शिक्षा के महत्व पर भाषण

हम छात्रों के लिए साधारण और आसान भाषा में शिक्षा के महत्व पर कुछ भाषण प्रदान कर रहे हैं। आप उनमें से कोई भी शिक्षा के महत्व पर भाषण अपनी जरुरत और आवश्यकता के अनुसार चुन सकते हैं। इस तरह के भाषणों का प्रयोग आप अपने स्कूल या कॉलेज में किसी उत्सव या कार्यक्रम के आयोजन पर भाषण प्रतियोगिता में कर सकते हो।

शिक्षा के महत्व पर भाषण

शिक्षा के महत्व पर भाषण 1

सबसे पहले, आदरणीय अध्यापकों, अभिभावकों और मेरे प्यारे मित्रों को मेरा सुप्रभात। मैं शिक्षा के महत्व पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ, जिसके बारे में यहाँ उपस्थित सभी लोग जानते हैं। शिक्षा सभी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। सफलता और सुखी जीवन प्राप्त करने के लिए जिस तरह स्वस्थ्य शरीर के लिए भोजन की आवश्यकता होती है, उसी तरह ही उचित शिक्षा प्राप्त करना बहुत आवश्यक है। शानदार और बेहतर जीवन जीने के लिए यह बहुत आवश्यक है। यह व्यक्ति के व्यक्तित्व का विकास करके, शारीरिक और मानसिक मानक प्रदान करती है और लोगों के रहने के स्तर को परिवर्तित करती है।

यह शारीरिक, मानसिक और सामाजिक रुप से अच्छा होने के साथ ही बेहतर जीवन जीने के अहसास को बढ़ावा देती है। अच्छी शिक्षा की प्रकृति रचनात्मक होती जो हमेशा के लिए हमारे भविष्य का निर्माण करती है। यह एक व्यक्ति को उसके मानसिक, शारीरिक और आत्मिक स्तर को सुधारने में मदद करती है। यह हमें बहुत से क्षेत्रों का ज्ञान प्रदान करके बहुत सा अत्मविश्वास प्रदान करती है। यह सफलता के साथ ही व्यक्तिगत विकास का भी एकल और महत्वपूर्ण मार्ग हैं।

शिक्षा का महत्व

जितना अधिक हम अपने जीवन में ज्ञान प्राप्त करते हैं, उतना ही अधिक हम अपने जीवन में वृद्धि और विकास करते हैं। अच्छे पढ़े-लिखे का मतलब केवल यह कभी नहीं होता कि प्रमाण पत्र और प्रतिष्ठित और मान्यता प्राप्त संगठन या संस्था में नौकरी प्राप्त करना, हालांकि इसका यह भी अर्थ होता है जीवन में अच्छे और सामाजिक व्यक्ति होना। यह हमें हमारे लिए और हम से संबंधित व्यक्तियों के लिए क्या सही है और क्या गलत है को निर्धारित करने में मदद करता है। अच्छी शिक्षा प्राप्त करने का सबसे पहला उद्देश्य अच्छे नागरिक बनना और उसके बाद व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में सफल व्यक्ति बनना होता है। हम बिना अच्छी शिक्षा के अधूरे हैं क्योंकि शिक्षा हमें सही सोचने वाला और सही निर्णय लेने वाला बनाती है। इस प्रतियोगी दुनिया में, शिक्षा मनुष्य की भोजन, कपड़े और आवास के बाद प्रमुख अनिवार्यता बन गयी है। यह सभी प्रकार की समस्याओं का समाधान प्रदान करने में सक्षम है: यह भ्रष्टाचार, आतंकवाद, हमारे बीच अन्य सामाजिक मुद्दों के बारे में अच्छी आदत डालने और जागरुकता को बढ़ावा देती है।

शिक्षा एक व्यक्ति के लिए आन्तरिक और बाह्य ताकत प्रदान करने का सबसे महत्वपूर्ण यंत्र है। शिक्षा सभी का मौलिक अधिकार है और किसी भी इच्छित बदलाव और मनुष्य के मस्तिष्क व समाज के उत्थान में सक्षम है।

धन्यवाद।

शिक्षा के महत्व पर भाषण 2

आदरणीय मान्यवर, मेरे सम्मानीय अध्यापक और मेरे प्यारे मित्रों को सुप्रभात। मैं इस महान अवसर पर आप सभी के सामने शिक्षा के महत्व के विषय पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। शिक्षा हम सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हमारे माता-पिता हमें घर पर ही बहुत सी चीजें सिखाते हैं और फिर 3 साल का होने के बाद स्कूल भेजते हैं। हमारा घर ही हमारा पहला शैक्षणिक संस्थान है, जहाँ हम दूसरों के साथ व्यवहार करना, और अन्य कौशलों को सीखते हैं हालांकि, व्यवहारिक जीवन में सफल होने के लिए स्कूल की शिक्षा बहुत आवश्यक है।

स्कूली शिक्षा के माध्यम से ही, हम व्यक्तित्व, मानसिक कुशलता, नैतिक और शारीरिक शक्ति का विकास करना सीखते हैं। बिना उचित शिक्षा के, एक व्यक्ति अपने जीवन के सभी शैक्षिक लाभों से वंचित रह जाता है। शिक्षा निजी और पेशेवर जीवन में सफलता की इकलौती कुंजी है। शिक्षा हमें विभिन्न प्रकार का ज्ञान और कौशल को प्रदान करती है। यह सीखने की निरंतर, धीमी और सुरक्षित प्रक्रिया है, जो हमें ज्ञान प्राप्त करने में मदद करती है। यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है, जो हमारे जन्म के साथ ही शुरु हो जाती है और हमारे जीवन के साथ ही खत्म होती है।

हमें अपने अंदर पूरे जीवन भर अपने अध्यापकों, अभिभावकों, परिवार के सदस्यों और हमारे जीवन से संबंधित अन्य व्यक्तियों से कुछ ना कुछ सीखने की आदत डालनी चाहिए। हम एक अच्छा व्यक्ति बनने, घर, समाज, समुदाय और दोस्तों में रहने के लिए कुछ ना कुछ सीखते रहते हैं। स्कूल जाना और शिक्षा ग्रहण करना प्रत्येक व्यक्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और जो सफलता प्राप्त करना चाहते हैं उनके लिए बहुत आवश्यक है। हम सभी ने एक ही ढंग से, एक ही ग्रह पर जन्म लिया है हालांकि, धन की कमी और अभिभावकों के ज्ञान के अभाव के कारण इस तरह की औपचारिक शिक्षा के लिए एक समान अवसर नहीं मिलता जो सभी का सफलता की ओर नेतृत्व कर सके। जो व्यक्ति उचित शिक्षा प्राप्त करता है वो परिवार, समाज और देश में प्रशंसा के योग्य होता हैं। सभी के लिए उचित शिक्षा लोगों के बीच में समानता लाकर सभी प्रकार के भेदभावों को हटाती है।

शिक्षा हमें न केवल इतिहास, विज्ञान, गणित, भूगोल और अन्य विषयों को सीखने योग्य बनाती हैं हालांकि, यह हमें ये भी सिखाती है, कि जीवन में बुरी स्थितियों को कैसे संभाला जाये।

धन्यवाद।

शिक्षा के महत्व पर भाषण 3

आदरणीय वरिष्ठ मान्यवर, मेरे अध्यापक और अध्यापिकाएं और मेरे प्यारे साथियों, सभी को मेरा नम्र सुप्रभात। जैसा कि यहाँ हम सभी इस विशेष उत्सव को मनाने के लिए इकट्ठा हुए हैं। मैं इस अवसर पर आप सभी के सामने शिक्षा के महत्व के ऊपर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। हमारे भविष्य के निर्माण और पेशेवर कैरियर को आकार देने में अच्छी और उचित शिक्षा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह हमारे व्यक्तित्व का विकास करने और परिवार और समाज में पहचान और सम्मान प्राप्त करने में मदद करती है। हम यह कह सकते हैं कि, शिक्षा सामाजिक और वैयक्तिक मानव जीवन का एक आवश्यक भाग है। हम अपने जीवन में शिक्षा के महत्व को किसी भी कीमत पर नजरअंदाज नहीं कर सकते। जैसा कि हम समाज में निरंतर देखते हैं कि बहुत से सामाजिक मुद्दे केवल उचित शिक्षा की कमी के कारण पैदा हो रहे हैं। सामाजिक मुद्दे जैसे: असमानता, लिंग असमानता, धार्मिक भेदभाव, और भी बहुत सी समस्याएं हमारे जीवन में केवल शिक्षा की कमी के कारण है। उचित शिक्षा हमारे दैनिक जीवन में वैयक्तिक और सामाजिक मानकों को बनाये रखने में मदद करती है।

इस आधुनिक, तकनीकी और तुलनात्मक दुनिया में, समाज में अभी भी अशिक्षित और गरीब लोगों के बीच शिक्षा एक मुद्दा है, जिसे शीघ्र अति शीघ्र सुलझाने की अवश्यकता है। लोगों के लिए शिक्षा सभी सामाजिक, वैयक्तिक और व्यावसायिक समस्याओं का हल है। उचित और उच्च शिक्षा हमें समाज में रहने के लिए और अधिक सभ्य बनाती है। उचित शिक्षा प्राप्त किए बिना कोई भी समाज में अपनी अच्छी छवि और समृद्ध व सुखी जीवन नहीं बना सकता। यह हमें स्वस्थ्य वातावरण बनाये रखने में सक्षम करती है। आज-कल, पुराने समय की अपेक्षा, उचित शिक्षा प्राप्त करना सभी बड़े विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन व्यवस्था और कोरसपौडंस व्यवस्था (खुले विश्वविद्यालयों) के कारण आसान और साधारण हो गया है। इसने शिक्षा प्राप्त करने की व्यवस्था को आसान बना दिया है, जिस के कारण जो लोग गरीब हैं या विद्यालय जाने में असमर्थ हैं, वो अपने क्षेत्र में ही शिक्षा प्राप्त कर सकें। पूरे भारत में शिक्षा की गुणवत्ता को बनाये रखने के लिए सरकार द्वारा बहुत से प्रयासों और योजना रणनीतियों को अपनाया गया है।

शिक्षा हमारी स्वस्थ्य रहने, बहुत से जीवन को बचाने, आर्थिक वृद्धि को बढ़ाने, धन कमाने, फसलों की गुणवत्ता को बढ़ाने, समाज में शान्ति को बढ़ावा देने, गरीबी को हटाने, लिंग भेदभाव और असमानता को हटाने, महिला और बाल सुरक्षा अधिकारों को बढ़ावा देने, सुशासन लाने, भ्रष्टाचार हटाने, मौलिक अधिकारों के बारे में जागरुक बनाने आदि बहुत से कार्यों के लिए मदद करती है। अच्छी शिक्षा का अर्थ केवल कठिन मेहनत और अच्छा परिणाम प्राप्त करना नहीं है हालांकि, यह तो पूरी मानव जाति के कल्याण के लिए नई चीजों को हासिल करना है।

धन्यवाद।


 

शिक्षा के महत्व पर भाषण 4

मेरे प्रिय साथियों, मैं इस विशेष अवसर पर शिक्षा के महत्व पर भाषण देना चाहता/चाहती हूँ। शिक्षा का वास्तविक अर्थ व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन में सफलता से कहीं अधिक है। आधुनिक समाज के लोगों ने शिक्षा के अर्थ को संकीर्ण (संकुचित) कर दिया है। इसका उद्देश्य यह नहीं है कि, शिक्षित व्यक्ति व्यावसायिक रुप से पहचाने जाये इसके अतिरिक्त इसका उद्देश्य इससे भी कहीं अधिक है। यह रेस में केवल आगे जाने की दौड़ और केवल स्कूल या कॉलेज का पाठ्यक्रम को पढ़ना ही नहीं है। शिक्षा का वास्तविक अर्थ शारीरिक, सामाजिक और मानसिक स्वास्थ्य, व्यक्तित्व का विकास और उनके कौशल स्तर को सुधारना है। शिक्षा का उद्देश्य बहुत ही विस्तृत है, और जो एक व्यक्ति को अच्छा इंसान बनाता है।

शिक्षा का अच्छा स्तर प्रदान करने में शिक्षक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जो कुछ भी हम अपने माता-पिता और शिक्षकों से सीखते हैं, हमारे साथ हमारे जीवन भर रहता है, जिसे हम फिर से अगली पीढ़ी में हस्तान्तरित करते हैं। उचित शिक्षा के उद्देश्य और लाभ केवल व्यक्तिगत लाभ तक सीमित नहीं है, इसके अतिरिक्त यह परिवार, समाज और देश के अन्य लोगों के लाभ से भी जुड़ी है। शिक्षा के बारे में समाज में लोगों के विभिन्न अर्थ, आवश्यकताएं और धारणाएं हैं हालांकि, इसका वास्तविक अर्थ और महत्व कभी नहीं बदलता। एक अच्छी शिक्षा समाज में हमारे आत्मनिर्भर होने के साथ ही गरीबी की समस्या से उभरने में मदद करती है। बहुत से लोग शौक के साथ पढ़ाई करते हैं, न कि एक बोझ की तरह। वे पढ़ना पसंद करते हैं और अपने मस्तिष्क और कौशल का विकास करते हैं। कुछ ऐतिहासिक व्यक्ति जैसे स्वामी विवेकानंद ने अपना पूरा जीवन शिक्षा प्राप्त करने और उसे समाज के गरीब लोगों में वितरित करने में व्यतीत कर दिया।

हमें भी इसके वास्तविक मूल्य को समझने के द्वारा पूरी तरह से लाभान्वित होना चाहिए। हमारा शिक्षा प्राप्त करने का उद्देश्य समाज के दूसरे जरुरतमंद लोगों की मदद करके उन्हें कमजोरी और अंधविश्वास से बाहर निकालना होना चाहिए। शिक्षा वो अविश्वसनीय शक्ति है, जो हमें बुरी शक्तियों से दूर करने, हमें आत्मनिर्भर बनाने और नई संभावनाओं और अवसरों को प्रदान करने, समस्या निवारक बनने का अवसर प्रदान करने और उत्कृष्ट निर्णय निर्माता बनाने में मदद करती है। यह हमारे मस्तिष्क को शरीर, दिमाग और आत्मा के बीच में संतुलन बनाकर शान्त रखने में मदद करती है। शिक्षा की चाबी के माध्यम से एक व्यक्ति सफलता के कठिन ताले को आसानी से खोल सकता है। अच्छी शिक्षा के अभाव में बहुत से लोग पूरे दिन दो वक्त के खाने के लिए कठोर परिश्रम करने में निकाल देते हैं। इसलिए, शिक्षा हम सभी के लिए बेहतर और सुखी जीवन के लिए अनिवार्य है।

धन्यवाद।

 

 

सम्बंधित जानकारी:

शिक्षा पर भाषण

प्रौढ़ शिक्षा पर भाषण

लड़की की शिक्षा पर भाषण

भारतीय शिक्षा प्रणाली पर भाषण