मुश्किल समय में हर जगह निडर और साहसी कैसे बनें (How to Become Fearless and Bold Everywhere in Difficult Times)

हम सभी अपने जीवन में कई तरह की मुसीबतों का सामना करते हैं, हम महसूस करते हैं कि बच्चा होना ही बेहतर था मगर क्या आप जानते हैं, बच्चे भी संघर्ष करते हैं, वे संघर्ष करते हैं अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए, जब वे रोना सीखते हैं उसके लिए संघर्ष करते हैं, नयी नयी चीजों को सीखने के लिए संघर्ष करते हैं, आदि। इसी तरह से, हम सभी किसी ना किसी तरह की समस्याओं से जूझते हैं। हममे से कुछ अपने काम से जूझते हैं जबकि कई अपने संबंधों के साथ।

डर एक चुम्बक है - इससे चिपको नहीं (Fear is a Magnet - don’t Stick to it)

संघर्ष करने का यह मतलब नहीं है कि हम उससे उबर नहीं सकते या अपनी मुश्किलों के प्रति साहसिक नहीं हो सकते। हमारा संघर्ष ही हमें मजबूत बनाता है और हमारे जीवन में आने वाली तमाम समस्याओं से जूझने में सार्थक बनाता है। हम सभी परेशानियों का सामना करते हैं लेकिन यहाँ पर केवल कुछ ही होते हैं जो इसे दिखाते हैं या इस बारे में बात करते हैं।

आजकल हर किसी के साथ अपनी भावनाओं को साझा नहीं करना ही ज्यादा अच्छा है, कुछ अच्छे लोगों का साथ रखें जो आपकी परवाह करते हों, और आपको समझते हों। आजकल लोग दूसरों की भावनाओं और परेशानियों का मजाक उड़ाते हैं और ये हमें हमारी समस्या से भी ज्यादा चिंतित करने वाली बात है। इसलिए यह सीख लेना ज्यादा बेहतर होगा कि आप अपनी भावनाओं को कैसे नियंत्रित करते हैं और किस साहसिक तरीके से मुश्किल समय में व्यवहार करते हैं।

जीवन में डर से बाहर आने का आसान तरीका/जीवन में डर के साथ समझौता कैसे करें (Easy Ways to Overcome Fear in Life/How to Deal with Fear in Life)

1. सकारात्मक रहें

एक अध्ययन में, यह सिद्ध हो चुका है कि, जब हम सकारात्मक सोचना शुरू करते हैं, हमारे चारो तरफ स्वतः ही सकारात्मक शक्तियां आने लगती हैं। इसलिए कभी किसी को किसी भी तरह की परिस्थिति के लिए नहीं डरना नहीं चाहिए।

जैसा कि मशहूर प्रेरक, वक्ता और लेखक, मिस्टर नार्मन विंसेंट ने अपनी किताब 'द पॉवर ऑफ़ पॉजिटिव थिंकिग' में सकारात्मक सोच को लेकर तीन जरूरी बातें कही हैं। उन्होने बताया है कि किसी भी व्यक्ति को चाहिये कि -

  • खुद पर भरोसा करे: हमेशा खुद पर भरोसा करें क्योंकि ये सिर्फ आप ही होते हैं जो अपनी समस्याओं से साहसिक तरह से जूझ सकते हैं। अपनी समस्या के बारे में सोचें और उसके परिणाम के बारे में कल्पना कीजिये और एक बार जब हम जान जायेंगे की आखिरकार इसके प्रभाव को जानने के बाद हम उससे निर्भयी हो जायेंगे। इसलिए खुद पर यकीन करें क्योंकि अपनी समस्याओं से आप ही निपट सकते हैं।
  • कॉन्फिडेंट रहें: अगर आप आश्वस्त हैं कि कोई आपको नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। क्योंकि यह हमेशा वह शक्ति नहीं होती जो हमें मजबूत बनाती है। मान लीजिए कि एक चोर ने आपका पर्स चुरा लिया है जिसमे आपका कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण था, तो क्या आप पुलिस का इंतजार करेंगे या चोर के पीछे भागने का विकल्प चुनेंगे। हालाँकि आप एथलीट नहीं हैं, फिर भी आप पूरी कोशिश करेंगे और संभव है कि चोर को पकड़ भी सकते हैं। यह आपका आत्मविश्वास ही होता है जो आपके लिए चीजों को संभव बनाता है।
  • आपका रवैया: स्थिति चाहे जो भी हो उसे कभी भी आप पर हावी नहीं होने देना चाहिए। मान लीजिए कि आपके बॉस की आपके साथ बैठक हुई थी और आपको किसी बात के लिए डांटा गया था। अब यह आपके ऊपर है कि या तो आप इसे नकारात्मक तरीके से लें और अपने बॉस को हर समय गाली देना शुरू करें या आप इसे सकारात्मक रूप से ले सकते हैं और उन विवरणों पर काम करना शुरू कर सकते हैं जिसकी वजह से आपमें कमी निकाली गयी थी। तो, यह आपका दृष्टिकोण है जो आपके जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

2. अपनी समस्या का विश्लेषण करें

कभी कभी हमारा मन हमारी समस्याओं को और भी ज्यादा बढ़ा देता है और हम असुरक्षित और भयभीत महसूस करने लगते हैं। हमेशा अपनी समस्या का विश्लेषण करें और सभी संभावनाओं के बारे में सोचें। आराम करें और उन सभी तथ्यों और चीजों पर विचार करें जो हो सकती हैं। एक परिस्थिति को मान लीजिए कि आप अपनी एक प्रतियोगी परीक्षा में असफल हो गए हैं। अब या तो आप परीक्षा की तैयारी बंद कर सकते हैं या फिर बैठकर अपनी कमियों का विश्लेषण कर सकते हैं।

उन सभी संभावनाओं के बारे में सोचें जो हो सकती हैं। मान लीजिए कि आप अपने माता-पिता को क्या जवाब देंगे? क्या आप दूसरी नौकरी पाने के लिए उपयुक्त नहीं हैं? क्या आप इसके लिए फिर से तैयारी कर सकते हैं? या आत्महत्या करने के अलावा अब कोई भी विकल्प नहीं बचा है। मुझे नहीं लगता कि इसके अलावा कोई अन्य स्थिति हो सकती है। अब आप जानते हैं, आपके पास एक और मौका हो सकता है या आप एक और नौकरी के लिए जा सकते हैं और आत्महत्या अंतिम समाधान है, जो ज्यादातर लोग सोचते हैं।

लेकिन जब आपके पास ये कई विकल्प हैं तो आपको खुद को समाप्त करने के बारे में क्यों सोचना चाहिए, क्योंकि यह भी एक अपराध है। इसलिए, जब आप अपनी समस्या का विश्लेषण करते हैं तो यह आपके डर को स्वचालित रूप से दूर करता है और आपके भीतर एक नई आशा की किरण जगाता है।

3. अपनी मानसिकता बदलें

हमारे पास कई चीजों के लिए एक निश्चित मानसिकता है और हम आमतौर पर उसी के अनुसार सोचते हैं। यह हमारी मानसिकता ही है, जो हमें कभी भी कुछ परे सोचने की अनुमति नहीं देती है। इसलिए, हमेशा नकारात्मक नहीं बनाना चाहिए। उदाहरण के लिए, हिंदू धर्म में काले रंग को अशुभ रंग माना जाता है, जबकि इसे मुसलमानों में बुरा नहीं माना जाता है। इसलिए, यह आपके ऊपर है कि आप क्या चुनते हैं। सामाजिक मानसिकता विकसित न करें, सोचें और अपने खुद के विचार रखें इससे आपको काफी आराम महसूस होगा। यह आपकी समस्याओं से निपटने में आपकी मदद करेगा और आपको साहसिक बनाएगा।

4. अपनी समस्याओं से भागो मत

हम सभी अपने जीवन में तमाम तरह की समस्याओं का सामना करते हैं और उसके परिणामस्वरूप कुछ कार्य करते हैं। लेकिन कभी-कभी हम अनियंत्रित तरीके से व्यवहार करते हैं और तब लोग आसानी से हमें नोटिस भी कर सकते हैं। इसलिए, स्थिति चाहे जैसी भी हो, दूसरों को इसके बारे में पता न चलने दें, क्योंकि यह हर कोई नहीं है जो वास्तव में आपको समझ जाएगा। इसे हल करने के बजाय लोग आपका मज़ाक उड़ाना शुरू कर देते हैं, इसलिए इसे केवल अपने निकट और प्रिय लोगों के साथ साझा करें। अपनी समस्याओं का सामना शानदार तरीके से करें और कभी भी इसकी कोई निशानी अपने ऊपर न छोड़े। ऐसा करना न सिर्फ आपको साहसी बनायेगा बल्कि समाज ऐसे लोगों की प्रशंसा भी करता हैं जो अपने चेहरे पर मुस्कान के साथ अपनी समस्याओं का सामना करते हैं।

5. अपने भावनाओं पर काम करें

हमारी भावनाएं हमारे जीवन का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और हमारे लिए यह सीखना बेहद ही आवश्यक है कि इसे कैसे नियंत्रित किया जाए। हर किसी को इस पर निश्चित रूप से काम करना चाहिए और इसका सबसे बेहतर तरीका है योग का अभ्यास। योग केवल शारीरिक व्यायाम के लिए ही नहीं होता है; यह आपके विचारों और आंतरिक विचारों को नियंत्रित करने के कुछ अभ्यास से भी संबंधित है। भावनाएँ हमें बिखेरती हैं और कमजोर बनाती हैं, इसलिए इस पर काम करना बेहद आवश्यक है। हमारे आंतरिक विचार और भावनाएं ही हमारी आंतरिक शक्ति का निर्माण करते हैं, इसलिए हमेशा मजबूत रहें।

6. अपने भीतर के नकारात्मक विचारों के साथ लड़ें

जब आप कमजोर महसूस करते हैं, तो आप खुद को अकेला, बिखरा हुआ और भयभीत महसूस करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी अपने आसपास के बदलावों के बारे में सोचा है। मान लीजिए कि आप अपनी परीक्षा में असफल हो गए और आप इसके बारे में दुखी हैं, तो क्या आपने सांस लेना बंद कर दिया है? या आपके आसपास का वातावरण आपके प्रति क्रूर हो गया है। असल में, यह आपके भीतर के विचार हैं जो फर्क पैदा करते हैं। यदि आप खुद को कमजोर महसूस करना शुरू कर देंते हैं और सभी नकारात्मक चीजों को नोटिस करेंगे, तो यह स्वचालित रूप से आपको प्रभावित करेगा। इसलिए किसी तरह की शारीरिक क्रियाओं को दिखाने के बजाय काम करें और अगली बार सफलता प्राप्त करें।

7. प्रकृति के पास आपके लिए अद्भुत योजना है

अपने जीवन में हम सभी अलग अलग किरदार निभाते हैं और हमारी कहानी दूसरों से अलग होती है। जब हम डर महसूस करते है और अपने मुश्किल दौर से गुजर रहे होते हैं, हममें से कुछ रोने लगते हैं और गलत चीजों के बारे में सोचने लगते हैं। ये सभी चीजें हमे निराश और चिंतित करती हैं, और सोचते हैं की आगे क्या होने वाला है? मगर यकीन कीजिये, भगवान ने हम सभी के लिए कोई ना कोई योजना बना रखी है और हममे से कोई भी भविष्य नहीं देख सकता, इसलिए हम रोते हैं और अलग अलग तरह के काम करते हैं।

हम सभी के साथ कोई न कोई घटना होती ही है मगर इससे घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि परिस्थितियां हमेशा एक सामान नहीं रहती है। वे बदलती हैं और हम अच्छे दिनों का भी आनंद लेते हैं जब हमारे बुरे दिन बीत जाते हैं। इस संसार को बहुत ज्यादा गंभीरता से नहीं लेना चाहिए क्योंकि चीजें हमेशा बदलती रहती है। इसलिए, उठो, मुस्कुराओ, और समस्याओं को अपने जीवन का हिस्सा मान कर उन्हें अपनाओ।

निष्कर्ष

तुमने जन्म लिया है और एक दिन मृत्यु भी होगी, न तो आप कुछ लेकर पैदा हुए थे और न ही कुछ लेकर जायेंगे। सभी भावनाएं, संबंध, संपत्ति, धन सांसारिक चीजें हैं, इसलिए किसी भी चीज की चिंता करना बंद करें और अपने काम पर ध्यान केंद्रित करें। जब हम दुखी होते हैं, तो हम लोगों को गलत तरीके से संबोधित कर सकते हैं, इसलिए कभी किसी से गलत न बोलें और अपने कामों पर ध्यान केंद्रित करें। जीवन सुंदर है और आप फिर से पैदा नहीं होंगे, इसलिए दूसरों को कुछ दान करने में मदद करें और सभी के लिए अच्छे शब्द बोलें।