विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण

विश्व जनसंख्या दिवस दुनिया भर में मनाया जाता है। यह मूल रूप से आबादी से संबंधित मुद्दों के महत्व और तात्कालिकता पर ध्यान केंद्रित करने की वकालत करती है। यह स्वस्थ गर्भावस्था और परिवार नियोजन के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए एनजीओ, स्कूल, कॉलेज आदि द्वारा मनाया जाता है। यह ऐसा अवसर हो सकता है जब आपको विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण देना पड़ सकता है। हम ऐसे अवसरों के लिए भाषण तैयार करने के उद्देश्य से विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषणों के अलग-अलग नमूने साझा कर रहे हैं। हमने विशेष रूप से हमारे भाषणों की भाषा बहुत सरल और प्रभावी रखी है। विश्व जनसंख्या दिवस पर छोटी लम्बाई का भाषण स्कूल या कॉलेज स्तर पर साझा किया जा सकता है और विश्व जनसंख्या दिवस पर लंबे भाषण को संगठनात्मक स्तरों पर दर्शकों को प्रभावित करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। हम निश्चित हैं कि आप इन भाषणों से प्रेरणा ले सकते हैं और अपने भाषणों से प्रभावित कर सकते हैं। विश्व जनसंख्या दिवस पर आपके भाषण को वैयक्तिकृत करने के लिए आप अपने स्वयं के उदाहरणों, कहानियों और घटनाओं का उपयोग कर सकते हैं।

विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण (Speech on World Population Day in Hindi)

विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण – 1

प्रिय दोस्तों!

हमने विश्व जनसंख्या दिवस के उत्सव के बारे में हमारी योजनाओं पर चर्चा करने के लिए यहां आप सबको इकट्ठा किया है। हर वर्ष हमारा अस्पताल 11 जुलाई को इस दिन को मनाता हैं। यह मूल रूप से परिवार नियोजन के लिए तैयार मानव अधिकार को दोहराने से संबंधित है। इस दिवस को दुनिया भर में अधिकार के रूप में वास्तविकता बनाने के लिए घटनाओं, गतिविधियों और सूचना को प्रोत्साहित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किया गया था।

हम लोगों की जागरुकता को बढ़ाने के उद्देश्य से जनसंख्या के आधार पर विभिन्न मुद्दों से जुड़े लोगों के बारे में जागरूकता बढ़ाने जैसे कार्य कर रहे हैं लिंग समानता, मातृ स्वास्थ्य, गरीबी, आबादी नियंत्रण और मानव अधिकारों की आवश्यकता के साथ-साथ परिवार नियोजन के मूल्य आदि। असल में विश्व जनसंख्या दिवस को विश्व स्तर पर सामुदायिक संगठनों, व्यवसाय समूहों और व्यक्तियों द्वारा विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है। विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का आयोजन किया जाता है जैसे शैक्षणिक सूचना सत्र, संगोष्ठी चर्चा, निबंध प्रतियोगिता, चार्ट, नारे, उद्धरण, बैनर इत्यादि।

हालांकि इसे वैश्विक समुदाय द्वारा मनाया जाता है परन्तु यह सार्वजनिक अवकाश नहीं है। यह बेहद जरूरी है कि हर कोई परिवार नियोजन और आबादी नियंत्रण से संबंधित महत्व और मुद्दों से अवगत हो।

एक धर्मार्थ अस्पताल के सदस्य होने के नाते आज के युवाओं को रोकने और सशक्त बनाने की हमारी सामाजिक जिम्मेदारी है और इस प्रकार हम विश्व जनसंख्या दिवस को विभिन्न उद्देश्यों के साथ मना सकते हैं। हम उन्हें लैंगिकता के बारे में विस्तृत ज्ञान और एक परिपक्व उम्र में शादी करने के महत्व को प्रदान करना चाहते हैं ताकि वे एक साथ अपनी जिम्मेदारियों को समझ सकें और पूरा कर सकें। अवांछित या अनियोजित गर्भधारण से बचने के लिए हम युवाओं के अनुकूल, सूचनात्मक और उचित तरीकों को नियोजित करके युवाओं को भी शिक्षित करेंगे। हम लोगों को शिक्षित करना चाहते हैं ताकि हमारे समाज से लिंग के रूढ़िवाद भेदभाव को दूर किया जा सके। यह भी महत्वपूर्ण है कि आज के युवा (विशेषकर महिला), अगर उनका छोटी उम्र में विवाह कर दिया जाए तो, को गर्भावस्था संबंधी बीमारियों और परेशानियों के बारे में पता हो। इस प्रकार हम ग्रामीण, अर्द्ध-शहरी और शहरी क्षेत्रों में जागरूकता बढ़ाने के लिए उन्हें शिक्षित करेंगे। हम उन्हें उन विभिन्न बीमारियों के बारे में भी शिक्षित करेंगे जो एचआईवी, एड्स आदि जैसे यौन संचरित हैं ताकि उन्हें और दूसरों को विभिन्न संक्रमणों से रोक दिया जा सके।

हम पूरे भारत में विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में लिंग समानता पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। इस प्रकार हम कुछ कड़े और प्रभावी कानूनों और नीतियों के क्रियान्वयन की मांग कर रहे हैं जो कि लड़की के अधिकारों की रक्षा करती हैं। इसके अलावा लिंग और सामाजिक स्थिति के बावजूद प्रत्येक बच्चे को शिक्षा के लिए समान अवसर हासिल होने चाहिए।

इसलिए हमारे पास गांवों, दूरदराज के इलाकों आदि की यात्रा और लड़कियों के लिए मोबाइल स्कूल का आयोजन करने की ठोस योजनाएं हैं ताकि हम उन्हें शिक्षित कर सकें और उन्हें जनसंख्या नियंत्रण से अवगत करा सकें। हमारा उद्देश्य पारिवारिक नियोजन के रूप में मानवाधिकारों को दबाने और बच्चों की संख्या तय करने के लिए एक व्यक्तिगत पसंद नहीं है लेकिन हमारा उद्देश्य जागरूकता बढ़ाने और लोगों को सीमित संख्या में बच्चों के लाभ के बारे में जागरूक करना है ताकि माता-पिता अपने बच्चों को अच्छी परवरिश दे सकें और लड़कियों को भोजन, कपड़े, आश्रय और शिक्षा आदि जैसे जीवन शैली के बुनियादी मानक पर समझौता करने की आवश्यकता ना पड़े।

इस मंच के माध्यम से हम आपसे अपील करते हैं कि आप आगे आकर इस सामाजिक कार्य में हाथ बटाएँ और अपने देश को अधिक विकसित और आत्मनिर्भर बनाएं।

धन्यवाद।

विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण – 2

प्रिय आगंतुकों!

7वें विश्व जनसंख्या दिवस का जश्न मनाने के समारोह में आपका स्वागत है। जैसा कि आप जानते हैं हर साल हम समान उत्साह और नए विषय के साथ इस दिन का जश्न मनाते रहे हैं। 1989 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम की गवर्निंग काउंसिल ने 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस का जश्न मनाने के उद्देश्य से जनसंख्या संबंधी मुद्दों के महत्व और अत्यावश्यकता को उजागर करने के उद्देश्य से सिफारिश की थी।

जैसा कि आप सभी जानते हैं हर साल हमारा गैर सरकारी संगठन जनसंख्या के आधार पर एक विषय का चयन करता है और इसके बारे में जागरूकता पैदा करने का प्रयास करता है। तो इस साल का विषय लिंग समानता और लड़की की सुरक्षा से सम्बंधित है। हमारे एनजीओ की स्थापना के बाद से ही हम कन्या भ्रूणहत्या के खिलाफ लड़ रहे हैं। लड़कियां लड़कों की तरह ही महत्वपूर्ण हैं और शायद इससे भी ज्यादा क्योंकि पूरी मानवता उनके अस्तित्व पर निर्भर करती है और वे हमारे समाज के संतुलन को बनाए रखने में मदद करते हैं। पुरुषों की तुलना में कुछ साल पहले तक महिलाओं की संख्या में बड़ी कमी आई थी। दहेज के लिए हत्या, कन्या भ्रूण हत्या, बलात्कार, निरक्षरता, लिंग आधारित भेदभाव आदि महिलाओं के खिलाफ अपराध दर में वृद्धि के कारण हमेशा महिलाओं को दबाया गया। लड़के-लड़की के अनुपात को बराबर करने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि लोग लड़की को बचाना शुरू करें।

हम ऐसे मामलों की पहचान करने के लिए ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में यात्रा करते हैं जहां महिलाएं दुर्भाग्य से हमारे समाज में मौजूद बुरी ताकतों का शिकार बनती हैं। महिला तस्करी, घरेलू हिंसा, मजबूरन वेश्यावृत्ति और स्त्री भेदभाव महिलाओं की सुरक्षा के लिए गंभीर ख़तरे बन गए हैं। इसलिए हम उन महिलाओं को संभव सहायता प्रदान करने की कोशिश करते हैं जो वंचित स्थितियों में रह रही हैं ताकि वे खुद को इन अमानवीय परिस्थितियों से मुक्त कर सकें। हम उन्हें सरकार द्वारा लैंगिक समानता, घरेलू हिंसा अधिनियम 2005, उचित शिक्षा, महिला शिशुहत्या पर प्रतिबंध, अनैतिक तस्करी (रोकथाम) अधिनियम आदि द्वारा लागू विभिन्न कृत्यों के बारे में जागरूक करने का प्रयास भी करते हैं ताकि उन्हें समाज में सुरक्षित रख सकें।

इस अज्ञानता के पीछे शिक्षा का अभाव मुख्य कारणों में से एक है। आज के समाज में लडकियाँ ऊँचे पद और प्रसिद्धि अर्जित कर रही है और अपने पुरुष समकक्षों के समान राष्ट्र को गौरान्वित कर रही हैं। प्रत्येक बच्चे को शिक्षा पाने और आत्मनिर्भर होने का अधिकार है। जनसंख्या नियंत्रण और परिवार नियोजन से माता-पिता को सही संख्या में बच्चों को जन्म देने की सीख मिलती है ताकि वे अपने बच्चों को सही शिक्षा दे पायें। यह भी महत्वपूर्ण है कि जो महिलाएं गर्भावस्था से बचना चाहती हैं वे प्रभावी और सुरक्षित गर्भनिरोधक उपायों का उपयोग करें। हमने पूरे भारत में महिलाओं को शिक्षित करने के लिए कदम उठाए हैं खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में जहां महिलाओं में जागरुकता और उत्साह की कमी है। कुछ महिलाएं इन मामलों को डर और झिझक के कारण चर्चा नहीं करना चाहती। हमारे पास ऐसे महिला सहयोगी हैं जो स्वेच्छा से ऐसे महिलाओं के विकास के लिए काम करते हैं। वे समूहों में यात्रा करते हैं, मोबाइल स्कूलों की स्थापना करते हैं, स्वास्थ्य केंद्र और सूचना केंद्र; क्विज़, बहस आदि को व्यवस्थित करते हैं जिससे महिलाओं को उनके घरों से बाहर आने और इस मिशन में भाग लेने का आग्रह किया जाता है।

हमारे गैर-सरकारी संगठन ने महिला विकास के लिए बहुत काम किया है और कई उद्योगपति और व्यापारिक व्यवसायी हैं जो हमारे समर्थन कर रहे हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य महिलाओं को स्वतंत्र बनाना है जिससे वे स्वयं अपने जीवन के महत्वपूर्ण निर्णय ले सकते हैं जैसे सही विवाह योग्य उम्र, प्रसव के अधिकार, शिक्षा अधिकार आदि।

हम युवा लोगों से अपील करते हैं कि विश्व जनसंख्या दिवस को बेहद सफल बनाने के लिए आगे आएं और इस मिशन में शामिल हों।

धन्यवाद।

विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण – 3

सुप्रभात विश्व जनसँख्या दिवस के इस अवसर पर आप सबको आने के लिए धन्यवाद। आज मैं विश्व जनसंख्या दिवस पर एक भाषण देने जा रहा हूं।

विश्व जनसंख्या 11 जुलाई को मनाया जाता है और आज इसे दुनिया भर में मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य वैश्विक जनसंख्या मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाना है। लोगों को परिवार के नियोजन, मातृ स्वास्थ्य, गरीबी के महत्व जैसे विभिन्न मुद्दों से अवगत होना चाहिए। आंकड़ों के मुताबिक 2016 तक विश्व की आबादी 7 अरब तक पहुंच गई है जो वाकई विश्व के लिए एक गंभीर मुद्दा है।

ईश्वर की कृपा से हमें पृथ्वी पर कई संसाधनों का आशीर्वाद मिला है लेकिन क्या हम वास्तव में उन संसाधनों को बनाए रखने में सक्षम हैं या हम इस तरह के संसाधनों को संभाल सकते हैं। नहीं हम इतना सब कुछ नहीं कर सकते। अच्छे भविष्य के लिए हमें इस बढ़ती आबादी को नियंत्रित करने की जरूरत है।

इस दिन का जश्न मनाने के उद्देश्य को भी स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों से जोड़ा जाता है क्योंकि हर साल महिलाएं प्रजनन अवधि में प्रवेश कर रही हैं और प्रजनन स्वास्थ्य के प्रति ध्यान देना जरूरी है। लोगों को परिवार नियोजन, गर्भ निरोधकों और सुरक्षा उपायों के उपयोग के बारे में पता होना चाहिए जो सेक्स से संबंधित मुद्दों को रोक सकते हैं।

हाल के अध्ययन के अनुसार यह देखा गया था कि 15-19 आयु वर्ग के बीच के युवा यौन संबंध बनाने की ओर आकर्षित हो रहे हैं जिससे यौन संचारित बीमारियों का जन्म हो रहा है।

उपर्युक्त तथ्यों के बदले हर साल इस दिन का जश्न मनाने के द्वारा लोगों को एक स्वस्थ जीवन जीने और हमारे मानवाधिकारों की सुरक्षा के बारे में जागरूकता लाने के लिए शुरू किया गया है।

धन्यवाद।


 

विश्व जनसंख्या दिवस पर भाषण – 4

प्यारे दोस्तों।

सुप्रभात और इतने जल्द हमारा निमंत्रण स्वीकार करने के लिए धन्यवाद!

यद्यपि आपको इस कारण के बारे में पता होना चाहिए कि हमने क्यों यहां सबको इकट्ठा किया है लेकिन उन सभी के लिए जो अभी भी यहाँ मौजूद होने के बारे में सोच रहे हैं मैं जल्दी ही इस मीटिंग के उद्देश्य को आपके साथ साझा करूँगा। असल में हमें इस साल संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किए गए विश्व जनसंख्या दिवस के जश्न के लिए स्थानीय एजेंसियों से एक पत्र प्राप्त हुआ है। यह दिन हर साल 11 जुलाई को लोगों के अधिकारों के प्रचार के लिए मनाया जाने वाला एक वार्षिक उत्सव है और साथ ही उन्हें अपने परिवार की बेहतर तरीके से योजना बनाने में मदद करने के लिए मनाया जाता है। यह लोगों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए घटनाओं, गतिविधियों और सूचनाओं का समर्थन करता है ताकि वे अपने अधिकारों का उपयोग कर सकें और अपने परिवार के बारे में उचित निर्णय ले सकें।

हमारा संगठन पूरे शहर में उत्साहपूर्वक विश्व जनसंख्या दिवस का जश्न मनाने के लिए प्रसिद्ध है। मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी हो रही है कि स्थानीय और साथ ही राज्य सरकार ने हमें अपने अधिकारों के बारे में जागरूकता फैलाने और पारिवारिक नियोजन के बारे बात करने के लिए हमारी प्रशंसा की है।

सौभाग्य से इस बार हमारे पास लोगों को उनके अधिकारों और जिम्मेदारियों से अवगत कराने के अलावा व्यापक योजनाएं हैं। हम उन्हें उन कुछ बीमारियों के बारे में भी सूचित करेंगे जो आपके परिवार के गैर-नियोजन के कारण आक्रमण कर सकती हैं। हम सभी जानते हैं कि हमारे देश में छोटी उम्र में लड़की का विवाह करना अभी भी प्रचलित है। लड़कियों की शादी करने के बाद से ही उनसे बच्चों को जन्म देने की उम्मीद की जाती है और अगर वे लड़की को जन्म देते हैं तो उनसे लड़के को जन्म देने की उम्मीद की जाती है। यह प्रयास उस समय तक चलता है जब तक वे एक लड़के को जन्म नहीं दे देती। दुर्भाग्य से हमारे देश में लिंग असमानता अभी भी एक प्रमुख मुद्दा है। लोगों को शायद ही कभी यह महसूस हो कि अगर एक नाबालिग़ लड़की गर्भवती हो गई तो उसे कई स्वास्थ्य समस्याओं से गुजरना पड़ सकता है और यह अंततः उसके अपने स्वास्थ्य के साथ-साथ उसके गर्भ में पल रहे बच्चे को भी प्रभावित कर सकता है जिसे वह जन्म देने वाली है। कुपोषण ऐसी गर्भावस्था से उत्पन्न सबसे प्रमुख रोगों में से एक है।

भारत एक प्रगतिशील देश है और ऐसी बुरी आदतें भारत की सफलता के रास्ते में प्रमुख बाधाएं हैं। लोगों को यह समझना होगा कि लड़के और लड़की के बीच कोई अंतर नहीं है। लड़कियां एक परिवार को गौरवशाली महसूस करने में समान रूप से सक्षम हैं बशर्ते उन्हें निरंतर शिक्षा और समान परवरिश दी जाए तो। इस प्रकार विश्व जनसंख्या दिवस का लक्ष्य भी लिंग समानता और महिला सशक्तिकरण की ओर है।

यह महत्वपूर्ण है कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में महिलाओं को गर्भावस्था से बचने के लिए प्रभावी और सुरक्षित परिवार नियोजन के तरीकों का इस्तेमाल करना चाहिए। स्वस्थ जीवन को अपनाने में सही और पूर्ण जानकारी होना बहुत महत्वपूर्ण है।

हम देश के विभिन्न भागों में विशेष रूप से गांवों और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य और सूचना शिविर स्थापित करने की योजना बना रहे हैं। इस वर्ष हम हिंदू पौराणिक कथाओं और दुर्गा, काली, सरस्वती और अन्य देवी और देवताओं की महाकाव्य कथाओं पर आधारित नाटकों को आयोजित करने की भी योजना बना रहे हैं। गांव की लड़कियों को इन नाटकों में भाग लेने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। हमारी भारतीय संस्कृति ने कभी भी लड़के और लड़की के बीच मतभेद नहीं किया, न ही उसने महिलाओं के अधिकारों को दबाया है। यही बात है जिसका हम लोगों को देश भर में व्यक्त करने का प्रयास कर रहे हैं। वास्तव में भारत एक ऐसा देश है जहां देवी को श्रद्धेय माना जाता है और प्रार्थना की जाती है इसलिए छोटी लड़कियों को देवी दुर्गा का अवतार भी माना जाता है।

हमें उम्मीद है कि इस पहल का स्वागत हर किसी के द्वारा किया जाएगा। हमें स्थानीय प्राधिकरण ने धन रुपी मदद देने का भी वादा किया है। हालांकि हमारे पास सीमित समय है लेकिन मुझे यकीन है कि आपकी प्रतिबद्धता और कड़ी मेहनत से यह एक सफल आयोजन साबित होगा।

धन्यवाद।