शिक्षा का मूल्य पर भाषण

वर्तमान समय में हर कोई शिक्षा का महत्व जानता है और यही वजह है कि अधिक से अधिक विद्यालयों, विश्वविद्यालयों और कॉलेजों को खोलकर जनता को शिक्षित करने में इतनी अधिक ताकत लगा दी गई है। इस विषय पर विचार करना कितना महत्वपूर्ण है और कितनी बार लोगों को शिक्षा का मूल्य पर एक भाषण देते हुए देखा जा सकता है इसलिए हमने इस विषय पर छोटे और लंबे दोनों भाषणों को कवर किया है। वास्तव में स्कूल स्तर पर बहुत से छात्रों को अपने शिक्षकों द्वारा इस विषय को संबोधित करने या उस पर एक संक्षिप्त भाषण लिखने के लिए कहा जाता है। इसलिए शिक्षा के महत्व पर हमारे छोटे तथा लंबे भाषण दोनों ही आपके स्कूल कार्य या किसी भी भाषण देने के समारोह में आपकी सहायता कर सकते हैं ताकि आप अपने शिक्षक या श्रोताओं को प्रभावित कर सकें।

शिक्षा का मूल्य पर लम्बे और छोटे भाषण (Long and Short Speech on Value of Education in Hindi)

शिक्षा का मूल्य पर भाषण 1

सुप्रभात प्रधानाचार्य, शिक्षकगण और मेरे सहयोगी छात्रों!

कक्षा 12वीं से मैं शशांक शर्मा शिक्षा का मूल्य पर एक भाषण देने की इच्छा रखता हूँ। मंच पर मुझे देखने के बाद आपको आश्चर्य हुआ होगा। दरअसल इस भाषण समारोह के पीछे कोई विशेष नहीं बल्कि गहरा कारण है।

गर्मियों की छुट्टियों के दौरान मुझे एक गैर-सरकारी संगठन से मुलाकात करने का शानदार अवसर मिला जो वंचित बच्चों को शिक्षा देता है। उनसे मिलकर मुझे एहसास हुआ कि हम कितने भाग्यशाली हैं कि हमें जीवन से दिल्ली के शीर्ष विद्यालयों में पढ़ने का और उन सभी संभावित चीजों को हासिल करने का आशीर्वाद मिला है जो हम चाहते हैं। जिंदगी के प्रति मेरा अनुभव काफी हद तक बदल गया जब मैंने उन बच्चों की दयनीय स्थिति को देखा। 12 वर्षीय सभी बच्चे किसी छात्र की तरह ठीक से पढ़ और लिख भी नहीं पा रहे थे। दुर्भाग्य से वे सभी अच्छे स्तर की शिक्षा से इसलिए वंचित थे क्योंकि उनके पास स्कूल शुल्क के लिए भुगतान करने हेतु पर्याप्त धन नहीं था। हम हमेशा हर दूसरी चीज़ के लिए ईश्वर को दोष देते हैं लेकिन शायद ही कभी हम इस तरह के एक विशेषाधिकार प्राप्त जीवन देने के लिए भगवान का शुक्रिया अदा करते हो।

मैंने उन बच्चों को गुणवत्ता की शिक्षा के साथ सशक्त बनाने का निर्णय लिया जिन गैर-सरकारी संगठनों के साथ मैं जुड़ा हुआ हूं ताकि वे अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव देखना शुरू कर सके। तो मैं यहां आप सभी छात्रों के सामने हूं ताकि आपको शिक्षा का मूल्य का एहसास हो सके। शिक्षा मानव जाति के लिए सबसे अधिक सशक्तीकरण उपकरण है खासकर समाज के वंचित वर्ग के लिए जिनके पास कुछ भी नहीं है बजाए एक समृद्ध अस्तित्व प्राप्त करने के लिए शिक्षा हासिल करने के। हमें शिक्षा के महत्व को पहचानना चाहिए और ईमानदारी से अध्ययन करना चाहिए क्योंकि यह मानव जाति के विकास में मदद करती है और बड़े पैमाने पर राष्ट्र को विश्व में समृद्धि हासिल करवाती है। यह हमें सभ्य बनने में मदद करती है और बर्बर प्राणियों से हमारी पहचान को अलग करती है। शिक्षा हमें अंधेरे से प्रकाश की ओर ले जाती है और हमें तर्कसंगतता, सहिष्णुता, लक्ष्य को हासिल करने की शक्ति इत्यादि के रूप में इस तरह के वरदान प्रदान करती है।

हालांकि सही तरह की शिक्षा हासिल करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह मानव जाति को संपूर्ण लाभ देती है बजाए समाज को पतन की ओर ले जाने के। उदाहरण के लिए हम देख सकते हैं कि हर देश दुनिया में खुद को सबसे शक्तिशाली बनाने और अन्य राष्ट्रों के ऊपर प्रभुत्व जमाने का प्रयास कर रहा है। हर देश दुनिया के सबसे ताकतवर हथियारों और परमाणु बमों को पाना चाहता है ताकि वह अन्य देशों पर दबदबा या उन्हें आतंकित कर सके। यहाँ मैं इस तरह के विनाशकारी ज्ञान पर चर्चा करने के लिए नहीं है जिसका उद्देश्य विनाश और युद्ध करना है। हथियारों और परमाणु बमों का ज्ञान तब तक अच्छा है जब तक इसका इस्तेमाल खुद को बचाने के लिए किया जाता हो लेकिन फिलहाल इसका इस्तेमाल अनावश्यक रक्तपात और मनुष्य वध करने के लिए किया जाता है। ऐसा करने से ज्ञान का नुकसान हो सकता है।

इसलिए अच्छे ज्ञान और बुरे ज्ञान के बीच एक अंतर बनाने और शिक्षा के अधिकार से खुद को शिक्षित करने के लिए सतत प्रयास करना चाहिए ताकि हम लोगों और राष्ट्रों को एक साथ ला सके और गरीबी, अज्ञानता, बेरोजगारी, अपराध आदि के रूप में प्रचलित ऐसी बुराइयों को हमारे समाज से पूरी तरह उखाड़ फेंक सकें।

मैं प्रत्येक छात्र से आग्रह करता हूं कि न केवल ईमानदारी से अध्ययन करे बल्कि दूसरों को भी ज्ञान बाटें।

धन्यवाद।

 

शिक्षा का मूल्य पर भाषण 2

सम्मानित प्रबंधन समिति के सदस्यों और मेरे प्रिय शिक्षकगण - आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

मैं, कृष्ण अवस्थी हमारे ABC एनजीओ समूह के संस्थापक सदस्यों में से एक हमारे सामुदायिक हॉल में आप सभी का स्वागत करता हूँ। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमने एक वर्ष सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है और अब हमारा समूह विस्तार करने की क़गार पर है - यह समाचार देते हुए मुझे बहुत खुशी है और मुझे पूरा यकीन है कि आप सभी यहां मौजूद गणमान्य व्यक्ति भी ऐसा ही सोच रहे होंगे। इसमें कोई संदेह नहीं है कि हमने इस एनजीओ समूह के लिए हमारा खून पसीना दिया है और इसके विस्तार की ख़बर सुनकर अब हमारी खुशी का ठिकाना ही नहीं है।

इसलिए इस अद्भुत अवसर पर मुझे शिक्षा का मूल्य पर भाषण देने की बहुत इच्छा हो रही है क्योंकि शिक्षा हमें संचालित करती है और हमें ऐसे एनजीओ समूहों को बनाने और वंचित जनता को शिक्षित करने के लिए प्रोत्साहित करती है। हालांकि हमारे गैर-सरकारी संगठन के काम करने के तरीकों में कुछ कमियां हैं जिन्हें बताने की मुझे अनुमति दें ताकि हम अपने कल जितना बेहतर हो सके उतना बेहतर बना सकें।

शुरुआत में 10 छात्र और अब 50 बच्चों की शिक्षा की देखरेख करने से यह स्पष्ट है कि हम धीरे-धीरे और अधिक बच्चों को ला रहे हैं जिससे कई बच्चे इससे लाभ उठा सकते हैं। शिक्षा स्पष्ट रूप से एक बहुत महत्वपूर्ण उपकरण है अगर इसका अच्छी तरह से उपयोग किया जाता है तो। हमारे बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के द्वारा हम उन्हें सशक्त बना सकते हैं और उन्हें अपने अल्प अस्तित्व से बढ़ा सकते हैं। शिक्षा ही एकमात्र चीज है जो उनके जीवनकाल के लिए उनके साथ रहेगी और उन्हें एक मजबूत व्यक्ति के रूप में विकसित होने में मदद करेगी।

इस सबके अलावा मैं कुछ और भी कहना चाहूंगा। यद्यपि हम वास्तव में अच्छा काम कर रहे हैं और बच्चों से सकारात्मक प्रतिक्रिया प्राप्त कर रहे हैं लेकिन मुझे अभी भी लगता है कि कुछ गायब है और वह है अतिरिक्त अभ्यास गतिविधियां। मेरे लिए शिक्षा का सही मूल्य सिर्फ पुस्तकों को पढ़ने और परीक्षाओं में अच्छी तरह से प्रदर्शन करने में नहीं है बल्कि इसके व्यावहारिक अनुप्रयोगों के बारे में भी है। हमें अपने विद्यार्थियों को केवल रोबोट नहीं बनाना चाहिए जो अपने स्वयं का दिमाग लगा कर कुछ भी नहीं कर पाएं। इसके लिए हमें नृत्य, गायन, चित्रकारी, कविता लेखन, मूर्तिकला आदि जैसी शिक्षाविदों के अलावा उनके लिए अन्य गतिविधियों की शुरुआत करने की आवश्यकता है। बेशक फंड की कमी के कारण हमारे विद्यार्थियों को ये सभी सुविधाएं देना संभव नहीं है लेकिन हम किसी भी तरह निश्चित रूप से इसके लिए काम करेंगे। इस तरह हमारे छात्रों को उनके व्यक्तित्व के विकास के लिए आत्मविश्वास हासिल होगा।

आइए उनमें अच्छे मूल्यों को पैदा करने की कोशिश करें और उनमें आध्यात्मिक दृष्टिकोण विकसित करें ताकि वे आत्म-केंद्रित व्यक्तियों के रूप में बड़े न होकर ऐसे व्यक्ति के रूप में बड़े हो जो इस समाज और मानवता के विकास में योगदान दे सकता है। मुझे पता है कि हम अपने रास्ते पर प्रगति कर रहे हैं। हम अपने बच्चों को मजबूत और आत्मविश्वासवान व्यक्ति बनाएंगे जो कि अपनी नैतिकता को बरकरार रखते हुए किसी भी कठिन परिस्थिति से निपटने में सक्षम होंगे।

मुझे आप सभी से बस इतना ही कहना था और अब मैं हर किसी को अपनी बहुमूल्य प्रतिक्रिया और सुझाव देने के लिए अनुरोध करता हूं ताकि हम उसके अनुसार कार्यवाही की अगली योजना बना सकें।

धन्यवाद।

 

शिक्षा का मूल्य पर भाषण 3

आदरणीय प्रधानाचार्य, उपाध्यक्ष, शिक्षकगण, मेरे प्रिय छात्रों और सभी माता-पिता - आप सभी को नमस्कार!

आज माता-पिता-शिक्षक बैठक का दिन था मुझे आशा है कि सारी बैठक ठीक-ठाक रही होगी और माता-पिता को अपने बच्चों के अपने संबंधित शिक्षकों से उचित फीडबैक प्राप्त हुई होगी। माता-पिता-शिक्षक बैठक के अलावा प्रबंध समिति ने 'शिक्षा का मूल्य’ नामक विषय पर एक भाषण वितरण समारोह का आयोजन करने का भी निर्णय लिया। चूंकि यह विषय सभी के लिए प्रासंगिक है इसलिए माता-पिता-शिक्षक बैठक का दिन इस समारोह के लिए सबसे अनुकूल है।

मैं शर्मिष्ठा वशिष्ठ माध्यमिक कक्षाओं की सामाजिक विज्ञान शिक्षक होने के नाते इस विषय पर भाषण देने के लिए चुना गया है। यद्यपि इस विषय पर बोलने के लिए यह अवसर सही है लेकिन मैं बोलने के लिए तैयार नहीं करके आई हूं क्योंकि यह विषय हमारे दिल के इतने करीब है कोई भी इस पर बोल सकता है और अपने वैध बिंदुओं को प्रस्तुत कर सकता है। इसलिए यहां आप ख़ुद चुप-चाप सुनने की बजाए मैं चाहूंगी कि आप सवाल उठाएं ताकि आप सभी इस विषय पर एक दूसरे के साथ भाग लें और दूसरों का मार्गदर्शन कर सकें।

मैं यहां सभी दर्शकों से पूछती हूं - शिक्षा वास्तव में क्या है? क्या यह केवल शिक्षाविदों, बुनियादी कौशल प्राप्त करने और एक तर्कसंगत होने के के बारे में है? या यह उस से अधिक है? और अगर यह उस से अधिक है तो क्या इसे स्पष्ट शब्दों में परिभाषित किया जा सकता है? जहां तक ​​मेरी राय का सवाल है मैं कहना चाहूंगा कि शिक्षा एक प्रक्रिया है जो जीवन भर के लिए काम आती है और हर संभव अनुभव प्रदान करती है चाहे वह औपचारिक हो या अनौपचारिक सेट अप हो। इसलिए शिक्षा मेरा मानना ​​है कि कुछ किताबें या कक्षा की पढ़ाई तक ही सीमित नहीं है बल्कि इससे ज्यादा है। इसका उद्देश्य तंत्र को सीखने के तथ्यों और आंकड़ों के बारे में नहीं होना चाहिए बल्कि कौशल को हासिल करना होना चाहिए है हर चीज को करना होना चाहिए, हमारी आंतरिक शक्तियों को साकार करना होना चाहिए और उन शक्तियों को चमकाने के लिए तैयार होना चाहिए जिससे न केवल इसका लाभ हमें मिले बल्कि हमारा समाज और मानवता भी बड़े पैमाने पर एक सकारात्मक बल आकर्षित कर सके।

दुर्भाग्य से वर्तमान समय में हमने शिक्षा के प्राथमिक उद्देश्य को पीछे छोड़ दिया है जो आज के समय में अधिक अंक प्राप्त करने की धारणा है। इसके अलावा शिक्षा का मूलभूत उद्देश्य सरकारी नीतियों, हमारे समाज के दोहरे मानकों और निश्चित रूप से खराब आर्थिक वृद्धि से विकृत हो गया है। मुझे यकीन है कि आप सभी ने इन पंक्तियों को सुना होगा जो कि इन दिनों हर किसी की ज़ुबान पर है, "पढ़ेगा भारत, तभी तो बढ़ेगा भारत" लेकिन भारत कैसे प्रगति कर सकता है जब अधिकांश भारतीय आबादी गरीबी रेखा से नीचे रहती है और अपनी बुनियादी जरूरतों को भी पूरा नहीं कर सकती है?

शिक्षा निजी स्कूलों के लिए पैसा बनाने का व्यवसाय बन चुका है और सरकारी स्कूलों में शिक्षा प्रणाली अभी भी बहुत खराब है। हम इस अंतर को कैसे खत्म कर सकते हैं? और हम ऐसे स्कूलों को शिक्षा के नाम पर भारी धन उगाहने से कैसे रोक सकते हैं? शिक्षा का मूल्य का स्तर केवल तब ही उठाया जा सकता है जब कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहे और अपनी क्षमता का श्रेष्ठ इस्तेमाल करे। दूसरा, अधिक से अधिक अंक प्राप्त करने पर ही ध्यान निर्धारित नहीं किया जाना चाहिए बल्कि व्यावहारिक कौशल प्राप्त करने जो बाद में उन छात्रों के लिए आय का अच्छा स्रोत बन सकता है और देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाने में सहायता कर सकता है पर फोकस करना चाहिए।

इसलिए हमें शैक्षिक संस्थान के रूप में हाथ मिलाने और हमारे चारों ओर रहने वाले प्रत्येक बच्चे को शिक्षा सुलभ बनाने के लिए मिलकर काम करना चाहिए और हमारे छात्रों को पहले गुणवान मनुष्य बनने और फ़िर महान विद्वान व्यक्ति बनने की कोशिश करनी चाहिए।

धन्यवाद!


 

शिक्षा का मूल्य पर भाषण 4

हमारे प्रतिष्ठित मेहमानों, सम्मानित प्राचार्य, शिक्षकों और मेरे प्रिय दोस्तों आप सभी को मेरी ओर से नमस्कार!

हर बच्चा इस दुनिया में "स्वर्गीय महिमा के अनुगामी बादलों" के साथ पैदा हुआ है। और अचानक परमेश्वर द्वारा भेजे ये छोटे दूत स्वयं को भय, संदेह और भ्रम से भरे हुए पाते हैं। यहां शिक्षा की भूमिका अहम् है। जब ये ईश्वर के वरदान भय, आशंका और संदेह के साथ संघर्ष करते हैं तो शिक्षा उनका बचाव करती है और अंधेरे, उनके भय और उनके संदेह को दूर करने में उनकी मदद करती है। जब ऐसा होता है तो दुनिया उज्ज्वल और प्रसन्न दिखाई देती है और अच्छा इंसान बनने में बच्चों की मदद करती है।

लेकिन शिक्षा अपने आप नहीं आती है क्योंकि ऐसा मध्यस्थ कोई साधन होना चाहिए जो ज्ञान प्रदान कर सके और उन्हें सही रास्ता दिखा सके। ऐसी स्थिति में निश्चित रूप से एक शिक्षक सही भूमिका निभा सकता है और वह वो व्यक्ति है जिसके पास बहुत सारा अनुभव है तथा बच्चों को सही और गलत के बीच अंतर पहचानने में मदद करता है। बेशक माता-पिता ही बच्चों के लिए एक बेहतरीन मार्गदर्शक के रूप में कार्य करते हैं और उन्हें एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में विकसित करने में मदद करते हैं, क्योंकि खाली किताबी ज्ञान हासिल करना पर्याप्त नहीं है। इससे आगे जाकर बच्चों को अपनी ज़िंदगी जीने के तरीके सीखने, स्वयं का आचरण सुधारना, विनम्र होना और दूसरों के साथ कैसा व्यवहार करना है सीखना चाहिए। तब शिक्षा पूरी होती है और अपने उद्देश्य की सेवा करने के लिए उपयुक्त मानी जाती है।

चलिए मैं आपके साथ शिक्षा का मूल्य पर एक संक्षिप्त कहानी साझा करता हूँ। एक बार एक व्यक्ति रेगिस्तान से गुजर रहा था तो अचानक उसने किसी की आवाज़ सुनी जो कह रही थी, "कुछ कंकड़ ले लो और उन्हें अपने साथ रखो और कल का दिन आपके लिए खुशी और दुःख दोनों लाएगा"।

आदमी ने ऐसा ही किया और अगली सुबह उठा जब उसने अपनी जेब टटोली तो उसमें से माणिक, हीरे और पन्ने पाए। उस समय वह खुश और दुखी दोनों ही था। वह खुश इसलिए था क्योंकि उसने कंकड़ उठाए और दुखी इसलिए था कि उसने अधिक कंकड़ नहीं चुने। यही शिक्षा के बारे में भी सच है।

तो मेरे प्यारे दोस्त चलिए शिक्षा का मूल्य को बरकरार रखें ताकि हम आने वाले दिनों में दुःख महसूस न करें। शिक्षा वह धन है जिसे कोई भी चोरी नहीं कर सकता है बल्कि इसे आप दूसरों के साथ भी साझा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि ज्ञान के रूप में दूसरों के साथ हम जो साझा कर रहे हैं इस बारे में हमें पूरी तरह सतर्क होना महत्वपूर्ण है क्योंकि हम सार्थक और अच्छे जीवन के लिए ज्ञान को साझा कर रहें हैं बजाए ऐसे कुछ के जो लोगों और समुदायों को नष्ट कर देगा।

शिक्षा सबसे शक्तिशाली उपकरण है इसलिए इसे बुद्धिमानी से उपयोग करें। यदि आप स्रोतपूर्ण व्यक्ति हैं तो ज्ञान बाँट कर सही और गलत तथा नैतिक मूल्यों के बीच अंतर को पहचानने में दूसरों की सहायता करें। यदि शिक्षा मूल्यों और नीतियों पर आधारित होगी, जो अच्छे नैतिक सिद्धांतों से मजबूत है, तो हमारी पीढ़ी तर्कसंगत प्राणियों के रूप में बड़ी हो जाएगी। इसके विपरीत यदि शिक्षा स्वार्थी कारणों पर स्थापित की जाएगी तो कोई भी उस समाज को पतन से नहीं रोक सकता है तथा हर जगह अराजकता होगी।

तो आइए हमारी आने वाली पीढ़ी के लिए अच्छे मूल्यों को प्रदान करने की जिम्मेदारी लें और अच्छे तथा जिम्मेदार वैश्विक नागरिक बनने के लिए शिक्षा के प्राथमिक उद्देश्य को कभी न भूलने का प्रण लें।

धन्यवाद!

 

 

सम्बंधित जानकारी:

विद्यार्थियों के लिए विदाई भाषण

सीनियर्स के लिए विदाई भाषण

अध्यापकों के लिए विदाई भाषण

फेयरवेल के लिए धन्यवाद स्पीच

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन के महत्व पर भाषण

मेरे स्कूली जीवन पर भाषण