्यान का अभ्यास करें

ध्यान एक ऐसी चीज है जो आपके जीवन में संतुलन जोड़ती है; यह आपको अपने मस्तिष्क के साथ-साथ भावनाओं को भी नियंत्रित करने में मदद करता है। यह आपके भीतर एक सकारात्मक भावना विकसित करता है और जब हमारे पास एक सकारात्मक पहलू होता है, तो अहंकार के लिए कोई जगह नहीं होगी। लेकिन तथ्य यह है कि हम में से बहुत कम लोग ही ध्यान के उचित चरणों का पालन करते हैं। दरअसल, इसमें तीन भाग होते हैं और इसे ठीक से पूरा करने में तक़रीबन एक घंटे का समय लगता है। तीन चरण हैं धारणा, ध्यान और समाधि। इन तीन जादुई शब्दों को आज़माएं और आप खुद के भीतर एक बदलाव देखेंगे।

2. कहानियां बनाना बंद करें

एक अहंकारी व्यक्ति स्व-निर्मित दुनिया में जी रहा होता है जहां वह खुद को ही सर्वोच्च मानता हैं। इसलिए, ख्याली पुलाव पकाना बंद कर दें और फिर भी अगर आपका मन ऐसा करता है, तो इसे स्वीकार करने की कोशिश करें, और इसे वर्तमान दुनिया से संबंधित करें। अगर आपके बेटे को 90% मिला है, तब भी 99% पाने वाले लोग हैं। यह आपको धरातल से जुड़े रहने में मदद करेगा और अहंकार की भावना को दूर करेगा।

3. अति-आत्मविश्वासी न बनें

अहंकार किसी भी व्यक्ति के अन्दर अति-आत्मविश्वास लाता है, हालाँकि आत्मविश्वास अच्छा है लेकिन जब यह चरम स्तर पर पहुंच जाता है तो यह खतरनाक हो जाता है। इससे दूर रहने के लिए हमेशा खुद के लिए यह पंक्ति कहें "मैं केवल एक ही नहीं हूं, लेकिन मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा"। जब आप महसूस करेंगे कि आपके जैसे कई और हैं और वे भी आपके जैसे अच्छे अंक या स्थिति हासिल कर सकते हैं, तो यह आपके अति-आत्मविश्वास को तोड़ देगा और आपको केवल अपने प्रदर्शन पर ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रेरित करेगा।

4. आभार व्यक्त करने का अभ्यास करें

'आभार' केवल एक शब्द है जो कई अर्थ के साथ-साथ बहुत सारे भावना भी जाहिर करता है। हर चीज के लिए हमेशा दूसरों का शुक्रिया अदा करें। इसे अपनी आदत में शुमार करें, नए दिन के लिए भगवान को धन्यवाद दें, आप दूध के लिए गाय को भी धन्यवाद दे सकते हैं। मैं मज़ाक नहीं कर रहा हूँ; यह वास्तव में काम करता है क्योंकि एक अहंकारी व्यक्ति कभी दूसरों का धन्यवाद नहीं करता है और वे सदा खुद को दूसरों से बेहतर समझता हैं। कृतज्ञता भी आप में दयालुता का निर्माण करती है और आप के भीतर से नकारात्मकता को दूर करती है।

5. माफ़ करना सीखें

हर बार हर किसी को माफ़ करना इतना आसान नहीं होता है फिर भी अगर आप अपने भीतर बदलाव लाना चाहते हैं या अपने भीतर के अहंकार को निकाल फेंकना चाहते हैं, तो कोशिश करें। यह उन लोगों से शुरू करें जो आपके लिए बहुत कम मायने रखते हैं। उदाहरण के लिए, आप बाज़ार गए और एक व्यक्ति आपके ऊपर चढ़ गया और आपका पैकेट सड़क पर गिर जाता है, बस उस व्यक्ति को कहें 'कोई बात नहीं' और अपने पैकेट को उठाकर घर वापिस जाएं, क्योंकि बिना किसी नुकसान के आप इसे फिर से उठा सकते हैं। किसी अनजान व्यक्ति से शुरू करते हुए ऐसा आप करीबी और प्रिय लोगों के साथ भी कर सकते हैं। मेरा विश्वास कीजिये यह न केवल आपके अहंकार को आपसे दूर रखेगा बल्कि आपके रिश्तों को भी मजबूत करेगा और लोग आपके साथ रहना पसंद करने लगेंगे।

6. दूसरों की सराहना करें

एक अहंकारी व्यक्ति कभी भी खुद से बेहतर किसी को नहीं देख सकता है, इसलिए दूसरों की सराहना करने का अभ्यास करें। सराहना करने के लिए हिम्मत चाहिए, इसे आज़माएं। जब एक अहंकारी व्यक्ति किसी अन्य को अच्छी पोशाक पहने देखता है, तो वह स्वतः ही ईर्ष्या महसूस करता है और वे पीड़ित होते हैं क्योंकि उनके पास खुद की बनायी हुई कल्पना होती है कि कोई भी उनसे बेहतर नहीं हो सकता है और जब वे इसके विपरीत कुछ भी देखते हैं तो यह स्वाभाविक रूप से उनके मूड को उत्तेजित कर देता है और फिर वे और भी अधिक ईर्ष्या करने लगते है। जैसा कि हम जानते हैं कि क्रोध और ईर्ष्या अहंकार के परिणाम हैं। जब हम दूसरों की सराहना करते हैं, तो यह हमारे भीतर एक सकारात्मक दृष्टिकोण का निर्माण करता है, और यह सकारात्मकता आपको अहंकार से दूर रहने में मदद करेगी।

अहंकार छोड़ने के लाभ

अहंकार छोड़ने के कई लाभ हैं, और मैंने उनमें से कुछ का वर्णन यहाँ नीचे किया है;

1. हमें विनम्र बनाता है

अहंकार छोड़ने से आप विनम्र बनते हैं, और एक विनम्र तथा धरातल से जुड़े व्यक्ति की प्रशंसा हर जगह की जाती है। हर कोई उन्हें पसंद करता है जो उचित व्यवहार करते हैं और हमेशा अपनी क्षमताओं और शक्ति का घमंड नहीं करते हैं।

इन्फोसिस के सह-संस्थापक एन. आर. नारायण मूर्ति, इतनी बड़ी शख्सियत होने के नाते, उन्हें कार चलानी तक नहीं आती और उनकी पत्नी खुद उन्हें बस स्टॉप तक छोड़ती हैं, जहाँ कंपनी की बस उन्हें लेने आती है। उनके पास आसानी से अलग-अलग कारें हो सकती हैं और साथ ही तमाम ड्राइवर भी हो सकते है, उनकी सादगी, और जिस तरह से वह अपने कर्मचारियों के साथ व्यवहार करते है, वह काबिलेतारीफ़ है। और वो अपने धरातल से जुड़े शालीन व्यवहार के लिए जाने जाते है।

2. नई चीजें सीखने में हमारी मदद करता है

एक अहंकारी व्यक्ति हमेशा खुद को दूसरों से बेहतर समझता है और वे हमेशा खुद में ही संतुष्ट रहते हैं और नई चीजें तथा तकनीक को नहीं सीखते हैं। अहंकार छोड़ने से आपको हमेशा मदद मिलेगी और आपको नई चीजें सीखने के लिए प्रेरित किया जाएगा। नई चीजें सीखने से आपको जीवन में हमेशा मदद मिलती है।

3. आपके जीवन में सकारात्मकता जोड़ता है

एक सकारात्मक दृष्टिकोण आपके जीवन को बदल सकता है और आपने अपने आसपास सकारात्मकता के कई उदाहरण देखे होंगे। नकारात्मकता आपके जीवन में कई अन्य घातक पाप जैसे क्रोध, ईर्ष्या, घृणा, आदि ला सकती है और ये सभी बुरी आदतें किसी भी दृष्टिकोण से अच्छे नहीं हैं। अहंकार कई बुरी आदतों की जड़ है और इसे जल्द से जल्द छोड़ना बेहतर है। हम सभी किसी ऐसे व्यक्ति से प्यार करते हैं जो हमें प्रेरित करता है और हमें उसके साथ रहना भी काफी अच्छा लगता है।

4. हमारे संबंध को मजबूत बनाता है

हर साल हम सुनते हैं कि केवल अहंकार की वजह से कई शादियां असफल हो जाती हैं। कभी-कभी यह आपके रिश्ते को बर्बाद कर देता है और यहां तक ​​कि रिश्ता टूट भी जाता है। इसलिए, हमेशा अहंकार से दूर रहें और अपने परिवार तथा करीबी और चहेते लोगों के लिए समय निकालें। कोई भी बड़ा फैसला लेते समय हमेशा अपने परिवार से उनकी राय जरुर पूछें और उन पर भरोसा करें। भरोसा आपके रिश्ते को और भी मजबूत बनाता है और एक अटूट विश्वास का निर्माण करता है। इस तरह अहंकार छोड़ने से आपके रिश्ते को फायदा हो सकता है।

5. एक सहायक प्रवृत्ति विकसित करना

अहंकार छोड़ने से सकारात्मकता के साथ-साथ सहायक प्रवृत्ति का भी विकास होता है। यह एक मशहूर व्यवसायी का अहंकार ही है जो उसे एक भिखारी से बात करने और उसकी मदद करने के लिए रोकता है। जब वही व्यक्ति अपने अहंकार को छोड़ देता है और गरीबों की सहायता के लिए एक कदम उठाता है तो उसकी प्रशंसा होती है। इसलिए, हमेशा दूसरों की मदद करें और इससे आपको एक अलग तरह की संतुष्टि मिलती है। अहंकार आपको इस तरह के विचार और एहसास से दूर रखता है।

6. एक सराहनीय प्रवृत्ति का निर्माण करता है

हम सभी किसी बात के लिए सराहना पाने पर खुश होते हैं और वे जो सराहना करते हैं और हमें हौसला देते हैं, एक अहंकारी व्यक्ति कभी दूसरों की प्रशंसा नहीं करता है और जब आप अहंकार छोड़ते हैं तो यह आपको कृतज्ञता की अभिव्यक्ति से भर देता है और दूसरों को धन्यवाद देता है। कृतज्ञता विनम्रता लाता है, यहाँ पर कृतज्ञता व्यक्त करते वक़्त तीन 'आर' आते हैं; वे उस व्यक्ति को पहचानते हैं जिसने कभी आपकी मदद की थी क्योंकि जब हम बड़े होते हैं तो आर्थिक रूप से अहंकार हमें बर्बाद कर देता है और हम उन लोगों को भूल जाते हैं जिन्होंने कभी हमारी मदद की।

इसलिए, किसी का भी आभार व्यक्त करते हुए, उसे पहचानें, याद रखें, और प्रतिफल चुकायें (Recognise, Remember, and Reciprocate)। यदि आप अहंकार को छोड़ देते हैं और अपने जीवन में इन तीनों को अपनाते हैं तो मुझे विश्वास है कि आप इस ग्रह के सबसे अमीर व्यक्ति होंगे जिसके बहुत सारे शुभचिंतक होंगे।

निष्कर्ष

आज यहाँ पर मैंने अहंकार के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की है और अंत में कहना चाहता हूं कि यह पूरी तरह से आपकी पसंद है और गलत तरीके से कोई भी लिया गया फैसला हमेशा विनाशकारी ही होता है। मैंने स्पष्ट रूप से अहंकार के लाभ और नुकसान का उल्लेख किया है। उम्मीद है कि आप इस लेख को पसंद करेंगे और निश्चित रूप से अपने प्रियजनों के साथ साझा भी करेंगे और उन्हें अहंकार के सकारात्मक पहलुओं के बारे में बताएंगे भी, जिसके बारे में हम में से बहुत कम लोग ही जानते हैं। ऐसे ही रोचक लेखों के लिए Hindikiduniya से जुड़े रहें।