शिक्षा पर भाषण

हम विभिन्न कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए नीचे शिक्षा पर भाषणों की विभिन्न किस्में उपलब्ध करा रहे हैं। सभी शिक्षा भाषण सरल और साधारण शब्दों के वाक्यों का प्रयोग करके विद्यार्थियों की आवश्यकता के अनुसार जैसे; 2 मिनट, 3 मिनट, 5 मिनट और 6 मिनट के आधार पर सबसे अलग तरह से लिखे गए हैं।

शिक्षा पर भाषण

शिक्षा पर भाषण 1

महानुभावो, विशिष्ट अतिथियों, मेरे सम्मानीय अध्यापकों और मेरे प्यारे मित्रों सभी को मेरी सुबह की नमस्ते। मेरे भाषण का विषय शिक्षा है। अपने भाषण के माध्यम से, मैं अपको शिक्षा का महत्व और हमारे जीवन में इसके योगदान के बारे में बताना चाहता/चाहती हूँ। शिक्षा वो यंत्र है, जो हमारे जीवन की सभी चुनौतियों और खुशियों के बारे में हमारे सभी संदेहों और डर को मिटाने में मदद करती है। ये वो यंत्र है जो हमें खुश और शान्तिप्रिय बनाने के साथ ही बेहतर सामाजिक मनुष्य बनाती है। हमारे अध्यापक हमारे लिए भगवान के समान है, जो शैक्षिक संस्थानों के माध्यम से हमें अच्छे स्तर की शिक्षा प्रदान करने में हमारी सहायता करते हैं। वो हमें सबकुछ सिखाने और भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार करने के लिए अपने सबसे अच्छे प्रयास करते हैं। हमारे शिक्षक हमारे जीवन से अंधकार, भय, सभी संदेहों को मिटाने और इस बड़े संसार में खूबसूरत भविष्य बनाने में मदद करने के लिए आते हैं।

शिक्षा

शिक्षा केवल ज्ञानार्जन करना नहीं है हालांकि, इसका अर्थ खुश रहने, दूसरों को खुश करने, समाज में रहने, चुनौतियों का सामना करने, दूसरों की मदद करने, बड़ों की देखभाल करने, दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार करने आदि के तरीकों को सीखना है। मेरे प्यारे मित्रों, शिक्षा एक स्वस्थ्य भोजन की तरह है जो हमें आन्तरिक और बाहरी दोनों तरीके से पोषित करती है। ये हमें आन्तरिक रुप से मजबूत बनाती है और हमारे व्यक्तित्व के निर्माण और ज्ञान देने के द्वारा हमें बहुत ज्यादा आत्मविश्वास देती है। अच्छी शिक्षा ही बुरी आदतों, गरीबी, असमानता, लैंगिक भेदभाव और बहुत से सामाजिक मुद्दों को हटाने का एकमात्र रास्ता है।

धन्यवाद।


 

शिक्षा पर भाषण 2

मेरे आदरणीय अध्यापक और मेरे प्यारे दोस्तों को सुबह की नमस्ते। दोस्तों, शिक्षा वो यंत्र है, जिसने हमारे बीच में से सभी भेदों को मिटा दिया है और हमें एक साथ आगे बढ़ने के काबिल बनाया है। इसने नेतृत्व करने के लिए हमारे जीवन के चुनौतीपूर्ण रास्तों को बहुत आसान बना दिया है। अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा प्राप्त करना योग और ध्यान की तरह ही है क्योंकि इसके लिए भी एकाग्रता, धैर्य और समर्पण की आवश्यकता है। बिना शिक्षा के जानवर और मनुष्यों में कोई अंतर नहीं है। शिक्षा सामाजिक, व्यक्तिगत और पारिवारिक समस्याओं को सुलझाने का सबसे सक्षम यंत्र है। यह एक दवा की तरह है, जो लगभग सभी रोगों का इलाज करने की क्षमता रखती है। शिक्षा प्राप्त करने का मतलब केवल इतना नहीं है कि, हमें नौकरी मिल जाये, इसका अर्थ है अच्छा व्यक्तित्व बनाना, स्वस्थ्य और तंदरुस्त रहना, स्वच्छता बनाए रखना, हर समय खुश रहना, सभी के साथ अच्छे से व्यवहार करना, जीवन की सभी चुनौतियों का सामना करना आदि।

शिक्षा हम सभी के लिए सुखी जीवन का नेतृत्व करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। पहले भारत में शिक्षा व्यवस्था बहुत ही खराब और बिना किसी अनुशासन के थी। केवल अमीर लोगों के बच्चों को ही पढ़ने की अनुमति थी, हालांकि, गरीबों के बच्चों को उसी स्कूल या कॉलेज में पढ़ने की कोई अनुमति नहीं थी। गरीब लोगों को केवल खेतों में ही काम करने के लिए मजबूर किया जाता था, समाज में लोगों के बीच भेदभाव, असमानता, लैंगिक असमानता, और भी बहुत से सामाजिक मुद्दों का कारण अच्छी शिक्षा का अभाव ही था। गरीब लोगों की निम्न स्तर की शिक्षा ने उन्हें, उनके अपने देश में आर्थिक और राजनीतिक शोषण के लिए आलोचनीय बना दिया है। असमानता को हटाने और सशक्तिकरण को सुनिश्चित करने और सभी वर्ग के लोगों की समान भागीदारी के लिए भारतीय संविधान में गरीबों के लिए पर्याप्त प्रावधान किए गए हैं।

उचित शिक्षा का अधिकार सभी का जन्म सिद्ध अधिकार है, किसी को भी उच्च शिक्षा प्राप्त करने से रोकना एक अपराध है। शिक्षा सही-गलत और अच्छे-बुरे के अन्तर को समझने में सहायक होने के साथ ही सही के पक्ष में निर्णय लेने में मदद करती है। यह विस्तार से फैली समस्याओं में सभी पहलुओं पर सोचने में मदद करती है। इसके माध्यम से हम ब्रह्माण्ड के रहस्यों को सुलझा सकते हैं। शिक्षा एक चमत्कार की तरह है, जो हमें इस ग्रह पर सुखी रहने के सभी चमत्कारों को सीखने में मदद करती है। यह हमें सभी संदेहों और अंधविश्वासों से मुक्त करने के साथ ही समाज को प्रभावित करने वाली सभी बुराईयों को हटाने में मदद करती है। बेहतर शिक्षित लोग बहुत आसान और सुरक्षित तरीके से परिवार और राष्ट्र की सुरक्षा कर सकते हैं।

धन्यवाद।

शिक्षा पर भाषण 3

मेरे आदरणीय शिक्षकों और मेरे प्यारे मित्रो को सुबह की नमस्ते। आज, इस महान उत्सव पर, मैं हमारे जीवन में शिक्षा और इसके महत्व के बारे में भाषण देना चाहता / चाहती हूँ। शिक्षा हमारे लिए बहुत मायने रखती है, बिना शिक्षा के हम कुछ भी नहीं है। हम बचपन से जैसे ही स्कूल जाना शुरु करते हैं अपने माता-पिता और अपने अध्यापकों से शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रेरित होते रहते हैं। यदि कोई बचपन से ही उचित शिक्षा को प्राप्त करता है, अपने जीवन का सबसे अच्छा निवेश करता है। शिक्षा का अर्थ केवल लिखना, पढ़ना और सीखना नहीं है, ये सकारात्मकता और खुशी के साथ जीवन जीने का तरीका है। यह उस व्यक्ति से संबंधित सभी लोगों जैसे वैयक्तिक, परिवार, पड़ौसी, समाज, समुदाय और देश को लाभ पहुँचाती है। यह समाज असमानता और गरीबी को हटाने का सबसे अच्छा यंत्र है। यह सभी को अपने, परिवार, समाज और देश के जीवन को बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण कौशल और ज्ञान प्रदान करती है।

शिक्षा भविष्य में आर्थिक वृद्धि को सफलता पूर्वक काम करने की क्षमता प्रदान करने के बेहतर अवसर प्रदान करती है। यह हमें और हम से जुड़े लोगों को खुश और स्वस्थ्य रखने में मदद करती है। उचित शिक्षा हमें बहुत सी बीमारियों से बचाने के साथ ही एचआईवी / एड्स, संक्रमण, आदि जैसे संक्रामक रोगों के प्रसार से लड़ने में मदद करती है। यह सभी आयामों से हमारे भविष्य को उज्ज्वल बनाने में मदद करती है। यह हमें जीवनभर में आने वाली समस्याओं से लड़ने के लिए उचित समझ प्रदान करती है। उचित शिक्षा के माध्यम से एक व्यक्ति को लोगों और एकता का महत्व समझ आता है जो लोगों के परिवार, समाज और देश के बीच के संघर्ष को कम करती है। अच्छी शिक्षा किसी भी राष्ट्र के लिए शक्तिशाली राष्ट्रों के बीच में आगे बढ़ने, वृद्धि करने और विकास करने का सबसे अच्छा यंत्र है। किसी भी देश के अच्छी तरह से शिक्षित लोग उस देश की सबसे कीमती सम्पत्ति होते हैं। शिक्षा गर्भवती महिला और नवजात शिशु के स्वास्थ्य में सुधार करके माँ और शिशु मृत्युदर को कम करने का एक रास्ता है।

शिक्षा पारदर्शिता, स्थायित्व, सुशासन लाने के साथ ही घूसखोरी और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने में मदद करती है। आज भी, बहुत से पिछड़े हुए क्षेत्रों में शिक्षा का कोई अर्थ नहीं है। वो लोग इतने गरीब है कि वो अपना पूरा दिन केवल दो वक्त का खाना प्राप्त करने के लिए लगा देते हैं। वो मानते हैं कि बचपन से ही धन कमाना शिक्षा पर धन व्यर्थ करने से अच्छा है। शिक्षा वास्तव में, बहुत अद्भुत उपकरण है जो आय के स्तर में वृद्धि करती है, स्वास्थ्य में सुधार करती है, लैंगिक समानता को बढ़ावा देती है, जलवायु में हो रहे अवांछनीय परिवर्तनों को घटाती है, गरीबी को कम करती है आदि। यह घर और ऑफिस में शान्तिपूर्ण वातावरण बनाने में मदद करती है। शिक्षा हमें बौद्धिक स्वतंत्रता प्रदान करती है और हमें शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और बौद्धिक रुप से सुखी रखती है। यह लोगों के बीच में विचारों और अनुभवों को बाँटने में मदद करने के साथ ही उन्हें नैतिकता, नियमों और सामुदायिक जिम्मेदारियों के लिए भी प्रेरित करती है।

शिक्षा हमें विस्तृत ज्ञान की श्रृंखला प्रदान करती है जैसे; कला, इतिहास, खेल, गणित, साहित्य और खेतों के बारे में। शिक्षा सफलता, उज्ज्वल भविष्य और जीवन की गुणवत्ता की बुनियादी नींव है।

धन्यवाद।

शिक्षा पर भाषण 4

यहाँ उपस्थित मेरे आदरणीय अध्यापक और अध्यापिकाएं और मेरे सहपाठियों सुबह को नमस्ते। जैसा कि हम सभी यहाँ इस शुभ अवसर को मनाने के लिए इकट्ठे हुए हैं, मैं शिक्षा के महत्व पर भाषण देना चाहता / चाहती हूँ। बिना स्कूल और कॉलेजों के, संसार की कल्पना करना बहुत कठिन है। मेरा मानना है कि ये सभी के लिए असंभव है। हम में से सभी मासिक टेस्ट और परीक्षा के दौरान सुबह जल्दी उठने या पूरी रात पढ़ने में परेशानी महसूस करते हैं। हालांकि, हम सभी अपने जीवन में शिक्षा के महत्व और इसकी आवश्यकता को बहुत अच्छे से समझते हैं। यह पूर्णतः सत्य नहीं है कि, यदि किसी को उचित शिक्षा नहीं मिलती तो वो जीवन में असफल हो जाता है। फिर भी, शिक्षा जीवन में हमेशा आगे बढ़ने और जीवन में सफल होने का आसान रास्ता प्रदान करती है। शिक्षा हम सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बहुत सी समस्याओं के लिए आत्मविश्वास और साहस प्रदान करती है।

शिक्षित लोग अशिक्षित लोगों की तुलना में अपने सपनों को बेहतर ढंग से पूरा करने में सक्षम होते हैं। एक व्यक्ति के लिए उन सभी प्राचीन अंधविश्वासों से बाहर आने के लिए शिक्षा बहुत ही आवश्यक है जो हमारे जीवन को नकारात्मक रुप से प्रभावित करते हैं। अनपढ़ और अशिक्षित लोग बहुत आसानी से अंधविश्वासों से ग्रस्त हो जाते हैं क्योंकि उन्हें सत्य के बारे में कोई सूत्र नहीं होता। शिक्षा ने अंधविश्वासों की वास्तविकता के बारे में हमारी जागरुकता में सुधार किया है और उचित कारणों और तर्कों के साथ सभी नकारात्मक विश्वासों को बदल दिया उच्च प्रौद्योगिकी के रुप में बदलती दुनिया में, हर समय सावधान और अपडेट (समय के साथ चलने वाला) रहने की जरुरत है जोकि बिना शिक्षा के संभव नहीं है। बिना शिक्षा के सभी के लिए आधुनिक संसार में हो रहे सभी बदलावों को स्वीकार और ग्रहण करना असंभव है।

एक अच्छी तरह से शिक्षित व्यक्ति नयी तकनीकों के बारे में अधिक जागरुक होता है और हमेशा खुद को संसार में हो रहे सभी बदलावों के लिए अधिक अपडेट रखता है। इंटरनेट के इस आधुनिक संसार में, हर कोई इंटरनेट के माध्यम से आवश्यक सूचना के बारे में शीघ्र जानकारी के लिए खोज करता है। केवल इंटरनेट के माध्यम से आधुनिक संसार में शिक्षा व्यवस्था प्राचीन समय से बहुत सरल और आसान हो गयी है। सभी लोग जानते हैं कि, इंटरनेट का प्रयोग कैसे करते हैं हालांकि, अशिक्षित लोग इंटरनेट के सभी लाभों के बारे में नहीं जानते, जबकि शिक्षित लोग इंटरनेट को तकनीकी का तोहफा समझते हैं और अपने वैयक्तिक और पेशेवर जीवन को बेहतर और सुखी बनाने के लिए इसका प्रयोग करते हैं।

जीवन को सुखी और स्वस्थ्य बनाने के लिए बेहतर शिक्षा को शामिल किया जाता है। अशिक्षित लोग अपने स्वास्थ्य, परिवार, समाज और देश के प्रति बहुत अज्ञान होते हैं। इस तरह की अज्ञानता उनके स्वंय के जीवन और वैयक्तिक, राष्ट्र और विकास के लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकती है। शिक्षित लोग बेहतर तरीके से जानते हैं कि उन्हें स्वंय को खुश और स्वस्थ्य रहने के साथ ही बहुत सी बीमारियों से स्वंय को कैसे बचाना है। शिक्षित लोग किसी भी बीमारी के लक्षणों को अच्छे से जानते हैं और कभी भी इसके लिए तब तक दवाई लेना नजरअंदाज नहीं करते जब तक कि उस बीमारी के लक्षण पूरी तरह से न चले जायें हालांकि, निरक्षर लोग अज्ञानता और गरीबी के कारण इसका उल्टा करते हैं। यह हमें आत्मविश्वासी, अधिक सामाजिक और हमारे जीवन के प्रति अधिक जिम्मेदार बनाती है।

धन्यवाद।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

शिक्षा के महत्व पर भाषण

प्रौढ़ शिक्षा पर भाषण

लड़की की शिक्षा पर भाषण

भारतीय शिक्षा प्रणाली पर भाषण