खुद को हमेशा खुश और प्रेरित कैसे रखें (How to Always Keep Yourself Happy and Motivated)

मौसम आते हैं और चले जाते हैं लेकिन हम वैसे ही रहते हैं, ठीक वैसे ही हालात आएंगे और चले जाएंगे लेकिन आपको भी वही रहना है। आप केवल एक ही बदलाव को महसूस करते हैं और वो है आतंरिक भावनाओं को। जिस तरह से हमें भोजन की आवश्यकता होती है ठीक उसी तरह से हमें अपने विचारों पर भी केन्द्रित करना पड़ता है, हमारे विचार हमारे दिमाग का भोजन है, और जब हर तरफ से इसकी मांग होती है तब हमारा दिमाग सुचारू ढंग से कार्य करता है। आज मैं आपसे कुछ उन प्रभावी तरीकों के बारे में चर्चा करने जा रहा हूँ जो हमें खुश और प्रेरित रखते हैं। जी हाँ, यह आसन नहीं होता मगर इतना भी कठिन नहीं है।

सिर्फ खुद से एक सवाल पूछें, क्या आपने कभी खुद के साथ गलत किया है? जवाब आयेगा नहीं, लेकिन मेरे ख्याल से इसका जवाब ‘हाँ’ है क्योंकि आप सोचते हैं, उदास होते हैं और कभी-कभी दूसरों की वजह से रोते भी हैं और खुद को तकलीफ में डालते हैं। वास्तव में यह आपके स्वास्थ्य और यहाँ तक की आपके जीवन को भी काफी प्रभावित करता है। यहाँ पर मैंने दुखी होने के कुछ प्रमुख नुकसान पर भी चर्चा की है।

खुद को खुश और प्रेरित रखने के 10 सरल और प्रभावी तरीके (10 Simple and Effective Ways to Keep Yourself Happy and Motivated)

खुद को हमेशा खुश और प्रेरित कैसे रखें
खुद को हमेशा खुश और प्रेरित कैसे रखें

यहाँ पर इस प्रवृत्ति को चुनने के कई तरीके हैं और मैंने उनमे से कुछ सबसे बेहतरीन और सबसे प्रभावी तरीकों को आपके लिए चुना है, उम्मीद करता हूँ कि ये आपकी मदद करेंगे और आपके सोचने का तरीका बदलेंगे। ये सभी मेरे खुद के अनुभवों पर आधारित हैं इसलिए में इसे आसानी से सम्बंधित कर सकता हूँ।

1. बुरी आदतों को छोड़ें

धुम्रपान, शराब का सेवन आदि को सबसे सामान्य बुरी आदतों में गिना जाता है, वे हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छे नहीं हैं। आमतौर पर, आप खुलेआम शराब या धुम्रपान का सेवन नहीं करते हैं और वो चीजें जो खुलेआम नहीं की जाती उसे ही बुरी आदत कहते हैं।

असल में, आपको इन चीजों को छिपाना पड़ता है और ये चीजें आपको तनाव दे सकती हैं। इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि इन चीजों से दूर रहिये। एक वजह यह भी है कि यह आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतर नहीं है। ये आपके फेफड़ों, किडनी, आदि को ख़राब कर देता है और एक अस्वस्थ शरीर कभी भी खुश नहीं हो सकता। अगर आप अस्वस्थ हैं तो आप अवसाद महसूस करने लगते हैं और ये स्वतः ही आपको अवसाद के दलदल में डुबा ले जाता है।

2. चुनौतियां बनायें

यह एक तथ्य है कि जब आप चुनौतियाँ स्वीकार करने लग जाते हैं यह आपके दिमाग में एक सकारात्मक प्रभाव डालता है और आपके अन्दर ढेर सारा उत्साह भरता है और आपको प्रेरित करता है।

चुनौतियों को स्वीकार करना और उन्हें पूरा करना आपके अन्दर एक अलग स्तर का आत्मविश्वास भरता है और आपको हमेशा प्रेरित रखता है। इसलिए हमेशा अपनी क्षमता को पहचानिए और चुनौतियों को स्वीकार करने में जरा भी मत हिचकिचाइये।

मुझे एक वाकया याद है जब मेरे ही बैच की एक लड़की थी जो कई कम्पनियों में इंटरव्यू के लिए जाती थी। यहाँ तक कि उसने कई में इंटरव्यू पार भी कर लिया था, मगर वो किसी में भी ज्वाइन नहीं करती थी, और जब मैं उससे ऐसा करने का कारण पुछा तो आपको पता है उसने मुझे क्या समझाया?

उसने मुझे जीवन का एक शानदार तथ्य बताया, उसने समझाया कि डर हम सभी को लगता है जब हम कोई काम करते हैं कि हम सफल होंगे या फेल होंगे तो वे क्या खो देंगे, आदि। लेकिन वो पहले से ही साफ़ थी कि उसे नौकरी चाहिए ही नहीं, वो ये सब सिर्फ अनुभव पाने के लिए कर रही थी।

इसका मतलब है कि जब भी आप कोई काम परिणाम सोचे बिना ही करते हैं आप काफी ज्यादा आत्मविश्वासी और प्रेरक होते हैं। जब आप दबाव लेकर कोई काम करते हैं वह स्वतः ही आपको निराश करता है। एक बात और, जब वो ये सभी इंटरव्यू दे चुकी थी और जब उसे वाकई में नौकरी चाहिए थी, वो जरा सी भी चिंतित नहीं थी क्योंकि पहले के तमाम इंटरव्यूज ने उसके अन्दर एक आत्मविश्वास का भाव पैदा कर दिया था।

इसलिए कभी भी कोई मौका छोड़िये नहीं, चाहे वो किसी काम का न हो, लेकिन उसे एक बार अवश्य प्रयास करें। यह आपके अन्दर एक विशेष तरह का आत्मविश्वास पैदा करता है। कभी कोशिश कर के देखिएगा, ये काम करेगा।

3. सकारात्मक लोगों के साथ रहें

जो चीज हमें सबसे अधिक प्रभावित करती है वह है हमारी पृष्ठभूमि, आम तौर पर बच्चे वही सीखते हैं जो वे अपने आसपास देखते हैं और जब हम खुद को सकारात्मक लोगों के साथ घेर लेते हैं यह हमारे जीवन में स्वचालित रूप से प्रतिबिंबित होता है।

आपके मन में एक सवाल हो सकता है कि पड़ोसी कैसे चुनें, क्योंकि सकारात्मक विचारों वाले व्यक्ति को चुनना आपकी पसंद नहीं है, ऐसे में आपको खुद अच्छे विचारों और व्यवहार का चयन करना चाहिए क्योंकि कोई भी एक अच्छे कुत्ते पर पत्थर नहीं फेंकता है सिवाय कुछ शरारती बच्चों के।

जब तक आप कुछ प्रयास नहीं करते हैं, तब तक किसी को परेशानी नहीं होगी, इसलिए नकारात्मक चीजों में प्रयास क्यों करें, इसके बजाय चीजों को सकारात्मक रूप से लें। यदि कोई आपके घर के सामने कचरा फेंकता है, तो दो संभावनाएं हो सकती हैं, या तो इसके पीछे उनके घर का सफाईवाला हो सकता है या फिर कुछ गड़बड़ हो सकती है। इसलिए, सबसे पहले, अपनी समस्या के बारे में उस व्यक्ति से बात करें और यदि फिर भी, यह जारी है तो आप आगे की कार्रवाई कर सकते हैं।

सकारात्मक लोगों के साथ रहने का मतलब है, आप सोशल मीडिया, फोन आदि से भी जुड़े रह सकते हैं, इससे आपको आंतरिक शांति और बेहतर मानसिक स्वास्थ्य मिलता है। अच्छा मानसिक स्वास्थ्य आपको हमेशा खुश और प्रेरित रखेगा। मानसिक स्वास्थ्य बहुत महत्वपूर्ण होता है इसलिए इसे अनदेखा न करें।

4. आपका स्वास्थ्य आपकी प्राथमिकता

हम में से कुछ लोग दूसरों के लिए इतने समर्पित होते हैं कि हम खुद को ही भूल जाते हैं। इसलिए, ऐसा व्यक्ति मत बनो क्योंकि कोई भी आपके वक़्त में आपकी जगह पीड़ित नहीं हो सकता है। अगर आपको बुखार है तो आपको इससे जूझना पड़ता है। तो, आपका स्वास्थ्य आपकी प्राथमिकता होनी चाहिए, वह एक स्वस्थ व्यक्ति ही होता है जो किसी भी चुनौती को स्वीकार कर सकता है या कोई भी काम कर सकता है।

हमेशा यह सुनिश्चित करें कि आप अच्छे स्वास्थ्य में हैं और तभी आप दूसरों को भी खुश कर सकते हैं। जब आपका परिवार खुश होता है, तो आप स्वतः खुश हो जाते हैं।

5. खुद के लिए कुछ समय निकालें

आपके जीवन में हमेशा समय होना चाहिए, इसलिए खुद को तैयार करने के लिए, अपने लिए कुछ करने के लिए थोड़ा वक़्त जरुर निकालें। यह बहुत आवश्यक है, जब आप खुद से बात करते हैं तो यह आपके लिए आत्मीयता की भावना विकसित करता है और आप स्पष्ट रूप से अपने विचारों का विश्लेषण कर सकते हैं।

इससे आपको सीखने और विकसित होने का मौका भी मिलता है। जैसा कि एक तथ्य है कि हम सभी को वह करना पसंद है जो हमें अच्छा लगता है, यानी की हमारे शौक। जब हम अपने शौक के लिए कुछ समय निकालते हैं, तो यह स्वचालित रूप से हमारी मनोदशा को बदल देता है और रिसर्च में यह पाया गया है कि इस प्रकार के लोग अधिक सक्रिय होते हैं और उनके पास बेहतर समझ भी होती है।

6. सूर्य को अपना दोस्त बनाएं

सामान्य जीवन में अंधेरे को बुरा और प्रकाश को अच्छे के रूप में दर्शाया जाता है, और यदि आप इस विचार में गहराई से जाते हैं, तो यह काफी हद तक सही है।

किसी धुप वाले दिन की अपेक्षा हम उस दिन थोडा उदास हो जाते हैं जब बदली छाई रहती है, इसलिए सूरज के लिए कुछ समय निकलना नहीं भूलना चाहिए। सूरज के साथ समय बिताने से न केवल विटामिन डी का स्तर बढ़ेगा, बल्कि यह आपको खुश और प्रेरित भी रखेगा। सर्दियां और पतझड़ के मौसम में लोग अधिक निराश और हताश महसूस करते हैं।

7. हर मनुष्य को प्यार करें

हम सभी कुछ वर्षों से इस ग्रह पर हैं और लोग यहाँ आते और जाते रहते हैं लेकिन उनका नाम हमेशा के लिए बना रहता है। यहां तक ​​कि शेक्सपियर ने भी अपनी प्रेमिका को नश्वर बना दिया। आपका नाम और काम हमेशा बना रहता है, इसलिए हमेशा अच्छे काम करें।

यह एक व्यक्ति नहीं होता है जो आपके साथ अनुचित व्यवहार करता है; वास्तव में, यह आपकी बुरी स्थिति होती है जो उसे आपके सामने बुरा बना देती है। मान लीजिए अगर कोई गलत है, तो उसे हर किसी के साथ गलत होना चाहिए और उसका कोई दोस्त या रिश्तेदार नहीं होना चाहिए, लेकिन वे कुछ लोगों के लिए सबसे अच्छे होते हैं। यह इंगित करता है कि यह आपका व्यवहार है जो किसी व्यक्ति को आपके लिए अच्छा या बुरा बनाता है। हां, यह अलग बात है कि हर स्थिति में कुछ विशेष शर्तें होती हैं।

आपको हर किसी से प्यार करना है या तो वे आपके साथ अच्छे हों या फिर बुरे। क्या आप जानते हैं कि यह कितना अच्छा है? यह आपको किसी के बारे में कुछ भी सोचने से सुरक्षित रखता है और आपके विचारों को साफ रखता है, इसलिए हर किसी से प्यार करें, इसमें आपका कोई पैसा नही खर्च होता है और आपके अन्दर एक देने वाली प्रवृति विकसित करने में मदद करता है और जो देते हैं वे सबसे खुशहाल लोग होते हैं। क्योंकि हम तभी देते हैं जब हमारे पास होता है और यह खुशी, प्यार, या कुछ भी हो सकता है।

8. कभी तुलना न करें

तुलना आपके आंतरिक शांति को मारती है और आपको निराश कर सकती है, इसलिए खुद के अन्दर कभी भी इस आदत को विकसित न करें। इसे मैं आपको और भी बेहतर तरीके से समझाता हूं।

उदाहरण के लिए, 3 कटोरे ले लीजिए और उन सभी में पानी डालिए, लेकिन आखिरी वाले में हल्का गर्म पानी डालें, बीच में सामान्य पानी और पहले में ठंडा पानी डालें। अब एक व्यक्ति को सामान्य पानी की तुलना में गर्म पानी में अपना हाथ डालने के लिए कहें। उससे पूछें कि कौन सा ठंडा है, वह निश्चित रूप से दूसरे को बताएगा, इसी तरह, जब आप सामान्य और ठन्डे पानी के कटोरे के साथ एक ही गतिविधि दोहराते हैं तो जवाब बदल जाएगा।

कहानी का नैतिक मूल्य ये है कि परिवर्तन लोगों में होता है और परिस्थिति बदलने पर उनकी प्राथमिकताएँ बदल जाती हैं, इसलिए कभी तुलना न करें।

जब इश्वर ने मनुष्यों को बनाया है, तो उसने हम में से कुछ को सुंदर बनाया, कुछ को दयालु, कुछ को प्रतिभाशाली, आदि। इसी तरह, आप भी उनमें से एक हैं और अपनी क्षमता जानते हैं और आप अपने तरीके से अद्वितीय हैं।

यह एक तथ्य है कि हम में से कुछ पैदाइशी अमीर होते हैं लेकिन यह संभावना नहीं है कि वे मरते भी अमीरी के साथ ही हैं। बिल गेट्स का एक प्रसिद्ध उदाहरण: "यदि आप गरीब पैदा हुए हैं, तो यह आपकी गलती नहीं है, लेकिन अगर आप गरीब हैं, तो यह आपकी गलती है।"

हम सभी को अवसर मिलते हैं, बस इसका उपयोग करें और अगर आप किसी से तुलना करते हैं, तो ईर्ष्या होने के बजाय, एक उपलब्धि हासिल कर लेते हैं। ईर्ष्या आपकी खुशी को नष्ट कर सकती है और हमेशा आपको ध्वस्त कर देगी। इसलिए, एक सकारात्मक रवैया अपनाएं।

9. हमेशा एक सुंदर मुस्कान रखें

एक मुस्कान हर किसी को आकर्षित करती है और यह किसी को भी समझाने का सबसे आसान तरीका है। आप जिस किसी भी परिस्थिति का सामना कर रहे हैं कभी भी मुस्कुराना बंद नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे डोपामाइन, एंडोर्फिन और सेरोटोनिन जैसे हार्मोन निकलते हैं जो तनाव कम हैं और आपको खुश रखते हैं।

कभी-कभी आपका तनाव आपकी आंतरिक शांति को नष्ट कर सकता है और इस पद्धति को अपनाने से वास्तव में आपकी मदद होगी। तनाव से थायरॉइड, डायबिटीज, आदि जैसी कई हानिकारक बीमारियाँ होती हैं, ये सभी बहुकालीन बीमारियाँ हैं और ये आपको कभी नहीं छोड़ेंगी।

इसलिए, अपनी चिंताओं को एक तरफ रखें और हर दिन मुस्कुराएं, इससे आपके आसपास सकारात्मक वाइब्स भी विकसित होंगी और एक शांत दिमाग ही समाधान खोज सकता है।

10. उचित भोजन लें

स्वस्थ आहार हम सभी के लिए बेहद आवश्यक होता है। अच्छे स्वास्थ्य को आप तभी पारिभाषित कर सकते हैं जब आप शारीरिक, मानसिक और सामाजिक रूप से मजबूत और खुश होते है। मान लीजिए अगर आपको कोई तनाव है तो आप स्वस्थ नहीं माने जाएंगे। इसलिए, आपको खुश और प्रेरित रखने के लिए एक उचित आहार बहुत आवश्यक है।

आप जो भी खाते हैं उसके अलावा अगर आप अंडा, बादाम, कम वसा वाले भोजन, दही इत्यादि खाते हैं, जो आपके खुश हार्मोन को ट्रिगर करता है और आपके आंतरिक ऊर्जा स्तर को बनाए रखता है। इसलिए, आप दुखी हों या टेंशन में हों, अपना भोजन कभी न छोड़े क्योकि भोजन आपके ख़राब मूड को अच्छा कर सकता है।

खुश और प्रेरित होने के फायदे/ लाभ (Benefits/Advantages of being Happy and Motivated)

  • यह आपको अच्छे स्वास्थ्य का तोहफा देगा।
  • एक खुश दिमाग अच्छा सोच सकता है और बेहतर निर्णय ले सकता है।
  • जब आप प्रेरित होंगे तभी आप जीवन में विकास कर सकते हैं चाहे शारीरिक, मानसिक या फिर आर्थिक रूप से।
  • हम सभी के लिए आंतरिक प्रेरणा बहुत आवश्यक है क्योंकि दुनिया प्रतिस्पर्धा से भरी है और हमारी आंतरिक प्रेरणा ही हमें कुछ अच्छा करने के लिए मजबूर कर सकती है, अन्यथा हम तनाव में ही रहेंगे।
  • दोस्तों, सहकर्मियों, परिवार, आदि के बीच अपने व्यवहार में सुधार करता है।
  • लोग आपके साथ रहना पसंद करेंगे क्योंकि हम सभी उन लोगों से प्यार करते हैं जो अपने जीवन में सकारात्मक और प्रेरित हैं।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात, यह आपको सफल बना देगा और शब्दों की तुलना में आपकी सफलता ज्यादा जोर से बोलती है।
  • एक खुश और शांत दिमाग ही अच्छे निर्णय ले सकता है।
  • जीवन में हमेशा सकारात्मक, प्रेरित और खुश रहना इतना आसान नहीं है, लेकिन यह असंभव भी नहीं है। जब आप दुखी नहीं हो सकते हैं तो दुखी और निराश होने के बजाय खुश और प्रेरित होना चाहिए क्योंकि यह जीवन का एक कठोर सच है, कि आपकी जो भी स्थिति है उसे जीना होगा। जीवन व्यर्थ है यदि आप अपना कीमती समय दुःखी और ध्वस्त होने में बर्बाद करते हैं। यह एक विकल्प है और यह आप पर निर्भर है, तो क्यों न कुछ लाभकारी चुना जाए। मैंने दुखी होने और हताश होने की कुछ कमियों का भी उल्लेख किया है।

दुखी और हताश होने के नुकसान (Some Drawbacks of being Unhappy and Demotivated)

यहाँ पर दुखी होने और हताश होने जैसी कई कमियां हैं:

  • यह आप में कई बीमारियों को विकसित करता है और इससे ब्रेन ट्यूमर और लकवा जैसी गंभीर बीमारी भी हो सकती है।
  • एक व्यक्तिगत रूप से अक्षम व्यक्ति को कोई भी प्यार नहीं करता है, क्योंकि लोग उसे बोझ महसूस करना शुरू कर देते हैं।
  • यह आपके कार्यालय में आपके प्रदर्शन को प्रभावित कर सकता है।
  • यह आपके विकास और सीखने की क्षमताओं में बाधा डालता है।
  • यह विभिन्न प्रकार के अवसाद विकसित कर सकता है जो आत्मघाती विचारों को जन्म देते है।
  • आमतौर पर लोग सकारात्मक लोगों का साथ पसंद करते हैं और आप खुद को अकेला महसूस करने लगेंगे क्योंकि दुनिया बहुत मायने रखती है और वे केवल उन लोगों को ही पूछती है जो सफल हैं।
  • आप केवल अपने नकारात्मक व्यवहार की वजह से अपने पैसे, नाम, दोस्तों, करीबियों, आदि को खो देंगे। इसलिए, इस तरह के विचारों से दूर रहें, ऐसा नहीं है कि हर बार कोई व्यक्ति सफल हो ही जाए। तो, उम्मीद नहीं खोइए क्योंकि भगवान हम सभी के लिए एक बेहतर योजना बना रखें है, मुद्दे की बात ये है कि इसे हम कब हासिल करते हैं।

गुरु गोपाल दास की एक प्रसिद्ध पंक्ति -"जीवन 'बी' और 'डी' के बीच की यात्रा है, अर्थात बर्थ और डेथ, और एकमात्र शब्द जो बीच में है वह है 'सी' यानी चॉइस।"

इसलिए, अपनी आशा को न खोएं और सही रास्ते को चुनने की कोशिश करते रहें और निश्चित रूप से एक दिन आप सफल होंगे। आप नहीं जानते हैं कि जन्म कहां और कैसे लेना है, आप अपने परिवार, रिश्तेदारों, अपने रूप आदि का चयन नहीं कर सकते हैं, लेकिन आप अपना भविष्य, विचार चुन सकते हैं और यह केवल अभ्यास, धैर्य और बेहतर चुनाव से प्राप्त कर सकते हैं।

निष्कर्ष

अपनी चिंताओं के बारे में बहुत अधिक न सोचें और चिंताओं, असफलताओं के बारे में भूलकर अपने जीवन का आनंद लें, क्योंकि वे जीवन का हिस्सा हैं और यहां तक ​​कि बिल गेट्स भी दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति नहीं पैदा हुए हैं, अरबपति बनने में उन्हें भी कम से कम 31 साल लगे। इसलिए, अपने जीवन का आनंद लें और अपनी असफलताओं से सीखें और जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण का चयन करें, यह निश्चित रूप से आपको सफल बनाएगा। अगर पैसा नहीं तो कम से कम आपका व्यवहार और व्यक्तित्व तो अमर हो जाएगा।